shabd-logo
Shabd Book - Shabd.in

भगवान श्रीकृष्ण उवाच

Dr. Yogendra Kumar Pandey

24 भाग
2 लोगों ने लाइब्रेरी में जोड़ा
31 पाठक
निःशुल्क

परिचय श्रीमद्भागवतगीता भगवान श्री कृष्ण द्वारा वीर अर्जुन को महाभारत के युद्ध के पूर्व कुरुक्षेत्र के मैदान में दी गई वह अद्भुत दृष्टि है, जिसने जीवन पथ पर अर्जुन के मन में उठने वाले प्रश्नों और शंकाओं का स्थाई निवारण कर दिया।इस स्तंभ में कथा,संवाद,आलेख आदि विधियों से श्रीमद्भागवत गीता के उन्हीं श्लोकों व उनके उपलब्ध अर्थों को मार्गदर्शन व प्रेरणा के रूप में लिया गया है।भगवान श्री कृष्ण की प्रेरक वाणी किसी भी व्याख्या और विवेचना से परे स्वयंसिद्ध और स्वत: स्पष्ट है। श्री कृष्ण की वाणी केवल युद्ध क्षेत्र में ही नहीं बल्कि आज के समय में भी मनुष्यों के सम्मुख उठने वाले विभिन्न प्रश्नों, जिज्ञासाओं, दुविधाओं और भ्रमों का निराकरण करने में सक्षम है। इस धारावाहिक में लेखक द्वारा अपने आराध्य श्री कृष्ण से संबंधित द्वापरयुगीन घटनाओं व श्रीमद्भागवत गीता के श्लोकों व उनके उपलब्ध अर्थों व संबंधित दार्शनिक मतों की साहित्यिक प्रस्तुति है,जिसमें कहीं-कहीं लेखक की रचनात्मक कल्पना और भक्तिभाव भी भरे हैं।यह धारावाहिक -"भगवान श्री कृष्ण उवाच" भगवान श्री कृष्ण की प्रेरक वाणी से वर्तमान समय में जीवन सूत्रों को ग्रहण करने और सीखने का एक भावपूर्ण रचनात्मक लेखकीय प्रयत्नमात्र है,जो सुधि पाठकों के समक्ष प्रतिदिन प्रस्तुत करने का प्रयत्न है, कृपया पढ़िएगा अवश्य…….✍️🙏 

bhagwan shrikrishan uvach

0.0

शब्द mic

पुस्तक के भाग

1

1:रोजमर्रा के छोटे-छोटे 'मोह' से करें किनारा

29 मई 2023

3
1
1

1:रोजमर्रा के छोटे-छोटे 'मोह' से करें किनारा

29 मई 2023
3
1
2

2 : सफलता के लिए आवश्यक है मनोबल

31 मई 2023

2
1
2

2 : सफलता के लिए आवश्यक है मनोबल

31 मई 2023
2
1
3

3 : आवश्यकता से अधिक सोच-विचार और चिंतन से नकारात्मकता के प्रवेश का डर

31 मई 2023

1
1
3

3 : आवश्यकता से अधिक सोच-विचार और चिंतन से नकारात्मकता के प्रवेश का डर

31 मई 2023
1
1
4

4:आप और हम सब हर युग में रहेंगे

1 जून 2023

2
1
4

4:आप और हम सब हर युग में रहेंगे

1 जून 2023
2
1
5

5 :शरीर की अवस्था में बदलाव स्वीकार करें

2 जून 2023

1
1
5

5 :शरीर की अवस्था में बदलाव स्वीकार करें

2 जून 2023
1
1
6

6:सुख - दुख हैं अस्थाई, इनमें संतुलित रहें

3 जून 2023

1
1
6

6:सुख - दुख हैं अस्थाई, इनमें संतुलित रहें

3 जून 2023
1
1
7

7 :शिकायत छोड़ें, सुख दुख समझें एक समान 

5 जून 2023

1
1
7

7 :शिकायत छोड़ें, सुख दुख समझें एक समान 

5 जून 2023
1
1
8

8 :जीत सत्य की होती है

6 जून 2023

0
0
8

8 :जीत सत्य की होती है

6 जून 2023
0
0
9

9: आत्मा में है जादुई शक्ति

7 जून 2023

1
1
9

9: आत्मा में है जादुई शक्ति

7 जून 2023
1
1
10

10: नाशवान शरीर को सुविधाभोगी ना बनाएं

8 जून 2023

1
1
10

10: नाशवान शरीर को सुविधाभोगी ना बनाएं

8 जून 2023
1
1
11

11. अंतरात्मा होता है सच का अनुगामी

9 जून 2023

1
1
11

11. अंतरात्मा होता है सच का अनुगामी

9 जून 2023
1
1
12

12 :आपके भीतर ही है चेतना,ऊर्जा और दिव्य प्रकाश

10 जून 2023

0
0
12

12 :आपके भीतर ही है चेतना,ऊर्जा और दिव्य प्रकाश

10 जून 2023
0
0
13

13: कभी अप्रिय निर्णय भी हो जाते हैं अपरिहार्य

12 जून 2023

0
0
13

13: कभी अप्रिय निर्णय भी हो जाते हैं अपरिहार्य

12 जून 2023
0
0
14

14.सुंदरता के बदले आंतरिक प्रसन्नता और सक्रियता है जरूरी

13 जून 2023

0
0
14

14.सुंदरता के बदले आंतरिक प्रसन्नता और सक्रियता है जरूरी

13 जून 2023
0
0
15

15. आपके पास ही है अक्षय शक्ति वाली आत्मा

14 जून 2023

0
0
15

15. आपके पास ही है अक्षय शक्ति वाली आत्मा

14 जून 2023
0
0
16

16. एकाग्र होने और पूर्ण मनोयोग रखने पर प्राप्त होती है आत्मा से सूझ और शक्ति  

16 जून 2023

1
0
16

16. एकाग्र होने और पूर्ण मनोयोग रखने पर प्राप्त होती है आत्मा से सूझ और शक्ति  

16 जून 2023
1
0
17

17. इस जन्म की पूर्णता के बाद एक और नई यात्रा,कुछ भी स्थायी न मानें इस जग में  

17 जून 2023

0
0
17

17. इस जन्म की पूर्णता के बाद एक और नई यात्रा,कुछ भी स्थायी न मानें इस जग में  

17 जून 2023
0
0
18

18: भीतर की आवाज की अनदेखी न करें

18 जून 2023

0
0
18

18: भीतर की आवाज की अनदेखी न करें

18 जून 2023
0
0
19

19: सारे कार्य महत्वपूर्ण हैं, कोई छोटा या बड़ा नहीं

19 जून 2023

0
0
19

19: सारे कार्य महत्वपूर्ण हैं, कोई छोटा या बड़ा नहीं

19 जून 2023
0
0
20

20. वीरों के सामने ही आती हैं जीवन में चुनौतियां

20 जून 2023

0
0
20

20. वीरों के सामने ही आती हैं जीवन में चुनौतियां

20 जून 2023
0
0
21

21.चुनौतियों में जन सेवा धर्मयुद्ध के समान

22 जून 2023

0
0
21

21.चुनौतियों में जन सेवा धर्मयुद्ध के समान

22 जून 2023
0
0
22

22.अपयश से बचने साहसी चुनते हैं वीरता  

23 जून 2023

0
0
22

22.अपयश से बचने साहसी चुनते हैं वीरता  

23 जून 2023
0
0
23

23 आत्म सम्मान की सीमा रेखा की रक्षा करें

24 जून 2023

0
0
23

23 आत्म सम्मान की सीमा रेखा की रक्षा करें

24 जून 2023
0
0
24

24. आगे बढ़ें तो सारे विकल्प उपलब्ध होते रहेंगे

27 जून 2023

0
0
24

24. आगे बढ़ें तो सारे विकल्प उपलब्ध होते रहेंगे

27 जून 2023
0
0
---