shabd-logo

कुमार विश्वास के बारे में

डॉ॰ कुमार का जन्म 1970 को बसंत पंचमी के दिन डॉ॰ चन्द्रपाल शर्मा के घर हुआ | इनका पैतृक गाँव पिलखुआ हैं जो उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद जिले में पड़ता हैं| विश्वास के पिता चन्द्रपाल चरण सिंह कॉलेज में प्रवक्ता रह चुके हैं| इनकी माताजी का नाम रमा शर्मा हैं| कुमार विश्वास ने आरम्भिक शिक्षा अपने गाँव पिलखुआ से ही प्राप्त की| पिलखुआ की वर्तमान आयु 51 वर्ष हैं| डॉ॰ कुमार का मन हिंदी साहित्य में अधिक था, इस कारण इन्होने हिंदी साहित्य में ग्रेजुएशन कर किया| इसी विषय में विशवास ने पीएचडी के लिए कौरवी लोकगीतों में लोकचेतना विषय पर शोधकार्य आरम्भ किया| यदि आज डॉ॰ कुमार की कवि यात्रा को देखा जाए तो वे बेहद और सक्रिय साहित्यकार हैं| वे हिंदी पत्रिकओं के लिए लिखते हैं और अध्ययन भी करते हैं| कुमार विश्वास कविताओं के अतिरिक्त गीत और शायरी भी लिखते हैं| कई हिंदी सिनेमा की फिल्मों में इनके गानों को आजमाया जा चूका हैं| डॉ॰ कुमार हिंदी के वर्तमान समय के सबसे प्रसिद्ध कवि हैं, इन्टरनेट और सोशल मिडिया पर सबसे अधिक अनुसरण किये जाने वाले पहले कवि हैं| ये अक्सर कविता पाठ और कवि सम्मेलन में सक्रिय रहते हैं| हजारो की संख्या में डॉ॰ विश्वास ने देश विदेश के सम्मेलनों में हिस्सा लिया हैं| इन्होने भारत के अतिरिक्त अमेरिका, आबुधाबी, दुबई, सिंगापूर, ब्रिटेन, नेपाल जैसे देशो में भी कविता पाठ में हिस्सा लिया हैं| भारत में डॉ॰ विश्वास ने असंख्य कविता पाठों में भाग लिया हैं और ले रहे हैं| आधुनिक हिंदी के साहित्यकार नीरज जी ने इन्हे निशा-नियामक की उपमा दी हैं|

no-certificate
अभी तक कोई सर्टिफिकेट नहीं मिला है|

कुमार विश्वास की पुस्तकें

बेस्ट ऑफ़ कुमार विश्वास

बेस्ट ऑफ़ कुमार विश्वास

हिंदी साहित्य के प्रसिद्ध कवि और लेखक कुमार विश्वास के सभी लोकप्रिय कविताएं और लेखों का यहां आपको संग्रह मिलेगा.

निःशुल्क

बेस्ट ऑफ़ कुमार विश्वास

बेस्ट ऑफ़ कुमार विश्वास

हिंदी साहित्य के प्रसिद्ध कवि और लेखक कुमार विश्वास के सभी लोकप्रिय कविताएं और लेखों का यहां आपको संग्रह मिलेगा.

निःशुल्क

कुमार विश्वास के लेख

अख़बार बना कर क्या पाया?

18 अक्टूबर 2021
7
2

<div class="separator amp-wp-95ecdb5" data-amp-original-style="clear:both;text-align:center;" style=

मुझे तो हर घड़ी हर पल बहारों ने सताया है।

18 अक्टूबर 2021
3
1

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">बताऊँ क्या मुझे ऐसे सहारों ने सताय

फ़क़त उस आदमी से ये ज़माना कम नहीं होता।

18 अक्टूबर 2021
4
0

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">सदा तो धूप के हाथों में ही परचम नह

तुम्हारी याद का क्या है उसे तो रोज़ आना है

18 अक्टूबर 2021
3
1

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">जहाँ हर दिन सिसकना है जहाँ हर रात

रंग दुनिया ने दिखाया

18 अक्टूबर 2021
0
0

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">रंग दुनिया ने दिखाया है निराला देख

मद्यँतिका

18 अक्टूबर 2021
0
0

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">माँ को देखा कि वो बेबस-सी परेशान स

इतनी रंग बिरंगी दुनिया

18 अक्टूबर 2021
0
0

<div>इतनी रंग बिरंगी दुनिया, दो आँखों में कैसे आये,</div><div>हमसे पूछो इतने अनुभव, एक कंठ से कैसे ग

ओ मेरे पहले प्यार

18 अक्टूबर 2021
0
0

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">ओ प्रीत भरे संगीत भरे!</div><div s

होली

18 अक्टूबर 2021
1
0

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">आज होलिका के अवसर पर जागे भाग गुला

लड़कियाँ जैसे पहला प्यार.....

18 अक्टूबर 2021
1
0

<div style="color: rgb(0, 0, 0); font-family: Tauri, sans-serif;">पल भर में जीवन महकायें</div><div s

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए