shabd-logo

काव्या सोनी के बारे में

प्रेम है तो श्रृंगार है विरह है वेदना है पर जो भी है सब दिल के करीब है ...💞 मैं और मेरा प्रेमी ही मेरी कलम है, यूँ तो बहुत बड़ी कवियित्री नही हूं, पर प्रेम को अपने काव्य में रखने का शौक पूरा करती हूं। प्रसिद्ध किताबें :- काव्या की काव्यांजली, नारी जीवन दर्पण, काव्यांशी जीवन के रंग, लफ्ज़ों की लहरें, प्रेम डगर, हाल ए दिल......... आशा है रचनाओं में आप जीवन और प्रेम की वास्तविकता को महसूस करेंगे 🙏 काव्या सोनी

Other Language Profiles

पुरस्कार और सम्मान

prize-icon
Daily Writing Competition2022-09-17
prize-icon
Daily Writing Competition2022-09-02
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2022-08-20
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2022-08-13
prize-icon
साप्ताहिक लेखन प्रतियोगिता2022-05-15
prize-icon
साप्ताहिक लेखन प्रतियोगिता2022-02-13
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2022-07-17
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2022-04-08
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2021-12-25
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2021-12-13
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2021-11-21
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2021-11-14

काव्या सोनी की पुस्तकें

❣️❣️प्रेम डगर❣️❣️

❣️❣️प्रेम डगर❣️❣️

❣️❣️ प्रेम डगर ❣️❣️ ख्वाबों का एक अनजाना नगर आसान कहां है, मुश्किल बड़ा ये सफर कभी इन राहों में कलियां खिल जाए कभी बेवफाई की ठोकर मिल जाए कभी खूबसूरत से मोड़ है आते तो कभी दर्द की राह में मुड़ जाते रुसवाई के भी है फसाने चाहत के कुछ अफसाने कभी जुदाई औ

688 पाठक
45 रचनाएँ
33 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 53/-

प्रिंट बुक:

180/-

❣️❣️प्रेम डगर❣️❣️

❣️❣️प्रेम डगर❣️❣️

❣️❣️ प्रेम डगर ❣️❣️ ख्वाबों का एक अनजाना नगर आसान कहां है, मुश्किल बड़ा ये सफर कभी इन राहों में कलियां खिल जाए कभी बेवफाई की ठोकर मिल जाए कभी खूबसूरत से मोड़ है आते तो कभी दर्द की राह में मुड़ जाते रुसवाई के भी है फसाने चाहत के कुछ अफसाने कभी जुदाई औ

688 पाठक
45 रचनाएँ
33 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 53/-

प्रिंट बुक:

180/-

काव्यांशी जीवन के रंग

काव्यांशी जीवन के रंग

ये जीवन कितना अजीब होता है हर किसी के नसीब अलग अलग रंग में खिलता है जीवन की परतों में तलाशते है जिस रंग को एक वही रंग नहीं मिलता कभी कभी कोई नया रंग मिल जाता है किसी के जीवन को रंगीन तो किसी के जीवन का दाग़ बन जाता किसी को खूबसूरत लम्हों की दे जाता स

252 पाठक
60 रचनाएँ
3 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 60/-

प्रिंट बुक:

204/-

काव्यांशी जीवन के रंग

काव्यांशी जीवन के रंग

ये जीवन कितना अजीब होता है हर किसी के नसीब अलग अलग रंग में खिलता है जीवन की परतों में तलाशते है जिस रंग को एक वही रंग नहीं मिलता कभी कभी कोई नया रंग मिल जाता है किसी के जीवन को रंगीन तो किसी के जीवन का दाग़ बन जाता किसी को खूबसूरत लम्हों की दे जाता स

252 पाठक
60 रचनाएँ
3 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 60/-

प्रिंट बुक:

204/-

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी)

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी)

ख्याल मन में जब हलचल मचाएं बातें दिल को किसी को कहने से कतराए सखी बने दैनन्दिनी प्यारी सुने दिल हाल निभाएं सच्ची यारी

233 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी)

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी)

ख्याल मन में जब हलचल मचाएं बातें दिल को किसी को कहने से कतराए सखी बने दैनन्दिनी प्यारी सुने दिल हाल निभाएं सच्ची यारी

233 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्यांक्षी मन की बात दैननंदिनी के साथ

काव्यांक्षी मन की बात दैननंदिनी के साथ

दैननंदिनी कुछ इधर उधर की बात जरा सी खुद से मुलाकात आजकल जो व्यस्तता का है दौर जिम्मेदारी दुनियादारी में खुद के लिए नहीं मिलता सुकून का ठौर ऐसे में दैननंदिनी के साथ जरा कर ले खुद से मुलाकात खुद की तलाश पर कुछ पल लगता विराम दिल की बाते अपनी सखी से कर म

216 पाठक
18 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्यांक्षी मन की बात दैननंदिनी के साथ

काव्यांक्षी मन की बात दैननंदिनी के साथ

दैननंदिनी कुछ इधर उधर की बात जरा सी खुद से मुलाकात आजकल जो व्यस्तता का है दौर जिम्मेदारी दुनियादारी में खुद के लिए नहीं मिलता सुकून का ठौर ऐसे में दैननंदिनी के साथ जरा कर ले खुद से मुलाकात खुद की तलाश पर कुछ पल लगता विराम दिल की बाते अपनी सखी से कर म

216 पाठक
18 रचनाएँ

निःशुल्क

लफ़्ज़ों की लहरें

लफ़्ज़ों की लहरें

लफ्जों की लहरें मन के आंगन में आकर ठहरे लफ़्ज़ों के मोती एहसासों के धागे में पिरोकर कविताओं में सजाए जज्बातों के सागर में लफ्जों की मचलती इन लहरों को एहसासों के किनारे मिल जाए कविताओं के सहारे कुछ यूं सजाए जीवन के हर पहलू को अपने अंदाज में

142 पाठक
40 रचनाएँ
92 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 53/-

प्रिंट बुक:

176/-

लफ़्ज़ों की लहरें

लफ़्ज़ों की लहरें

लफ्जों की लहरें मन के आंगन में आकर ठहरे लफ़्ज़ों के मोती एहसासों के धागे में पिरोकर कविताओं में सजाए जज्बातों के सागर में लफ्जों की मचलती इन लहरों को एहसासों के किनारे मिल जाए कविताओं के सहारे कुछ यूं सजाए जीवन के हर पहलू को अपने अंदाज में

142 पाठक
40 रचनाएँ
92 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 53/-

प्रिंट बुक:

176/-

औरत का मन

औरत का मन

औरत के मन के अहसास औरत के मन की बात कुछ अनकही रह जाए कुछ अनसुनी के दी जाए

117 पाठक
30 रचनाएँ
0 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 42/-

औरत का मन

औरत का मन

औरत के मन के अहसास औरत के मन की बात कुछ अनकही रह जाए कुछ अनसुनी के दी जाए

117 पाठक
30 रचनाएँ
0 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 42/-

काव्यांक्षी मन के अहसास दैननंदिनी प्रतियोगिता

काव्यांक्षी मन के अहसास दैननंदिनी प्रतियोगिता

डायरी लेखन दैननंदिनी प्रतियोगिता

108 पाठक
29 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्यांक्षी मन के अहसास दैननंदिनी प्रतियोगिता

काव्यांक्षी मन के अहसास दैननंदिनी प्रतियोगिता

डायरी लेखन दैननंदिनी प्रतियोगिता

108 पाठक
29 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्या की काव्यांजली

काव्या की काव्यांजली

प्रेम से है जीवन प्रेम से है प्यारा हर बंधन प्रेम बिन सुना लगे जहां जुदाई के दर्द से प्रेम का गुलशन वीरान शब्दों के सांचे ढालने एक छोटा सा प्रयास प्यार के खट्टे मीठे कुछ अहसास कुछ सुने कुछ अनसुने से जज्बात प्रेम के निराले रूप मेरे प्रेम का र

97 पाठक
60 रचनाएँ
10 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 84/-

प्रिंट बुक:

229/-

काव्या की काव्यांजली

काव्या की काव्यांजली

प्रेम से है जीवन प्रेम से है प्यारा हर बंधन प्रेम बिन सुना लगे जहां जुदाई के दर्द से प्रेम का गुलशन वीरान शब्दों के सांचे ढालने एक छोटा सा प्रयास प्यार के खट्टे मीठे कुछ अहसास कुछ सुने कुछ अनसुने से जज्बात प्रेम के निराले रूप मेरे प्रेम का र

97 पाठक
60 रचनाएँ
10 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 84/-

प्रिंट बुक:

229/-

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी प्रतियोगिता मई)

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी प्रतियोगिता मई)

मन की बात अपनी सखी दैनन्दिनी के साथ

88 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी प्रतियोगिता मई)

काव्यांक्षी (दैनन्दिनी प्रतियोगिता मई)

मन की बात अपनी सखी दैनन्दिनी के साथ

88 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

काव्य शैली

काव्य शैली

प्यार के रंग सनम का रहे ख्याल जाने वो दिल का हाल शैल सा बने मुश्किल मे ढाल प्यार तेरा मेरा बेमिसाल

87 पाठक
60 रचनाएँ
0 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 79/-

काव्य शैली

काव्य शैली

प्यार के रंग सनम का रहे ख्याल जाने वो दिल का हाल शैल सा बने मुश्किल मे ढाल प्यार तेरा मेरा बेमिसाल

87 पाठक
60 रचनाएँ
0 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 79/-

और देखे

काव्या सोनी के लेख

खोने का तुम्हे अब डर नहीं

18 नवम्बर 2023
0
0

आज करते हो जो तुम मुझेनजर अंदाजतुम्हे खबर है प्यार तुमसे मुझे बहुत है खोने का अब कोई डर नहीं तुम्हे इसलिए बेपरवाही इतनी दिखाते हो तुम आजमगर एक दिन मुझे खो दोगे तुम जो रहे ऐसे ही तुम्हारे अं

🪔 Happy Diwali 🪔

12 नवम्बर 2023
2
3

<div><img style="background: gray;" src="https://shabd.s3.us-east-2.amazonaws.com/articles/616076f8332d8d477f30e4aa_1699760988636.jpg"></div>

तुझसे मेरा रिश्ता

1 अगस्त 2023
1
0

बहते झरने सा तू निश्छलपावन प्रेम , सरलता से भरा तेरा मनमेरे ख्वाबों ख्वाहिशों का तू विशाल सा आकाशकभी प्यार की तो कभी जलन में गुस्से की तू बरसाततुझ बिता एक लम्हा शदियों से कम नहींतुम बिन प्रियतम हम नही

जीने का बदल रहा अंदाज

27 जुलाई 2023
0
0

जीने के बदल रहा है अंदाजदिल भी बदल रहा है अपना मिजाज़बेवजह उनसे लड़ने लगे हैउनकी हर बात पर अड़ने लगे हैझगड़ने के बहाने करते है उनसे बातसाथ वो रहे यही है सुकून भरा अहसासउफ्फ ये क्या मुझे होने लगा हैउसक

वो लड़का

27 जुलाई 2023
0
0

एक लड़का है बड़ा प्यारा साउसकी हर बार परप्यार आता हैहै जरा गुस्से वाला वोपर मेरे साथ गुस्सा अपना भूल जाता हैइंतजार बहुत करवाता हैपर मुस्कुराहट मेरे लबों परपल में सजाता हैअहसास अपने उसे जताना

मुहब्बत हो ही गई

27 जुलाई 2023
0
0

बहुत रोका खुद कोदायरें की कायम किएकर के नजरंदाज हर अहसास कोबहुत रोका खुदबनाई बेहिसाब हदें भीमगर दिल ये कर बैठा फिर भी बगावतबेअसर हुई हर कोशिश आखिर हो ही गई तुमसे मुहब्बत

एक रिश्ता पाकीजा सा

27 जुलाई 2023
2
1

हां उससे बात करना अच्छा लगता हैइस मतलबी दुनियां में साथ उसका सच्चा लगता हैहां उससे है जरा ज्यादा सा लगावक्योंकि वो समझता है मेरे मन के भावहां उसके बिन अब हर बात लगती है अधूरीमगर क्या इसे प्यार का नाम

अहसास

6 अप्रैल 2023
0
0

<div><img style="background: gray;" src="https://shabd.s3.us-east-2.amazonaws.com/articles/616076f8332d8d477f30e4aa_1680754606056.jpg"></div>

मुहब्बत के नुकसान

27 दिसम्बर 2022
2
3

<div><img style="background: gray;" src="https://shabd.s3.us-east-2.amazonaws.com/articles/616076f8332d8d477f30e4aa_1672117446005.jpg"></div>

कमज़ोर धागे

27 दिसम्बर 2022
0
0

<div><img style="background: gray;" src="https://shabd.s3.us-east-2.amazonaws.com/articles/616076f8332d8d477f30e4aa_1672117161517.jpg"></div>

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए