shabd-logo

दीपकनीलपदम्

hindi articles, stories and books related to deepakneelpadam


featured image

माता-पिता और बड़ों की बातें, समझो आशीर्वाद,  बीते  समय  के साथ  में,  बहुत  आयेंगे   याद ।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "

featured image

पिता पुत्र को टोंकता,  यह कीजो वह नाय,  अपनी गलती के सबक, बेटे को समझाय।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "               

featured image

सोया,  खाया, करता रहा,   अमूल्य समय बर्बाद,  अस बालक सूखे तरु, चाहे जो डालो फिर खाद।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                               

featured image

चैन दिवस का उड़ गया,  उड़ी रात की नींद,  ऐसे बालक से रखो,  आगे बढ़ने की उम्मीद ।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                                   

featured image

कभी अघाया न थका, देते  तुम्हें  मन की पीर,  छह गज राखो फ़ासला,  जाओ न उसके तीर ।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                                     

featured image

जो  विपत्ति में   साथ  दे,  उसे  नहीं  बिसराओ,  काँधे से काँधा  दो मिला,  जब भी मौका पाओ।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                                      

featured image

जो जन समय निकाल ले, आपकी खातिर आज,  उसको कभी न भूलियो,  उसको रखियो याद  ।   (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                   

featured image

समय  बड़ा बलवान  है,  देत  पटखनी  जोर,  कभी ग़रीब की आँख का,  नहीं भिगोना कोर ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                       

featured image

जात-पात देखो नहीं,  न मजहब, पंथ या धर्म,  प्रत्याशी को वोट दो,  देख के उसके कर्म ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "                                         

featured image

जात-पात  की  बात जो,  देता  रोज  बताय, उस पर झाड़ू फेर दो, कितना भी बहकाय । (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नीलपदम् "

featured image

षड्यंत्रों को जो बुने बस, पाने को सत्ता राज,  सही वक़्त मतदान का, उन्हें ठोंक दो आज ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नील पदम् "  

featured image

काम न आया गर कभी,  दूर रखा हो विकास,  अस जब पहुँचे आप तक, मत कीजो विश्वास । (C)@ दीपक कुमार  श्रीवास्तव  "   नीलपदम्  "                       

featured image

गुप्तदान की महिमा बड़ी, जन्म सुफल हुई जाय,  मन रखियो चुपचाप सब,  जब मत दीजो जाय ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नील पदम् "                            

featured image

देश के हित को देखना,  जब करना मतदान,  कितना पानी दूध है कितना,  सर्प नेवला जान ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नील पदम् "                          

featured image

जिस नेता के काज गलत,  जिसकी नीयत में खोट,  पक्ष-विपक्ष न देखिये,  दीजो वोट की चोट ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नील पदम् "                           

featured image

लोकतंत्र सबसे बड़ा, सबसे बड़ा चुनाव, मताधिकार का मान रख, सब पहुँचो अपने गाँव । (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव " नील पदम् "

featured image

प्रचलन दुष्टों का बढ़ा, बढ़ता कलियुग आज,  सीधा-सरल और सादगी, बन बैठे अपराध ।                (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव "नील पदम्"                 

featured image

जिस थाली में खा रहा,  उसमें करता छेद,  ऐसे जन पहचानकर, कभी न कहियो भेद।                (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव "नील पदम्"    

featured image

घड़ी- घड़ी क्यों कर रहा,  मरने का अपराध,  जीवन ही अनमोल है,  मलते रह जइयो हाथ।  (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव "नील पदम्"                     

featured image

सूरज  की  एक  रौशनी,   देती  अंकुर  फोड़,  अपने मतलब की सीख को, लेवो सदा निचोड़ ।                (c)@दीपक कुमार श्रीवास्तव "नील पदम्"               

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए