shabd-logo

महादेवी वर्मा के बारे में

महादेवी वर्मा का जन्म फर्रुखाबाद में सन (२६ मार्च १९०७ — ११ सितंबर १९८७) ईस्वी में एक संपन्न कायस्थ परिवार में हुआ था. इनके पिता श्री गोविन्द प्रसाद वर्मा भागलपुर के एक कॉलेज में प्राचार्य थे. माता विदुषी और धार्मिक स्वभाव की महिला थी. इनकी प्रारंभिक शिक्षा इंदौर में और उच्च शिक्षा प्रयाग के क्रास्थवेट गर्ल्स कॉलेज में हुई थी. अत्यधिक परिश्रम के फल स्वरुप इन्होंने मैट्रिक से लेकर एम.ए. तक की परीक्षाएं प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की। वर्ष 1933 में इन्होंने प्रयाग महिला विद्यापीठ में प्रधानाचार्या पद को सुशोभित किया। इन्होंने लड़कियों की शिक्षा के लिए काफी प्रयास किया साथ ही नारी की स्वतंत्रता के लिए ये सदैव संघर्ष करती रही। महादेवी वर्मा हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। वे हिन्दी साहित्य में छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती हैं। आधुनिक हिन्दी की सबसे सशक्त कवयित्रियों में से एक होने के कारण उन्हें आधुनिक मीरा के नाम से भी जाना जाता है। कवि निराला ने उन्हें “हिन्दी के विशाल मन्दिर की सरस्वती” भी कहा है। महादेवी ने स्वतंत्रता के पहले का भारत भी देखा और उसके बाद का भी। वे उन कवियों में से एक हैं जिन्होंने व्यापक समाज में काम करते हुए भारत के भीतर विद्यमान हाहाकार, रुदन को देखा, परखा और करुण होकर अन्धकार को दूर करने वाली दृष्टि देने की कोशिश की। न केवल उनका काव्य बल्कि उनके सामाज सुधार के कार्य और महिलाओं के प्रति चेतना भावना भी इस दृष्टि से प्रभावित रहे। महादेवी वर्मा रहस्यवाद और छायावाद की कवयित्री थीं, अतः उनके काव्य में आत्मा-परमात्मा के मिलन विरह तथा प्रकृति के व्यापारों की छाया स्पष्ट रूप से दृष्टिगोचर होती है। वेदना और पीड़ा महादेवी जी की कविता के प्राण रहे। उनका समस्त काव्य वेदनामय है। ये 'चांद' पत्रिका की संपादिका भी रही

no-certificate
अभी तक कोई सर्टिफिकेट नहीं मिला है|

महादेवी वर्मा की पुस्तकें

महादेवी वर्मा  के प्रसिद्ध लेख

महादेवी वर्मा के प्रसिद्ध लेख

श्रीमती महादेवी वर्मा हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। उन्हें आधुनिक मीरा भी कहा गया है। महादेवी वर्मा जी हिंदी साहित्य में 1914 से 1938 तक छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती है। आधुनिक हिंदी की सबसे सशक्त कव

21 पाठक
20 रचनाएँ

निःशुल्क

महादेवी वर्मा  के प्रसिद्ध लेख

महादेवी वर्मा के प्रसिद्ध लेख

श्रीमती महादेवी वर्मा हिन्दी की सर्वाधिक प्रतिभावान कवयित्रियों में से हैं। उन्हें आधुनिक मीरा भी कहा गया है। महादेवी वर्मा जी हिंदी साहित्य में 1914 से 1938 तक छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक मानी जाती है। आधुनिक हिंदी की सबसे सशक्त कव

21 पाठक
20 रचनाएँ

निःशुल्क

महादेवी वर्मा की सुप्रसिद्ध कविताएं

महादेवी वर्मा की सुप्रसिद्ध कविताएं

महादेवी वर्मा की कविताओं का केन्द्र बिन्दु दुःख है। उनमें जीवन, प्रेम और सौन्दर्य के लिए विह्वल आकांक्षा | वह मार्ग की कठिनाइयों से विचलित नहीं होती बल्कि उनसे टकराने की प्रवृत्ति उनमें दिखाई देती है । यह विरहानुभूति निराशाजन्य नहीं वरन् आशा से पूर्ण

14 पाठक
49 रचनाएँ

निःशुल्क

महादेवी वर्मा की सुप्रसिद्ध कविताएं

महादेवी वर्मा की सुप्रसिद्ध कविताएं

महादेवी वर्मा की कविताओं का केन्द्र बिन्दु दुःख है। उनमें जीवन, प्रेम और सौन्दर्य के लिए विह्वल आकांक्षा | वह मार्ग की कठिनाइयों से विचलित नहीं होती बल्कि उनसे टकराने की प्रवृत्ति उनमें दिखाई देती है । यह विरहानुभूति निराशाजन्य नहीं वरन् आशा से पूर्ण

14 पाठक
49 रचनाएँ

निःशुल्क

महादेवी वर्मा के सुप्रसिद्ध गीत

महादेवी वर्मा के सुप्रसिद्ध गीत

छायावाद की प्रमुख प्रतिनिधि कवयित्री महादेवी वर्मा का नारी के प्रति विशेष दृष्टिकोण एवं भावुकता होने के कारण उनके काव्य में रहस्यवाद, वेदना भाव, अलौकिक प्रेम आदि की अभिव्यक्ति हुई है। आधुनिक गीत काव्य में महादेवी जी का स्थान सर्वोपरि है। उनकी कविता म

13 पाठक
23 रचनाएँ

निःशुल्क

महादेवी वर्मा के सुप्रसिद्ध गीत

महादेवी वर्मा के सुप्रसिद्ध गीत

छायावाद की प्रमुख प्रतिनिधि कवयित्री महादेवी वर्मा का नारी के प्रति विशेष दृष्टिकोण एवं भावुकता होने के कारण उनके काव्य में रहस्यवाद, वेदना भाव, अलौकिक प्रेम आदि की अभिव्यक्ति हुई है। आधुनिक गीत काव्य में महादेवी जी का स्थान सर्वोपरि है। उनकी कविता म

13 पाठक
23 रचनाएँ

निःशुल्क

नीरजा

नीरजा

‘नीरजा’ में बिलकुल परिपक्व भाषा में एक समर्थ कवि बड़े अधिकार के साथ और बड़े सहज भाव से अपनी बात कहता है। महादेवी जी के अनुसार ‘नीरजा’ में जाकर गीति का तत्त्व आ गया मुझमें और मैंने मानों दिशा भी पा ली है।’’ प्रस्तुत गीत-काव्य ‘नीरजा’ में ‘निहार’ का उप

11 पाठक
20 रचनाएँ

निःशुल्क

नीरजा

नीरजा

‘नीरजा’ में बिलकुल परिपक्व भाषा में एक समर्थ कवि बड़े अधिकार के साथ और बड़े सहज भाव से अपनी बात कहता है। महादेवी जी के अनुसार ‘नीरजा’ में जाकर गीति का तत्त्व आ गया मुझमें और मैंने मानों दिशा भी पा ली है।’’ प्रस्तुत गीत-काव्य ‘नीरजा’ में ‘निहार’ का उप

11 पाठक
20 रचनाएँ

निःशुल्क

नीलाम्बरा

नीलाम्बरा

कवियत्री श्रीमती महादेवी वर्मा के काव्य में एक मार्मिक संवेदना है। सरल-सुथरे प्रतीकों के माध्यम से अपने भावों को जिस ढंग से महादेवीजी अभिव्यक्त करती हैं, वह अन्यत्र दुर्लभ है। वास्तव में उनका समूचा काव्य एक चिरन्तन और असीम प्रिय के प्रति निवेदित है ज

8 पाठक
5 रचनाएँ

निःशुल्क

नीलाम्बरा

नीलाम्बरा

कवियत्री श्रीमती महादेवी वर्मा के काव्य में एक मार्मिक संवेदना है। सरल-सुथरे प्रतीकों के माध्यम से अपने भावों को जिस ढंग से महादेवीजी अभिव्यक्त करती हैं, वह अन्यत्र दुर्लभ है। वास्तव में उनका समूचा काव्य एक चिरन्तन और असीम प्रिय के प्रति निवेदित है ज

8 पाठक
5 रचनाएँ

निःशुल्क

रश्मि

रश्मि

इसमें 1927 से 1931 देवी जी का चिंतन और दर्शन पक्ष मुखर होता प्रतीत होता है। 'रश्मि' काव्य में महादेवी जी ने जीवन -मृत्यु ,सुख -दुःख आदि पर अपना दृष्टिकोण व्यक्त किया है। मीरा ने जिस प्रकार उस परमपुरुष की उपासना सगुण रूप में की थी, उसी प्रकार महादेवीज

4 पाठक
14 रचनाएँ

निःशुल्क

रश्मि

रश्मि

इसमें 1927 से 1931 देवी जी का चिंतन और दर्शन पक्ष मुखर होता प्रतीत होता है। 'रश्मि' काव्य में महादेवी जी ने जीवन -मृत्यु ,सुख -दुःख आदि पर अपना दृष्टिकोण व्यक्त किया है। मीरा ने जिस प्रकार उस परमपुरुष की उपासना सगुण रूप में की थी, उसी प्रकार महादेवीज

4 पाठक
14 रचनाएँ

निःशुल्क

अग्निरेखा

अग्निरेखा

अग्निरेखा महादेवी वर्मा का अंतिम कविता संग्रह है जो मरणोपरांत १९९० में प्रकाशित हुआ। इसमें उनके अन्तिम दिनों में रची गयीं रचनाएँ संग्रहीत हैं जो पाठकों को अभिभूत भी करती हैं और आश्चर्यचकित भी, इस अर्थ में कि महादेवी के काव्य में ओत-प्रोत वेदना और करु

3 पाठक
30 रचनाएँ

निःशुल्क

अग्निरेखा

अग्निरेखा

अग्निरेखा महादेवी वर्मा का अंतिम कविता संग्रह है जो मरणोपरांत १९९० में प्रकाशित हुआ। इसमें उनके अन्तिम दिनों में रची गयीं रचनाएँ संग्रहीत हैं जो पाठकों को अभिभूत भी करती हैं और आश्चर्यचकित भी, इस अर्थ में कि महादेवी के काव्य में ओत-प्रोत वेदना और करु

3 पाठक
30 रचनाएँ

निःशुल्क

नीहार

नीहार

नीहार महादेवी वर्मा का पहला कविता-संग्रह है। इसका प्रथम संस्करण सन् १९३० ई० में गाँधी हिन्दी पुस्तक भण्डार, प्रयाग द्वारा प्रकाशित हुआ। इसकी भूमिका अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' ने लिखी थी। इस संग्रह में महादेवी वर्मा की १९२३ ई० से लेकर १९२९ ई० तक के

3 पाठक
20 रचनाएँ

निःशुल्क

नीहार

नीहार

नीहार महादेवी वर्मा का पहला कविता-संग्रह है। इसका प्रथम संस्करण सन् १९३० ई० में गाँधी हिन्दी पुस्तक भण्डार, प्रयाग द्वारा प्रकाशित हुआ। इसकी भूमिका अयोध्यासिंह उपाध्याय 'हरिऔध' ने लिखी थी। इस संग्रह में महादेवी वर्मा की १९२३ ई० से लेकर १९२९ ई० तक के

3 पाठक
20 रचनाएँ

निःशुल्क

दीपगीत

दीपगीत

दीपगीत महादेवी वर्मा की दीपक संबंधी कविताओं का संग्रह है। दीप महादेवी वर्मा का प्रिय प्रतीक है। डॉ शुभदा वांजपे के विचार से दीप महादेवी वर्मा का महत्त्वपूर्ण प्रतीक है। प्रो श्याम मिश्र महादेवी की कविता में दीपक को साधनारत आत्मा का प्रतीक मानते हैं औ

2 पाठक
4 रचनाएँ

निःशुल्क

दीपगीत

दीपगीत

दीपगीत महादेवी वर्मा की दीपक संबंधी कविताओं का संग्रह है। दीप महादेवी वर्मा का प्रिय प्रतीक है। डॉ शुभदा वांजपे के विचार से दीप महादेवी वर्मा का महत्त्वपूर्ण प्रतीक है। प्रो श्याम मिश्र महादेवी की कविता में दीपक को साधनारत आत्मा का प्रतीक मानते हैं औ

2 पाठक
4 रचनाएँ

निःशुल्क

प्रथम आयाम

प्रथम आयाम

1921 में महादेवी जी ने आठवीं कक्षा में प्रान्त भर में प्रथम स्थान प्राप्त किया। यहीं पर उन्होंने अपने काव्य जीवन की शुरुआत की। वे सात वर्ष की अवस्था से ही कविता लिखने लगी थीं और 1925 तक जब उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की, वे एक सफल कवयित्री क

2 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

प्रथम आयाम

प्रथम आयाम

1921 में महादेवी जी ने आठवीं कक्षा में प्रान्त भर में प्रथम स्थान प्राप्त किया। यहीं पर उन्होंने अपने काव्य जीवन की शुरुआत की। वे सात वर्ष की अवस्था से ही कविता लिखने लगी थीं और 1925 तक जब उन्होंने मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण की, वे एक सफल कवयित्री क

2 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

और देखे

महादेवी वर्मा के लेख

बिंदा

25 फरवरी 2022
0
0

भीत-सी आंखों वाली उस दुर्बल, छोटी और अपने-आप ही सिमटी-सी बालिका पर दृष्टि डाल कर मैंने सामने बैठे सज्जन को, उनका भरा हुआ प्रवेशपत्र लौटाते हुए कहा- 'आपने आयु ठीक नहीं भरी है। ठीक कर दीजिए, नहीं तो पीछ

बिबिया

25 फरवरी 2022
0
0

अपने जीवनवृत्त के विषय में बिबिया की माई ने कभी कुछ बताया नहीं, किन्तु उसके मुख पर अंकित विवशता की भंगिमा, हाथों पर चोटों के निशान, पैर का अस्वाभाविक लंगड़ापन देखकर अनुमान होता था कि उसका जीवन-पथ सुगम

भक्तिन

25 फरवरी 2022
0
0

छोटे कद और दुबले शरीरवाली भक्तिन अपने पतले ओठों के कानों में दृढ़ संकल्प और छोटी आँखों में एक विचित्र समझदारी लेकर जिस दिन पहले-पहले मेरे पास आ उपस्थित हुई थी तब से आज तक एक युग का समय बीत चुका है। पर

गौरा गाय

25 फरवरी 2022
0
0

गाय के नेत्रों में हिरन के नेत्रों-जैसा विस्मय न होकर आत्मीय विश्वास रहता है। उस पशु को मनुष्य से यातना ही नहीं, निर्मम मृत्यु तक प्राप्त होती है, परंतु उसकी आंखों के विश्वास का स्थान न विस्मय ले पाता

नहीं हलाहल शेष

24 फरवरी 2022
1
0

नहीं हलाहल शेष, तरल ज्वाला से अब प्याला भरती हूँ।  विष तो मैंने पिया, सभी को व्यापी नीलकंठता मेरी;  घेरे नीला ज्वार गगन को बाँधे भू को छाँह अँधेरी;  सपने जमकर आज हो गए चलती-फिरती नील शिलाएँ, 

तू धूल भरा ही

24 फरवरी 2022
0
0

तू धूल भरा ही आया!  ओ चंचल जीवन-बाल! मृत्यु-जननी ने अंक लगाया!  साधों ने पथ के कण मदिरा से सींचे,  झंझा आँधी ने फिर-फिर आ दृग मींचे,  आलोक तिमिर ने क्षण का कुहक बिछाया!  अंगार-खिलौनों का था

कोई यह आँसू...

24 फरवरी 2022
1
0

कोई यह आँसू आज माँग ले जाता!  तापों से खारे जो विषाद से श्यामल,  अपनी चितवन में छान इन्हें कर मधु-जल,  फिर इनसे रचकर एक घटा करुणा की  कोई यह जलता व्योम आज छा आता!  वर क्षार-शेष की माँग रही जो

विरह का जलजात

24 फरवरी 2022
0
0

विरह का जलजात जीवन, विरह का जलजात!  वेदना में जन्म करुणा में मिला आवास;  अश्रु चुनता दिवस इसका, अश्रु गिनती रात;  जीवन विरह का जलजात!  आँसुओं का कोष उर दृग अश्रु की टकसाल;  तरल जल-कण से बने घन-

अलि कहाँ संदेश

24 फरवरी 2022
0
0

अलि कहाँ संदेश भेजूँ?  मैं किसे संदेश भेजूँ?  एक सुधि अनजान उनकी,  दूसरी पहचान मन की,  पुलक का उपहार दूँ या अश्रु-भार अशेष भेजूँ!  चरण चिर पथ के विधाता  उर अथक गति नाम पाता,  अमर अपनी खोज क

मैं पथ भूली

24 फरवरी 2022
0
0

प्रिय सुधि भूले री मैं पथ भूली!  मेरे ही मृदु उर में हँस बस,  श्वासों में भर मादक मधु-रस,  लघु कलिका के चल परिमल से  वे नभ छाए री मैं वन फूली!  प्रिय सुधि भूले री मैं पथ भूली!  तज उनका गिर

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए