shabd-logo

भाग 7 : भूतों से निपटने का प्लान

7 जुलाई 2022

20 बार देखा गया 20
empty-viewयह लेख अभी आपके लिए उपलब्ध नहीं है कृपया इस पुस्तक को खरीदिये ताकि आप यह लेख को पढ़ सकें
6
रचनाएँ
भुतहा मकान
0.0
एक मकान जो भूत प्रेतों के कारण बदनाम हो गया था । एक दिलेर आदमी जब उसमें रहने लगा तो किस किस तरह की परेशानियों से वह गुजरता है । इसका विस्तृत विवरण इस रहस्य रोमांच से भरपूर किताब में मिलेगा यह किताब आप सबको अवश्य ही पसंद आयेगी, ऐसा मेरा मानना है । किताब पढकर समीक्षा अवश्य करें धन्यवाद ।
1

भाग 2 : बिना सिर वाला भूत

23 जून 2022
1
0
0

राजन बड़ा आश्चर्य चकित था उस भूत के पदचाप की रिकॉर्डिंग को सुनकर । उसके मुंह से बोल नहीं निकले । कहीं उसका इस मकान को किराये पर लेने का निर्णय उसके लिए घातक तो सिद्ध नहीं हो जाएगा ? अब तक उसने सुनी सु

2

भाग 3 : साक्षात दर्शन

30 जून 2022
0
0
0

एक विशेष प्रकार की आवाज सुनकर राजन की नींद खुल गई । आवाज ऐसी आ रही थी जैसे कोई सांप रेंग रहा है । उसने धीरे से अपनी आंखें खोली मगर उसे कुछ दिखाई नहीं दिया । उसे लगा कि उसने डर के मारे आंखें खोली ही नह

3

भाग 4 : आस्था और पाखंड

1 जुलाई 2022
1
0
0

रोज की तरह सूर्यदेव सुबह सुबह घूमने निकले । सूर्यदेव जहां जाते हैं अपने साथ प्रकाश , ऊर्जा , आशा, विश्वास, सकाराकता और जीवन लेकर जाते हैं । इस कार्य में पवन देव उनकी मदद करते हैं । सुबह सुबह पवन

4

भाग 5 : भूतों का हमला

5 जुलाई 2022
0
0
0

राजन ने दृढ निश्चय कर लिया था कि चाहे जो कुछ हो जाये, वह उस मकान में ही रहेगा । मनुष्य जब सिर पर कफन बांध लेता है तो मौत भी सौ बार सोचती है कि वह इस आदमी का वरण करे अथवा नहीं ? दृढ संकल्प वाले व्यक्ति

5

भाग 6 : ताबीज

6 जुलाई 2022
0
0
0

राजन अपने घर आ तो गया मगर उसका सारा ध्यान ताबीज में ही था । क्या ताबीज में कुछ कलाकारी है ? ऐसा क्या है उस ताबीज में जिससे भूत भी डरते हैं ? ये कैसे पता चलेगा कि क्या क्या होता है उस ताबीजमें ? इसे जा

6

भाग 7 : भूतों से निपटने का प्लान

7 जुलाई 2022
0
0
0

सुबह हो चुकी थी । राजन की आंख खुली तो वह अपने बिस्तर पर पड़ा हुआ था । उसे बीती रात की एक एक करके सारी घटनाएं याद आ गई । कल रात एक साथ दो दो भूतों के दर्शन हुए थे उसे । दोनों एक जैसे लग रहे थे ।

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए