shabd-logo

अड़चने आएं तो क्या ?

15 मार्च 2021

400 बार देखा गया 400
featured image article-image

अड़चने भी अजीब होती हैं, हर बार सामने उत्पन्न खड़ी हो जाती हैं,

कर्म योगी उनसे डटकर सामना करते हैं article-imagearticle-image

चाहे जो हो पर जीतने की जिद, अड़चनों को नेस्तनाबूत कर देती हैं,

इसलिए किसी ने कहा है -

"तू किसलिए हताश हैarticle-image, तू चल तेरे वजूद की ओर,article-image

उस वक्त को सिर्फ तेरी तलाश है,"article-imagearticle-image

अतुल "सूर्य"

अतुल कुमार दूबे की अन्य किताबें

3
रचनाएँ
suryakikalam
0.0
शौकिया और जोशीला लेखक
1

अड़चने आएं तो क्या ?

15 मार्च 2021
0
0
0

अड़चने भी अजीब होती हैं, हर बार सामने उत्पन्न खड़ी हो जाती हैं,कर्म योगी उनसे डटकर सामना करते हैं चाहे जो हो पर जीतने की जिद, अड़चनों को नेस्तनाबूत कर देती हैं,इसलिए किसी ने कहा है -"तू किसलिए हताश है, तू चल तेरे वजूद की ओर,उस वक्त को सिर्फ

2

पतझर

15 मार्च 2021
0
0
0

पतझड़ में सूखे पत्ते, यू बिखरे हैं,जिस तरह बिखर जाते हैं कभी,वह अपने ||

3

भ्रष्टाचार

15 मार्च 2021
0
0
4

भारत एशिया का सबसे भ्रष्ट देश है। यहां सभी किसी ना किसी तरह कभी न कभी इसका शिकार हुए हैं और सबसे ज्यादा भ्रष्ट पुलिस कर्मचारी, नगर निकाय, विद्यालय, लोक निर्माण विभाग, न्याय विभाग के साथ भ्रष्ट लोग निजी कार्यालयों- ऑफिसो में भी घुसे पड़े

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए