shabd-logo

Dr.Vijay Laxmi के बारे में

Other Language Profiles

पुरस्कार और सम्मान

prize-icon
दैनिक लेखन प्रतियोगिता2023-09-22

Dr.Vijay Laxmi की पुस्तकें

पावन चित्रकूट

पावन चित्रकूट

प्रस्तावित पुस्तक में मैने अपनी भावी पीढ़ी को कहानी के माध्यम से ऐतिहासिक ,धार्मिक स्थल चित्रकूट के बारे में जानकारी देते हुए अपनी संस्कृति से परिचित कराने का छोटा सा प्रयास किया है ।आपको यह कोशिश कैसी लगी समीक्षा देकर अपने विचार अवश्य बतायें। चित्

33 पाठक
12 रचनाएँ

निःशुल्क

पावन चित्रकूट

पावन चित्रकूट

प्रस्तावित पुस्तक में मैने अपनी भावी पीढ़ी को कहानी के माध्यम से ऐतिहासिक ,धार्मिक स्थल चित्रकूट के बारे में जानकारी देते हुए अपनी संस्कृति से परिचित कराने का छोटा सा प्रयास किया है ।आपको यह कोशिश कैसी लगी समीक्षा देकर अपने विचार अवश्य बतायें। चित्

33 पाठक
12 रचनाएँ

निःशुल्क

धापू

धापू

धापू एक ऐसी लड़की की कहानी जिसका लक्ष्य है हर हाल में पढ़ाई को अपनी ढ़ाल बना आगे बढ़ना । वह एक ऐसे माहौल में रहने वाली लड़की है , जहां लड़कियों को हर तरह कमतर आंका जाता है । उनको पढ़ाना फिजूलखर्ची समझा जाता है । शादी भी दहेज के तौल होती है । धापू के

7 पाठक
16 रचनाएँ
2 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 27/-

धापू

धापू

धापू एक ऐसी लड़की की कहानी जिसका लक्ष्य है हर हाल में पढ़ाई को अपनी ढ़ाल बना आगे बढ़ना । वह एक ऐसे माहौल में रहने वाली लड़की है , जहां लड़कियों को हर तरह कमतर आंका जाता है । उनको पढ़ाना फिजूलखर्ची समझा जाता है । शादी भी दहेज के तौल होती है । धापू के

7 पाठक
16 रचनाएँ
2 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 27/-

आखिर क्यों ?

आखिर क्यों ?

आखिर क्यों ?? जो किशोरवर्ग की हर नव युवती के मन में उठते झंझावातों के सवालों का जवाब तर्क-वितर्क के साथ सरल भाषा-शैली में कहानी  के रूप में तारतम्यता के साथ तर्क की कसौटी में कस , सुलझाती हुयी , हमारे समाज में दो विचारधारा के लोग हैं एक आधुनिक कहे

6 पाठक
12 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 16/-

आखिर क्यों ?

आखिर क्यों ?

आखिर क्यों ?? जो किशोरवर्ग की हर नव युवती के मन में उठते झंझावातों के सवालों का जवाब तर्क-वितर्क के साथ सरल भाषा-शैली में कहानी  के रूप में तारतम्यता के साथ तर्क की कसौटी में कस , सुलझाती हुयी , हमारे समाज में दो विचारधारा के लोग हैं एक आधुनिक कहे

6 पाठक
12 रचनाएँ
1 लोगों ने खरीदा

ईबुक:

₹ 16/-

Dr.Vijay Laxmi के लेख

शहीद दिवस

21 मार्च 2024
1
1

फर्ज निभा शीश दिया अपने भाल का,आज ऋण चुका तेरी मां की कोख का।जान हथेली पर रख अपना कर्म निभायादिया मातृभू को बचन ,पूरित कर आया।21तो

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस (स्त्री )

8 मार्च 2024
0
0

स्त्री , शक्ति, व ममता की प्रतीक,समर्पण,सौन्दर्य, साहस की लीक।तुम,सृजन की हो अनमोल धरोहर।कांपती नहीं,आत्मविश्वास से भरपूर,समाज के रंग-मंच पर है शिनाख्त।स्त्री,जीवन की मिसाल है विख्यात हर कदम आगे

सन्देशखाली घटना

28 फरवरी 2024
0
0

कुछ दिनों से तृणमूल कांग्रेस शासित पश्चिम बंगाल राज्य का संदेशखाली सियासती हिंसा की आग में झुलस रहा है। यहां महिलाओं और गांव के लोगों ने जमीन हड़पने का आरोप लगाया है ।मुख्य आरोप ***संदेशखा

किसान आंदोलन 2.0

16 फरवरी 2024
0
1

आखिर किसान आंदोलन है क्या ?किसान आंदोलन **किसानों की भूमि पर अधिकारों के हनन ,गंभीर शोषण, नए कर लगाये जाने और उपनिवेषी राज्य या सामंतों से किसानों की कृषि सम्बन्धी परेशानी के आक्रोश की उपज थे। भा

बसंतपंचमी 2024

12 फरवरी 2024
2
2

फाग राग अलबेला कहुं न पड़े सुनाईसखी बसन्त मदन ऋतु है कहां आई??न दिखे खेत पीले सरसों न नीली अलसी ।कहां सखी कोकिल कूके आंबौर हुलसी ।सूरजमुखी के गेरुए संत गेंदा की तरुणाई ।मधुरस महुआ को छू पवन करे अगुआई

बसंतपंचमी 2024

12 फरवरी 2024
0
1

प्रकृति कर रही नर्तन, धार नववधू यौवनशीत का है गमन ,ऋतुराज का आगमनधूप हुयी गुनगुनी सजीली व चमकीलीजीर्ण वसन छोड़ नवपात सजी डालीरुत मस्तानी, स्वच्छ चांदनी है गगन मेंदेखो नव फसलें, किलक रहीं भूतल मेंवीणा

गणतंत्र दिवस 2024 (तिरंगा झण्डा)

28 जनवरी 2024
1
0

तिरंगा शान हमारी जान और पहिचान हैहिन्दुस्तानी को इसे देख होता अभिमान हैकेसरिया भरता साहस वीर जवानों का याद आजादी के परवानों की कुर्बानी कामध्यपट्टी श्वेत सच्चाई का संदेश दे जातीहरा उर्वरता,शुभता

गणतंत्र दिवस 2024

24 जनवरी 2024
1
0

26 जनवरी का दिन आया झूम-झूम केभारतीय गणतंत्र मनाए जन-जन मिल केआज शहीदों को श्रद्धासुमन हम चढ़ाते हैं 21 तोपों की दे सलामी चूम कदम लेते हैंआज संविधान प्रमुख महामहिम के नातेतिरंगाध्वज फहरा राष्ट्रग

श्रीराम मंदिर-अयोध्या (शुभ 卐 दीपावली)

23 जनवरी 2024
1
0

श्रीराम जी के शुभागमन में आज फिर ये समा बंधा, खुशनुमा दीपावली का।आसमां में रंगतें बिखरीं,दिलों में खुशियाँ उतरीं।दीपों की रौशनी से सजे,दिवाली का त्योहार बजे।आज फिर ये समा बंधा,खुशनुमा दीपावल

श्रीराम मंदिर-अयोध्या(खुला दरवाजा)

22 जनवरी 2024
1
0

खुला दरवाजे श्री राम लला का,आज अवध पहुनाई है ।देख के श्रीराम मंदिर अयोध्या का, जन-जन में हरषाई है ।नौबत बाज रही है घर-घर में,चौहाटन बजी शहनाई है।देश-देश के देखो भूपत आये।सौगातन भरी अंगनाई है।5 सौ

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए