shabd-logo

सबके अपने अपने राम

23 अगस्त 2023

56 बार देखा गया 56
article-image

आदिकवि भगवान् वाल्मीकि जी ने अपने महाकाव्य रामायण में जिस राम का वर्णन किया है, वह सिर्फ एक महापुरुष है। उन्होंने राम के जीवन के माध्यम से समाज को मर्यादा,आदर्श और सदगुणों के पराकाष्ठा का दर्शन करवाया है।  उन्होंने राम के सम्पूर्ण जीवन को शिक्षप्रद शैली में लिखा है जिससे समाज और प्राणी सदैव मार्गदर्शित होते रहेंगे ।  निति का उदाहरण किसी अन्य साहित्य में इस प्रकार नहीं मिलता जैसा की वाल्मीकि के रामायण में मिलता है।  रामायण के कई उदाहरण न ही सिर्फ सनातन धर्म में चली आ रही परिपाटियों का खंडन करती है बल्कि इस धर्म के ऐसे पहलुओं से समाज का साक्षात्कार भी करती है जो अनुपम है और अद्वितीय भी। जैसे महर्षि वाल्मीकि का स्वयं एक निषाद होना, राम और केवट की मित्रता, राक्षसराज बिभीषन का रामभक्ति क्या काफी नहीं है जो इस बात को सिद्ध कर सके की आदिकाल में जातिगत और वर्ण व्यवस्था का वह रूप नहीं रहा होगा जो आज के समाज में हम देखते हैं और उसकी पीड़ा की अनुभूति करते हैं।  सिर्फ इतना ही नहीं समाज का एक ऐसा वर्ग जो सदैव परदे के पीछे न जाने कितने दुःख सही है जिसे हम नारी की संज्ञा प्रदान करते हैं, शायद उनकी भी स्थिति यह नहीं रही होगी। रामायण में सभी पात्रो की समान सहभागिता इस बात की  स्पस्टीकरण करती है की औरतो की दशा उस काल में शायद इतनी दयनीय न रही हो।  मुझे यह प्रतीत होता है की समाजवाद का भी प्रथम सिद्धांत भी रामायण से ही उत्पन्न हुआ होगा।  जब राम को राजा घोषित करने की बात हुई तब राम ने यह कहा की जब हम सब भ्राता बचपन से एक ही साथ पले और बढ़े तो आज मुझे ही सिर्फ यह राज्य क्यों ? यह समाजवाद नहीं तो और क्या है ? रामायण में सीता को सुशिक्षित और कुलीन बताया गया है, जो धर्म का सहारा ले स्त्री शिक्षा पर कुतर्क देने वाले अनपढ़ो के मुँह पर तमाचा मारने में सक्षम है। केवल इतना ही नहीं जो औरतों को सिर्फ वस्तु मानते हैं वो जान ले हमारे ही ग्रंथो में उद्दृत  है " यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवता।"

अब चलते है हिंदी की भक्ति काल में जिसमें मुख्यतः निर्गुण भक्ति और सगुण भक्ति का वर्णन है। सगुण भक्ति पुनः राम और कृष्ण भक्ति शाखा पर आधारित है।  अगर हम उस कालखंड के समाज का वर्णन करे तो हमे वैष्णव और शैव समाज का विभाजन भी मिलता है। पर दोनों समाज से मुक्त और दोनों के गुणों को धारण करने वाला अघोरियों का भी जिक्र है जो "एकांत शैव और सभा वैष्णव के सिद्धांत पर जीते है" और "शक्ति" की उपासना करते हैं।
भक्तिकाल के निर्गुण शाखा में अगर सर्वप्रथम किसी का नाम आता है, तो वह कबीर है।  कबीर एक ऐसे संत थे जिन्होंने केवल हिंदी के विराट सागर में अपनी रचनाओं को समर्पित ही नहीं किया अपितु उन्होंने उन कविताओं को जिया भी है। उनके राम सर्वव्यापी है जो इस अखिल ब्रम्हांड के हर कण में विद्यमान है।

"रमते इति राम:" अर्थात  "जो कण- कण में रमते हों, वही राम हैं ।" इसी दर्शन पर आधारित है कबीर की राम भक्ति और इसी दर्शन को सिद्ध करने का पर्याय है कबीर का जीवन।  पंडितो के शहर काशी में रहकर भी कबीर ने सदैव अपने राम को परिपाटियों से दूर अपने ज्ञान के परदे में  सहेज कर रखा।  संत कबीर के अनुसार :-

सबमें रमै रमावै जोई, ताकर नाम राम अस होई ।

घाट - घाट राम बसत हैं भाई, बिना ज्ञान नहीं देत दिखाई।

आतम ज्ञान जाहि घट होई, आतम राम को चीन्है सोई।

कस्तूरी कुण्डल बसै , मृग ढूंढ़े वन माहि।

ऐसे घट - घट राम हैं, दुनिया खोजत नाहिं ।

अब अगर बात भक्तिकाल के सगुण भक्ति शाखा की आये तो कोई भी तुलसी के श्रद्धा और उनके सगुण राम के प्रति अखंड विश्वास का मूल्यांकन कबीर के निर्गुण राम से कम कैसे कर सकता है? गोस्वामी तुलसीदास जी ने अपने सर्वव्यापी राम को अपने सहज और सुंदर भाषा से इस प्रकार सुसज्जित किया है और ईश्वर की सभी महिमा प्रदान की है जो आदिकवि वाल्मीकि के महापुरुष राम को ईश्वरत्व की प्राप्ति करा उन्हें सर्वशक्तिमान भगवान बनाने की सामर्थ्य रखता है। तुलसीदास जी के लिए राम सच्चिदानंद ब्रह्म हैं जो समस्त संसार के कारण के भी कारण हैं।  इसलिए उन्होंने लिखा है "कृपा सिंधु मति धीर अखिल विश्व कारन करन। "
उन्होंने बालकाण्ड में ही अपने सगुन राम का कुछ इस प्रकार वर्णन किया है :-

"अरुण नयन उर बाहु बिसाला । नील जलज तनु स्याम तमाला ।।

कटि पट पीत कसें बर भाथा । रूचिर चाप सायक दुहुं हाथा ।।

"अर्थात "भगवान के लाल नेत्र हैं चौडी छाती और विशाल भुजाएँ हैं । नीलकमल और तमाल के वृक्ष की तरह श्याम शरीर है । कमर में पीताम्बर पहने हुए और सुन्दर तरकस कसे हुए हैं । दोनों हाथों में सुन्दर धनुष और बाण हैं ।"

आस्था और विश्वास ही जीवन का आधार है।  अगर हम कबीर साहब के निर्गुण राम को सत्य मानते है तो बाबा तुलसी के सगुण राम को भी कदापि झुठला नहीं सकते। अगर कबीर का राम पर अखंड विश्वास था की वो उन्हें काशी ही क्यों मगहर की भूमि पर भी स्वर्ग प्रदान करेंगे तो वहीं तुलसी की राम पर इतनी गहरी आस्था थी की वे राम भक्ति में ही अपना जीवन व्यतीत कर देना चाहते थे और उनके लिए काशी का भूमि इतनी पवित्र और वंदनीय थी की वे लघुसणखा को भी अपनी छोटी सी नाव पर सवार हो गंगा पार को जाया करते थे। इतिहास में आस्था और विश्वास का शायद ही ऐसा कोई और उदाहरण मिले ।  कैसा आश्चर्य है यह, दोनों विपरीतार्थक रहते हुए भी दोनों ही सत्य है।  अगर राम तुलसी के लिए सगुण है तो कबीर के लिए निर्गुण भी।  शायद इन दोनों विपरीतार्थक पहलुओं के बीच की दूरी ही राम है जो इस बात की पुष्टि करता है की हम आस्था को भक्ति से और भक्ति को आस्था से अलग कर कदापि नहीं देख सकते ।

:- आदित्य ठाकुर

आदित्य कुमार ठाकुर वर्तमान में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रूड़की के सिविल इंजीनियरिंग विभाग में पीएचडी कर रहे हैं। उनका शोध क्षेत्र सिविल और माइनिंग इंजीनियरिंग से संबंधित है। उन्हें गणित में शोध कार्य के लिए GUJCOST विशेष मान्यता पुरस्कार और IRIS रजत पदक से भी सम्मानित किया गया है। नए प्रकार के जल मीटर का आविष्कार करने के लिए उन्होंने S.I.H ग्रैंड पुरस्कार जीता। मुजफ्फरपुर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी मुजफ्फरपुर से बी.टेक और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (इंडियन स्कूल ऑफ माइन्स) धनबाद से एम.टेक की अपनी मजबूत शैक्षणिक पृष्ठभूमि के साथ, उन्हें हिंदी साहित्य और अन्य सामाजिक विज्ञान विषयों में गहरी रुचि है। उनकी नवीनतम पुस्तक "गेटवे ऑफ सोशियोलॉजिकल थॉट" है। उन्होंने अपनी पहली किताब 'अस्मिता' लिखी है, जो उनकी कविताओं का संकलन है। उन्होंने कई प्रसिद्ध संस्थानों और कवि सम्मेलनों में अपनी कविता का पाठ किया है। उनका लेखन अक्सर मानव व्यवहार, भावनाओं और प्रकृति के साथ व्यक्तियों के संबंध की जटिलताओं पर प्रकाश डालता है।

article-image

आदित्य कुमार ठाकुर की अन्य किताबें

मीनू द्विवेदी वैदेही

मीनू द्विवेदी वैदेही

बहुत ही सुन्दर तरीके से लिखा है आपने सर 👌👌 आप मेरी कहानी प्रतिउतर और प्यार का प्रतिशोध पर अपनी समीक्षा जरूर दें 🙏🙏

10 जनवरी 2024

1

सबके अपने अपने राम

23 अगस्त 2023
1
1
1

आदिकवि भगवान् वाल्मीकि जी ने अपने महाकाव्य रामायण में जिस राम का वर्णन किया है, वह सिर्फ एक महापुरुष है। उन्होंने राम के जीवन के माध्यम से समाज को मर्यादा,आदर्श और सदगुणों के पराकाष्ठा का दर्शन करवा

2

बनारस

7 जनवरी 2024
0
0
0

~~बनारस~~ घाट जग चुकी है। एक जादू सा प्रतीत होता है, अंधकार को चीरता हुआ सूरज, एक नवीन ऊर्जा और जीवन को लेकर  उदयाचल की ओर से आगमन करता है। गंगा की लहरें किनारों से टकराकर, पुनः पुनः परावर्तित

3

बनारस

7 जनवरी 2024
1
0
0

उजाले से युक्त दिन धीरे धीरे सुरम्य संध्या का रूप ले रही है, हर एक पग, हर एक कदम, बढ़ रहा है आहिस्ता आहिस्ता किसी अलक्षित शक्ति के आवेश में, खींचा चला आ रहा है, दशास्व्मेध की ओर...... हर ए

4

पंक्तियाँ अनुराग की

7 जनवरी 2024
0
0
0

उठा चंद्रहास कर संहार राम का तूँ,  देख रावण, तूँ जीत गया। अनुराग की लिखी है यह पंक्तियाँ, आज के परिपेक्ष्य में बिल्कुल सत्य। कितने प्रकार के भावों का समावेश है इन पंक्तियों में। दुःख है आज के परिवेश

5

शिक्षक

7 जनवरी 2024
0
0
0

गुरु का स्थान तो कबीरदास जी के इन दोहों से ही स्पष्ट हो जाती है:- गुरु गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पाय? बलिहारी गुरु आपकी, गोविन्द दियो बताय। वैसे तो इस अखिल ब्रम्हांड के सबसे बड़े गुरु शिव हैं। हर

6

गुरु का स्थान

7 जनवरी 2024
1
0
0

प्रातः स्मरणेय शिक्षक वृंद के चरणों में कोटिशः नमन। गुरु का स्थान तो कबीरदास जी के इन दोहों से ही स्पष्ट हो जाती है:- गुरु गोविन्द दोऊ खड़े, काके लागूं पाय? बलिहारी गुरु आपकी, गोविन्द दियो बताय। वै

7

अस्मिता तुम कल आना।

7 जनवरी 2024
1
1
1

जीवन के बागों की कलियाँ, तेरे आने से मुरझा जाएगी, और वृंतो पर खिल रहे कुसुम, तेरे छूने से झड़ जाएगी। सजा रहे यह बाग मनोहर, गूँजे नित भौरों का गाना, मेरा मन भी पवन संग झूमे, नहीं चाहता मैं ऋतुर

8

जीवन के बागों की कलियाँ (अस्मिता तुम कल आना)

7 जनवरी 2024
2
0
0

जीवन के बागों की कलियाँ, तेरे आने से मुरझा जाएगी, और वृंतो पर खिल रहे कुसुम, तेरे छूने से झड़ जाएगी। सजा रहे यह बाग मनोहर, गूँजे नित भौरों का गाना, मेरा मन भी पवन संग झूमे, नहीं चाहता मैं ऋतुराज क

9

मस्तिष्क में उपजते आभा सम (अस्मिता तुम कल आना)

7 जनवरी 2024
1
0
0

मस्तिष्क में उपजते आभा सम, वीचारों को छिन्न करती हो, प्रेम से बंधे सुंदर बन्धन को, तुम आकर भिन्न करती हो। तू कुशाग्र बुद्धि की अवरोधक, हर दुःख का तुम सुंदर सपना, तेरे ही आ जाने से जग में, खोती चि

10

प्रतिबिंब भाग -१

8 जनवरी 2024
1
1
1

वो चला गया... मेरे कमरे में आया था कुछ पल सोफे पर बैठे बैठे ही आराम किया... फिर भरी आँखें और भारी आवाज से कहने लगा अपनी दर्द भरी दास्तान... मैं निस्तब्ध रही... फिर उसने एक सिगरेट सुलगाई, और उ

11

प्रतिबिंब भाग -२

8 जनवरी 2024
1
0
0

जाते समय आज़ाद करने की बात कह गया था पर एक अलक्षित डोर थी एहसासों की, इतनी आसानी से कैसे टूटती... बँधी थी मैं एक परोक्ष बंधन से जो उससे... उसके पीछे पीछे मैं भी उसके घर पहुँची, वहाँ पड़ी हुई थी व

12

मंदोदरी -1

13 फरवरी 2024
0
0
0

दसकंध मुकुट से मरीचि बिखेरती, वो मार्तण्ड सम मंदोदरी लंका को सदैव ही आँचल में रखती, वो मातृ स्वरुप मंदोदरी अप्रतिम सुन्दर दसकंधर प्राणप्रिया, वो दुःख हरण मंदोदरी समस्त अप्सराओं का सौंदर्य समे

13

मंदोदरी

13 फरवरी 2024
1
1
1

दसकंध मुकुट से मरीचि बिखेरती, वो मार्तण्ड सम मंदोदरी लंका को सदैव ही आँचल में रखती, वो मातृ स्वरुप मंदोदरी अप्रतिम सुन्दर दसकंधर प्राणप्रिया, वो दुःख हरण मंदोदरी समस्त अप्सराओं का सौंदर्य स

14

साध्य में साधन की अहम भूमिका

18 फरवरी 2024
0
0
0

जीवन के रास्ते से गुजरते हुए मैं कईयों को देख द्रवीभूत हो जाता हूँ जिसके सपने सजते-सजते नील गगन के तारों की तरह बिखर गए जिसे संजोया जाना या पुनः एकत्रित करना असंभव सा महसूस होने लगा। जिसने जीवन के तमा

15

भारत के लिए अब बढ़ना होगा।

18 फरवरी 2024
0
0
0

भारत के लिए अब बढ़ना होगा। अपने मुंड का मोल तुम आज लगा लो, सोये शक्तियों को तुम आज जगा लो। क्योंकि मातृत्व का कर्तव्य निभाने, अब सीमाओं पर चलना होगा। भारत के लिए अब बढ़ना होगा। अपने घरों से मोह तु

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए