shabd-logo

भाव का भूखा

27 जनवरी 2024

3 बार देखा गया 3
भाव का भूखा 

एक अमीर आदमी बहुत ही संकट में था । उसे लाखों - करोड़ों का नुकसान जो हुआ था, और सारी जीवन की कमाई डूबने के करीब थी ! जीवन की नाव डगमगा रही थी । वह कभी मंदिर नहीं गया था, वह कभी पूजा पाठ भी नहीं किया था । उसे कभी फुरसत ही न मिली थी !
 पूजा पाठ करने के लिए उसने पुजारी रखे हुए थे, उसने अनेक मंदिर भी बनवाये थे, जहां वे उसके नाम से नियमित पूजा पाठ किया करते थे लेकिन इस दुःख की घड़ी में कांपते हाथों वह भी मंदिर गया!
    वह सुबह जल्दी गया, ताकि परमात्मा से पहली मुलाकात उसी की हो, पहली पूजा पाठ वही कर सके ताकि कोई दूसरा पहले मांग कर परमात्मा ( ईश्वर ) का मन खराब न कर दे ! सुबह - सुबह बोहनी की आदत जो होती है, कमबख्त यहां भी नहीं छूटी है । सो सुबह - सुबह पहुंचा मन्दिर ।
    परंतु वह यह देख कर बहुत हैरान हुआ कि गांव का एक भिखारी उससे पहले ही मन्दिर में मौजूद था। वहा घना अंधेरा था, वह भी पीछे जा कर खड़ा हो गया,और सोचने लगा कि भिखारी क्या मांग रहा है? वह अमीर आदमी सोचता है, कि मेरे पास तो मुसीबतें ही मुसीबतें हैं; और भिखारी के पास क्या मुसीबतें हो सकती हैं? और भिखारी सोचता है, कि मुसीबतें तो मेरे पास हैं और इस अमीर आदमी के पास क्या मुसीबतें होंगी ? एक भिखारी की मुसीबत दूसरे भिखारी के लिए बहुत बड़ी नही थी !
    उसने सुना, कि भिखारी कह रहा है - हे परमात्मा ! अगर आज उसे पांच रुपए न मिलें तो जीवन नष्ट हो जाएगा। और आत्महत्या कर लूंगा। और पत्नी बीमार है और दवा के लिए पांच रुपए होना बहुत ही मेरे लिए आवश्यक हैं ! मेरा जीवन संकट में कट रहा है !
 अमीर आदमी ने यह सुना और वह भिखारी बंद ही नहीं हो रहा है; कहे जा रहा है कहे जा रहा है और अरदास जारी है ! तो उसने झल्लाकर अपने जेब से पांच रुपए निकाल कर उस भिखारी को दिए और कहा - ये लो भाई पांच रुपए, और घर जाओ जल्दी से यहां से !
 अब वह ईश्वर के सम्मुख हुआ और बोला - हे प्रभु, अब आप ध्यान मेरी तरफ दें, इस भिखारी की तो यह हमेशा की आदत है। दरअसल मुझे तीन करोड़ रुपए की जरूरत पड़ी है ! मेरा बहुत बड़ा नुकसान जो हुआ है। 
   तभी भगवान मुस्करा उठे ओर बोले - एक छोटे भिखारी से तो तूने मुझे छुटकारा दिला दिया, लेकिन तुझसे छुटकारा पाने के लिए तो मुझको तुमसे भी बड़ा भिखारी ढूंढना पड़ेगा ! तुम सब लोग यहां कुछ न कुछ मांगने ही आते हो, कभी मेरी जरूरत का भी ख्याल आया है तुम्हें ?
धनी आश्चर्यचकित हुआ और बोला - हे प्रभु आपको क्या चाहिए ?
 भगवान बोले - प्रेम ! मैं भाव का भूखा हूँ । मुझे निस्वार्थ प्रेम व समर्पित भक्त प्रिय है ! कभी इस भाव से मुझ तक आओ; फिर तुम्हे कुछ मांगने की आवश्यकता ही नही पड़ेगी ।

1

हृदय से प्रेम

1 नवम्बर 2022
3
0
0

यदि पुरुष स्त्री को अपनी बाहों में लेना चाहता हैं,  तो उसका तात्पर्य केवल वासना मात्र ही नहीं हो सकता हैं...  कई दफा इसका अर्थ होता हैं,  वह स्त्री की आत्मा को स्पर्श करना चाहता हैं...  उस स्त

2

       "चिड़िया के बच्चे"

5 अप्रैल 2023
4
0
0

. जब महाभारत का युद्ध प्रारम्भ हो रहा था, इधर से पांड़वो की सेना तैयार थी उधर से कौरवों की स

3

सुर्ख गुलाब

7 मई 2023
3
0
0

हर फुल न्यारा होता हैगुलाब फूलों का राजा होता हैहर रंग में खिलते हैं गुलाब...पर सुर्ख गुलाब सबसे प्यारा होता है।फूलों से बगिया में बहारें हैंनैनाभिराम दिखते नज़ारे हैंफूल तो शोभते हैं सारे...पर सुर्ख

4

एक ऐसा समझौता (बड़ी उम्र की लड़कियां)

7 मई 2023
2
0
0

बडी उम्र की कुँवारी लड़कियाँ घर बैठी हैं अगर अभी भी माँ-बाप नहीं जागे तो स्थितियाँ और विस्फोटक हो सकती हैं। हमारा समाज आज बच्चों के विवाह को लेकर इतना सजग हो गया है कि आपस में रिश्ते ही नहीं ह

5

गाँव की शादियां

9 मई 2023
3
0
0

गाँव की शादियांपहले गाँव मे न टेंट हाऊस थे और न कैटरिंग।थी तो केवल सामाजिकता व व्यवहारिकता।गांव में जब कोई शादी होती तो घर के अडोस-पडोस से चारपाई आ जाती थी,हर घर से थरिया, लोटा, कलछुल, कढ़ाही इकट्ठा ह

6

जीवन में सच्ची खुशी

13 मई 2023
2
0
0

एक इंटरव्यू में नाइजीरियाई अरबपति फेमी ओटेडोला से इंटरव्यू लेने बाले ने पूछा, "सर आपको ऐसी कोई घटना याद है कि जिसने आपको जीवन में सबसे ज्यादा खुश आदमी बना दिया?" फेमी ने कहा: "मैं जीवन में ख

7

बालकनी में कौआ

16 जनवरी 2024
0
0
0

कौआएक समय की बात है, पढ़ाई के लिए बाहर दूसरे शहर में किराये का एक नया कमरा लिया है, उस के एक तरफ बालकनी लगी हुई थी। मुझे यहाँ पर सब कुछ बहुत पसंद है बस नहीं पसंद है, तो एक कौवे की आवाज ! जो अक्सर कमरे

8

तोता और कौआ

19 जनवरी 2024
0
0
0

तोता और कौआ की कहानीएक समय की बात है। एक छोटे से गाँव में दो भाई रहते थे। जहाँ एक भाई दयालु और शांत स्वभाव का था वहीं दूसरा भाई झगङालु और ईर्ष्यालु स्वभाव का था। एक भाई ने एक तोता (कीर) पाल रखा था तो

9

पिंजरे का पंछी

25 जनवरी 2024
0
0
0

पिंजरे का पंछी - सेठ जी और तोता की प्रेरणा दायक कहानीएक सेठ जी और सेठानी जी हमेशा भजन - कीर्तन में जाते थे । सेठ जी के घर एक पिंजरे में तोता पाल रखा हुआ था । तोता एक दिन पूछता हैं कि, सेठजी आप ह

10

भाव का भूखा

27 जनवरी 2024
0
0
0

भाव का भूखा एक अमीर आदमी बहुत ही संकट में था । उसे लाखों - करोड़ों का नुकसान जो हुआ था, और सारी जीवन की कमाई डूबने के करीब थी ! जीवन की नाव डगमगा रही थी । वह कभी मंदिर नहीं गया था, वह कभी पूजा पाठ

11

मोरनी (जैसे को तैसा)

3 फरवरी 2024
0
0
0

कहानी : - नटखट मोरनी एक घने से जंगल में बहुत नटखट मोरनी रहती थी । वह सभी को बहुत परेशान करती थी । वह किसी के पकड़ में नहीं आती थी ।एक दिन जंगल के कुछ जानवरों ने मिलकर एक योजना बनायी कि हमें जैसे

12

बगुला और सांप

17 फरवरी 2024
0
0
0

बगुला और सांप की कहानी - अनीश और अमितएक बार एक सुंदर व सुशील लड़का था, जिसका नाम अनीश था । वह बहुत ही नेक और ईमानदार और दयालु था । वह सदा पढ़ाई में आगे रहता था । वह सभी गुरुजनों, अपने माता - पिता और ब

13

13 गौरेया

20 मार्च 2024
0
0
0

घर आँगन में फुदकती चूं - चूं करती चिरैया,कोई बता दे कहाँ गई वो प्यारी गौरैया...-दिनेश कुमार कीर

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए