shabd-logo

जनता के सहयोग से हे देश स्वाच और सुन्दर बन सकता है

4 दिसम्बर 2020

837 बार देखा गया 837

2015 में शुरू कया गया स्वाच भारत अभियान हमरे देश के लोगों में स्वछता के तरफ ध्यान और जागृत बढ़ाने के लिए स्तापित किआ गया था | मैं इस बात से पूरा सहमत हूँ की जनता के सहयोग से हे देश स्वाच और सुन्दर बन सकता है| देश के सभी हिस्से को स्वाच करना और स्वाच रखने का काम सिर्फ सर्कार ही नहीं रख सकती , यह देशवासी है जो स्वछता जैसे बड़ी काम को भी आसानी से आंजन दे सकते है | पहले यह जानना ज़रूरी है की स्वछता के क्या लाभ है - स्वाच रखने से एक स्थान सुन्दर और आकर्षक दीखता है, स्वछता के कारण बीमारी भी आसानी से नहीं फैल सकती और इसका असर सीधा लोगों के जीवन और स्वस्थ पर पड़ता है |
स्वच्छ रखने के लिए हमें अपनी तरफ से जितना हो सके उतना इस योजना को सफल बनने में योगदान देना चाईए - कूड़े को सड़क या खुले मैदान अथवा सार्वजनिक स्थान पर फेकने से आपने आप को रोकना चाईए जिससे शहर के खुले इलकों में कूड़ा इकट्ठा नहीं होगा |
कूड़े को कचरे के डिब्बे में जारी करके , उस कूड़े को सुबह कचरा वाहन में डाल दें , अगर आपके नगर में सही माइनो में कूड़ेदान कर वयस्था नहीं है तो शहर के नगरपालिक को तुरंत खबर करें |
हम नागरिकों को पेड़ नहीं कटान है और जितना हो सके पेड़ को न काटने वाली निण्रय लेना है | खुले मैदान या फिर आपने छोटे से बगीचे में पेड़ पौधों को लगाना है |
गाओ में एक शौचालय की महत्वता के बारे में बताना है और एक शौचालय बनाने के लिए भादवा देना चाईए |
शिक्षा सब्सि बड़ी साधन है , आपने लोगों को शिक्षा देने से किसीको कोई नुकसान नहीं - इसलिए स्वछता के बारे में हम जितना ही सके उतना जागृत पेहलाये और लोगोंको स्वछता के महत्वा पर शिक्षित करे |
अगर हम सब लोग हमरे देश को स्वछ करने में अपना अपना कार्य और कर्त्वय निभायें तो एक दिन हमारा देश भी सुन्दर आकर्षक ,और कई बिमारिओ से मुक्त देश बनेगा |

प्रियांशु सिंह की अन्य किताबें

1

मेरी पहला लेख

30 नवम्बर 2020
0
2
0

मुझे यह जानकर बेहत ख़ुशी हो रही है की हमरे भाषा को लेकर आप लोगों ने एक वेबसाइट बनाया है | मेने हिंदी की कमी को देखा है और मुझे लगता है की यह कदम हिंदी की बढ़ावा देने में बेहद लाभदायक होगा | इस प्रकार हिंदी के एक अलग हे वेबसाइट बनाकर आपने बहुत बड़ी काम

2

जनता के सहयोग से हे देश स्वाच और सुन्दर बन सकता है

4 दिसम्बर 2020
0
1
0

2015 में शुरू कया गया स्वाच भारत अभियान हमरे देश के लोगों में स्वछता के तरफ ध्यान और जागृत बढ़ाने के लिए स्तापित किआ गया था | मैं इस बात से पूरा सहमत हूँ की जनता के सहयोग से हे देश स्वाच और सुन्दर बन सकता है| देश के सभी हिस्से को स्वाच करना और स्वाच

3

बिना विचार जो करे सो पाछे पछताए (कहानी)

9 दिसम्बर 2020
0
0
0

रसीला एक किसान था जो खेती के साथ गाय, मुर्गी और बकरिओं को पालता था | वह एक आम इंसान था जो हर रोज़ आपने खेत के फसलों को देखता | रसीला की महीने की कमाई पूरी तरह से इस्तेमाल हो जाती थी, और बाकि के काम के लिए कुछ बचता नहीं था - उसका हमेशा मन था के एअक बड़ा घर बनाले

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए