shabd-logo

बंधन अनचाहा सा १

3 जून 2023

9 बार देखा गया 9
"आयु!! आयु क्या है ये?? तुम इस तरह से हर किसी से बात नहीं कर सकती। तुम जानती हो ना घर में वैसे हीं इस, वक्त सब बहुत परेशान हैं और उन्हें ये सब बताकर उन्हें और परेशान मत करो।"

आयु मतलब आयुधी के पीछे उसकी बड़ी बहन हंसिका बोलते हुए आ रही थी।

"क्यूं दी!! आखिर क्यूं नहीं बता सकती मैं ये बात सभी से?? सबको ये बात पता होना चाहिए। एक बात आप बताइए आप पहले से हीं शादीशुदा हैं तो , दुबारा शादी कैसे करेंगी?? मान लीजिए किसी तरह से आपने शादी कर भी ली, तो ये बच्चा; जो अभी इस दुनियां में भी नहीं आया है, उसका क्या?? ये सब सोचा है आपने!! अपने बिना किसी को बताए शादी कर ठीक लेकिन, बच्चा!! ये ठीक नहीं किया दी आपने। मैं, मां पापा से इस बारे में बात कर के रहुंगी। शायद वो कोई दूसरा रास्ता निकाल लें। आप अपने पति को फोन करिए और उनसे कहिए। वो जहां कहीं भी हैं, जल्द से जल्द आकर पापा से मिलें।" बोल कर  आयुधी हंसिका को वहीं छोड़ जल्दी से सीढ़ियां उतरते हुए नीचे आ गई।

Pragya "परी" की अन्य किताबें

1
रचनाएँ
बंधन अनचाहा सा
0.0
एक ऐसा बंधन जिसमें न चाहते हुए भी बंधना पड़ा आयुधी को। क्या अपना पाएगी वो इसे दिल से या ये बंधन रहेगा अनचाहा सा हीं। जानने के लिए पढ़िए "बंधन!! अनचाहा सा" जिसका मेल लीड कैरेक्टर है अभयांक और फीमेल लीड कैरेक्टर है आयुधी!! इनकी कहानी जानने के लिए पढ़िए....

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए