shabd-logo
Shabd Book - Shabd.in

सम्पूर्ण पंचतंत्र भाग 2

पंडित विष्णु शर्मा (पंचतंत्र की कहानियाँ)

5 अध्याय
2 लोगों ने लाइब्रेरी में जोड़ा
8 पाठक
7 अप्रैल 2022 को पूर्ण की गई
निःशुल्क

पंचतंत्र नीति, कथा और कहानियों का संग्रह है जिसके मशहूर भारतीय रचयिता आचार्य विष्णु शर्मा है। पंचतंत्र की कहानी में बच्चों के साथ-साथ बड़े भी रुचि लेते हैं। पंचतंत्र की कहानी के पीछे कोई ना कोई शिक्षा या मूल छिपा होता है जो हमें सीख देती है। पंचतंत्र की कहानी बच्चे बड़ी चाव से पढ़ते हैं तथा सीख लेते हैं। बच्चों के कोमल मन में बातों को गहराई तक पहुंचाने का तरीका कहानियों से बेहतर और क्या हो सकता है। खासकर, पंचतंत्र की कहानियां, जिसमें बेहतर सीख, संस्कार व जीवन में अच्छी चीजों की ओर बढ़ने की प्रेरणा मौजूद होती है। पांच भागों में बंटी पंचतंत्र की कहानियां ही हैं, जो दोस्ती की अहमियत, व्यवहारिकता व नेतृत्व जैसी अहम बातों को सरल और आसान शब्दों में बच्चों तक पहुंचा कर उन पर गहरी छाप छोड़ जाती हैं। शायद यही वजह है कि अक्सर बचपन में सुनी कहानियां और उनकी सीख जीवन के अहम पड़ाव में मार्ग दर्शक के रूप में भी काम कर जाती हैं। हम कौआ-उल्लू के बीच का बैर, दोस्ती-दुश्मनी, दोस्तों के होने का लाभ, कर्म न करने से होने वाली हानि, हड़बड़ी में कदम उठाने से होने वाले नुकसान जैसी कई पंचतंत्र की कहानियां आप तक इस प्लेटफॉर्म के जरिए लेकर आ रहे हैं।  

sampurn panchtantra bhag 2

0.0(1)


पंचतंत्र को मैंने अपने बाल्यकाल में पढ़ा था और इसका तिलिस्म इतना अधिक था कि अपनी भूख प्यास भूलकर जब तक पूरी पुस्तक समाप्त नहीं होगी तब तक इस पुस्तक को नहीं छोड़ा। एक कहानी के अन्दर दूसरी कहानी ऐसा कौतूहल पैदा करती हैं कि पाठक बंधा ही रह जाता है। जीवन की सीख देती इन कथाओं को बच्चों को तो अनिवार्य रूप से पढ़ना चाहिए।

पुस्तक के भाग

1

साधु और चूहा

18 जनवरी 2022
5
0
0

महिलरोपयम नामक एक दक्षिणी शहर के पास भगवान शिव का एक मंदिर था। वहां एक पवित्र ऋषि रहते थे और मंदिर की देखभाल करते थे। वे भिक्षा के लिए शहर में हर रोज जाते थे, और भोजन के लिए शाम को वापस आते थे। वे अपन

2

गजराज और मूषकराज

18 जनवरी 2022
2
0
0

प्राचीन काल में एक नदी के किनारे बसा नगर व्यापार का केन्द्र था। फिर आए उस नगर के बुरे दिन, जब एक वर्ष भारी वर्षा हुई। नदी ने अपना रास्ता बदल दिया। लोगों के लिए पीने का पानी न रहा और देखते ही देखते नग

3

ब्राह्मणी और तिल के बीज

18 जनवरी 2022
1
0
0

एक बार की बात है एक निर्धन ब्राह्मण परिवार रहता था, एक समय उनके यहाँ कुछ अतिथि आये, घर में खाने पीने का सारा सामान ख़त्म हो चुका था, इसी बात को लेकर ब्राह्मण और ब्राह्मण-पत्‍नी में यह बातचीत हो रही थी:

4

व्यापारी के पुत्र की कहानी

18 जनवरी 2022
0
0
0

किसी नगर में सागर दत्त नाम का एक व्यापारी रहता था। उसके लड़के ने एक बार सौ रुपए में बिकने वाली एक पुस्तक खरीदी। उस पुस्तक में केवल एक श्लोक लिखा था – जो वस्तु जिसको मिलने वाली होती है, वह उसे अवश्य मि

5

अभागा बुनकर

18 जनवरी 2022
0
0
0

एक नगर में सोमिलक नाम का जुलाहा रहता था । विविध प्रकार के रंगीन और सुन्दर वस्त्र बनाने के बाद भी उसे भोजन-वस्त्र मात्र से अधिक धन कभी प्राप्त नहीं होता था । अन्य जुलाहे मोटा-सादा कपड़ा बुनते हुए धनी हो

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए