shabd-logo

मै हिंदी बोलता हूँ ।

18 सितम्बर 2015

141 बार देखा गया 141
featured imageमै असभ्य हूँ, क्योंकि हिंदी बोलता हूँ । और अनपढ़ भी, क्योंकि हिंदी बोलता हूँ । वाहय् संस्कृति से भ्रमित, पथभ्रष्ट और कुचरित्र, लोगों के कुण्ठित मन को, झकझोरता हूँ । मैं असभ्य हूँ........ देववाणी से है उद्धृत, भारत को करती अलंकृत , हिन्दीरूपी मधुरस को, जनहृदय में घोलता हूँ । मै असभ्य हूँ.............. बोलियां हैं इसकी ऐसे, वृक्ष की शाखाएं जैसे, मनका मनका साथ रखकर , एक माला जोड़ता हूँ । मै असभ्य हूँ..............

सतीश कुमार दुबे की अन्य किताबें

9 नवम्बर 2015

सतीश  कुमार दुबे

सतीश कुमार दुबे

धन्यवाद आप सभी को मेरी रचना पसंद करने के लिए...

19 सितम्बर 2015

वर्तिका

वर्तिका

उत्कृष्ट रचना साझा करने के लिए धन्यवाद!

19 सितम्बर 2015

शब्दनगरी संगठन

शब्दनगरी संगठन

आज के समय के कटु सत्य को दर्शाती एक उत्क्रष्ट रचना … मै असभ्य हूँ .... अति सुंदर - प्रियंका शर्मा

18 सितम्बर 2015

3
रचनाएँ
mankibaten
0.0
कभी कभी कुछ पंक्तियाँ याद आ जाएँ तो......

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए