shabd-logo

जीवनी – संस्मरण की किताबें

Biographical Memories books in hindi

जीवनी संस्मरण के सर्वश्रेष्ठ संग्रह को पढ़िए Shabd.in पर। हमारे इस संग्रह में कई महान और रोचक व्यक्तित्वों के आत्मकथा तथा उनके संस्मरण हैं। इस संग्रह में लेखकों ने अपने जीवन में हुए अनोखे अनुभवों को भी साझा किया है। यहां उन महापुरुषों का भी जीवन संग्रह है जिनकी जीवनी अपने इतिहास का साथी न बन पायी। इसके लिए लेखकों ने वैज्ञानिक तरीकों से तथ्यों को सुलझा कर सटीक समीकरण निकाला है। तो जानते हैं विभिन्न व्यक्तित्वों के उनके जीवन को उन्हीं के शब्दों में।
चक्रव्यूह

अपने कालेज के दिनों में मैं अपनी सनक, हालात और घटनाओं का शिकार होकर एक चक्रव्यूह में फंस गया था जिससे निकालना उस समय असंभव सा लगता था। पर परिस्थितियों की समीक्षा और विश्लेषण करके, दृढ़ताऔर आत्मविश्वास के सहारे छोटे-छोटे कदम बढ़ कर मैं ऐसी स्थिति से उबर

27 पाठक
36 लोगों ने खरीदा
35 अध्याय
2 सितम्बर 2023
अभी पढ़ें
27
ईबुक
179
प्रिंट बुक

वादों की डोर (अटूट बंधन)

वादों से जुड़ा रिश्ता.... एक अटूट बंधन!

10 पाठक
1 लोगों ने खरीदा
20 अध्याय
5 अक्टूबर 2023
अभी पढ़ें
113
ईबुक

आधुनिकता (पिता जरूरत या बेकार)

एक पिता अपने जीवन के सब सुनहरे पलो को छोड़ देता हैं अपने बच्चों को कामयाब बनता हैं और पिता की कीमत उससे पूछो जिसके पिता नहीं हैं

अभी पढ़ें
निःशुल्क

मेरी जिंदगी है तुझसे मां❤️

मेरी जिंदगी है तुझसे मां, तुझ बीन ये जिंदगी है अधुरी मां...❤️

अभी पढ़ें
निःशुल्क

लफ्जों के पंख...🕊️

खामोशियां......अल्फाजों की दुनियां..🍁

12 पाठक
3 लोगों ने खरीदा
51 अध्याय
30 अप्रैल 2024
अभी पढ़ें
53
ईबुक

# GOLDEN &TIME $

1.इंसान को कभी भी किसी अवसर का इंतजार नही करना चाहिए, क्योंकि जो आज है वही सबसे बड़ा अवसर होता है। 2.गलत तरीकों से कामयाबी प्राप्त करने से कई गुना बेहतर है, सही तरीके अपनाकर नाकामयाब हो जाना। 3.जिंदगी का हर एक छोटा हिस्सा भी हमारी जिंदगी की काम

5 पाठक
4 अध्याय
23 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
निःशुल्क

जीवनी - रानी दुर्गावती

विरांगना रानी दुर्गावती का स्वाभिमान

4 पाठक
2 अध्याय
9 नवम्बर 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

यादें

जीवन में घटित कुछ ऐसी घटनाएं जिनके स्मरण मात्र से ही मेरे हृदय में बार-बार दस्तक उठती हो, ऐसी घटनाएं जो मेरे हृदय को झकझोर देती हैं.... (सच्ची घटनाओं पर आधारित पुस्तक)

24 पाठक
7 लोगों ने खरीदा
14 अध्याय
7 फरवरी 2022
अभी पढ़ें
16
ईबुक

परम शिवभक्त रावण

संसार ने रावण को एक दैत्य के रूप में तो जाना है,पर इस पुस्तक के द्वारा परम शिवभक्त,परम पांडित्य ज्ञाता ,लंकेश ,रावण को एक भिन्न दृष्टि से देखकर अपनी बुद्धि अनुसार लिखने का प्रयास किया हैं। जय श्री राम ॐ नमः शिवाय

15 पाठक
56 लोगों ने खरीदा
10 अध्याय
31 अक्टूबर 2022
अभी पढ़ें
66
ईबुक
252
प्रिंट बुक

स्माइली वाली लड़की

इस अफ़साने को लिखने की एक वजह यह भी रही कि मुझे स्माइलियों की भाषा बहुत रोचक जान पड़ी थी। मेरी एक चिंता यह भी थी कि इसके साथ हमारे शब्द, उनमें छुपे एहसास, एहसासों को ज़ाहिर करने के इंसानी तौर-तरीक़े, इंसान का अपना शब्दकोश, ये सब मर तो नहीं रहे हैं। म

0 पाठक
0 लोगों ने खरीदा
0 अध्याय
21 मार्च 2023
अभी पढ़ें
249
प्रिंट बुक

 माँ

माँ ही मंदिर माँ ही कावा शिवाला माँ का नाम ही उत्तम जग में , माँ ही पालन हारा ! माँ ही दुर्गा माँ ही लक्ष्मी माँ ही सृष्टि के रचन हारा माँ से मानव का अस्तित्व है , माँ का नाम जग में निराला ! माँ अस्तित्व है माँ ही धरती माँ ही सवको पाला , म

2 पाठक
1 अध्याय
8 मार्च 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

मुंशी प्रेमचन्द

धनपत राय श्रीवास्तव ३१ जुलाई १८८० – ८अक्टूबर १९३६ जो प्रेमचंद नाम से जाने जाते हैं, वो हिन्दी और उर्दू के सर्वाधिक लोकप्रिय उपन्यासकार, कहानीकार एवं विचारक थे। और उनका जन्म 31 जुलाई 1880 को वाराणसी के नज़दीक लमही गांव में हुआ था। पिता का नाम अजायब र

अभी पढ़ें
निःशुल्क

RAKESH की डायरी

आम नागरिक की जीवनी के साथ ही उनके कार्य और दिनचर्या के वो किस्से जिनसे ना केवल अपनी तारीफ बल्कि उन सभी कर्तव्य जो एक आम इंसान में होते हो

अभी पढ़ें
निःशुल्क

इच्छा

सभी इच्छायें जहाँ होंगी वहाँ कोई ना कोई जाल मिलेगा, उसमें फँस कर ख़ुश होता इंसानी लाल मिलेगा। ज़रूरतें पूरी हो जाना ही सिर्फ़ काफ़ी नहीं, दूसरों की नक़लों में हरपल बहाता माल मिलेगा। संतुष्ट नहीं होता अपनी हैसियत और हस्ती से, और-और करके हरदम बजाता ग

0 पाठक
2 अध्याय
29 दिसम्बर 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

अनकही दास्तां

तिनके तिनको मे जिंदगी 🖤

3 पाठक
1 लोगों ने खरीदा
24 अध्याय
19 अगस्त 2023
अभी पढ़ें
40
ईबुक

मेरे जीवन की यादें

इसके माध्यम से मैं मेरे जीवन की उन यादों का अपने शब्दों के माध्यम से रचित करना चाह रहा हूं जो मुझे मेरी जिंदगी में हल्की हल्की सी याद आती है। जब उन संस्कारों के खिलाफ कुछ भी होता है तो मुझे उन पलों की यादें आने लगती है और मैं उन समय के लोगों को याद क

0 पाठक
1 लोगों ने खरीदा
15 अध्याय
30 नवम्बर 2022
अभी पढ़ें
66
ईबुक

अन्नपूर्णा

यह कहानी एक बेटी की है।जो कम पढ़ी-लिखी है। दुनिया के ताने लगातार उसे कमजोर करते हैं।पर उसने हिम्मत नहीं हारी। और किस तरह से वे अनपढ़, गंवार एक अन्नपूर्णा बनती है यह दिखाया गया है

3 पाठक
1 अध्याय
20 सितम्बर 2022
अभी पढ़ें
निःशुल्क

रूह

मैं जब इस किताब को लिखने, अपनी पूरी नासमझी के साथ कश्मीर पहुँचा तो मुझे वहाँ सिर्फ़ सूखा पथरीला मैदान नज़र आया। जहाँ किसी भी तरह का लेखन संभव नहीं था। पर उन ऊबड़-खाबड़ रास्तों पर चलते हुए मैंने जिस भी पत्थर को पलटाया उसके नीचे मुझे जीवन दिखा, नमी और

6 पाठक
0 लोगों ने खरीदा
3 अध्याय
20 मार्च 2023
अभी पढ़ें
249
प्रिंट बुक

तुम्हारी औकात क्या है

पीयूष मिश्रा जब मंच पर होते हैं तो वहाँ उनके अलावा सिर्फ़ उनका आवेग दिखता है। जिन लोगों ने उन्हें मंडी हाउस में एकल करते देखा है, वे ऊर्जा के उस वलय को आज भी उसी तरह गतिमान देख पाते होंगे। अपने गीत, अपने संगीत, अपनी देह और अपनी कला में आकंठ एकमेक एक

3 पाठक
0 लोगों ने खरीदा
2 अध्याय
21 मार्च 2023
अभी पढ़ें
299
प्रिंट बुक

मेरी कहानी

यह मेरी जीवनी है। एक पत्रकार की कहानी। मैंने इस कहानी को जीया है। मैं ही इस कहानी का नायक हूं। मैंने अपने जीवन के 32 बरस पत्रकारिता को दिए हैं। गुजरे इन बरसों में पत्रकारिता ही मेरा धर्म भी रही और जुनून भी। व्यवसाय भी और कर्तव्य भी। लक्ष्य भी और आत्

अभी पढ़ें
निःशुल्क

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए