shabd-logo

आवारा मन की आवाज़....!

15 अक्टूबर 2019

3920 बार देखा गया 3920
featured image

आवारा मन की आवाज़....!

_______________________________


मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ है

कालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ है

दिशाहीन कोरे पन्नों सा, आसमान का बिखरा तारा

तपोभ्रष्ट का हूँ मैं मनीषी, घूमूँ बनके बंजारा


डूबा खारे सागर में, तट की रेतों से डरा-डरा

जुड़-जुड़ के भी टूट रहा, लहरों से मैं घिरा-घिरा

सीप हूँ फिर भी, मैं मुक्ता को तरस रहा

मोतियों की माला को, आँसुओं से पिरो रहा


सड़के सूनी भटक रहा हूँ, श्वानों की आवाज़ सा गर्दिश में अम्बर पर चमकूँ, बादशाह के ताज सा

ज्वालाओं से कुंदन निखरे, कोयलों में हीरक बिखरे

चंद्र समान गगन में विचरूँ, लेके रवि का ताप सा


मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ है

कालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ है


रक्तिम टेसू की डाली सा, उलझा-उलझा मेरा मन

आँखों में है आग फिर भी, पलकों में पलते सपन

हम तो आतप ही हृदय हैं, दावानल में जलते हैं

आशाओं के दीप जला, जग को रोशन करते हैं


बार-बार ठोकर मारी, हमको बस हालात ने

साथ छोड़ जा बैठा जैसे, गायक के आलाप ने

छिन्न-भिन्न हो उठे साज़ सब, रागों की बारात में

बाँसुरी की तान रूठी, घात किया आवाज़ ने


आवारापन बनके गीत, कलियों में जा बसते हैं

सूनेपन के तम को भगा, नई चाँदनी रचते हैं

गीतों को सुन सावन झूमे, बूँदों के मोती को चूमे

बहा रही मदिरा मादकता, फूलों के शबाब में


मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ है

कालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ है


–कुँवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह


*यह मेरी स्वरचित रचना है |


कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह की अन्य किताबें

1

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

25 सितम्बर 2019
0
2
1

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!_______________________________लहरों को बाँधे आँचल में तुमसागर उमड़ने को है अकुलाया प्यासा भटकेगा युग-युग सावन बूँदों को तूने ना लौटायालहरों को बाँधे आँचल में तुमसागर उमड़ने को है अकुलाया गजरे को बाँधे बालों में तुमगुलशन सँवरने को है बौरायायूँ हीं तड़पेंगे काँटे बेचार

2

थम जाये पहिया समय का....!

25 सितम्बर 2019
0
1
0

थम जाये पहिया समय का....!_______________________________बोल दो प्रिये कुछ मधुर साकि थम जाये पहिया समय कासाँसों में सरगम भर जाती हो हरपलधड़कन में वीणा बजाती हो हर क्षणपलकों तले आके गुनगुनाती हो हरदमवो स्वप्न-गीत गा दो मधुर साकि थम जाये पहिया समय काबोल दो प्रिये कुछ मधु

3

आवारा मन की आवाज़....!

15 अक्टूबर 2019
0
0
0

आवारा मन की आवाज़....!_______________________________मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ हैकालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ हैदिशाहीन कोरे पन्नों सा, आसमान का बिखरा तारातपोभ्रष्ट का हूँ मैं मनीषी, घूमूँ बनके बंजाराडूबा खारे सागर में, तट की रेतों से डरा-डराजुड़-जुड़ के भी टूट रहा, लहरों से मैं घिर

4

आंँगन में एक पेड़ चांँदनी....!

16 नवम्बर 2021
0
0
0

<p><br></p> <figure><img src="https://shabd.s3.us-east-2.amazonaws.com/articles/611d425242f7ed561c89

5

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

6

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

7

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

8

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

9

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

10

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

11

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

12

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

13

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

14

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

15

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

16

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

17

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

18

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

19

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

20

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

21

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

22

तेरे प्यार के राहों के पथ में

11 सितम्बर 2023
0
1
0

तेरे प्यार के राहों के पथ में, मैं स्वर के दीप जलाएं हैं महकी–महकी निश रजनी में, मैं पूनम चांद उगाएं हैं मैं टूटा तारा भोर प्रहर, खिलती मुस्कानें मेरे अधर अपनी मुस्कानों को देकर, उपवन में सुमन खिला

23

यादों के बादल

17 सितम्बर 2023
0
0
0

तेरी यादों ने आज बादल बनकर, मुझको फिर घेरा सर्द बूंदों सी आहों में जल रहा, दिल ये फिर मेरा भरा था तुमने जो रंग मेरे, इन कोरे से पन्नों में भरी थी कुछ सुवास मेरे, इन फीके से गन्नों में वो लाल रंग क

24

चलो प्रिये तुमको मैं, संगीत के क्षण तक ले चलूं ....!

19 सितम्बर 2023
0
0
0

चलो प्रिये तुमको मैं, संगीत के क्षण तक ले चलूं रूप में भीगे तेरे मन को, मैं गीत के मन तक ले चलूं जीवन रूप बदल दूं तेरा, बदलूं मैं अंबर ये चितेरा धरा मैं बदलूं, सागर बदलूं, बदलूं मैं सूरज का सवेरा  

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए