shabd-logo

स्व-विकास

15 नवम्बर 2021

52 बार देखा गया 52
empty-viewयह लेख अभी आपके लिए उपलब्ध नहीं है कृपया इस पुस्तक को खरीदिये ताकि आप यह लेख को पढ़ सकें
Papiya

Papiya

आपका आभार 🙏🏼

24 जनवरी 2022

काव्या सोनी

काव्या सोनी

Behtreen likha aapne 👌👌

8 जनवरी 2022

Papiya

Papiya

🙏🏼🙏🏼

21 नवम्बर 2021

Dinesh Dubey

Dinesh Dubey

क्या बात हैं

19 नवम्बर 2021

Papiya

Papiya

आपका धन्यवाद

16 नवम्बर 2021

गीता भदौरिया

गीता भदौरिया

बहुत बढ़िया लिखा आपने

15 नवम्बर 2021

14
रचनाएँ
मंथन
5.0
समाज की ज्वलंत समस्याएं-
1

स्व-विकास

15 नवम्बर 2021
3
2
6

<div>रे मेरे मन बता एक सवाल।</div><div> इंसान के लिए इंसानियत जरूरत </div><div> या&nb

2

बुजुर्ग

17 नवम्बर 2021
3
2
3

जीवन का एक ऐसा पड़ाव, जहां इंसान सुकून, हर्ष और उल्लास के साथ अपना बचा हुआ समय गुजारना चाहता है। प्र

3

जिम्मेदार कौन

21 नवम्बर 2021
4
2
2

<div>समय और संस्कृति के चलते आज के बुजुर्ग बेसहारा जीवन जीने को मजबूर होते जा रहे हैं। प्रतिस्पर्धा

4

भोजन मंत्र

22 नवम्बर 2021
1
1
2

<div>भोजन जो प्रतिदिन हमें ऊर्जा प्रदान करने का एक महत्वपूर्ण स्रोत है। भोजन करने के लिए अपने निश्चि

5

संस्कृतिक ह्रास

23 नवम्बर 2021
1
0
0

आज हमारे दैनिक जीवन में चीनी सच में नदारद हो चुकी है। लोग बिना चीनी की चाय पीने लगे हैं। पहले ऐसा नह

6

स्त्रीत्व

25 नवम्बर 2021
1
1
2

<div><br></div><div> &nb

7

मोबाइल का जादू

27 नवम्बर 2021
0
0
0

<div>मोबाइल को मुल्जिम की तौर पर कटघरे में लाया गया है। सवालों के कटघरे में खड़ा मोबाइल जिसे, ना तो

8

दुःखी मन

15 दिसम्बर 2021
0
0
0

<div><br></div><div>हमारे देश को आजाद हुए आज कितने वर्षों बीत चुके हैं। आजादी प्राप्त करने के पश्चात

9

गुरु शिष्य परम्परा

1 जनवरी 2022
0
0
0

प्राचीन समय की अपेक्षा आज गुरु के प्रति शिष्यों द्वारा किया जाने वाला सम्मान नगन्य हो चुका है। गुरु-शिष्य की परंपरा में अब वह मिठास नहीं है,जो प्राचीन काल में हुआ करती थी। शिक्षा अब व्यवसाय बन चुकी है

10

गुरु शिष्य परम्परा

1 जनवरी 2022
0
0
0

भारत में गुरु शिष्य परम्परा का यह चलन पिछले कुछ सालों में बहुत तेजी से बदला है। अब शिक्षा देने और प्राप्त करने, दोनों ही स्तरों का व्यवसायीकरण यानी कमर्शियलाइजेशन ज्यादा हो गया है। लिहाजा न गुरु के प्

11

गुरु शिष्य परम्परा

1 जनवरी 2022
0
0
0

शिक्षक अगर प्राइवेट संस्थान का है तो उसके पास तमाम स्कूल का काम होगा। वह कागजी और क्लरिकल काम भी जिसके लिए उसकी नियुक्ति नहीं की गई थी। उसे वे सारे काम करने पड़ते हैं। <div>अगर वह सरकारी स्कूल से

12

गुरु शिष्य परम्परा

1 जनवरी 2022
0
0
0

हमारे देश मे प्रतिभाओं की कमी नहीं है। कई बहुत छोटे गांवों में कुछ टीचर्स ने अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्य करके अपने विद्यार्थियों को आगे बढ़ाया है। महाराष्ट्र के एक छोटे से गांव में बच्चों को डिजिटल शिक

13

चारित्रिक पतन

24 जनवरी 2022
1
0
0

आज के दौर में बच्चों द्वारा किए गए व्यवहार को लेकर कई बार मन अशांत हो जाता है। क्या यही शिक्षा रह गई है। क्या यही संस्कार दिए जा रहे हैं यदि यह संस्कार हैं तो इससे तो अनपढ़, गवार ही रहना ज्यादा अच्छा

14

गुणवत्ता बनाम मात्रात्मकता

25 जनवरी 2022
0
0
0

जीवन पथ पर बढ़ते हुए हमारे हाथ से न जाने कितना कुछ छूटता जा रहा है। ऐसी अनेकों बातें हमारे अपने, हमारे सपने, अनेकों कुरीतियां, रिवाज, प्रथाएं सब के सब पीछे रह जा रहे हैं। ऐसा भी हो सकता है कि हम

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए