shabd-logo

पंचम शक्ति स्कंद माता

10 अप्रैल 2022

24 बार देखा गया 24
पंचम शक्ति स्कंद माताarticle-image

श्रुति और समृद्धि से युक्त छान्दोग्य उपनिषद के प्रवर्तक सनत्कुमार की माता भगवती का नाम स्कंद है। 

उनकी माता होने से कल्याणकारी शक्ति की अधिष्ठात्री देवी को पांचव दुर्गा स्कंदमाता के रूप में पूजा जाता है। 

नवरात्र में इनकी पूजा-अर्चना का विशेष विधान है। यह माता दो हाथों में कमल लिए हुए और एक हाथ से अपनी गोद में ब्रह्म स्वरूप सनत्कुमार को थामे हुए हैं।

 इनका वाहन सिंह है। यह दुर्गा समस्त ज्ञान-विज्ञान, धर्म, कर्म और कृषि उद्योग सहित पंच आवरणों से समाहित विद्यावाहिनी दुर्गा भी कहलाती है। माना जाता है।

 कि इनकी शक्ति से ही नारी को गर्भधारण करने की अलौकिक शक्ति मिली है।

आरती देवी स्कंद माता जी की...

जय तेरी हो स्कंद माता। 
पांचवां नाम तुम्हारा आता। 
सबके मन की जानन हारी। 
जन जननी सबकी महतारी। 
तेरी जोत जलाता रहूं में। 
हरदम तुझे ध्याता रहूं में ।
 कई नामों से तुझे पुकारा।

मुझे एक है तेरा सहारा। 
कहीं पहाड़ों पर है डेरा। 
कई शहरों में तेरा बसेरा ।
 हर मंदिर में तेरे नजारे। 
गुण गाएं तेरे भक्त प्यारे । 
भक्ति अपनी मुझे दिला दो। 
शक्ति मेरी बिगड़ी बना दो।

इंद्र आदि देवता मिल सारे। 
करें पुकार तुम्हारे द्वारे । 
दुष्ट दैत्य जब चढ़ कर आए। 
तू ही खंडा हाथ उठाए। 
दासों को सदा बचाने आई। 
भक्त की आस पुजाने आई ।

10
रचनाएँ
जय मां दुर्गा
0.0
जय मां दुर्गा नवरात्र यानी मां अंबे के नौ रूपों की आराधना में डूब जाने के खास नौ दिन। खुद को पूरी तरह से उन्हें समर्पित कर देने का समय। आपके नवरात्र को खास बनाने के लिए हम लेकर आए हैं, मां की आराधना, आरती और आहार से जुड़ी जानकारियों का यह पिटारा....
1

जय मां दुर्गा

4 अप्रैल 2022
0
0
0

नवरात्र यानी मां अंबे के नौ रूपों की आराधना में डूब जाने के खास नौ दिन। खुद को पूरी तरह से उन्हें समर्पित कर देने का समय। आपके नवरात्र को खास बनाने के लिए हम लेकर आए हैं, मां की आराधना, आरती और आहार स

2

प्रथम शक्ति मां शैलपुत्री

5 अप्रैल 2022
0
0
0

प्रथम शक्ति मां शैलपुत्रीपर्वतराज हिमालय की पुत्री पार्वती के स्वरूप में साक्षात शैलपुत्री की पूजा नवरात्र के प्रथम दिन होती है। इनके एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे हाथ में कमल का पुष्प है। ये नंदी नामक

3

द्वितीय शक्ति ब्रह्मचारिणी

7 अप्रैल 2022
0
0
0

द्वितीय शक्ति ब्रह्मचारिणीनवदुर्गाओं में दूसरी दुर्गा का नाम ब्रह्मचारिणी है। इनकी पूजा-अर्चना नवरात्र की द्वितीया तिथि के दौरान की जाती है। ब्रह्मचारिणी देवी का स्वरूप पूर्ण ज्योतिर्मय और भव्य है। मा

4

तृतीय शक्ति चंद्रघंटा

8 अप्रैल 2022
0
0
0

तृतीय शक्ति चंद्रघंटाशक्ति के रूप में विराजमान चंद्रघंटा मस्तक पर चंद्रमा को धारण किए हुए है। नवरात्र के तीसरे दिन इनकी पूजा-अर्चना भक्तों को जन्म-जन्मांतर के कष्टों से मुक्त कर इहलोक और परलोक में कल्

5

चतुर्थ शक्ति कूष्मांडा

10 अप्रैल 2022
0
0
0

चतुर्थ शक्ति कूष्मांडाये अष्टभुजाधारी, माथे पर रत्नजड़ित मुकुटवाली, एक हाथ में कमंडल और दूसरे हाथ में कलश लिए हुए उज्जवल स्वरूप की दुर्गा है। इनका वाहन बाघ है। जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, चारो

6

पंचम शक्ति स्कंद माता

10 अप्रैल 2022
0
0
0

पंचम शक्ति स्कंद माताश्रुति और समृद्धि से युक्त छान्दोग्य उपनिषद के प्रवर्तक सनत्कुमार की माता भगवती का नाम स्कंद है। उनकी माता होने से कल्याणकारी शक्ति की अधिष्ठात्री देवी को पांचव दुर्गा स्कंदम

7

षष्ठम शक्ति कात्यायनी

10 अप्रैल 2022
0
0
0

षष्ठम शक्ति कात्यायनीयह दुर्गा, देवताओं के और ऋषियों के कार्यों को सिद्ध करने लिए महर्षि कात्यायन के आश्रम में प्रकट हुई ।और महर्षि ने उन्हें अपनी कन्या के रूप में पाला साक्षात दुर्गा स्वरूप इस छठी दे

8

सप्तम शक्ति कालरात्रि

10 अप्रैल 2022
0
0
0

सप्तम शक्ति कालरात्रि अपने महा विनाशक गुणों से शत्रु एवं दुष्ट लोगों का संहार करने वाली सातवीं दुर्गा का नाम कालरात्रि है। सांसारिक स्वरूप में यह काले रंग-रूप की अपनी विशाल केश राशि को फैलाकर चार

9

अष्टम शक्ति महागौरी

10 अप्रैल 2022
0
0
0

अष्टम शक्ति महागौरी नवरात्र के आठवें दिन आठवीं दुर्गा महागौरी की पूजा-अर्चना की जाती है। अपनी तपस्या द्वारा इन्होंने गौर वर्ण प्राप्त किया था । अतः इन्हें उज्ज्वल स्वरूप की शारीरिक, मानसिक और सां

10

नवम शक्ति सिद्धिदात्री

10 अप्रैल 2022
1
0
0

नवम शक्ति सिद्धिदात्रीनवदुर्गाओं में सबसे श्रेष्ठ, सिद्धि और मोक्ष देने वाली दुर्गा को सिद्धिदात्री कहा जाता है। यह देवी भगवान विष्णु की प्रियतमा लक्ष्मी के समान कमल के आसन पर विराजमान हैं।

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए