shabd-logo

पुस्तक प्रतियोगिता की किताबें

कचोटती तनहाइयाँ

मैं आप सबके लिए एक नई कहानी लेकर आई हूँ ,जिसका शीर्षक है 'कचोटती तनहाइयाँ '। मेरी ये कहानी पूर्णतः काल्पनिक है ।मेरी ये कहानी है कहानी के नायक सूर्य प्रताप भानु व उसकी सहधर्मिणी दिव्या प्रताप भानु की । सूर्य प्रताप भानु जो अपने पूर्वजों द्वारा प्राप्

2387 पाठक
46 अध्याय
16 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

शापित संतान

मैं आप लोगों के लिए एक नई कहानी लेकर आई हूँ -'शापित संतान '।मेरी ये कहानी पूर्णतः काल्पनिक है । एक पिता अपनी संतान के लिए हर त्याग करता है मगर जब उसकी संतान गलत राह पकड़ ले तो उसका सुख ,चैन छिन जाता है ,ऐसी संतान शापित संतान ही होती है ।ऐसी ही शापित

930 पाठक
22 अध्याय
22 जून 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

बहू की विदाई

मैं आप लोगों के लिए एक नई कहानी लेकर आई हूँ-'बहू की विदाई' ।मेरी ये कहानी पूर्णतः काल्पनिक है । एक रुढि़वादी ,दकियानूसी ,व स्त्रियों को अपने से नीचे समझने वाले समाज के एक व्यक्ति द्वारा अपनी बहू के विवाह करने पर मेरी ये कहानी है 'बहू की विदाई' । मेर

644 पाठक
20 अध्याय
7 जून 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

प्रतिउत्तर???

पारिवारिक साख प्रतिष्ठा मान मर्यादा और स्वयं की लज्जा एवं भीरुता के कारण जो मुद्दे समाज से अछूते रह गए उसका उत्तरदायी कौन ॽॽ ,अवनी , राजीव,या फिर उनका परिवेश संस्कार या आधुनिकता के बहाने सिनेमा घरों में परोसी गयी अश्लीलता जो रिश्तो के तानो बानो को

760 पाठक
76 अध्याय
11 जनवरी 2024
अभी पढ़ें
निःशुल्क

हमें मिलना ही था

एक झलक 👉 चारों तरफ घटा घिरी हुई थी ठंडी ठंडी हवा का झोंका मन को लुभा रहा था,,, ऊपर से पड़ती रिमझिम बारिश,, रह रह के आसमान में चमकती बिजली दिल में एक अजीब सी बेचैनी पैदा कर रही थी,,, । मिट्टी से उठती हुई सोंधी खुशबू,, दिल को लुभा रही थी नूरी पगडंडी

241 पाठक
60 अध्याय
20 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

कायरा का इंसाफ

मैं आप लोगों के समक्ष एक नई कहानी लेकर आई हूं (कायरा का इंसाफ) यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है, इस कहानी के पात्र के नाम या घटना अगर किसी से जुड़े हैं, तो वह सिर्फ एक संयोग ही होगा, इस कहानी का किसी के वास्तविक जीवन से भी कोई लेना देना नहीं है, यह क

अभी पढ़ें
निःशुल्क

घर-घर की कहानी

मनुष्य की ज़िंदगी बड़ी ही कठोर और संघर्षशील होती है । आज के परिवार विखंडन का कारण किसी को स्पष्ट तौर पर पता ही नहीं हो प रही है । एक तरफ तकनीक की दुनिया में सोशल मीडिया और मनोरंजन की दुनिया मई व्यस्त होती हुई जिंदगियाँ और दूसरी तरफ भारतीय संस्कृति और स

47 पाठक
3 लोगों ने खरीदा
80 अध्याय
11 अक्टूबर 2023
अभी पढ़ें
79
ईबुक

क्या यही प्यार है?--2

जोगिंदर,रमनी और चंचला के प्यार को जानने के लिए आपको "क्या यही प्यार है" का सीजन :-1 पढ़ना होगा।अब हम आप को प्यार के एक अलग स्वरुप से अवगत कराएंगे।आईए आप और हम साथ साथ महसूस करें सिया और जिया के प्यार को।कितनी शिद्दत से उन्होंने प्यार किया अपने अपने म

अभी पढ़ें
निःशुल्क

क्या यही प्यार है?

क्या आज की युवा पीढ़ी प्यार का मतलब जानती है ....नहीं।बस आज कल के युवा लैला मजनूं,शीरी फरहाद,इन की कहानी पढ़कर उन राहों पर निकल पड़ते हैं। प्यार पाना ही नहीं होता। प्यार के लिए मर मिटना भी प्यार है। सदियों तक किसी का इंतजार भी प्यार है। आइए हम और आप

अभी पढ़ें
निःशुल्क

मीठी-मीठी वाणी

इस किताब में दैनिक विषयों पर मानवीय आदर्शों को जीवन में प्रेरणा देने वाली दैनिक रचनाएं रचित की जा रही है।

26 पाठक
51 अध्याय
7 अक्टूबर 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

प्यार का प्रतिशोध,,,

यह कहानी एक बेहद खूबसूरत लड़की नैना अग्रवाल की है। जो खूबसूरत होने के साथ-साथ काफी टैलेंटेड भी थी। महज 24 साल की उम्र में ही एक बड़ी कंपनी में मैनेजर के पद पर कार्यरत थी, नैना अपने पति शिवांश और बेटे आरव के साथ दिल्ली के पॉश एरिया मैं बने फ्ल

अभी पढ़ें
निःशुल्क

कसक तेरे प्यार की (प्रेम कहानी)

कसक तेरे प्यार की एक प्रेम कहानी है।जो प्रेमी जोड़े के एक साथ रहते हुए भी कदम कदम पर प्यार की कसक से तड़पते रहते हैं। उनकी कसक का क्या अंजाम होता है जानने के लिए पढ़ें कहानी कसक तेरे प्यार की।

159 पाठक
61 अध्याय
8 जुलाई 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

बदली का चाँद

ये एक ऐसी लड़की की कहानी है, जो सीधी और भोली होने के साथ -साथ बहादुर भी है । ज़िंदगी में उसे प्यार में धोखे भी मिले, ज़िंदगी के उतार चढ़ाव को पार करते हुए उसकी ज़िंदगी कहाँ से कहाँ पहुँच गयी? तब भी अपने लोगों और दोस्तों के साथ खड़ी रहती है । अपने जीव

39 पाठक
98 अध्याय
11 अक्टूबर 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

साढ़ा चिड़ियां दा चम्बा वे........

बेटियां क्यों पराई हो जाती है । क्यों वो हक से अपने अपने मायके नही आ पाती ।उसके दो घर होने के बाद भी कोई घर नहीं होता। मां कहती हैं पराई है और सास कहती हैं पराये घर से आई है बड़ी गजब रचना हूं मैं तेरी भगवान। बेटी बन कर भी पराई

119 पाठक
20 अध्याय
28 सितम्बर 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

बशीरा बस कंडक्टर

मेरी पुस्तक का नाम बशीरा है। मैने अपनी इस पुस्तक में बशीरा नाम के एक व्यक्ति के बारे में लिखा है। बशीरे के जरिए मैंने यह समझाने की कोशिश की है,कि जो लोग खुद को बदकिस्मत समझते हैं ,और भगवान को कोसते हैं कि हमें हीं भगवान ने इतने दुख दिए । उनको यह समझ

11 पाठक
2 लोगों ने खरीदा
16 अध्याय
23 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
53
ईबुक


ऐसा प्यार

सागरिका ,उस दिन अपने होने वाले पति से पहली बार मिलने ,के,लिए जा रही थी।शायद वो थोड़ी लेट हो चुकी थी। सुबह का समय था। बारिसो का सीजन चल रहा था। कुल मिलाकर उस दिन मौसम सुहाना सा था।सागरिका जब घर से निकली ही थी,की , हलकी हवाएं और बारिसो की बुंदे भी अप

42 पाठक
26 अध्याय
28 अक्टूबर 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

रौशनी इक बहादुर लड़की

यह कहानी पुरी तरह काल्पनिक है अगर यह कहानी किसी व्यक्ति विशेष जाती समुदाय से मिलती है तो यह मात्र एक संयोग होगा मुझे विश्वास है कि यह कहानी आप लोगों Pको उतनी ही पसंद आएगी जितनी की बाकी की कहानियां पसंद आती है यह कहानी है एक लड़की की जो मध्यम वर्गी पर

23 पाठक
22 अध्याय
18 अक्टूबर 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

कहीं धूप कहीं छाव

ये किताब मेरे रोज के लेखो का संग्रह है। जिंदगी में खुशी भी है और गम भी। आप इसमें से अपने लिए क्या लेते हैं? यह आप पर निर्भर करता है।

37 पाठक
30 अध्याय
2 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

सफलता की ओर

मैने अपनी पुस्तक, सफलता की ओर, में एक विधवा औरत की कहानी लिखी है। जिसका नाम सुरजीत है। सुरजीत ने अपनी बेटी को पढ़ा लिखा कर । अपनी बेटी को अपने पैरों पर खड़ा किया। सुरजीत से बहुत लोगों ने कहा कि मिनी को पढ़ाने लिखाने का तुम्हें क्या फायदा। इसने तो अपन

8 पाठक
1 लोगों ने खरीदा
10 अध्याय
28 अप्रैल 2023
अभी पढ़ें
105
ईबुक

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए