shabd-logo

तुम्हें हक हैं

23 फरवरी 2022

30 बार देखा गया 30
empty-viewयह लेख अभी आपके लिए उपलब्ध नहीं है कृपया इस पुस्तक को खरीदिये ताकि आप यह लेख को पढ़ सकें
50
रचनाएँ
प्रेम रस
5.0
प्रेम रस से भरी कविताएं जिसमे आज के जमाने का बेपनाह प्रेम को दर्शाया गया है। जिसमे एक निश्छल प्रेम का भाव दिखता है। जब एक लडकी को किसी लड़के से प्रेम होता हैं तो वह उस लड़के को अपना सब कुछ समझ लेती है। उसके नाम से भी प्रेम कर लेती हैं,और उसे हर जगह महसूस करती है ।उसके नाम का श्रृंगार करती हैं। आखिर कितना प्रेम करने के बाद भी वह उस लङकी के प्यार को नहीं समझ पाता और दहेज के लिए किसी और लड़की से शादी कर लेता है। इस किताब में उस लड़की की सारी भावनाएं कविता के रूप में आपके सामने पेश किया गया है। उस लड़की की भावनाओ को समझने के लिए पढ़े प्रेम रस और टिप्पणी कर बताएं कि उसका प्रेम कितना सच्चा था।
1

हां मुझे प्यार हुआ है

13 फरवरी 2022
4
2
2

हां मुझे प्यार हुआ है तुमसे हद से भी ज्यादा, अपनी सांसों से भी ज्यादा खुद से भी ज्यादा प्यार हुआ है तुमसे प्रेम में पड़कर तुम्हारे मुझे प्रेम का अर्थ समझ आया राधा के लिए भगवान कृष्ण क्या थे

2

थामा हैं जो मेरा हाथ

23 फरवरी 2022
2
2
1

थामा है जो मेरा हाथ क्या उम्र भर रिश्ता निभा पाओगे अगर मैं रूठ जाऊं तो तुम मुझे मना पाओगे मेरी जरूरतों को बिन कहे समझ जाओगे मेरे हर एक ख्वाब को अपनी मंजिल बना पाओगे मेरे आंखों से आंसू चुराकर

3

ढूंढ रही हूं मैं तुम्हें

23 फरवरी 2022
1
0
0

ढूंढ रही हूं हर जगह मैं तुम्हें, क्यों नहीं चले आते हो। है मुझसे इतना प्यार, या कहने से क्यों डर जाते हो। ढूंढ रही हूं हर जगह मैं तुम्हें , क्यों नहीं चले आते हो।  हो हाथ की लकीरें मेरी तुम, फि

4

मुझे तलाश हैं

23 फरवरी 2022
0
0
0

मुझे भी तलाश है, किसी ऐसे की, जो अपने प्यार में मुझे जन्नत दिखा दे। जो मेरी मासूम सी बातों को , प्यार से सुने। जो अपने दिल में, बस मुझे रखें। जिसकी नजरें हर पल, बस मुझे ढूंढे। जिसके मुस्का

5

तुम्हें हक हैं

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम्हें हक है, मेरा व्हाट्सएप चेक करने का । तुम्हें हक है, मेरी इंस्टाग्राम, टि्वटर ,फेसबुक , का पासवर्ड पूछने का। तुम्हें हक है, मुझे देर रात तक ऑनलाइन देखकर , मुझसे सवाल करने का। तुम्हें हक

6

तुम्हारे लिए मैं कुछ भी कर जाऊंगी

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम जब–जब मुझे याद करोगे , मैं बनकर हवा आ जाऊंगी । जो तुम रूठे तो, मैं तुम्हें मनाऊंगी । हर मुसीबत में, मैं तुम्हारी ढाल बन जाऊंगी। तुम्हारी परछाई बनकर, तुम्हारे साथ चलूंगी । तुम्हारे हर एक नखरे क

7

तुम और मैं

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम अगर फूल हो, तो मैं हूं भंवरा । तुम अगर समुंद्र हो, तो मैं हूं किनारा। तुम अगर राह हो, तो मैं हूं पथिक। तुम अगर आत्मा हो, तो मैं हूं परमात्मा । तुम अगर धूप हो, तो मैं हूं छाव । तुम अगर सूरज

8

तुम्हारे बिना

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम्हारे बिना, मेरा जीवन कुछ ऐसा है। जैसे बिना शक्कर की चाय जैसे बिना चटनी का मोमो जैसे बिना चीज का बर्गर जैसे बिना चॉकलेट का दूध जैसे रस का रसगुल्ला जैसे बिना काजू की बर्फी जैसे बिना पानी की

9

तुम हमेशा मेरे साथ रहना

23 फरवरी 2022
0
0
0

जब मैं संगीत गुनगुनाऊ, तो तुम मेरी आवाज बन जाना । जब मैं नित्य करूं , तो तुम मेरा घुंगरू बन जाना । जब मैं ईश्वर से प्रार्थना करूं , तो तुम मेरी चाह बन जाना। जब मैं सिंगार करूं , तो तुम मेरा गहना बन

10

ऐ वक्त मेरे प्रियतम को अपने साथ लाना

23 फरवरी 2022
0
0
0

ऐ वक्त तुम जब आना, मेरे प्रियतम को अपने साथ ले आना । उनके दिल में मेरी तस्वीर होगी, उनकी निगाहें मुझे ढूंढ रही होगी। उनके होठों पर मेरा नाम होगा, मुझसे मिलने के लिए , वह बहुत व्याकुल होगा, ऐ वक्त

11

सपनों की दुनिया में तुम साथ हो

23 फरवरी 2022
0
0
0

आंखें बंद करते ही, खूबसूरत सपना साथ होता है। जहां तुम और मैं, और तीसरा कोई नहीं होता। तुम्हारी नजरें जब , मेरी नजरों से टकराती है। तो दिल में हलचल होती है । तुम्हारी आवाज सुनकर, मेरे शब्द खो जात

12

मेरी जिंदगी का एक हिस्सा हो तुम

23 फरवरी 2022
0
0
0

मेरी जिंदगी की किताब का, एक पन्ना तुम भी हो। जिसे मैंने सादा छोड़ रखा है। आओ ना साथ मिलकर, कुछ मोहब्बत के गीत लिख दे। कुछ ऐसा गीत लिख दे, जिसे सारा जमाना गुनगुनाए, जिसे गुनगुनाते ही, लोग प्रेम

13

तुम्हारा नाम

23 फरवरी 2022
0
0
0

न जाने क्या बात है तुम्हारे नाम में, जिसे सुनते ही सुकून मिलता है। जिसे देखते ही, ठहर जाने का मन करता है । जिसे चखते ही, मैं नशे में डूब जाती हूं। जिसे लेते ही, हर गम से मुक्त हो जाती हूं। जिसे

14

कोई तो हों

23 फरवरी 2022
0
0
0

कोई तो हो, जो मुझे घर की दहलीज पार करा दे । कोई तो हो, जो मुझे अपने नाम की मेहंदी लगा दे। कोई तो हो, जो मुझे अपनी पलकों पर बिठा ले। कोई तो हो, जो मुझे प्यार का एहसास करा दे । कोई तो हो, जो मुझे

15

तुम्हारा मैसेज

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम्हारा मैसेज, मेरे व्हाट्सएप पर बहुत खूबसूरत लगता है । तुम्हारे रिप्लाई का इंतजार, मुझे हमेशा रहता है । सुकून मिलता है, तुम्हारे एक मैसेज से। होठों पर मुस्कान आती है, तुम्हारे एक मैसेज से। तुम

16

तुम हो तो

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम हो तो, हर दुख से लड़ने की हिम्मत है । तुम हो तो, हर खुशी है । तुम हो तो, मेरी हार भी जीत है। तुम हो तो, मेरी जिंदगी है। तुम हो तो , मेरी जीने की वजह है । तुम हो तो, मेरी भी दुनिया है। तुम

17

मेरा प्यार हों तुम

23 फरवरी 2022
1
0
0

मेरी खूबसूरती का राज हो तुम। मेरा हर सिंगार हो तुम। मेरी होठों की,मुस्कान हो तुम । मेरी हर खुशी की,वजह हो तुम । मेरी जिस्म मेरी जान हो तुम। मेरी हर सांस हो तुम । मेरा ख्वाब और मेरी हकीकत हो तुम । म

18

तुम्हारा किसी और का होना मुझे मंजूर नहीं

23 फरवरी 2022
2
1
0

मेरी आंखें तुम्हें , किसी के साथ देखना नहीं चाहती। मेरे कान, तुम्हारा नाम किसी के साथ सुनना नहीं चाहते । मेरे हाथों को, यह मंजूर नहीं । कि तुम उसके सिवा , किसी और का हाथ पकड़ लो । मेरे कदमों को यह व

19

वादा है मेरा

23 फरवरी 2022
0
0
0

वादा है मेरा, मैं तुम्हारी सारी खुशियां खोज लाऊंगी । अपना दिल, बस तुम्हारे लिए लेकर आऊंगी । तुम्हारे स्वाभिमान को, हमेशा ऊंचा रखूंगी । तुम्हारे सपनो को, अपनी मंजिल बनाऊंगी। तुमसे दूर, कभी नहीं जा

20

वादा करो मुझसे

23 फरवरी 2022
0
0
0

एक वादा करो मुझसे, मुझे छोड़कर  कभी नहीं जाओगे। अपने दिल में बस मुझे ही रखोगे। मेरे स्वाभिमान का ख़्याल हमेशा रखोगे। मेरे साथ प्यार की सभी रस्में निभाओगे। वादा करो मुझसे , अपना दिल बस मेरे लिए लेकर आओ

21

काश तुम मेरे होते

23 फरवरी 2022
0
0
0

 काश तुम,मेरे होते। तुम्हें सीने से लगाकर रखती मैं। तुम्हें सबसे बचाकर रखती मैं। तुम्हें खुशियों का जहान देती मैं। दुनिया को जीतकर तुम्हारे पास आती मैं। तुम्हारे मुंह से निकली हर बात, सच कर दिखाती मै

22

तुम्हारा चॉकलेटी साथ

23 फरवरी 2022
0
0
0

तुम्हारा चॉकलेटी साथ, मेरे जिंदगी में मिठास भर देता हैं। खूबसूरत सी लगती हैं ये दुनिया। जब तुम्हारा साथ होता हैं। तुम्हारे होने से ही , होठों पर मुस्कान हैं। तुम्हारे होने से ही, मुझमें जान हैं। तुम्ह

23

इजहार तो करो

23 फरवरी 2022
0
0
0

इजहार तो करो , मैं तुम्हारी बातो का मान रखूंगी। मैं तुम्हें दिल अपना दूंगी, मैं तुमसे बेपनाह मोहब्बत करूंगी। मैं तुम्हें अपने साँसों  से ज्यादा जरूरी समझूंगी। मैं तुम्हारी दुनिया बनूंगी। मैं तुम्हारे

24

मेरे दिल का गुलाब

23 फरवरी 2022
0
0
0

मेरे दिल का गुलाब,भी खिल जाएं। जो तेरे आने का, संदेश मुझे मिल जाएं। खिले हुए गुलाब की तरह, मेरे होठों पे भी मुस्कान खिल जाएं। जो तेरे आने का, संदेश मुझे मिल जाएं। कांटो से भरी हुई ज़िंदगी मेरी, गुला

25

एक टुकड़ा मोहब्बत

23 फरवरी 2022
0
0
0

एक टुकड़ा मोहब्बत अगर तुम्हारी, मुझे भी मिल जाती।  रौशन मेरी भी, जिंदगी हों जाती।  हाथो की लकीरें , अगर मेरी तुमसे मिल जाती। तुम्हारे मोहब्बत में, मैं भी सावर जाती। किसी कोहिनूर  का , हीरा बन ज

26

आरजू थी

23 फरवरी 2022
0
0
0

आरजू थी,तुम्हें पाने की। तुम्हें अपना बनाने की। तुम्हारे साथ वक्त बिताने की। तुमसे बाते करने की। तुम्हारी खूबसूरत आखों में देखने की। तुम्हारा हाथ पकड़कर , साथ चलने की| आरजू थी, तुम्हारे साथ पूरी जिंदग

27

ओ मेरे हमराही

23 फरवरी 2022
1
0
0

मेरी गोरी कलाइयों में , अपने नाम की चूड़ियां सजाने आ जाना । ओ मेरे हमराही, मेरे बाह थामने आ जाना । अपने खुशबू से, मेरे आंगन को महका ने आ जाना। ओ मेरे हमराही , मेरी बाह थामने आ जाना । अपने प्यार की

28

तुम्हारे लिए खुद को संवारती हूं

23 फरवरी 2022
2
0
1

आईने के सम्मुख बैठकर , मैं खुद को निहारती हूं । मैं तेरी हूं यह सोचकर, मन ही मन मुस्कुराती हूं  । एक-एक कर सोलह सिंगार , करती जाती हूं । तुम्हारी पसंद की रंग की बिंदी , अपने मस्तक पर लगाती हूं। तुम्

29

हमें तुम्हारे हर चीज से प्यार हैं

23 फरवरी 2022
0
0
0

हमें नाज़ है, तुम पर। तुम्हारे मन की सुंदरता पर। तुम्हारे कोमल ह्रदय पर। तुम्हारे सम्मान पर। तुम्हारे ज्ञान पर। तुम्हारे विवेक पर। तुम्हारे सुंदर विचार पर। तुम्हारे दयालु स्वभाव पर। हमें विश्वास हैं

30

जा रही हूं तुम्हें छोड़कर

23 फरवरी 2022
0
0
0

जा तो रही हूं तुम्हें छोड़कर , पर याद तुम्हें जरूर आऊंगी। तुम्हारे बिना मैं नहीं रह सकती, यह बात तुम्हें , और नहीं बताऊंगी। तुम खुश हो तो रह लोगे मेरे बगैर , पर मैं तुम्हारे बिना घुट घुट के मर जाऊं

31

वो दिन भी आएगा

23 फरवरी 2022
0
0
0

वह दिन भी आएगा, जब मैं तुमसे दूर होंगी। तब तुम्हें मेरा ख्याल आएगा , तब तुम्हें मेरे प्यार की कदर होगी । तब तुम्हें अफ़सोस होगा, चाहकर भी भूल नहीं  पाओगे , अपने दिल की बात आज। आज मुझे तड़पा रहे हो

32

क्यों मिले थे जब तुमको जाना ही था

23 फरवरी 2022
0
0
0

क्यों मिले थे, जब तुमको वापस जाना ही था । क्यों दोस्ती का हाथ पकड़े थे, जब तुमको निभाना ही नहीं था। क्यों मेरे दिल के साथ खेल गए, क्यों मुझे तन्हा छोड़ गए। आखिर और कितना प्यार चाहिए था तुमको, कि तुम म

33

रूठी थी मैं तुमसे

23 फरवरी 2022
0
0
0

रूठ कर बैठी थी मैं तुमसे, सोचा था तुम मनाओगे जरूर। इंतजार था मुझे , तुम्हारे कॉल और मैसेज का। सोचा था कि तुम अंतिम बार, मुझे समझाओगे जरूर। ना कोई रिश्ता सही पर, मुझे दिल में बसाओगे जरूर। मैं छिप रही

34

आखिर कब तक

23 फरवरी 2022
0
0
0

आखिर कब तक , तुम मेरे लिए खुद  को तकलीफ़ देते रहोगे। कब तक , मेरे और मेरे दर्द के बीच खड़े रहोगे। कब तक, मेरे साथ चलते रहोगे। कब तक, मेरे लिए लोगो से लड़ते रहोगे। कब तक , अपनी खुशियां भूलकर मुझे खुश क

35

मदरस्डे और वेलेंटाइन डे

23 फरवरी 2022
0
0
0

Valentine's day पर अपनी girlfriend के, सामने झुककर गुलाब देने वाले। क्या तुमने mother's day पे अपनी मां को , झुककर गुलाब दिया है। अपनी girlfriend को महंगे तोफे देने वाले, क्या तुमने कभी कोई तोफा अपनी

36

तुम्हारे सपने

2 मार्च 2022
0
0
0

सपने देखती है रात, उन सपनों में , हर रोज हमारी होती है मुलाकात। तुम चलते हो पकडकर मेरा हाथ, कहते हों मैं रहूंगा हमेशा तुम्हारे साथ। छोड़कर सारे भय दुनिया के, रखते हों मुझे अपने पास। जादू की झप्पी से अ

37

मान जा मेरे दिल

4 मार्च 2022
1
1
0

मान जा मेरे दिल, तू क्यों उस शख्स से, बात करने  को तड़पता है। क्या तुझे ख़बर नहीं, वो किसी और से बात करने को तड़पता है। मान जा मेरे दिल, तू क्यों उस शख्स  से ,मिलना चाहता है। क्या तुझे ख़बर नहीं , वो

38

प्यार की छाव

4 मार्च 2022
0
0
0

प्यार की छाव में,तेरे मैं निखर जाऊ।जो तू पकड़ ले मेरा हाथ,तो मैं सवार जाऊ।इस बेरंग सी जिंदगी में मेरे,थोड़े रंग भर जाओ।बचा के इस दुनिया के ज़ालिम धूप से,मुझे अपने प्यार के छाव में शीतल कर जाओ ।

39

तुमको नहीं मालूम

4 मार्च 2022
0
0
0

क्या तुमको नहीं मालूम,मैंने तुमसे कितना प्यार किया है।तुम्हारे साथ चलने का सपना,इन आंखों में सजाया है।तुम्हें अपना मंजिल बनाया है।तुम्हारी प्रतीक्षा हर पल की है।तुम्हारे हुक्म को अपने माथे पर सजाया है

40

आखिर क्यों

4 मार्च 2022
1
1
0

क्यों सवाल ना करूं,तुमपे हक है मेरा।क्यों प्यार ना करूं ,तुम खुशी हो मेरी।क्यों ना मिलूँ तुमसे,तुम चाह हों मेरी।क्यों ना मांगू तुमको,तुम दुआ हों मेरी।क्यों ना खोजू हर पल तुमको,तुम जरूरत हो मेरी।

41

मेरे सनम

9 मार्च 2022
0
0
0

हमारी परिस्थिति देखकर,तुम्हारा मुझे छोड़ जाना,कहीं तुमपे भारी ना पड़ जाए। मेरे सनम , &nbsp

42

इक बहाना चाहिए था

9 मार्च 2022
0
0
0

इक बहाना चाहिए था,तुमसे मिलने का,तुम्हारा दीदार करने का,तुम्हारी झुकी हुई नजरे पढ़ने का,तुम्हे जी भर देखने का।एक बहाना चाहिए था,तुम्हारे करीब आने का,तुम्हारी मासूमियत में खो जाने का,तुम्हारी बातें सुन

43

तुमसे कहते रहे हम

9 मार्च 2022
0
0
0

तुमसे कहते रहे हम,आंखों में भरकर गम,रूक जाओ मेरे सजन, तेरे बिन ये जिन्दगी हैं बेरहम,पर तुम सुने नहीं मेरे हमदम,तूने बहुत किए मुझपे सितम,सब हंसकर सहे हम,तुम भूल गए अपने सारे कसम,पीछे नहीं लिए एक

44

मंजिल ने पुकारा

16 मार्च 2022
0
0
0

मंजिल ने पुकारा हैतब तुम्हें।जब अंजान रास्ते पर बढ़े कदम मेरे,मुड़कर देखा तो तुम मिले नही हमे।अकेले रह गए हम उस मंजिल में,तुमने तो वादा किया था।रहोगे हर सफर में मेरे,फिर ऐसी क्या मजबूरी पड़ी।छोड

45

फागुन और तुम

16 मार्च 2022
1
1
1

इस फागुन में,हम अपने प्यार के रंग,तुमपे बरसायेगे।अपने प्यार के रंगों से,तुम्हारी जिंदगी को रंगीन बनायेगे।रंगो के इस त्यौहार में,हम तुमसे एक वादा करने आयेगे।हरे रंगो की तरह,हम तुम्हारी दुनिया में हरिया

46

हम नही बदले

16 मार्च 2022
0
0
0

हम नहीं बदले,तुम बेशक बदल गए।तुम्हारे प्यार की उम्मीद में,हम अंगारों पर चलते गए।तुम्हें पाने के लिए ना जाने,क्या क्या करते गए।तुमको याद करते करते,खुद को भूलते गए।मेरी मंजिल और चाह तुम थे,हम निडर होकर

47

किसी मोड़ पर

16 मार्च 2022
0
0
0

शायद कहीं,किसी मोड़ पर तुम,हमको मिल जाओ।फिर हम तुमको ,पहचानने से भी इनकार कर देंगे।तुम कितनी बार ,मेरे दिल को कुचले हो।इसका सारा हिसाब ,तुमको बता देंगे।फिर एक एक कर हम,तुमको सूत समेत वापस लौटा देंगे

48

चलो अच्छा हुआ

16 मार्च 2022
0
0
0

चलो अच्छा हुआ,तुम चले गए।अब हम आजाद हो गए,तुमसे, तुम्हारी सोच से,तुम्हारे झूठे प्यार से,तुम्हारे अपनेपन के दिखावे से,तुम्हारी झूठी दुनिया से,तुम्हारे झूठे रिश्ते से,तुम्हारी गंदी नजरो से,तुम्हारे

49

कभी कह दिया होता

16 मार्च 2022
1
0
0

कभी कह दिया होता,कि तुम्हें दौलत की भूख थी,हम तुमपे दौलत की बरसात कर देते।कभी कह दिया होता,तुम्हें बिकने का शौक हैं।हम तुम्हारा जीएसटी के साथ, बिल बनवा लिए होते ,कभी कह दिया होता,तुम्हें प्यार नह

50

हर लम्हा याद दिलाता हैं

20 मार्च 2022
0
0
0

हर लम्हा याद दिलाता हैं,तेरी वो यादें सारी।तेरे दिए हुए तोफे,तेरे मोहब्बत की निशानी सारी।हर लम्हा याद दिलाता हैं,तेरी वो बाते सारी,तेरे झूठे प्यार,तेरे झूठी कसमें सारी।हर लम्हा याद दिलाता हैं,तुम से छ

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए