shabd-logo

विष्णु प्रभाकर के बारे में

Vishnu Prabhakar was a Hindi writer who was born on June 21, 1912, in Miranpur, Uttar Pradesh, India. He was the first recipient of the Sahitya Akademi Award from Haryana. He is best known for his short stories, novels, plays, and travelogues. His works have elements of patriotism, nationalism, and social upliftment. Prabhakar's early education was in Miranpur and Hisar. He then went on to study at the Government College in Lahore. After graduating, he worked as a teacher for a few years. In 1938, he married Sushila Prabhakar, who was a great inspiration to him. Prabhakar's first published work was a short story called "Aag" (Fire) in 1935. He went on to write many more short stories, novels, plays, and travelogues. Some of his most famous works include the novels "Dharti Ka Beta" (Son of the Earth), "Saptadashi" (Seventeen), and "Gandhi Akhyan Mala" (Gandhi's Stories); the plays "Mukti" (Freedom) and "Shri Krishna Bal Leela" (The Divine Play of Krishna); and the travelogue "Antar Yatra" (Inner Journey). Prabhakar was awarded the Sahitya Akademi Award in 1993 for his novel "Saptadashi". He was also awarded the Hindi Sevi Samman - Mahapandit Rahul Sankrityayan Award in 1995 and the Padma Bhushan (the third highest civilian honour of India) in 2004. Prabhakar died on April 11, 2009, in New Delhi, at the age of 96. He was survived by his four children. Prabhakar's works are still widely read and appreciated today. He is considered one of the most important Hindi writers of the 20th century. His works continue to inspire and motivate readers with their messages o

no-certificate
अभी तक कोई सर्टिफिकेट नहीं मिला है|

विष्णु प्रभाकर की पुस्तकें

आवारा मसीहा

आवारा मसीहा

मूल हिंदी में प्रकाशन के समय से 'आवारा मसीहा' तथा उसके लेखक विष्णु प्रभाकर न केवल अनेक पुरस्कारों तथा सम्मानों से विभूषित किए जा चुके हैं, अनेक भाषाओं में इसका अनुवाद प्रकाशित हो चुका है और हो रहा है। 'सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार' तथा ' पाब्लो नेरुदा

290 पाठक
68 रचनाएँ

निःशुल्क

आवारा मसीहा

आवारा मसीहा

मूल हिंदी में प्रकाशन के समय से 'आवारा मसीहा' तथा उसके लेखक विष्णु प्रभाकर न केवल अनेक पुरस्कारों तथा सम्मानों से विभूषित किए जा चुके हैं, अनेक भाषाओं में इसका अनुवाद प्रकाशित हो चुका है और हो रहा है। 'सोवियत लैंड नेहरू पुरस्कार' तथा ' पाब्लो नेरुदा

290 पाठक
68 रचनाएँ

निःशुल्क

धरती अब भी घूम रही है

धरती अब भी घूम रही है

‘पद्यमभूषण’ से सम्मानित लेखक विष्णु प्रभाकर का यह कहानी-संकलन हिन्दी साहित्य में मील का पत्थर साबित हुआ है। इसमें लेखक ने जिन चुनिंदा सोलह कहानियों को लिया है उनकी दिलचस्प बात यह है कि अपनी हर कहानी से पहले उन्होंने उस घटना का भी उल्लेख किया है जिसने

निःशुल्क

धरती अब भी घूम रही है

धरती अब भी घूम रही है

‘पद्यमभूषण’ से सम्मानित लेखक विष्णु प्रभाकर का यह कहानी-संकलन हिन्दी साहित्य में मील का पत्थर साबित हुआ है। इसमें लेखक ने जिन चुनिंदा सोलह कहानियों को लिया है उनकी दिलचस्प बात यह है कि अपनी हर कहानी से पहले उन्होंने उस घटना का भी उल्लेख किया है जिसने

निःशुल्क

देश सेवकों के संस्मरण

देश सेवकों के संस्मरण

देश सेवकों के संस्कार कई भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन और कार्य के बारे में निबंधों का एक संग्रह है। निबंध स्वतंत्रता सेनानियों के साथ प्रभाकर की व्यक्तिगत बातचीत और उनके जीवन और कार्य पर उनके शोध पर आधारित हैं। देश सेवकों के संस्कार में निब

33 पाठक
27 रचनाएँ

निःशुल्क

देश सेवकों के संस्मरण

देश सेवकों के संस्मरण

देश सेवकों के संस्कार कई भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन और कार्य के बारे में निबंधों का एक संग्रह है। निबंध स्वतंत्रता सेनानियों के साथ प्रभाकर की व्यक्तिगत बातचीत और उनके जीवन और कार्य पर उनके शोध पर आधारित हैं। देश सेवकों के संस्कार में निब

33 पाठक
27 रचनाएँ

निःशुल्क

सप्तदशी

सप्तदशी

सप्तदशी विष्णु प्रभाकर का एक उपन्यास है, जो 1947 में प्रकाशित हुआ था. यह उपन्यास भारत के विभाजन के दौरान एक परिवार के जीवन का वर्णन करता है. उपन्यास का मुख्य पात्र, जयदेव, एक युवा व्यक्ति है जो भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से शामिल है. ज

7 पाठक
18 रचनाएँ

निःशुल्क

सप्तदशी

सप्तदशी

सप्तदशी विष्णु प्रभाकर का एक उपन्यास है, जो 1947 में प्रकाशित हुआ था. यह उपन्यास भारत के विभाजन के दौरान एक परिवार के जीवन का वर्णन करता है. उपन्यास का मुख्य पात्र, जयदेव, एक युवा व्यक्ति है जो भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से शामिल है. ज

7 पाठक
18 रचनाएँ

निःशुल्क

विष्णु प्रभाकर के लेख

अध्याय 29: बेशुमार यादें

27 अगस्त 2023
0
0

इसी बीच में एक दिन शिल्पी मुकुल दे डाक्टर माके को ले आये। उन्होंने परीक्षा करके कहा, "घर में चिकित्सा नहीं ही सकती । अवस्था निराशाजनक है। किसी भी क्षण मृत्यु हो सकती है। इन्हें तुरन्त नर्सिंग होम ले

अध्याय 28: साजन के घर जाना होगा

27 अगस्त 2023
0
0

कलकत्ता पहुंचकर भी भुलाने के इन कामों में व्यतिक्रम नहीं हुआ। बचपन जैसे फिर जाग आया था। याद आ रही थी तितलियों की, बाग-बगीचों की और फूलों की । नेवले, कोयल और भेलू की। भेलू का प्रसंग चलने पर उन्होंने म

अध्याय 27: मरीज की हवा दो बदल

27 अगस्त 2023
0
0

हिरण्मयी देवी लोगों की दृष्टि में शरत्चन्द्र की पत्नी थीं या मात्र जीवनसंगिनी, इस प्रश्न का उत्तर होने पर भी किसी ने उसे स्वीकार करना नहीं चाहा। लेकिन इसमें तनिक भी संशय नहीं है कि उनके प्रति शरत् बा

अध्याय 26: अल्हाह.,अल्हाह.

27 अगस्त 2023
0
0

सर दर्द बहुत परेशान कर रहा था । परीक्षा करने पर डाक्टरों ने बताया कि ‘न्यूरालाजिक' दर्द है । इसके लिए 'अल्ट्रावायलेट रश्मियां दी गई, लेकिन सब व्यर्थ । सोचा, सम्भवत: चश्मे के कारण यह पीड़ा है, परन्तु

अध्याय 25: तुब बिहंग ओरे बिहंग भोंर

27 अगस्त 2023
0
0

राजनीति के क्षेत्र में भी अब उनका कोई सक्रिय योग नहीं रह गया था, लेकिन साम्प्रदायिक प्रश्न को लेकर उन्हें कई बार स्पष्ट रूप से अपने विचार प्रकट करने का अवसर मिला। उन्होंने बार-बार नेताओं की आलोचना की

अध्याय 24: श्री अरविन्द का आशीर्वाद

27 अगस्त 2023
0
0

गांव में रहते हुए शरत् बाबू को काफी वर्ष बीत गये थे। उस जीवन का अपना आनन्द था। लेकिन असुविधाएं भी कम नहीं थीं। बार-बार फौजदारी और दीवानी मुकदमों में उलझना पड़ता था। गांव वालों की समस्याएं सुलझाते-सुल

अध्याय 23: कैशोर्य का वह असफल प्रेम

27 अगस्त 2023
0
0

शरत् बाबू की रचनाओं के आधार पर लिखे गये दो नाटक इसी युग में प्रकाशित हुए । 'विराजबहू' उपन्यास का नाट्य रूपान्तर इसी नाम से प्रकाशित हुआ। लेकिन दत्ता' का नाट्य रूपान्तर प्रकाशित हुआ 'विजया' के नाम से

अध्याय 22: गुरु और शिष्य

27 अगस्त 2023
0
0

शरतचन्द्र 60 वर्ष के भी नहीं हुए थे, लेकिन स्वास्थ्य उनका बहुत खराब हो चुका था। हर पत्र में वे इसी बात की शिकायत करते दिखाई देते हैं, “म सरें दर्द रहता है। खून का दबाव ठीक नहीं है। लिखना पढ़ना बहुत क

अध्याय 21:  ऋषिकल्प

26 अगस्त 2023
0
0

जब कविगुरु रवीन्द्रनाथ ठाकुर सत्तर वर्ष के हुए तो देश भर में उनकी जन्म जयन्ती मनाई गई। उस दिन यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट, कलकत्ता में जो उद्बोधन सभा हुई उसके सभापति थे महामहोपाध्याय श्री हरिप्रसाद शास्त

अध्याय 20: देश के तरुणों से में कहता हूँ

26 अगस्त 2023
0
0

साधारणतया साहित्यकार में कोई न कोई ऐसी विशेषता होती है, जो उसे जनसाधारण से अलग करती है। उसे सनक भी कहा जा सकता है। पशु-पक्षियों के प्रति शरबाबू का प्रेम इसी सनक तक पहुंच गया था। कई वर्ष पूर्व काशी में

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए