shabd-logo

दिल जो चाहता है

2 जनवरी 2024

6 बार देखा गया 6
empty-viewयह लेख अभी आपके लिए उपलब्ध नहीं है कृपया इस पुस्तक को खरीदिये ताकि आप यह लेख को पढ़ सकें
27
रचनाएँ
मुंगेरी अल्फ़ाज़ भाग -2
0.0
दिल हमेशा शांत नहीं होता! धड़कने लय बन आते - जाते सांसों की सुरमई संगीत से जो सतरंगी धूप खिलाता है उन्हीं धूप के तपतपाते मन से कुछ प्रेम के छांव चुरा लाएं हैं ! ज़िंदगी तुझे सुकूं पहुंचाने को।
1

कन्फ्यूजन

31 मार्च 2023
2
1
0

"कन्फ्यूजन में सब अच्छा लगता हैदिल, दिमाग़ सब बच्चा लगता हैदेखता हूं उसको तो बस अच्छा हैनए शौक़,पुराने दिल में रखने वालाआशिकी मैं उसका पहला पन्ना पन्ना सब कोरा कागज़ लगता हैकन्फ्यूजन में सब अच्छा

2

तेरी याद में

4 अप्रैल 2023
0
1
0

तेरी याद मेंज़िंदगी रोज़ जीते रहे तेरी यादों में मरने के लिएख्वाहिशें बर्बाद लिएइक दिन तुझसे मिलने के लिएसोचा न थाकुछ यूं गुजरेंगेज़िंदा तेरी यादों मेंतिल तिल कर मरेंगेकौन खुशनसीब हैजिनके नसीब मे

3

प्रेम उपवन

10 अप्रैल 2023
2
1
0

प्रेम उपवनमेरी धड़कनों की संवेगों कोक्यों बेइंतिहा बढ़ाते होदेखा तुम्हें आज़ भी,अपनी राहों मेंतुम किसी बुत से खड़े रहते होऔर मैं मंद पवन बन गुजर जाती हूं!कुछ नया नहींकोई अद्भुत अनुभव नहींतुम मुश्किलों

4

तुम बिन

3 जून 2023
0
1
0

ज़िंदगी प्यास है तोपानी की आस हो तुममन की दहलीज परपुष्पों की सेज़ हो तुमदिल गर देवता हैं तोमन की काशी सी तुमगीत जो सुरीले निकलेवो वीणा की मधुर तान सी तुमनैनों में जो ख़्वाब चमकेवो मधुर सपनों की संसार

5

बादल बदल गए फिर

15 जुलाई 2023
0
1
0

बादल बदल गए फिरबादल बदल गए फिर.....सावन की बौछारों पर अब क्या लिखूं,घटाएं गरजी और बरस ना पाईआंखों में जो रुक गए पानीउनकी क्या विसात लिखूं!बादल बदल गए फिर....सावन के गीतों में क्या लिखूं,जीवन में फ़ैला

6

तेरी यादों से बिछड़

20 जुलाई 2023
0
1
0

तेरी याद में गालिब होने चला,लिखके तुझे मैं मशहूर होने चला,वफाओं के क़िस्से न याद ज्यादा दिला,पीके कुछ ख्वाईशें आज़ फिर कम करने चला...तेरी यादों से बिछड़ मैं...तुझसे ही फिर मिलने चला!!प्राची सिंह "मुंग

7

दर्द

9 अगस्त 2023
2
2
0

कुछ दर्द मरहम भी होता हैदर्द में भी आराम पहुंचाते हैंदेखो गुलाब कोकैसे काटों के बीच रहकरहमेशा मुस्कुराते हैं।।प्राची सिंह "मुंगेरी"

8

ढूंढे मन

18 अगस्त 2023
0
1
0

"दिल की काशी में घिरी बहुत उदासी हैखोए रहे जो मन के नगर मेंक्यों ढूंढ़ रहा दिल उसे नगर नगररहनुमा बन जो दिल में रहता थाक्यों ढूंढें अब मन उसे इधर उधर।"प्राची सिंह "मुंगेरी"

9

वफाएं अक्सर

30 अगस्त 2023
1
1
0

वफाएं अक्सर....हाथ में रची मेंहदी के रंग में भीमेहबूब की चाहत देखते हैंये देखने वाले भीजाने क्या क्या देखते हैं!कौन है ये,क्यों है!क्यों ज़ख्मों पे नमक छिड़कदर्दों को ज़िंदा रखने का काम करते हैं!छोड़

10

रिश्ता तो खुदा बनाते हैं

8 सितम्बर 2023
0
1
0

रिश्ता तो खुदा बनाते हैंरिश्ता तो खुदा बनाते हैं जिस्म से अलग हो तुममेरी जां कहलाते हो,हाथों में खिंची लकीरेंमेरा नसीब कहलाते हो,समझा गई ये तन्हाईतुमसे दूर न रह सकूं मैंकिसे बताऊं कि...तुम्हारे ब

11

मेरी गज़ल

17 सितम्बर 2023
1
1
0

मेरी ग़ज़लतुम मेरी ग़ज़ल हो...तुम मेरी धड़कन हो.....इक बार संवार भी लूं ख़ुद को लेकिन बिखरना मेरा मुकद्दर थातुम आए और चले गएछोड़ गए यादों के लम्हें अनगिनतसुना है प्रेमी बिछड़ते नहीं कभीआ मिलते हैं लेक

12

प्रेम दीवानी

26 सितम्बर 2023
1
1
1

किस गैर से जा मिलीनींद मेरी आंखों की,सुबह का इल्म नहींस्वप्न लूट गए खैरातों में,जज्बातों को बहुत संभाला और भींग गए तकिए सिरहाने में,प्यार, मुहब्बत, इश्क़ युक्तियां लगतीमन लूट ले गए,शहर से बाहरदूर

13

हम किसी के भी हो न पाएं

30 सितम्बर 2023
1
1
0

हम किसी के भी हो न पायें खिला के फ़ूल उल्फतों कारस्मों के चिराग़ जला ना पाएंतुम हो लिए किसी गैर केहम आज़ भी किसी के हो ना पाएं!हमने जो पी कभी उन आंखों सेअब वो जाम कहां मिलता है!सजाई हुई दुकानों म

14

पत्र

3 अक्टूबर 2023
1
1
0

प्रिय प्रेम (शर्माजी) मधुर प्रेम स्मरण!बीती बहुत बात बीत रही सीने में!स्मृतियों के बहाने ही आ जाते इक बार किकई कई बार सीने में जा लगी विरह

15

मुक्तक

25 अक्टूबर 2023
1
1
0

"किनारे भी कातिल हो जाते हैंलिखने वाले जब तकदीर बुरी लिखते हैंआंसूओं को कब तलक़ संभालोगें ऐ टूटे जिगरमरहूम बनकर जाने वाले किन्हीं कांधों का सहारा कब देखते है!!प्राची सिंह "मुंगेरी"

16

मुस्कुराना छोड़ दिया मैंने

23 दिसम्बर 2023
0
1
0

"जिन गलियों में ख़ाक ऐ मुहब्बत ढूंढ़ रहे तुमउन गलियों में अब गुजरना छोड़ दिया मैंनेसपने बुने थे मिलकर ज़िंदगी के सफ़र मेंतुम किसी और के साथ आगे बढ़ गएतन्हा रह गए मुकद्दर के रकीब हमसोचकर तुम्हें अब मुस

17

कविता

23 दिसम्बर 2023
1
1
0

जो मैं पानी बन जाऊं....गले से नीचे उतरूं तो प्यास बुझा दूं मैं!आग में गिरूं तोजलते को राख बना दूं मैं!पौधों में मिल जाऊं तोनवजीवन का प्राण डाल दूं मैं!जो मैं पानी बन जाऊं.....बादलों से मिलूं औरबू

18

दिल जो चाहता है

2 जनवरी 2024
0
1
0

दिल जो चाहता हैवो साल कहां, कब और कैसे आता है!आंखें बड़ी बतियाती है सावनआंखों में ठहर जाएवो बरसात कब और कैसे आती है!दिल खा रहा तेरी यादों की लहरों से ठोकरेंबता दे कोई किइन सैलावों में इम्तिनान कब और क

19

आ मिलेंगे कभी

24 अप्रैल 2024
1
1
0

"आ मिलेंगे कभी नैनों के घाट परमन का दीप जलाए रखना सुलभ , सरल, शुभ इंतज़ार करनाख़ामोशी की ज़ुबां से प्रेम की सारी रस्में पूरी करना।"प्राची सिंह "मुंगेरी"

20

ऐ मन तू काशी बन जा

23 जून 2024
0
1
0

"ऐ मन तू काशी बन जादेवता जहां पे वास करेआंखें तू अस्सी घाट सी हो जाय जहां आरती में सब शामें प्रकाशमय हो जाए।"प्राची सिंह "मुंगेरी "

21

मैं बहती गंगा की धार

8 जुलाई 2024
0
1
0

"तू पाषाण शिला की आलेख सामैं बहती शीतल नीर की धारछुके तुझे शीतल कर दूंमैं ऐसी मग्न मझधार!तू स्थिर,मैं चंचलतू मौन समेटे मन में मैं बहती गंगा की निर्मल धारछू लूं तुझे औरआगे बढ़ जाऊं नहीं है मु

22

ख़्वाब

10 जुलाई 2024
0
1
0

"बिछड़ के ख़्वाब आंखों से, रात का ये सिलसिला कैसा होगा तू मेरी आंखों में जागता रहेगारात सदियों में पल - पल गुजरता रहेगा।"प्राची सिंह "मुंगेरी"

23

मरम्मत ऐ इश्क़

16 जुलाई 2024
1
2
1

"मरम्मत इश्क़ का करता हूं और दिल पर पैबंद लगाता हूं नुक्सा लिखा करता हूं आंखों पर और ज़माने को इज़हार ऐ इश्क बताता हूंसुनो तुम डूबना नहीं इश्क़ काम है निक्कमों काकामगारों को, मैं इससे ब

24

ज़ख्म, दिल से लगाना नहीं भूलते

18 जुलाई 2024
0
1
0

ज़ख्म,दिल से लगाना नहीं भूलतेसूखे गुलाब मिले किताबों से उसे चूमना नहीं भूलतेज़ख्म ये ज़ख़्म सिलसिला है ये मुहब्बत कालगाके इसे दिल से फिर इसे दिल से अलग किया नहीं जाता सूखे गुलाब मि

25

संघर्षरत स्त्रियां

19 जुलाई 2024
0
1
0

संघर्षरत स्त्रियां संघर्षरत स्त्रियां,नहीं डरती है धूप सेनिकल जाती है घरों से, खड़ी दोपहरी में ऐसा लगता है कि संघर्ष को डरा देना चाहती हो अपने अस्तित्व लड़ाई में और बना लेना चाहती है वो मुक

26

प्रेम चेतना

21 जुलाई 2024
1
1
0

"प्रेम,प्रतीक्षारत होता है प्रेमी नहीं प्रेमी ज़िंदगी जैसे लोग हैं जो देह,देह भटकते हैं सम्पूर्ण होने की चाह में!प्रेम,अनंत हो सकता है सम्पूर्ण नहीं!प्रेम,गीत हो सकता है गुनगुनाया जा सकता है लेकि

27

गज़ल

23 जुलाई 2024
0
1
0

गज़ल नफ़ा और वफ़ा सब संभाल लेते हम,इक बार इश्क़ में पड़ते हम भी और गुलज़ार हो जाते!कमियां बहुत थी मुझमें, नुक्स उसमें तरासता रहा,वो मिजाज़ से रहा हमेशा इश्कियां और अब ये बाज़ार उसके नाम से सरेआम

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए