shabd-logo

आशीष जैन के बारे में

पुरस्कार और सम्मान

prize-icon
साप्ताहिक लेखन प्रतियोगिता2022-05-08
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2022-04-19

आशीष जैन की पुस्तकें

वीराना

वीराना

घर हर किसी का एक घर होता है। चाहे वो घोंसला हो या किसी शेर की गुफा या किसी इंसान का मकान । हर किसी को अपने घर से लगाव हो ही जाता है कई बार इस हद तक की अपने इसी लगाव के कारन वो आपने घर को नहीं छोड़ पाते। पर अगर मर कर भी अपना घर न छूटे तो वहां छा

24 पाठक
21 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 66/-

वीराना

वीराना

घर हर किसी का एक घर होता है। चाहे वो घोंसला हो या किसी शेर की गुफा या किसी इंसान का मकान । हर किसी को अपने घर से लगाव हो ही जाता है कई बार इस हद तक की अपने इसी लगाव के कारन वो आपने घर को नहीं छोड़ पाते। पर अगर मर कर भी अपना घर न छूटे तो वहां छा

24 पाठक
21 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 66/-

गुमराह

गुमराह

अपराध की और कैसे की खींच जाता है या इस रचना में पूरी तरह बताया गया है कृपया पढे़ और इसकी खामियां बताएं

निःशुल्क

गुमराह

गुमराह

अपराध की और कैसे की खींच जाता है या इस रचना में पूरी तरह बताया गया है कृपया पढे़ और इसकी खामियां बताएं

निःशुल्क

जीवन एक कविता

जीवन एक कविता

जीवन एक मधुर संगीत की तरह है। जिसमें कभी खुशी है तो कभी गम गम और खुशी के मेल से जो बनता है वो ही है जीवन नैतिक मूल्य को बताती यह पुस्तक आपको एक खुशी देगी आशीष जैन

8 पाठक
29 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 26/-

जीवन एक कविता

जीवन एक कविता

जीवन एक मधुर संगीत की तरह है। जिसमें कभी खुशी है तो कभी गम गम और खुशी के मेल से जो बनता है वो ही है जीवन नैतिक मूल्य को बताती यह पुस्तक आपको एक खुशी देगी आशीष जैन

8 पाठक
29 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 26/-

लोक कथाएँ

लोक कथाएँ

लोककथाएं इतनी पुरानी हैं कि कोई भी नहीं बता सकता कि उन्हें पहले-पहल किसने कहा होगा। लोक-कथाएं एक कान से दूसरे कान में, एक देश से दूसरे देश में जाती रहती हैं। एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने पर इन कथाओं का रूपरंग भी बदलता जाता है। एक ही कहानी अलग-अलग

4 पाठक
32 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 53/-

लोक कथाएँ

लोक कथाएँ

लोककथाएं इतनी पुरानी हैं कि कोई भी नहीं बता सकता कि उन्हें पहले-पहल किसने कहा होगा। लोक-कथाएं एक कान से दूसरे कान में, एक देश से दूसरे देश में जाती रहती हैं। एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने पर इन कथाओं का रूपरंग भी बदलता जाता है। एक ही कहानी अलग-अलग

4 पाठक
32 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 53/-

महाभारत पात्र दर्शन

महाभारत पात्र दर्शन

महाभारत के पात्रो का वर्णन है किस प्रकार का उनका व्यवहार था किस प्रकार की उनकी सोच थी यह सब मैंने इस पुस्तक मई वर्णन किया है कृपया आप इसे पढ़ कर इसका मार्गदर्शन करें

3 पाठक
12 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 40/-

महाभारत पात्र दर्शन

महाभारत पात्र दर्शन

महाभारत के पात्रो का वर्णन है किस प्रकार का उनका व्यवहार था किस प्रकार की उनकी सोच थी यह सब मैंने इस पुस्तक मई वर्णन किया है कृपया आप इसे पढ़ कर इसका मार्गदर्शन करें

3 पाठक
12 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 40/-

शैतान

शैतान

कई देशो में कभी न कभी किसी न किसी से डरावनी बाते और खौफनाक कहानियां सुनने को मिलती ही रहती है जो हमारे रौंगटे खड़े कर देती है जिस वजह से कभी न कभी कोई न कोई स्वप्न हमको बुरा आता ही है ऐसे ही कुछ घटनाओ को मैं इस रचना के माध्यम से आपके सामने ला रहा हूँ

3 पाठक
7 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 33/-

शैतान

शैतान

कई देशो में कभी न कभी किसी न किसी से डरावनी बाते और खौफनाक कहानियां सुनने को मिलती ही रहती है जो हमारे रौंगटे खड़े कर देती है जिस वजह से कभी न कभी कोई न कोई स्वप्न हमको बुरा आता ही है ऐसे ही कुछ घटनाओ को मैं इस रचना के माध्यम से आपके सामने ला रहा हूँ

3 पाठक
7 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 33/-

गुमराह

गुमराह

WE RT'ERJLGREKLGHRKLTGHKLRGHKLRJGRKLGLKGHJG;LJ

निःशुल्क

गुमराह

गुमराह

WE RT'ERJLGREKLGHRKLTGHKLRGHKLRJGRKLGLKGHJG;LJ

निःशुल्क

आशीष जैन के लेख

कारोबारी सब

29 मई 2022
0
0

रिश्ते नाते यारी सब निकले कारोबारी सब उनके घर में 4 बेटियां फिर भी उन्हें दुलारी सब राजनीत की माचिस देखो देतीं है चिंगारी सब जाने किसकी नजर लगी है सूखीं हैं फुलवारी  सब जो दुनिया का चाल चलन

पथ थोड़ा पथरीला

29 मई 2022
0
0

बाहर से शर्मिला है तब तो फिर जहरीला है चल धरती का रंग बता अंबर नीला नीला है उतने तो हम भूले बैठे जो तेरा टंडीला है तेरा पर्वत है तुझे मुबारक अपना खुद का टीला है राजनीत की गर्म हवा है प्रेम

वीराना 21

25 मई 2022
0
0

मित्रो आज इस कहानी में आपको इन आत्माओ का पूरा सच पता चल जायेगा और आप जानेंगे के इस बाड़े का क्या रहस्य है इस लिए कहानी को पढ़ते रही है। जिन्होंने इस कहानी को प्रारम्भिक स्थिति से नहीं पढ़ा है वो कृपया

वीराना 20

24 मई 2022
0
0

अब तक आपने पढ़ा के कैसे मंदार ने सार्थक का शरीर पाकर कितनी हत्याएं कर दी थी कैसे वो बाड़े को पाने के लिए सार्थक के शरीर का शैतान की तरह फायदा उठा रहा था। इधर पल्लवी उसे इस मुसीबत से निजात दिलाने के लिए

वीराना 19

22 मई 2022
0
0

अब तक कहानी में आपने पढ़ा के किस तरह से, सार्थक में घुसे मंदार ने मौत का खेल खेला, किस तरह से उसने चार लोगो की हत्या कर दी इसे हत्या नहीं दरिंदगी कहना ठीक होगा वो तो उन मासूम लोगो को जिनको यह भी जान का

वीराना 18

20 मई 2022
0
0

अब तक आपने पढ़ा के कैसे सार्थक घर से बहार निकल जाता है।  कैसे उसके अंदर मंदार सूबेदार की आत्मा कब्ज़ा कर लेती है। और यह सब वो उस बाड़े को पाने के लिए कर रहा है। क्या राज़ छिपा था, उस बाड़े में क्यों वो पूर

वीराना 17

19 मई 2022
0
0

अब तक आपने पढ़ा के कैसे सार्थक मै कोई आत्मा आ जाती है और उस को परेशान करती है और उधर सरिता को कैसे वो आईने वाली औरत परेशान करने लगती है अब आगे पर आगे बढ़ने से पहिले आप सभी से अनुरोध के आज से इस कहान

वीराना 16

19 मई 2022
0
0

अब तक आपने पढ़ा के कैसे अमन ने अपनी माँ के साथ मज़ाक किया, कैसे अमन को अपनी माँ से डांट खानी पड़ी।  उधर सार्थक के सामने पूरे बाड़े का परिवार एक साथ खड़ा था।  अब क्या होगा क्या सार्थक और बाड़े मै रह रहा एलेक

वीराना 15

18 मई 2022
0
0

अब तक आपने पढ़ा के सरिता और एलेक्स ने वो बाड़ा भोजवानी से खरीद लिया और वो वहां शिफ्ट भी कर गए वहां  सामान लगा रहे थे। इधर सार्थक को कुछ आवाज़े आ रही थी अब इस कहानी मोड़ लेने ही वाली थी कहानी अब दिलचस्प

वीराना 14

18 मई 2022
0
0

कहानी अब आगे और भी रोमांचक होती जा रही है क्या आपको भी यही लगता है ,अगर हाँ तो आप लोग प्लीज रेटिंग्स जरूर दें। कहानी अब असल डर की और चल दी है जैसा अपने पढ़ा के यहाँ भोजवानी ने इस बाड़े को बेचने के बाद

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए