shabd-logo

मीनू द्विवेदी वैदेही के बारे में

मुझे साहित्यिक किताबें पढ़ना बहुत पसंद है ।और मैं लिखती भी हूं, कहानियां, उपन्यास , कविताएं और अपने विचार, सामाजिक समस्याओं पर ग्रह एवं नक्षत्रो पर ,,,

पुरस्कार और सम्मान

prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-10-02
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-09-24
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-09-08
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-09-04
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-08-21
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-08-13
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-08-04
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-07-21
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-07-14
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-07-05
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-06-28
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-06-06
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-05-29
prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-05-05

मीनू द्विवेदी वैदेही की पुस्तकें

प्रतिउत्तर???

प्रतिउत्तर???

पारिवारिक साख प्रतिष्ठा मान मर्यादा और स्वयं की लज्जा एवं भीरुता के कारण जो मुद्दे समाज से अछूते रह गए उसका उत्तरदायी कौन ॽॽ ,अवनी , राजीव,या फिर उनका परिवेश संस्कार या आधुनिकता के बहाने सिनेमा घरों में परोसी गयी अश्लीलता जो रिश्तो के तानो बानो को

760 पाठक
76 रचनाएँ

निःशुल्क

प्रतिउत्तर???

प्रतिउत्तर???

पारिवारिक साख प्रतिष्ठा मान मर्यादा और स्वयं की लज्जा एवं भीरुता के कारण जो मुद्दे समाज से अछूते रह गए उसका उत्तरदायी कौन ॽॽ ,अवनी , राजीव,या फिर उनका परिवेश संस्कार या आधुनिकता के बहाने सिनेमा घरों में परोसी गयी अश्लीलता जो रिश्तो के तानो बानो को

760 पाठक
76 रचनाएँ

निःशुल्क

Meenu की डायरी

Meenu की डायरी

आपकी और हमारी कुछ कहीं अनकही बातें,,,,,,,,,,

234 पाठक
35 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 46/-

Meenu की डायरी

Meenu की डायरी

आपकी और हमारी कुछ कहीं अनकही बातें,,,,,,,,,,

234 पाठक
35 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 46/-

मेरे अल्फ़ाज़

मेरे अल्फ़ाज़

अपने विचारों और मन की बातों को आपके समक्ष रखकर उसमें आपके विचार जानना और उन्हें साझा करना,,,,,,

208 पाठक
49 रचनाएँ

निःशुल्क

मेरे अल्फ़ाज़

मेरे अल्फ़ाज़

अपने विचारों और मन की बातों को आपके समक्ष रखकर उसमें आपके विचार जानना और उन्हें साझा करना,,,,,,

208 पाठक
49 रचनाएँ

निःशुल्क

प्यार का प्रतिशोध,,,

प्यार का प्रतिशोध,,,

यह कहानी एक बेहद खूबसूरत लड़की नैना अग्रवाल की है। जो खूबसूरत होने के साथ-साथ काफी टैलेंटेड भी थी। महज 24 साल की उम्र में ही एक बड़ी कंपनी में मैनेजर के पद पर कार्यरत थी, नैना अपने पति शिवांश और बेटे आरव के साथ दिल्ली के पॉश एरिया मैं बने फ्ल

निःशुल्क

प्यार का प्रतिशोध,,,

प्यार का प्रतिशोध,,,

यह कहानी एक बेहद खूबसूरत लड़की नैना अग्रवाल की है। जो खूबसूरत होने के साथ-साथ काफी टैलेंटेड भी थी। महज 24 साल की उम्र में ही एक बड़ी कंपनी में मैनेजर के पद पर कार्यरत थी, नैना अपने पति शिवांश और बेटे आरव के साथ दिल्ली के पॉश एरिया मैं बने फ्ल

निःशुल्क

तड़प तेरे प्यार की

तड़प तेरे प्यार की

मिस्टर सौरभ सिंघानिया एक खूबसूरत स्मार्ट एवं सफल बिजनेस मैन होने के साथ बेहद गुस्सैल स्वभाव के थे, उनकी सेकेट्री नव्या जो काफी समझदार, सुन्दर और मिडिल क्लास फैमिली की थी, किसी मजबूरी के चलते सौरभ को नव्या से शादी करनी पड़ती है । लेकिन मकसद पूरा

179 पाठक
64 रचनाएँ

निःशुल्क

तड़प तेरे प्यार की

तड़प तेरे प्यार की

मिस्टर सौरभ सिंघानिया एक खूबसूरत स्मार्ट एवं सफल बिजनेस मैन होने के साथ बेहद गुस्सैल स्वभाव के थे, उनकी सेकेट्री नव्या जो काफी समझदार, सुन्दर और मिडिल क्लास फैमिली की थी, किसी मजबूरी के चलते सौरभ को नव्या से शादी करनी पड़ती है । लेकिन मकसद पूरा

179 पाठक
64 रचनाएँ

निःशुल्क

अंक ज्योतिष

अंक ज्योतिष

अंक ज्योतिष को सरल और सुगम बनाने के लिए मैंने कई ज्योतिषाचार्यों। एवं अंक ज्योतिष के आचार्यों के साथ परामर्श एवं समीक्षा करने के बाद इस पुस्तक को लिखा है। इस पुस्तक के माध्यम से आप आसानी से अपनी जन्मतिथि के आधार पर अपने ग्रहों और नक्षत्रों का आकलन

28 पाठक
8 रचनाएँ
2 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 78/-

अंक ज्योतिष

अंक ज्योतिष

अंक ज्योतिष को सरल और सुगम बनाने के लिए मैंने कई ज्योतिषाचार्यों। एवं अंक ज्योतिष के आचार्यों के साथ परामर्श एवं समीक्षा करने के बाद इस पुस्तक को लिखा है। इस पुस्तक के माध्यम से आप आसानी से अपनी जन्मतिथि के आधार पर अपने ग्रहों और नक्षत्रों का आकलन

28 पाठक
8 रचनाएँ
2 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 78/-

मीनू द्विवेदी वैदेही के लेख

मीनल का शामिल होना,,,,,

12 जून 2024
1
0

मीनल नव्या के फोन करने के थोड़ी देर बाद ही कपड़े चेंज करके नाश्ता करने के लिए डाइनिंग टेबल पर आती है सब लोग पहले से ही डाइनिंग टेबल पर बैठे रहते हैं ग्रैनी सभी से मीनल का परिचय कराती है ग्रैनी

कहा है सौरभ??

30 मई 2024
2
2

ऑफिस से लौटते समय नव्या मीनल को भी अपने साथ फॉर्म हाउस ले आती है। लेकिन तब तक उसे सौरभ के बारे में कुछ पता नहीं चलता मन ही मन किसी अनजान आशंका से वह अंदर से बहुत डरी हुई रहती है। अपने मन में नव्या सोच

नव्या की उलझन,,,,,

20 मई 2024
2
2

फार्म हाउस में बिल्कुल उत्सव जैसा माहौल रहता है। सब के साथ ग्रैनी भीआज बहुत खुश रहती हैं, इधर पता नहीं क्यों नव्या का आज पूरा दिन काम में मन ही नहीं लगता बार-बार उसे यह लगता है कि उसने फॉर्म हाउस आकर

उत्साहित होना,,,,

17 मई 2024
2
2

नव्यां को सौरभ का इस तरह से ignore करना बहुत ही खराब लगता है। वह अपने मन में सोचती है कि इसीलिए मैं इतनी जल्दी फार्म हाउस रहने के लिए नहीं आना चाहती थी। क्योंकि मुझे तो इस नकचढ़े रईसजादे के बारे

फार्म हाउस रहने आना,,,,,

13 मई 2024
2
2

आज सुबह से ही हर कोई फार्महाउस जाने की तैयारी में लगा रहता है सब अपने-अपने कपड़ों की पैकिंग करते रहते हैं ।हनी और निवि से आकर उनकी मां कहती हैं कि तुम लोग केवल कपड़ों की पैकिंग करोगी कि बाकी सामानों क

हक जताना,,,,

10 मई 2024
2
2

शाम को नव्या अकेले ही आफिस से घर वापस आती है। उसको अकेले आया देखकर नव्या की मां ने पूछा आज सौरभ तुम्हारे साथ नहीं आये, नव्या ने कहा,, दरअसल सौरभ की कहीं मीटिंग थी या फिर उसने जानबूझकर मेरे साथ ना

रिहाई,,

11 अप्रैल 2024
3
3

खाना खाते हुए सौरभ कई बार नव्या के चेहरे की तरफ देखता है और अपने मन में सोचता है क्या यह वही नव्या है जो मेरी परछाई पड़ते ही चिल्लाने लगती थी। आज अपना ही टिफिन उसने मुझे खाने के लिए दे दिया l ग्

नव्या को चिंता,,,,,

6 अप्रैल 2024
3
1

आज पता नहीं क्यों नव्या के चेहरे पर एक अजीब सी उदासी छाई है। जाने क्यों उसका मन बार-बार यह पता करने के लिए परेशान रहता है, कि डेविड अंकल ने उस आदमी की रिहाई करवाई या नहीं,,,, नव्या यह सोच सोच कर

पुलिस स्टेशन,,,,

28 मार्च 2024
3
2

नव्या सीढ़ियों से नीचे उतरने लगती है, तभी सौरभ कहते हैं अरे 2 मिनट रुक जाइए मैं भी तैयार होकर आता हूं नव्या बोली आपको तो पुलिस स्टेशन जाना है। लेकिन मुझे तो अपने घर जाना है इसलिए मैं जा रही हूं आ

फोन आना,,,,

20 मार्च 2024
3
3

थोड़ी देर के बाद नव्या बेड पर एक तरफ जा कर लेट जाती है सौरभ कपड़े बदलने के बाद अपने बेड पर आ कर लेट जाते हैं। और नव्या से कहते हैं ,आप सुबह कितने बजे उठती हैं ?नव्या ने पूछा क्यों कोई काम है???,

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए