shabd-logo

कातिलाना मोहब्बत -24

8 अक्टूबर 2023

3 बार देखा गया 3
empty-viewयह लेख अभी आपके लिए उपलब्ध नहीं है कृपया इस पुस्तक को खरीदिये ताकि आप यह लेख को पढ़ सकें
68
रचनाएँ
कातिलाना मोहब्बत
0.0
श्रद्धा जैसी हैवानियत के दर्द हर व्यक्ति की जिंदगी के लिए बहुत ही हानिकारक होती है। इस वक्त मनुष्य की जिंदगी में लोगों का विश्वास खत्म होता जा रहा है। जिस प्यार को कई हजारों सालों से एक रिश्ते के तौर पर देखा जाता था । आज के मानव ने उसे दरिंदगी का रूप दे दिया है। कुछ हवसी दरिंदे भोली भाली लड़कियों को अपने जाल में फंसाकर उनके साथ ऐसी हैवानियत कर देते हैं कि वह मनुष्य जाति को शर्मसार करने वाली होती है।
1

कातिलाना मोहब्बत -1

4 अक्टूबर 2023
1
0
0

रोहित एक कस्बा सोनपुर के स्कूल में प्राइमरी शिक्षक था। अपने काम के प्रति बहुत ही ईमानदार, निष्ठावान और समर्पित व्यक्ति था। बुद्धिमता के सामने शरीर के रंग कभी भी मायने नहीं रखता है।‌ रोहित का रंग

2

कातिलाना मोहब्बत-2

4 अक्टूबर 2023
0
0
0

अरे संजीव ! बढ़िया सी पत्ती तेज और चीनी कम वाली एक चाय बना दीजिए। ऐसी कड़क चाय बनाओ कि दिमाग एकदम फ्रेश हो जाए। सुबह-सुबह ऐसी आदत बन गई कि तुम्हारी चाय के बिना दिन की शुरुआत ही नहीं होती । वास्तव में

3

कातिलाना मोहब्बत-3

4 अक्टूबर 2023
0
0
0

रोहित उस अखबार की न्यूज को पढ़कर अंदर तक हिल गया । उसकी चाय का स्वाद भी खराब हो गया और वह अनुभव कर रहा था । जैसे किसी मौत के वक्त खाने का स्वाद बिगड गया हो। उस अखबार की हेडलाइन थी। “एक प्र

4

कातिलाना मोहब्बत-4

4 अक्टूबर 2023
0
0
0

मास्टरजी का दिमाग खराब हो गया और जैसे ही घर के दरवाजे पर पहुंचा तो बहुत ही निराश मन से चुपचाप आंगन‌ में बैठकर सिर पकड़कर सोचता रहा । ना ही उसके मां-बाप को पता और ना ही मनीषा को क्योंकि मनीषा मास्टरनी

5

कातिलाना मोहब्बत-5

4 अक्टूबर 2023
0
0
0

जो मनुष्य अपने मन मे दयावान , करूणाशील, सहानुभूति प्रकट करने वाला , मानवता का पुजारी होता है । उसके मन और मस्तिष्क में कोई भी अनवांटेड घटना खटकती है। वह अपनी आंखों से इन घटनाओं को देख नहीं सकती और कान

6

कातिलाना मोहब्बत -6

5 अक्टूबर 2023
0
0
0

जैसे ही मनीषा की बात सुनी तो वह दौड़कर आती है। “अरे भगवान मेरे बेटे को क्या हो गया । किस पापी की बुरी नजर लग गई।,”रोहित की मम्मी ने आकर उसके पैर पकड़ लिया । अरे रोहित ! क्या हुआ ?? यह चोट कैसे लग

7

कातिलाना मोहब्बत -7

5 अक्टूबर 2023
0
0
0

रोहित गुस्सा होकर अपने गेस्ट रूम में गया और चुपचाप बैठकर टीवी देखने लगा। टीवी के हर चैनल पर एक ही खबर चल रही थी । खुशबू के साथ हुई दरिंदगी का मुजरिम पकड़ा गया । उसे जेल ले जा रहा था रहा है। पुलिस हिरा

8

कातिलाना मोहब्बत -8

5 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू के मम्मी ,भाई और बहिन बाहर चले जाते थे और वह घर के सभी कामों में अपना समय व्यतीत कर लेती थी। कुछ समय बचता तो वह उसे मोबाइल के साथ गुजार लेती। क्योंकि अकेले घर पर रहकर भी समय वही गुजरता था। खुशबू

9

कातिलाना मोहब्बत -9

5 अक्टूबर 2023
0
0
0

एक दिन शाम के समय खाना खाने के बाद मैं पढ़ाई करने लगी । मैंने मेरी फेसबुक आईडी पर आजतक किसी भी लडके को फ्रेड नहीं बनाया था। यहां तक कि अपने भाई को भी फेसबुक पर फ्रेंड नहीं बनाया हुआ था।कुछ कॉलेज की लड

10

कातिलाना मोहब्बत -10

5 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू :- मैं उस चेट से बाहर हो गई । कुछ समय के लिए अपनी मोबाइल को बगल में रखकर सोचने लगी कि एक हिसाब से तो मेरी फ्रेंडस सही कह रही है। मैंने अब तक सत्य की जिंदगी जीकर कर ही क्या लिया ??मैं जिस व्यक्ति

11

कातिलाना मोहब्बत -11

6 अक्टूबर 2023
0
0
0

मैसेज करने के बाद , मैंने खाना बनाया और खाना खाने में व्यस्त हो गई। कुछ देर के लिए मैंने मोबाइल को देखा नहीं । जब फुरसत मिली तो जब मैंने मोबाइल देखा मेरे मैसेंजर में मैसेज की लाइन लगी हुई थी। “सॉ

12

कातिलाना मोहब्बत -12

6 अक्टूबर 2023
0
0
0

उस दिन बातें करते-करते काफी समय बीत गया । समय से सोने वाले खुशबू अब आधी रातों तक जागने लगी । वह सोचती रहती थी कि न जाने मुझे क्या हो गया है। कुछ दिनों से पता ही नहीं चलता है । मैं आधी-आधी रात तक जागती

13

कातिलाना मोहब्बत -13

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

ज़िंदगी मनुष्य को जहां भी लेकर जाती है। यह सब कुदरत का खेल है । जिसने तन दिया और तन के साथ कर्मों के आधार पर भाग्य दिया। भाग्य का निर्माण खाली बैठकर कभी नहीं होता है। उसके लिए तुम्हें कर्म करने की आवश

14

कातिलाना मोहब्बत -14

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

धीरे-धीरे तारे आसमान में डूबते जा रहे थे। चारों तरफ सूर्य की किरणों का प्रकाश फैलने लगा था। सभी लोग सूर्योदय के साथ ही अपनी सुहानी सुबह का स्वागत कर रहे थे। खुशबू की मां नहाने धोने में व्यस्त हो

15

कातिलाना मोहब्बत -15

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

जटिला कहने जाने वाली , प्रेम , मोहब्बत ,दोस्ती से घृणा करने वाली एवं जिस तरफ प्रेम की हवाएं चलती थी उनके साथ सांसें नहीं लेने वाली लड़की खुशबू के दिल में प्यार का ज्वर कैसे होने लगा।उसने प्रेम का रोग

16

कातिलाना मोहब्बत -16

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

काजल एक बहुत ही सुन्दर और संस्कारी लड़की थी । जिसके पिता ने उसे खूब पढ़ाया लिखाया। किस्मत ने साथ नहीं दिया कि वह नौकरी नहीं लग पाई । बात उस वक्त की है। जब वह अपने कॉलेज लाइफ में एक लड़के की दोस्ती में

17

कातिलाना मोहब्बत -17

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

काजल समझ नहीं पा रही थी कि वह क्या करें और कौनसी भाषा में अपने संरक्षक माता-पिता को समझाये। मुझे पता है कि ये लोग इस रिश्ते के लिए कभी भी राजी नहीं होंगे। लेकिन अब बातें छुपाने का कोई फायदा नहीं है क्

18

कातिलाना मोहब्बत -18

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

हे ईश्वर ! तुम्हें मेरे सच्चे प्यार पर भरोसा नहीं है। मेरी रक्षा करो । यहां पर लोग तेरे नियमों की अवहेलना कर रहे हैं। तुम्हें धोखा दे रहे हैं। अगर तुम इस धरती पर हो तो द्रोपदी की तरह मेरी इज्जत बचाने

19

कातिलाना मोहब्बत -19

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

काजल के पिता के जब कुछ समझ नहीं आया तो मजबूरन उसे थाने में गुमशुदगी की एफ आई आर दर्ज करानी पड़ी । और पूरी कहानी थानेदार को पता चली तो वह समझ गया कि यह सारे कारनामे जमील के ही हैं। उन्होंने उसे संदिग्ध

20

कातिलाना मोहब्बत -20

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

“खुशबू कहने लगी मां चाय खत्म हो गई है और मुझे तुम्हारी बातों से बोरिंग हो रही है। हमें किसी दुनिया से क्या मतलब !! किसने क्या किया और क्यों किया?? आपने तो यह महाभारत की एक कथा बना दी है जिसका अंत भला

21

कातिलाना मोहब्बत -21

8 अक्टूबर 2023
0
0
0

काजल के पिता काजल की बातें सुनकर बहुत जोर-जोर से रोने लगे। अपने पिता की रोने की आवाज सुनकर उसके पुत्र अपने बाप के यहां दौड़े आते और काजल की मां भी रोते हुए अपने पति से पूछने लगी ।ऐ जी !!! कुछ तो

22

कातिलाना मोहब्बत -22

8 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू का इन बातों में मन नहीं लग रहा था । इसलिए वह अपनी मोबाइल लेकर अपने कमरे में चली गई । कुछ देर तक उसने समीर से बातें की और उसके बाद वह अपने घर के कामों में व्यस्त हो गई।रोहिणी को बड़ा ही मज़ा आ रह

23

कातिलाना मोहब्बत -23

8 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू ने अपनी मा की कहानी के कुछ अंश ही सुने थे। उसे इस तरह की लव स्टोरीज है कोई मतलब नहीं था । लेकिन रोहिणी को कहानियां सुनने का बहुत शौक़ था । इसलिए रोहिणी अपनी मां की बातों को सुनती रही । उसने पूरी

24

कातिलाना मोहब्बत -24

8 अक्टूबर 2023
0
0
0

इस वक्त रात की चांदनी रात में सपने देखती खुशबू को शायद अपना चांद ही नजर आ रहा था ।शायद उसे अपने सपने में भी समीर नजर आ रह होगा । सुबह पांच बजे ही नींद खुल गई । सुबह के धुंधले आसमान की दूधिया रोशनी लोग

25

कातिलाना मोहब्बत -25

8 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू कोचिंग नही जाकर वह पार्क में जाकर बैठ गई। वह बहुत बैचेन सी लग रही थी। वास्तव में उसकी बैचेनी किसी आशिकी से कम नहीं लग रही थी। वह कभी खड़ी होकर पार्क में घूमने लगती और कभी शौचालय में जाकर पेशाब क

26

कातिलाना मोहब्बत -26

9 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू और समीर पार्क में बैठकर अपने जीवन की एक नई दुनिया सजा रहे थे। केक और कोल्डड्रिंक के मधुर स्वाद से कहीं ज्यादा उनके प्रेम की मधुरता बरस रही थी। दोनों एक दूसरे के मोह में प्रेम की मधुरता में सराबो

27

कातिलाना मोहब्बत -27

9 अक्टूबर 2023
0
0
0

“तुम आये तो जिंदगी में बहार आई” एक लड़की की जिंदगी में एक उसे अच्छा पति मिल जाये उससे ज्यादा खुशी उसे कभी भी नहीं हो सकती । कुछ समय पहले यह निर्णय घर के बड़े लोग, लड़की के माता-पिता और उसके रिलेटिव कर

28

कातिलाना मोहब्बत -28

9 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू और समीर पार्क में बैठकर अपने जीवन की एक नई दुनिया सजा रहे थे। केक और कोल्डड्रिंक के मधुर स्वाद से कहीं ज्यादा उनके प्रेम की मधुरता बरस रही थी। दोनों एक दूसरे के मोह में प्रेम की मधुरता में सराबो

29

कातिलाना मोहब्बत -29

9 अक्टूबर 2023
0
0
0

हेलो ---- हां जी बताइए क्या कह रहे हो?? मैं इस वक्त खाना बनाने में व्यस्त हूं। कुछ देर बाद फ्री होकर कॉल करती हूं। मै तुम्हें इधर से फोन कर लूंगी। ऐसा कहते हुए खुशबू फोन काट देती है”।बेटी !! किसका कॉल

30

कातिलाना मोहब्बत -30

9 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू और समीर पार्क में बैठकर अपने जीवन की एक नई दुनिया सजा रहे थे। केक और कोल्डड्रिंक के मधुर स्वाद से कहीं ज्यादा उनके प्रेम की मधुरता बरस रही थी। दोनों एक दूसरे के मोह में प्रेम की मधुरता में सराबो

31

कातिलाना मोहब्बत -31

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

" चोर चोरी करता है तो एक ना एक दिन सबूत छोड़कर ही जाता है।"एक दिन की बात है खुशबू घर से कोचिंग के लिए निकली थी। समीर उसे पिकअप करने के लिए रोजाना के स्थान पर आकर खड़ा हो गया। खुशबू ने मुंह पर दुपट्टा

32

कातिलाना मोहब्बत -32

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

" आज हर्ष को बहुत गुस्सा आ रहा था । वह करें तो क्या करें । अगर उसने मां को बताया तो मां इस बात की टेंशन करके अपने आप को बीमार कर लेगी और मुझे समझ नहीं आ रहा था कि इसका क्या समाधान निकाला जाये। मैं ऐसा

33

कातिलाना मोहब्बत -33

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

"सूर्यास्त हो गया था । चारों तरफ से अंधेरा घिरता आ रहा था । रोहिणी और उसकी मां अपने सीरियल को देखकर खिलखिलाती हुई सब्जियां काटने में व्यस्त थी। हर्ष अकेला बिस्तर पर पड़ा-पड़ा गहरी सोच में डूबा हुआ था

34

कातिलाना मोहब्बत -34

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

" किसी ने सही कहा है कि घर का भेदी लंका ढाये ।" जैसे ही हर्ष और खुशबू की मां हर्ष के कमरे में प्रवेश करती है । उसी समय खुशबू और हर्ष अपनी बात खत्म करके अपनी बहिन से खाना पकाने के लिए कहता है। खुश

35

कातिलाना मोहब्बत -35

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

"मां को अपनी संतानों से हमेशा ममता और प्रेम होती है। जिसे वह जीवनपर्यंत भर-भरकर लुटाती है। लेकिन संतान अक्सर उस मां के साथ धोखा कर ही जाती है जिसने उसे बड़ी मुसीबतों से नौ महीने गर्भ में पाला और

36

कातिलाना मोहब्बत -36

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

"खुशबू का भाई हर्ष आज अंतर्मन से बहुत ज्यादा दुखी था । वह मन ही मन बहुत ज्यादा परेशान था । जिस बहिन को देखकर उसका मन प्रफुल्लित होकर खिल उठता था । आज सूखे हुए पेड़ की तरह मुरझाया हुआ था। वह अपने घर की

37

कातिलाना मोहब्बत -37

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

"समीर के अपनी प्रेम की दुनिया का आनंद उठा रहा था। बीच में कोई भी किसी तरह का खलल पैदा करें तो वह सहन कर पायेगा। उसे किसी अनजान कॉल पर बातें करने का वक्त मिलेगा। लेकिन जब वह कॉल बार-बार आ रही हो तो उस

38

कातिलाना मोहब्बत -38

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

" समीर ने अपनी कॉल पर जैसे ही तृष्णा का नाम सुना तो वह एकदम से चौंक गया । वह एकदम से घबरा गया और सोचने लगा,,,हे भगवान!! तुमने यह क्या किया ?? मुझे बीच में लाकर फंसा दिया। अब मैं क्या करूं?! क्योंकि मै

39

कातिलाना मोहब्बत -39

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

" सच्चे मन से प्रेम हो तो पत्थर में प्राण पैदा हो जाते हैं।"इंसान के प्रेम में सच्चाई होने का प्रमाण वह स्वयं ही जानता है। क्योंकि आजकल इस दुनिया में साधारण नाग की विषधारी सपोले बनने लगे हैं।"" इस युग

40

कातिलाना मोहब्बत -40

10 अक्टूबर 2023
0
0
0

"समीर खुशबू की आंखों के सामने ही झूठ बोल गया । इसलिए तो कहता हूं । सच्चाई मनुष्य के चरित्र में ही होती है। उसका दिल उसे कभी भी बुरा करने के लिए नहीं कहता है लेकिन मनुष्य का मन उसे अपनी अभिलाषाएं पूरी

41

कातिलाना मोहब्बत -41

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

एक दिन समीर और खुशबू सेंट्रल पार्क में बैठकर बातें कर रहे थे। खुशबू अपने मन की पीड़ा सुना रही थी । " समीर मेरे भाई ने मेरी जिंदगी खराब कर रखी हुई। दिन निकलते और शाम ढलते ही मेरे राक्षस भाई का मुं

42

कातिलाना मोहब्बत -42

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" रेलवे स्टेशन पहुंचकर खुशबू और समीर असमंजस में हो गये । उन्होंने घर से कुछ भी प्लान नहीं बनाया था। घर से निकल गये लेकिन कहां जाना है। किसी को कोई पता नहीं था।। "समीर कहने लगा । यार खुशबू चलो ट्रेन दे

43

कातिलाना मोहब्बत-43

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

"जैसे-जैसे ट्रेन अपने गंतव्य की तरफ बढ़ती जा रही थी । वैसे-वैसे ही समीर और खुशबू के शहर की दूरियां बढ़ती हुई जा रही थी और उनके मन का डर कम खत्म होता जा रहा था। खुशबू अपने घरवालों से लाइब्रेरी का बहाना

44

कातिलाना मोहब्बत -44

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

"अनजान राह और अनजान सफ़र पर अपनी जिंदगी का सफर करते हुए खुशबू और समीर जा रहे थे। उस जनरल डिब्बे की खचाखच भीड़ में शामिल वे दो प्रेमी अपनी प्रेम की दुनिया का आनंद उठा रहे थे।"मां-बाप की अकूत कमाई का हि

45

कातिलाना मोहब्बत -45

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" आदमी को चिंता, उसकी भूख और उसके दिल की हर खुशी को एक पल में तहस-नहस कर देती है। जब खुशबू की पोल उसकी मां के सामने खुलती हैं तो उसकी आंखें फटी की फटी रह गई।। वह सोचने लगती है कि सबसे बड़ा विश्वासघात

46

कातिलाना मोहब्बत -46

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

"हर्ष की मां:-अपने बेटे की बात मानकर और उनकी खुशी के लिए मैंने खाना खाया था । बाकी खाना खाने की मेरी कोई इच्छा नहीं थी। अंदर से मेरा दिल सोचकर ही भर हो गया था। मुझे इस बात की कोई खबर नहीं

47

कातिलाना मोहब्बत-47

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

"सूर्य की किरणों के साथ हर्ष के मन में घबराहट पैदा हो रही थी क्योंकि उसके मन में शंका हो रही थी कि उसकी बहन कहीं उनकी इज्जत पर कालिख पोतकर चली तो नहीं गई। सारी रात सोचते-सोचते रात लंबी हो गई। "हर्ष फो

48

कातिलाना मोहब्बत -48

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू और समीर को आज ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जैसे शादी के बाद सुहागरात का दिन हो। क्योंकि आज खुशबू भी प्रेम की हर भावना को समीर के सामने प्रस्तुत कर रही थी। सफर के थकावट के बाद भी उन्हें इतना रिलेक्स फ

49

कातिलाना मोहब्बत -49

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

खुशबू और समीर दोनों खुशी-खुशी नाश्ता कर रहे थे। उन्हें किसी बात की कोई चिंता नहीं थी। इधर जैसे ही दिन निकला वैसे ही हर्ष खुशबू को देखने के लिए उसकी कोचिंग और लाइब्रेरी में पता करने के लिए निकलने

50

कातिलाना मोहब्बत -50

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

“क्रोध मनुष्य का महान शत्रु होता है जब मनुष्य को क्रोध आता है तो उसके शरीर के अंदर स्त्रावित होने वाले हानिकारक हार्मोंस उसके अंदर की सोचने और समझने की क्षमता को खत्म कर देते हैं।। उच्च रक्तचाप और बेड

51

कातिलाना मोहब्बत -51

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

दरोगा साहब ने मास्टरजी को प्रणाम किया और उसके बाद वह बाहर आकर हर्ष के ऊपर चिल्लाने लगा। तुम्हें अक्ल नहीं है क्या ?? क्या तुम बच्चे हो जो तुम्हें समझाना होगा। ऐसा क्या हो गया जो तुम वहां पर हवाई फायर

52

कातिलाना मोहब्बत -52

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

दरोगा साहब निकलते हुए हर्ष ने उनकी सहायता के लिए उन्हें धन्यवाद किया और कहा । हर्ष:- साहब जी आपकी सलाह को मै उचित मानता हूं। और आपका सहयोग चाहता हूं। आप बहुत अच्छे इंसान हो जो हमें सजा देने के बज

53

कातिलाना मोहब्बत -53

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

हर्ष के कहने पर रजत ने हर्ष से कहा कि खुशबू का पता करने के लिए मुझे अपना रिकार्ड देखना होगा।ठीक है मैं देखता हूं। खुशबू कौन सी लड़की है क्योंकि यहां पर हर दिन एक से एक नए विद्यार्थी आते है

54

कातिलाना मोहब्बत -54

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

हर्ष अपनी मां को बहुत समझा रह था । लेकिन उसकी मां कोई दो साल की बच्ची नहीं थी जो समझ नहीं पाये,वह सब कुछ समझती थी कि हर्ष उसे झूठ बोल रहा है।बेटा!! इस तरह झूठी दिलासा देने से कुछ नहीं होगा।। तुम

55

कातिलाना मोहब्बत -55

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" पुलिस के दिल में अगर हमदर्दी पैदा हो जाये तो वह मुजरिमों को कैसे पकड़ पायेगी। उनका प्रशिक्षण उसी लेवल का होता है कि वे लोग मुजरिमों के प्रति सहानुभूति प्रकट ना कर सकें।"हर्ष की आंखों में आसूं आने से

56

कातिलाना मोहब्बत -56

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" समीर कमरे की खोज में बाहर निकलता है। सबसे पहली मुलाकात वहां के होटल प्रबंधक से ही करता है।"सर !! हम लोग यहां के लिए अजनबी है । मै यहां जॉब करने के लिए आया हूं । मुझे कमरे की आवश्यकता है । इस विषय मे

57

कातिलाना मोहब्बत -57

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" वह टैक्सी वाला गरीब जरूर था लेकिन लालची किस्म का व्यक्ति था। कोई व्यक्ति किसी को लालची भी क्यों ना बनाये ?? क्योंकि जब किसी को अपने पेट की भूख शांत करने के लिए जरूरत के अनुसार पैसा भी ना मिले तो उस

58

कातिलाना मोहब्बत -58

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

समीर और खुशबू को कमरा मिलते ही उनकी साठ फीसदी समस्या हल हो गई थी। समीर को चिंता हो रही थी कि जितना रूपया उनके पास उपलब्ध था । वह बडी ही तीव्र गति के साथ खर्च हो रहा था ।कमरा तो मिल गया लेकिन खाना बनान

59

कातिलाना मोहब्बत -61

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" परमात्मा के सामने पूजा अर्चना करने के बाद समीर और खुशबू दोनों कुछ पल के लेट गये। समीर खुशबू की तकिया बनाकर उसके पेट पर अपना सिर रखकर लेटा हुआ था । खुशबू समीर के हाथों में डालकर उसे सहला रही थी। उसी

60

कातिलाना मोहब्बत -59

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर का शक यकीन में बदल गया था क्योंकि उन्हें पता लग गया था कि खुशबू और समीर के फोन बंद होने में कुछ ही सैंकड़ों का अंतर था। ऐसा कोई ना कोई घपला जरूर है जो उन्हें शक के दायरे में लाता

61

कातिलाना मोहब्बत -62

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

"साक्षी के चले जाने के बाद खुशबू की सांस में सांस आई। क्योंकि साक्षी के हर शब्द में एक ऐसा प्रश्न था । जो खुशबू के अंदर बैचेनी पैदा कर रहा था ।""खुशबू एक ऐसी लड़की थईज्ञजओ किसी भी तरह से एक्पोज होने क

62

कातिलाना मोहब्बत -60

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" अखबार में छपी और पुलिस ने छानबीन भी की लेकिन किसी को भनक तक नहीं लगी थी। क्या करें कि हर्ष के घरवालों की समस्या का समाधान हो जाये । ""देश के हर कोने की पुलिस का एक ही हाल है। इन्होंने ईमानदार अफसरों

63

कातिलाना मोहब्बत -63

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" जॉब मिल जाने के बाद समीर और खुशबू की चिंताएं कम हो गई। जैसे ही समीर को जॉब करते हुए चार महीने हो गये थे।" कमरे पर किसी से कोई मतलब नहीं था । हालांकि समीर ने खुशबू के साथ शादी नहीं की थी लेकिन द

64

कातिलाना मोहब्बत -64

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" संयुक्ता की जो भी इच्छा थी वह उसे साफ-साफ नजर आ रही थी। वह यहीं तो चाहती थी कि बॉस एक बार उसके साथ शारीरिक संबंध बनाये तो वह उसे उंगलियों पर नचायेगी।"इस कहानी के किरदारों में आपको गहनता से सोचना होग

65

कातिलाना मोहब्बत -65

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

"संयुक्ता ने समीर के लिए पैग बनाया और खुद भी पैग पर पैग लिए जा रहे थे। संयुक्ता अपना होश गंवा बैठी और उसने समीर को गले लगा लिया । इधर समीर भी बुरी तरह नशे में हो गया था। "संयुक्ता :- अरे यार समीर तुमन

66

कातिलाना मोहब्बत -66

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

समीर अपने घर की तरफ चला जा रहा था और खुशबू से बातें करता हुआ उसे सांत्वना दे रहा था कि यार मैं आपसे झूठ नहीं बोल रहा हूं।। रियल में ही , मैं ऑफिस के काम से बिजी था इसलिए आपसे बात नहीं कर पाया ले

67

कातिलाना मोहब्बत-67

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

समीर रोजाना की झिकझिक से बुरी तरह तन आ चुका था । वह काफी डिप्रेशन में रहने लगा था और वह जिंदगी से तंग आ चुका था यही कारण था कि उसका मर जाने का मन कर रहा था । घर से वह जिंदगी जीने के लिए इसलिए निक

68

कातिलाना मोहब्बत -68

11 अक्टूबर 2023
0
0
0

" समीर सारी रात उसके साथ प्रेम करता रहा । उसने अपने साथ उसका श्रृंगार बॉक्स भी रख लिया था । वह कभी उसके काजल लगाता और कभी उसके लिपस्टिक और कभी उसका मेकअप करता तो कभी उसके साथ संभोग बनाने की कोशि

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए