shabd-logo

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

25 सितम्बर 2019

3853 बार देखा गया 3853
featured image

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

_______________________________


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया

प्यासा भटकेगा युग-युग सावन

बूँदों को तूने ना लौटाया


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया


गजरे को बाँधे बालों में तुम

गुलशन सँवरने को है बौराया

यूँ हीं तड़पेंगे काँटे बेचारे

फूलों को तूने ना लौटाया


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया


किरणों को बाँधे नैनों में तुम

सूरज बिखरने को है कसमसाया

कैसे चमकेंगे अम्बर में तारे

चंदा को तूने ना लौटाया


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया



—कुँवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह


*यह मेरी स्वरचित रचना है |


कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह की अन्य किताबें

अभिलाषा चौहान

अभिलाषा चौहान

बेहतरीन रचना

27 सितम्बर 2019

1

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

25 सितम्बर 2019
0
2
1

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!_______________________________लहरों को बाँधे आँचल में तुमसागर उमड़ने को है अकुलाया प्यासा भटकेगा युग-युग सावन बूँदों को तूने ना लौटायालहरों को बाँधे आँचल में तुमसागर उमड़ने को है अकुलाया गजरे को बाँधे बालों में तुमगुलशन सँवरने को है बौरायायूँ हीं तड़पेंगे काँटे बेचार

2

थम जाये पहिया समय का....!

25 सितम्बर 2019
0
1
0

थम जाये पहिया समय का....!_______________________________बोल दो प्रिये कुछ मधुर साकि थम जाये पहिया समय कासाँसों में सरगम भर जाती हो हरपलधड़कन में वीणा बजाती हो हर क्षणपलकों तले आके गुनगुनाती हो हरदमवो स्वप्न-गीत गा दो मधुर साकि थम जाये पहिया समय काबोल दो प्रिये कुछ मधु

3

आवारा मन की आवाज़....!

15 अक्टूबर 2019
0
0
0

आवारा मन की आवाज़....!_______________________________मैं आवारा हूँ, ये आवारा मन की आवाज़ हैकालकोठरी से भागा, जैसे ये सोया साज़ हैदिशाहीन कोरे पन्नों सा, आसमान का बिखरा तारातपोभ्रष्ट का हूँ मैं मनीषी, घूमूँ बनके बंजाराडूबा खारे सागर में, तट की रेतों से डरा-डराजुड़-जुड़ के भी टूट रहा, लहरों से मैं घिर

4

आंँगन में एक पेड़ चांँदनी....!

16 नवम्बर 2021
0
0
0

<p><br></p> <figure><img src="https://shabd.s3.us-east-2.amazonaws.com/articles/611d425242f7ed561c89

5

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

6

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

7

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

8

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

9

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

10

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

11

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

12

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

13

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

14

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

15

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

16

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

17

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

18

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

19

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

20

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

21

तेरी यादों का अक्स

3 जुलाई 2022
0
0
0

22

तेरे प्यार के राहों के पथ में

11 सितम्बर 2023
0
1
0

तेरे प्यार के राहों के पथ में, मैं स्वर के दीप जलाएं हैं महकी–महकी निश रजनी में, मैं पूनम चांद उगाएं हैं मैं टूटा तारा भोर प्रहर, खिलती मुस्कानें मेरे अधर अपनी मुस्कानों को देकर, उपवन में सुमन खिला

23

यादों के बादल

17 सितम्बर 2023
0
0
0

तेरी यादों ने आज बादल बनकर, मुझको फिर घेरा सर्द बूंदों सी आहों में जल रहा, दिल ये फिर मेरा भरा था तुमने जो रंग मेरे, इन कोरे से पन्नों में भरी थी कुछ सुवास मेरे, इन फीके से गन्नों में वो लाल रंग क

24

चलो प्रिये तुमको मैं, संगीत के क्षण तक ले चलूं ....!

19 सितम्बर 2023
0
0
0

चलो प्रिये तुमको मैं, संगीत के क्षण तक ले चलूं रूप में भीगे तेरे मन को, मैं गीत के मन तक ले चलूं जीवन रूप बदल दूं तेरा, बदलूं मैं अंबर ये चितेरा धरा मैं बदलूं, सागर बदलूं, बदलूं मैं सूरज का सवेरा  

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए