shabd-logo

मेरा बसंत

12 फरवरी 2024

7 बार देखा गया 7
पुष्प पीत रंग सरसों की डालियां, कलियां खिल उठी चमन।
सुहावनी ऋतु आई बसंत , जन-जन का खिल उठा है मन।
आम्र, बेरों से लदी डालियां, खाने को उत्सुक हो उठा हर मन। 
मधुर-मधुर फल खाकर खग, पुलकित हो उठा है हर जन।।

हरियाली हर तरफ फैली है, लताएं झूम-झूम गा रही है। 
मधुर-मधुर गुंजन कर उपवन में, मन को अति लुभा रही है। 
पतझड़ की विदाई बसंत ऋतु आई , राग और उत्सव की उमंगें लाई। 
प्रकृति के रूप और सौंदर्य कर रही, बसंत पर्व की जन-जन को बधाई।

हर घर,स्कूल,प्रतिष्ठान में, उत्सव मनाये जा रहे हैं। 
कोई सरस्वती की करता पूजा , कोई वार्षिकोत्सव मंच सजा रहा है ‌
बदल रहा है खेत-खलिहानों का नजारा, किसान के चेहरे पर खुशी जाहिर है। 
कुसुमित होते सरसों के खेत, निकलती गेहूं की बालियां, खुशनुमा सफर है।


मीनू द्विवेदी वैदेही

मीनू द्विवेदी वैदेही

बहुत सुंदर लिखा है आपने सर 👌 आप मेरी कहानी प्रतिउतर और प्यार का प्रतिशोध पर अपनी समीक्षा जरूर दें 🙏🙏

13 फरवरी 2024

21
रचनाएँ
निरंतर प्रवाह
0.0
दैनिक जीवन के लिए तैयार की गई लफ्जों के अल्फाजों से सजाई गई यह पुस्तक आपके जीवन के लिए कुछ महत्वपूर्ण संदेश प्रसारित करेगी। जो निस्संदेह आपके जीवन में कुछ ना कुछ नया करने का जोश और उत्साह पैदा करेगी। सुबह की हर नई किरण से लेकर सूर्यास्त की अंतिम किरण से लफ्जों को उठाते हुए तुम्हें जिंदगी के नये अहसासों से रूबरू कराएगी। इस पुस्तक का हर लफ्ज़ एक-एक मोती से बनने वाली माला की तरह तुम्हारे जिंदगी में नये परिवर्तन लाने की जिद्द के लिए आपके सामने प्रस्तुत होने वाली है।
1

आई पी एल से जुड़े विवाद

1 अप्रैल 2023
5
1
0

सपने बिखर जाते हैं , हमें जब झंडे झुकाने वाले मिल जाते हैं।देश की तकदीर को बेचने के लिए, ग्राहक मिल जाते हैं।मन में जोश, जुनून और जज्बात होते थे।जब हमारे देश की विजय के चर्चे होते थे।आई पी एल आया है ज

2

दोस्ती

7 अक्टूबर 2023
0
0
0

भंवरे और कली के संबध जैसी होती है दोस्ती।सुख और दुख में सहारा बन निखरती है दोस्ती।।मैने दोस्ती की स्वाद चखा, बड़ा मीठा होता है। मैने दोस्ती का अनुभव किया , यहां सुखों का सागर होता है।।सच्चाई और व

3

इजरायल और हमास युद्ध

8 अक्टूबर 2023
0
0
0

आखिरकार यह धर्म की लड़ाई कब तक रूक पायेगी।। धर्म और राजनीति के नाम पर दुनिया में आम लोगों को कब तक बकरा बनाया जायेगा ।। कभी रुस और यूक्रेन का युद्ध, कभी उत्तरी कोरिया और साउथ कोरिया का युद्ध।।युद

4

उत्तराखंड सुरंग हादसा

29 नवम्बर 2023
0
0
0

दुआ करें हम ईश्वर से , सुरंग में फंसे लोगों की । रहे सुरक्षित अंदर सुरंग में, हमदर्दी है मेरे दिल की।पहले जान बचाओ उनकी , जो मौत से लड़ रहे सुरंग में।सांत्वना दो उन परिवारों को , जो अनचाहे फंस गए

5

cop शिखर सम्मलेन

2 दिसम्बर 2023
0
0
0

COP 28 30 नवम्बर २०२३ से सयुंक्त अरब अमीरात की अध्यक्षता में शुरू हुआ है. जिसका मुख्य उद्देश्य विश्व जलवायु में होने वाले परिवर्तनों से है.  आज पूरा विश्व जलवायु परिवर्तन से बुरी तरह चिंतित है  तेरह द

6

विधानसभा चुनाव 2023

4 दिसम्बर 2023
0
0
0

पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव में जनता ने अपने विधानसभा क्षेत्र में अपने अपने अपने प्रतिनिधियों को बड़ी सत्यता और सतर्कता के साथ चुना. कोई राज्य हो या केंद्र सरकार उसके प्रतिनिधियों की शक्ति जनता

7

सशस्त्र सेना दिवस

6 दिसम्बर 2023
0
0
0

मुझे याद है उन शहीदों की शहादत जिन्होंने मेरे देश के लिए कुर्बानियां दी . कभी न सोचा की मेरा क्या होगा जन से बढ़कर देश की सेवा की. ममता सिसक सिसक कर उस आँगन में आज भी रोती है जहाँ उस सैनिक की स्मृति

8

धारा 370

11 दिसम्बर 2023
0
1
0

2019 में जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाला अनुच्छेद-370 खत्म कर दिया गया था। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के कारण चार साल बाद यह अनुच्छेद फिर चर्चा फिर में आ गया है। इससे पहले कोर्ट में अनुच्छे

9

संघर्ष

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

"संघर्ष ना आए जिस राह में,वह मंजिल मेरा परिणाम नहीं। संघर्षों भरी राह तय करना , जिंदगी की मंजिल के लिए आसान नहीं। जो आसानी से पथ तय हो जाये, वह तेरी जिंदगी को एक दिन मुसीबत बना देगा। जिस दिन आयेंगे रा

10

नववर्ष का आगमन

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

"संघर्ष ना आए जिस राह में,वह मंजिल मेरा परिणाम नहीं। संघर्षों भरी राह तय करना , जिंदगी की मंजिल के लिए आसान नहीं। जो आसानी से पथ तय हो जाये, वह तेरी जिंदगी को एक दिन मुसीबत बना देगा। जिस दिन आयेंगे रा

11

गतवर्ष की विदाई

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

नववर्ष आया , एक अच्छा अतीत देकर चला गया। खट्टी-मीठी यादों के साथ , ढेर सारी स्मृतियां दे गया।नव संकल्प थे आगमन पर इसके , नई सौगातें लेकर आया था। नवांकुर संकल्पों के मूल में, नव शाखाओं का संज

12

प्रेम के रंग

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

जिस रंग में रंग गई मैं प्रेम दिवानी।मेरा जीवन तेरा हो गया दिलवर जानी।तमन्नाओं में तुम , ख्यालों में तुम ।मेरे जीवन के तुम प्राण हो मेरी सांसों में सांस तुम।में प्रेम में इस कदर तुम्हारी हो गई हूं।मैं

13

समझौता

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

मैने जिंदगी में हमेशा समझौता किया है।मैने जिंदगी का सफर समझौते से तय किया है।।जब जन्म मिला तो मुझे जाति, धर्म मिला।मुझे मेरा घर परिवार और समाज मिला। जो भी मिला सब कुछ नसीब से मिला । मुझे मेर

14

वीर बाल दिवस

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

अन्याय, अत्याचार और पाप मिटाने , जिसने मुगलों को धूल चटाई।एक बार नहीं चौदह बार , जिसने धर्म की लडी लडाई। धर्म की रक्षा की खातिर , परिवार का बलिदान किया । कलगीधर, दशमेश,गुरू ने , असीमित जन त्

15

नववर्ष

29 दिसम्बर 2023
0
0
0

नववर्ष की शुभकामनाएं किसे दूं मैं।गतवर्ष को विदाई कैसे दूं मैं।साल में एक दिन नववर्ष आती है और चली जाती है। उनकी उम्मीदों की दुनिया जस की तस रह जाती है।तुम भूल जाते हैं उन्हें अपने लफ़्ज़ों में स

16

शहीद

30 जनवरी 2024
0
0
0

कोटि-कोटि नमन करूं उन शहीदों की शहादत को ।जिन्होंने हर मुश्किल का सामना करते हुए प्राण न्यौछावर किये।तपती हुई धरती और बरसती बर्फ में रुके नहीं कभी,देश की रक्षा करने में सारे सपने तज दिये।कितना ताकतवर

17

कच्ची झोपड़ियों की व्यथा

31 जनवरी 2024
0
0
0

आंखें रोती है हस्तियां सोती है, उनके मन की पीर नयन भिगोती है। देखकर पीड़ा कच्ची झोपड़ियों की, जहां तन से लिपेटे हुए मां बच्चे को भूखी सोती है। तन उनका कितना कठोर है , जो एक चीर में सहन कर लेता हांड

18

मेरा बसंत

12 फरवरी 2024
2
1
1

पुष्प पीत रंग सरसों की डालियां, कलियां खिल उठी चमन।सुहावनी ऋतु आई बसंत , जन-जन का खिल उठा है मन।आम्र, बेरों से लदी डालियां, खाने को उत्सुक हो उठा हर मन। मधुर-मधुर फल खाकर खग, पुलकित हो उठा है हर

19

डर

13 फरवरी 2024
0
0
0

घर है मेरे दिल में लेकिन निडर होने का बहाना करता हूं।मुझे प्रेम है मेरी जिंदगी से फिर भी बहादुर बनता हूं।।कभी रिश्ते बिगड़ने का डर कभी रिश्ते बनने का डर ।कोई छोड़ देता है डर से घर कोई छोड़ना ना चाहता

20

पुलवामा का हमला

14 फरवरी 2024
0
0
0

पता नहीं चल पाया आज भी , देश के छुपे गद्दारों का। कहां से आई आर डी एक्स,क्या राज था उन खुद्दारों का ।जो दीमक बन के चाट रहे , विश्वासघात करते हैं देश में। कुछ देश के दुश्मन छुपे हुए

21

बासंती पवनें

14 फरवरी 2024
0
0
0

सबके मन को मोहित करती , सब का मन गदगद करती । बासंती पवने चले शनै-शनैहरियाली का रंग भरती ।। फूलों की ख़ुशबू हर तरफ छाई,सरसों की पीली रंगत छाई ‌। कोहरा से मुक्ति हुई ठंड कम,पतझड़ मौस

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए