shabd-logo
प्रमुख रचनाएँ

प्रमुख रचनाएँ

माखन लाल चतुर्वेदी

17 भाग
0 व्यक्ति ने लाइब्रेरी में जोड़ा
0 पाठक
25 अप्रैल 2022 को पूर्ण की गई
निःशुल्क

व्याख्या-कवि अपनी देशप्रेम की भावना को पुष्प की अभिलाषा के रूप में व्यक्त करते हुए कहता है कि मेरी इच्छा किसी देवबाला के आभूषणों में गूंथे जाने की नहीं है। मेरी इच्छा यह भी नहीं है कि मैं प्रेमियों को प्रसन्न करने के लिए प्रेमी द्वारा बनायी गयी माला में पिरोया जाऊँ और प्रेमिका के मन को आकर्षित करूं।  

प्रमुख रचनाएँ

प्रमुख रचनाएँ

माखन लाल चतुर्वेदी

17 भाग
0 व्यक्ति ने लाइब्रेरी में जोड़ा
0 पाठक
25 अप्रैल 2022 को पूर्ण की गई
निःशुल्क

व्याख्या-कवि अपनी देशप्रेम की भावना को पुष्प की अभिलाषा के रूप में व्यक्त करते हुए कहता है कि मेरी इच्छा किसी देवबाला के आभूषणों में गूंथे जाने की नहीं है। मेरी इच्छा यह भी नहीं है कि मैं प्रेमियों को प्रसन्न करने के लिए प्रेमी द्वारा बनायी गयी माला में पिरोया जाऊँ और प्रेमिका के मन को आकर्षित करूं।

0.0

विशेषज्ञ पब्लिशिंग पैकेज