shabd-logo

निस्पृह भाव व अकाम कर्म प्राप्ति की सबसे बड़ी बाधा ही ईश्वर है...!

7 सितम्बर 2017

706 बार देखा गया 706
featured image

प्राचीन भारतीय चिंतन एवं दर्शन में, ईश्वर से ज्यादा महत्व जोर ईश्वर तत्व या ईश्वरत्व भाव को दिया गया। संभवतः, या कह लें कि स्पष्ट तौर पर स्वयंसिद्ध भी है यह बात की ईश्वर की मूर्त रूप में स्थापना अपने आप में एक तरह की बाधा ही है। इसे समझना होगा...

निस्पृह भाव, अकाम कर्म एवं अप्रतिक्रियात्मक चेतना की प्राप्ति के मार्ग में सही मायनों में ईश्वर रूप प्रतिष्ठा एक तरह से बाधा ही उत्पन्न करती है। जीवन की उपलब्धि अगर अमूर्त, यानि इंटैंजिबल है, तो किसी भी स्वरूप में मूर्त तत्व भाव, यानि टैंजिबल इस उपलब्धि प्रक्रिया को बाधित ही करेगी।

वि ज्ञान भी कहता है - पदार्थ की उपस्थिति मात्र से चेतना या दृश्य का स्वभाव यथार्थ परिवर्तित हो जाता है। यह सोच जटिल दिखती है। इसे आसान करने की कोशिश करते हैं।

तो, मान लीजिये कि आपसे कहा जाय कि प्रेम कीजिये। तो आप और हम सब अपने से, अपने बच्चों से, परिवार के सदस्यों से प्रेम करने को प्रेरित होते हैं। मगर, उत्कृष्ट चिंतन दर्शन कहता है कि नहीं साहब, वस्तु या व्यक्ति से प्रेम की बात नहीं की जा रही, सबसे एक समान प्रेम करिये, प्रेमभाव को साधिये, वस्तु व्यक्ति को मत साधिये, और बेहतर है कि सिर्फ ईश्वर से प्रेम करिये, उसे ही साधिये...!

तो बात तो बराबर ही है। अगर स्वजनों से प्रेम निस्पृह भाव, अकाम कर्म एवं अप्रतिक्रियात्मक चेतना की प्राप्ति में बाधक है तब तो ईश्वर भी एक तरह की बाधा ही है। जैसे सबसे प्रेम करना संभव नहीं दिखता, वैसे ही बिना मूर्त स्वरूप के ईश्वर से प्रेम करना भी संभव नहीं दिखता। यह निश्चित तौर पर बाधा है।

इस संसार में ऐसे करोड़ों लोग हैं जो संत हैं या ईश्वर की राह में भिक्षु या साधु-संयासी हो गये हैं। मगर, हर धर्म में उन्हें घंटों ईश्वर की अराधना करने, ईश्वर को खुश करने के लिए मंत्रजाप करने अन्य रिचुअल्स में समय बिताने की पाबंदी की गयी है। इतना ही नहीं, प्रेमभाव को साधने की बात कह के, सबसे प्रेम करने की भी छूट नहीं दी गयी है। सभी संतों, साधु-संयासी भिक्षुओं को पूरी आबादी के आधे लोगों को देखने छूने तक की मनाही है, प्रेम करना तो दूर की बात है। इस तरह, महिलाओं स्त्री स्वरूप को अपमानित करके प्रेमभाव ईश्वर को साधने की बात करना कहां तक निस्पृहता के चिंतन दर्शन में फिट बैठता है, यह समझना होगा... इस पर चर्चा करनी होगी....!

तो, कुल मिलाकर निष्कर्ष यह है कि निस्पृह भाव, अकाम कर्म एवं अप्रतिक्रियात्मक चेतना की प्राप्ति में ईश्वर ईश्वरीय मूर्त अवधारणाओं, क्रियाकलापों प्रवाधानों की एक बड़ी श्रृंखला ही सबसे बड़ी बाधा है। निस्पृहता का सबसे बड़ा अवरोध वही बन जाता है जो तथाकथित तौर पर सबसे व्यापक अवलम्ब होना चाहिए था...!

इसे समझने की जरूरत है... तो क्या निस्पृहता से ईश्वर का संबंध हटा देना ही उचित होगा...? इसे समझने की जरूरत है...!

**

रवि कुमार

रवि कुमार

अब जो समय है उसमे हमें इश्वर की आड़ में हो रहे पाखण्ड से बचना चाहिए और सद्कर्मो को ईश्वर मान कर उन्हें ही करना चाहिए , विचारणीय लेख

8 सितम्बर 2017

1

ख्वाब और उनकी मुकम्मलियत...

1 जुलाई 2017
0
2
0

कुछ बेसबब से ख्वाब, चश्मे-तर में नहीं होते,तकिये के नीचे दबे होते हैं... दबे पांव निकल कर, संभल कर, आपकी ठुड्डी सहला जाते हैं... आलमे-इम्कां का एतबार न टूटे, इस कर, थपकियों से जगा जाते हैं... होने को जहां में क्या-क्या नहीं होता, मगर यह ख्वाब मुकम्मल नहीं होता...! फिर भी

2

गर तन्हा कहीं नजर आये

28 जुलाई 2017
0
3
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedC

3

दावेदारी

29 जुलाई 2017
0
1
0

यथार्थ पर यूं तो दावेदारी सबकी है,दावेदारी की यूं तो खुमारी सबको है,खुमारी की यह बीमारी गालिबन सबको है,मगर, यथार्थ खुद अबला-बेचारी है, पता सबको है।फिर, रहस्यवाद का अपना यथार्थ है,रहस्य क्या है कि सबका अपना स्वार्थ है,अहसास का रहस्यवाद से गहरा संवाद है,जो महसूस होता है, उसका जायका, स्वाद है,फिर दिमाग

4

कि गुलशन का करोबार चले...

6 अगस्त 2017
0
1
2

कुछ पता न चलेपर कारोबार चले,भरोसा न भी चले,जिंदगी चलती चले,चलन है, तो चले,रुकने से बेहतर, चले,न चले तो क्या चले,यूं ही बेइख्तियार चले,सांसें, पैर, अरमान चले,फिर, क्यूं न व्यापार चले,सामां है तो हर दुकां चले,हर जिद, अपनी चाल चले,अपनों से, गैर से, रार चले,इश्क है, न ह

5

निस्पृह भाव व अकाम कर्म प्राप्ति की सबसे बड़ी बाधा ही ईश्वर है...!

7 सितम्बर 2017
0
2
2

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh

6

तो इसलिए लोग इश्क को बला, आफते-जां कहते हैं...?

19 सितम्बर 2017
0
0
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:TrackFormatting> <w:PunctuationKerning></w:PunctuationKerning> <w:ValidateAgainstSchemas></w:ValidateAgainstSchemas> <w:Sav

7

महबूबा

11 अगस्त 2021
0
0
0

दुःख सीहसीन तोकोई दिलरुबा हीनहीं,हर लम्हा रहे जोजेहन मेंअसल महबूबा भीवही,लाख चाहूं किनिकल जाएजिंदगी सेमेरी,बेशर्म लिपटी हैकलेजे सेकि जाती हीनहीं,कहती है, कमबख्तबिफर केअजब नाज से,दुःख हूं, रिश्ता नहीं,मौत तकपीछा छोड़ूंगी नहीं,मै हीलोरी, गज़ल भी मैं,फातिहा पढ़ूंगी मैं ही.

8

न सिला, न गिला---

11 अगस्त 2021
0
0
0

उम्र सेपूछिये, लम्हों का सिला,खुद सेपूछिये, दूसरों का गिला,जूते जानते हैं, कौन कितना चला,दौलत वही, जो ऐनजेब से निकला... दूर तलक जोकाफिला निकला,गंुजाईश कोहमसफर भी मिला,मीर नहीं मैं, न गालिब सेमिला,जो बसर हुई, वही कहके निकला... यही कौम है, ऐसे ही चले है काफिला,बदनसीबी

9

परबतिया का विकास माडल

12 अगस्त 2021
1
0
0

परबतियाअपनीसासकेसाथबिहारसेकुछसालपहलेपलायनकरदेहरादूनआयीऔरअपनीसासकीतरहहीघरोंमेंबर्तन-चौकाकरतीहै।परबतियाकेकुनबेमें,जिसेविकासकेमानकोंकेहिसाबसे‘हाउसहोल्ड’ कहाजाताहै,उसकेसास-ससुरकेअलावाउसकापतिऔरउसकेअपनेएवंसासकेबच्चेहैं।इस‘हाउसहोल्ड’ कीमासिकआयहैतीसहजाररुपये।जीहां,आपनेसहीपढ़ा,तीसहजाररुपये!आप कहेंगे,लेखक-पत्र

10

नाहक ही...

13 अगस्त 2021
0
0
1

नाहक ही...बेसबब न भी हो,पर, नाहक ही...<!--[if !supportLineBreakNewLine]--><!--[endif]-->शायद, यही सिला है,बचपन से पचपन तक,ये जो उड़ता बुलबुला है,मिला तो क्या मिला है,खामखा का सिलसिला है,सोचिये तो, नाहक ही.

11

तब जा के...

13 अगस्त 2021
0
1
0

बहुत साल जाया हुए,कई रातें कटीं आंखों में,पैर जख्मों सेरुबरु हुए,तब जाके यह तय हुआ,झूठ कितना विस्तृत है,सच कितना बेबुनियाद है,यथार्थ कितना बेचारा है,भटकाव कितना व्यापक है... ... बहुत साल जाया हुए,तब जाके यह तय हुआ,लोग कैसे गुमराह जीते हैं,दुनिया क्यूं फरेब खरीदती है,इ

12

दिल चाहता है...

14 अगस्त 2021
0
1
0

जिंदगी बेहद मुख्तसर,इसकी रस्मे-अदायगी,गोया औरभी मुख्तसर...बन पड़ते हैं गाहे-बगाहे,शफकत-अखलाक केअवसर,खुलती हैं दिलों कीखिड़कियां,सबा आती है, मगर, पल भर,फिर वही, पुरानी सीवीरानगी...कमाल है, अपनों की दीवानगी...तहजीब की,फुलझड़ी सी रवानगी...बस चंद कतरे अल्फाज परोसिये, या फिर

13

बस लुत्फ लीजे...

17 अगस्त 2021
2
1
0

इकदरवाजा है, खुला भी है,स्मृतियों का, अपने ही ज्ञान का,सीमाओं में जकड़ा, उलझा इंसान,थोड़े कोबहुत, बहुत को थोड़ा करता,अपनी हीद्वंद में इतराता इंसान,बंद कमरे साजीवन जीता नादान... घुटी, पिघलती बदबूदार सांसें लेता,सूरत सेबेपरवाह, आईनें बदलता,दिमाग खाली, घर केकमरे भरता,गर्क यहकि दरवाजे सदाएं नहीं देतीं,खुन

14

हालिया तहजीब

18 अगस्त 2021
0
1
0

हस्ती का शोर तो है मगर, एतबार क्या,दुनिया तमाशाई, हर कुंदजेहन यहां अदीब है... जिंदगी के रंगमंच की रवायत ही देखिए,दीद अंधेरे में, उजाले अदायगी को नसीब है... जवाब भी ढूंढ़ते है सवालों के उस फकीर से,जिसकी कैफियत, उसकी दाढ़ी सी बेतरतीब है... उलझे हुए लोग, चौराहों पर दुकान

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए