shabd-logo

विकास और तरक्की की अंधी दौड़ में ये क्या हो रहा है ?

27 अगस्त 2016

726 बार देखा गया 726

ये कहाँ आ गए हम ?

“फ़रिश्ता बनने की चाहत न करें तो बेहतर है , इन्सान हैं इन्सान ही बन जाये यही क्या कम है !”


article-image


तारीख़ : 25 अगस्त 2016 स्थान : ओड़िशा के कालाहांडी जिले का सरकारी अस्पताल अमंग देवी टी बी के इलाज के दौरान जीवन से अपनी जंग हार जाती हैं । चूँकि वे एक आदिवासी, नाम , ’ दाना माँझी ' की पत्नी हैं , एक गुमनाम मौत उन्हें गले लगाती है। लेकिन हमारी सभ्यता की खोखली तरक्की , राज्य सरकारों की कागज़ी योजनाओं ,पढ़े लिखे सफेदपोशों से भरे समाज की पोल खोलती इस देश में मानवता के पतन की कहानी कहती एक तस्वीर ने उस गुमनाम मौत को अखबारों और न्यूज़ चैनलों की सुर्खियाँ बना दिया । जो जज्बात एक इंसान की मौत नहीं जगा पाई वो जज्बात एक तस्वीर जगा गई। पूरे देश में हर अखबार में हर चैनल में सोशल मीडिया की हर दूसरी पोस्ट में अमंग देवी को अपनी मौत के बाद जगह मिली लेकिन उनके मृत शरीर को एम्बुलेंस में जगह नहीं मिल पाई । पैसे न होने के कारण तमाम मिन्नतों के बावजूद जब अस्पताल प्रबंधन ने शव वाहिका उपलब्ध कराने में असमर्थता जताई तो लाचार दाना माँझी ने अपनी पत्नी के मृत शरीर को कन्धे पर लाद कर अपनी 12 वर्ष की रोती हुई बेटी के साथ वहाँ से 60 कि. मी. दूर अपने गाँव मेलघारा तक पैदल ही चलना शुरू कर दिया और करीब 10 कि.मी. तक चलने के बाद कुछ स्थानीय लोगों के हस्तक्षेप से और खबर मीडिया में आ जाने के बाद उन्हें एक एम्बुलेंस नसीब हुई। पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर जिला कलेक्टर का कहना था कि माँझी ने वाहन का इंतजार ही नहीं किया। वहीं ' द टेलीग्राफ ' का कहना है कि एक नई एम्बुलेंस अस्पताल में ही खड़ी होने के बावजूद सिर्फ इसलिए नहीं दी गई क्योंकि किसी ' वी आई पी ' के द्वारा उसका उद्घाटन नहीं हुआ था।इससे बड़ी विडम्बना क्या होगी कि ऐसी ही स्थितियों के लिए नवीन पटनायक की सरकार द्वारा फरवरी माह में 'महापरायण ' योजना की शुरुआत की गई थी । इस योजना के तहत शव को सरकारी अस्पताल से मृतक के घर तक पहुंचाने के लिए मुफ्त में परिवहन सुविधा दी जाती है।बावजूद इसके एक गरीब पति ' पैसे के अभाव में ' अपनी पत्नी के शव को 60 कि . मी. तक पैदल ले जाने के लिए मजबूर है । अगर परिस्थिति का विश्लेषण किया जाए तो निष्कर्ष यह निकलेगा कि बात दाना माँझी के पास धन के अभाव की नहीं है बल्कि बात उस अस्पताल प्रबंधन के पास मानवीय संवेदनाओं एवं मूल्यों के अभाव की है । बात एक गरीब आदिवासी की नहीं है बात उस तथाकथित सभ्य समाज की है जिसमें एक बेजान एम्बुलेंस को किसी वी आई पी के इंतजार में खड़ा रखना अधिक महत्वपूर्ण लगता है बनिस्पत किसी जरूरतमंद के उपयोग में लाने के।बात उस संस्कृति के ह्रास की है जिस संस्कृति ने भक्त के प्रबल प्रेम के वश में प्रभु को नियम बदलते देखा है, लेकिन उस देश में सरकारी अफसर किसी मनुष्य के कष्ट में भी नियम नहीं बदल पाते । यह कैसा विकास है जिसके बोझ तले इंसानियत मर रही है ? जो सरकारें अपने आप को गरीबी हटाने और गरीबों के हक के लिए काम करने का दावा करती हैं उन्हीं के शासन में उनके अफसरों द्वारा अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है।

किसी की आँख का आंसू मेरी आँखों में आ छलके; article-image

किसी की साँस थमते देख मेरा दिल चले थम के;

किसी के जख्म की टीसों पे ;

मेरी रूह तड़प जाये;

किसी के पैर के छालों से मेरी आह निकल जाये;

प्रभु ऐसे ही भावो से मेरे इस दिल को तुम भर दो;

मैं कतरा हूँ मुझे इंसानियत का दरिया तुम कर दो.

किसी का खून बहता देख मेरा खून जम जाये;

किसी की चीख पर मेरे कदम उस ओर बढ़ जाये;

किसी को देख कर भूखा निवाला न निगल पाऊँ;

किसी मजबूर के हाथों की मैं लाठी ही बन जाऊं;

प्रभु ऐसे ही भावों से मेरे इस दिल को तुम भर दो;

मैं कतरा हूँ मुझे इंसानियत का दरिया तुम कर दो ( डॉ शिखा कौशिक)


बात हमारे देश के एक पिछड़े राज्य ओड़िशा के एक आदीवासी जिले की अथवा सरकार या उसके कर्मचारियों की नहीं है बात तो पूरे देश की है हमारे समाज की है हम सभी की है ।


article-image


16 अगस्त 2016 : भारत की राजधानी दिल्ली एक व्यस्त बाजार , दिन के समय एक युवक सड़क से पैदल जा रहा था और वह अपनी सही लेन में था। पीछे से आने वाले एक लोडिंग औटो की टक्कर से वह युवक गिर जाता है, औटा वाला रुकता है औटो से बाहर निकल कर अपने औटो को टूट फूट के लिए चेक करके बिना एक बार भी उसकी टक्कर से घायल व्यक्ति को देखे निकल जाता है । सी सी टीवी फुटेज अत्यंत निराशाजनक है क्योंकि कोई भी व्यक्ति एक पल रुक घायल की मदद करने के बजाय उसे देखकर सीधे आगे निकलते जाते हैं। कहाँ जा रहे हैं सब ? कहाँ जाना है ? किस दौड़ में हिस्सा ले रहे हैं ? क्या जीतना चाहते हैं सब ? क्यों एक पल ठहरते नहीं हैं ? क्यों


जरा रुक कर एक दूसरे की तरफ प्यार से देखने का समय नहीं है, क्यों एक दूसरे की परवाह नहीं कर पाते ,क्यों एक दूसरे के दुख दर्द के प्रति संवेदनशील नहीं हो पाते , क्यों दूर से देख कर दर्द महसूस नहीं कर पाते ? क्यों हम इतने कठोर हो गए हैं कि हमें केवल अपनी चोट ही तकलीफ देती है ? क्या हम सभी भावनाशून्य मशीनों में तो तब्दील नहीं हो रहे ? विकास और तरक्की की अंधी दौड़ में हम समय से आगे निकलने की चाह में मानव भी नहीं रह पाए । बुद्धि का इतना विकास हो गया कि भावनाएं पीछे रह गईं । भावनाएं ही तो मानव को पशु से भिन्न करती हैं । जिस विकास और तरक्की की दौड़ में मानवता पीछे छूट जाए , भावनाएँ मृतप्राय हो जांए ,मानव पशु समान भावना शून्य हो जाए उस विकास पर हम सभी को आत्ममंथन करने का समय आ गया है ।


डॉ नीलम महेंद्र

डॉ नीलम महेंद्र की अन्य किताबें

gsmalhadia

gsmalhadia

कुछ नही बाकी बाजार चल रहा है यह कारोबार ए दुनिया बेकार चल रहा है

30 अक्टूबर 2016

महेश सिंह

महेश सिंह

इस खबर के बारे में जब मैंने देखा सोशल मीडिया पे पढ़ा तो सच में मेरा भी दिल भर आया . आज गरीब की कोई नहीं सुनता . इससे ये पता चला की विकास के नाम बस बस लोगों का स्टैण्डर्ड बढ़ रहा है . इंसानियत नही

28 अगस्त 2016

1

कौन थमा रहा है हाथों में बंदूकें

12 जुलाई 2016
0
6
2

कौन थमा रहा है हाथों में बंदूकेंपठानकोट एयर बेस हमला, फ्रांस , तुर्की,पाकिस्तान ,इज़रायल ,ईराक ,सुमोलिया पैरिस ,और अब बांग्लादेश ----। दुनिया का शायद ही कोई ऐसा देश होगा जो आतंकवाद के जख़्मों से स्वयं को बचा पाया हो। अभी बांग्लादेश में एक सप्ताह के भीतर दो आतंकवादी हमले -- एक ईद की नमाज़ के दौरान और उस

2

जुल्म तो हमारी सेना पर हो रहा है

17 जुलाई 2016
0
2
0

जुल्म तो हमारी सेना पर हो रहा है "गर फ़िरदौस बर रुए ज़मीं अस्त,हमीं अस्त,हमीं अस्त,हमीं अस्त ।"  --फारसी में मुगल बादशाह जहाँगीर के शब्द ! कहने की आवश्यकता नहीं कि इन शब्दों का उपयोग किसके लिए किया गयाहै --जी हाँ कश्मीर की ही बात हो रही है । लेकिन धरती का स्वर्ग कहा जाने वालायह स्थान आज  सुलग रहा है ।

3

भारतीय राजनीति के रंगमंच मायावती जी लड़ाई अब माँ है

25 जुलाई 2016
0
2
0

भारतीय राजनीति के रंगमंच मायावती जी लड़ाई अब माँ हैभाषा के विषय में निर्मला जोशी जी के बेहद खूबसूरत शब्द  'माता की ममता यही  , निर्मल गंगा नीर  इसका अर्चन कर गए तुलसी सूर कबीर ' आज भारत की राजनीति ने उस भाषा को जिस स्तर तक गिरा दिया है वह वाकई निंदनीय है। उत्तर प्रदेश   बीजेपी के वाइस प्रेसीडेन्ट दया

4

याद करो कुर्बानी

8 अगस्त 2016
0
3
1

याद करो कुर्बानी '' शहीदों की चिताओंपर लगेंगे हर बरस मेलेवतन पर मरने वालों का यही बाकी निशाँ होगा ।  कभी वह दिन भीआयेगा जब अपना राज देखेंगेजब अपनी ही जमीं होगी जब अपना आसमां होगा ।।''पंडित जगदम्बा प्रसाद मिश्र की इस कालजायी कविता के ये शब्दहमें उन दिनों में आज़ादी की महत्ता एवं उसे प्राप्त करने के

5

जम्मू और लद्दाख भारत में खुश हैं तो कश्मीर क्यों नहीं है

23 अगस्त 2016
0
0
0

जम्मू और लद्दाख भारत में खुश हैं तो कश्मीर क्यों नहीं है "घर को ही आग लग गई घर के चिराग से " 8 जुलाई 2016 को कश्मीर के एक स्कूल के प्रिंसिपल का बेटा और हिजबुल मुजाहिदीन का दस लाख रुपए का ईनामी आतंकवादी बुरहान वानी की मौत के बाद से आज तक लगातार सुलगता कश्मीर कुछ ऐसा ही आभ

6

विकास और तरक्की की अंधी दौड़ में ये क्या हो रहा है ?

27 अगस्त 2016
0
7
2

ये कहाँ आ गए हम ? “फ़रिश्ता बनने की चाहत न करें तो बेहतर है , इन्सान हैं इन्सान ही बन जाये यही क्या कम है !” तारीख़ : 25 अगस्त 2016 स्थान : ओड़िशा के कालाहांडी जिले का सरकारी अस्पताल अमंग देवी टी बी के इलाज के दौर

7

किस हद तक गिरेंगे आप

5 सितम्बर 2016
0
2
0

किस हद तक गिरेंगे आप एक बहुत ही खूबसूरत बगीचा था,माली की नज़र बचाकर कुछ बच्चे रोज फूल तोड़ लेते थे।एक दिन माली ने उन्हें रंगे हाथों पकड़ लिया। अब उनमें से सबसे बुद्धिमान एक बालक ने सोचा कि खुद को बचाना है

8

भगवान तो छोड़िये क्या इंसान भी कहलाने लायक है यह !

17 सितम्बर 2016
0
1
0

भगवान तो छोड़िये क्या इंसान भी कहलाने लायक है यह ! “एक अच्छा चिकित्सक बीमारी का इलाज करता है , एक महान चिकित्सक बीमार का --विलियम ओसलर ।“ मध्यप्रदेश का एक शहर ग्वालियर , स्थान जे ए अस्पताल , एक गर्भवती महिला ज्योति 90% जली हुई हालत में रात 12 बजे अस्पताल में लाईं गईं , उनके साथ उनकी माँ और भाई भी

9

शहादतों का सिलसिला थमता क्यों नहीं

20 सितम्बर 2016
0
0
0

शहादतों का सिलसिला थमता क्यों नहीं 18 सितम्बर 2016 घाटी फिर लाल हुई ! ये लाल रंग लहू का था और लहू हमारे सैनिकों का ! सोते हुए निहत्थे सैनिकों पर इस प्रकार का कायरतापूर्ण हमला ! इसे क्या कहा जाए ? देश के लिए सीने पर गोली तो भारत का सैनिक ही क्या इस देश का आम आदमी भी खाने को तैयार है साहब !

10

भारत आतंकवाद के खिलाफ है किसी देश के नहीं

30 सितम्बर 2016
0
0
0

भारत आतंकवाद के खिलाफ है किसी देश के नहीं " वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँ , हम अभी से क्या बताएँ क्या हमारे दिल में है ।" 29 सितंबर रात 12.30 बजे भारत के स्पेशल कमान्डो फोर्स के जवान जो कि विश्व का सबसे बेहतरीन फोर्स है , Ml-17 हेलिकॉप्टरों से LOC के पार पाक सी

11

आपनी असफलता सवालों से छुपाते हमारे नेता

5 अक्टूबर 2016
0
2
0

आपनी असफलता सवालों से छुपाते हमारे नेता “हमें तो अपनों ने लूटा, गैरों में कहाँ दम था.. हमारी कश्ती तो वहाँ डूबी, जहाँ पानी कम था.” भारत का एक गौरवशाली इतिहास रहा है जहाँ हम अपने देश को माँ का दर्जा देते हैं। इस देश की मिट्टी को माथे पर लगाते हैं । एक ऐसा देश जो ज्ञान की

12

एक पाती आदरणीय रविश जी के नाम डॉ नीलम महेंद्र की कलम से

11 अक्टूबर 2016
0
1
1

प्रिय रवीश जी , आपका चीनी माल खरीदने का आग्रह करता आलेख पढ़ा तो कुछ विचार मेरे मन में भी उत्पन्न हुए सोचा पूछ लूँ । जिन लोगों को आप सम्बोधित कर रहे हैं उनके पास तो स्वयं आप ही के शब्दों में "खबरों का कूड़ेदान " यानी अखबार और चैनल देखने का वक्त ही नहीं होता और न ही फेसबुक औ

13

व्यापार के सहारे आर्थिक शक्ति बनता चीन

20 अक्टूबर 2016
0
3
0

व्यापार के सहारे आर्थिक शक्ति बनता चीन आज पूरे देश में चीनी माल को प्रतिबंधित करने की मांग जोर शोर से उठ रही है। भारतीय जनमानस का एक वर्ग चीनी माल न खरीदने को लेकर समाज में जागरूकता फैलाने में लगा है वहीं दूसरी ओर समाज के दूसरे वर्ग का कहना है कि यह कार्य भारत सरकार का है । जब सरकार चीन से नए अर्थि

14

समाजवादी पार्टी की कलह पारिवारिक या राजनैतिक

23 अक्टूबर 2016
0
5
2

समाजवादी पार्टी की कलह पारिवारिक या राजनैतिक उप्र की राजनीति इन दिनों पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है । सत्ता की कुर्सी पर अखिलेश हैं लेकिन चाबी मुलायम सिंह के पास है। यह सत्ता की लड़ाई तो है ही पर विचारों की लड़ाई भी है । जहाँ एक तरफ अखिलेश को अपने काम और वि

15

भारत को असली ख़तरा आतंकवादियों से नहीं उनके मददगारों से है

2 नवम्बर 2016
0
1
0

भारत को असली ख़तरा आतंकवादियों से नहीं उनके मददगारों से है दीपावली की रात जेल से भागे 8 आतंकवादी जो कि प्रतिबंधित संगठन सिमी से ताल्लुक रखते थे उन्हें मध्यप्रदेश पुलिस 8 घंटे के भीतर मार गिराने के लिए बधाई की पात्र है । बधाई स्थानीय लोगों को भी जिन्होंने पुलिस की मदद कर के देशभक्ति का परिचय देते ह

16

नये भारत की नींव लोकमंथन

10 नवम्बर 2016
0
0
0

नये भारत की नींव लोकमंथन "कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी "! आगामी 12 ,13 ,14 नवंबर को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में लोकमंथन कार्यक्रम का आयोजन हो रहा है।जैसा कि इस आयोजन का नाम अपने विषय में स्वयं ही बता रहा है लोक के साथ मंथन ।किसी भी समाज की उन्नति में विच

17

आम आदमी का नाम लेकर सरकार को ललकारना बन्द करो

14 नवम्बर 2016
0
7
5

आम आदमी का नाम लेकर सरकार को ललकारना बन्द करो मैं एक आम आदमी हूँ और काफी समय से देश में जो चल रहा है उसे समझने की कोशिश कर रहा हूँ । सरकार द्वारा काला धन और भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए 1000 और 500 के नोट बन्द करने के फैसले से मुझे भ्रष्टाचार और काले धन से मुक्ति की उम्म

18

एक नए भारत का सृजन

18 नवम्बर 2016
0
1
0

एक नए भारत का सृजन केन्द्र सरकार द्वारा पुराने 500 और 1000 के नोटों का चलन बन्द करने एवं नए 2000 के नोटों के चलन से पूरे देश में थोड़ी बहुत अव्यवस्था का माहौल है। आखिर इतना बड़ा देश जो कि विश्व में सबसे अधिक जनसंख्या वाले देशों में दूसरे स्थान पर हो थोड़ी बहुत अव्यवस्था त

19

एक हाथ से दिया गया दान हज़ारों हाथों से लौट कर आता है

24 नवम्बर 2016
0
1
0

एक हाथ से दिया गया दान हज़ारों हाथों से लौट कर आता है जो हम देते हैं वो ही हम पाते हैं दान के विषय में हम सभी जानते हैं। दान , अर्थात देने का भाव , अर्पण करने की निष्काम भावना । हिन्दू धर्म में दान चार प्रकार के बताए गए हैं , अन्न दान ,औषध दान , ज्ञान दान एवं अभयदान

20

अगर बदलाव लाना है तो कानून नहीं सोच बदलनी होगी

28 नवम्बर 2016
0
2
0

अगर बदलाव लाना है तो कानून नहीं सोच बदलनी होगी नोट बंदी के फैसले को एक पखवाड़े से ऊपर का समय बीत गया है बैंकों की लाइनें छोटी होती जा रही हैं और देश कुछ कुछ संभलने लगा है। जैसा कि होता है , कुछ लोग फैसले के समर्थन में हैं तो कुछ इसके विरोध में स्वाभाविक भी है किन्तु सम

21

राष्ट्र गान देशभक्ती की चेतना अवश्य जगाएगा

3 दिसम्बर 2016
0
1
0

राष्ट्र गान देशभक्ती की चेतना अवश्य जगाएगा " एक बालक को देशभक्त नागरिक बनाना आसान है बनिस्बत एक वयस्क के क्योंकि हमारे बचपन के संस्कार ही भविष्य में हमारा व्यक्तित्व बनते हैं।" सुप्रीम कोर्ट का फैसला , सिनेमा हॉल में हर शो से पहले राष्ट्र गान बजाना अनिवार्य होगा। हमार

22

क्यों न स्त्री होने का उत्सव मनाया जाए

19 दिसम्बर 2016
0
2
1

स्त्री ईश्वर की एक खूबसूरत कलाकृति ! यूँ तो समस्त संसार एवं प्रकृति ईश्वर की बेहतरीन रचना है किन्तु स्त्री उसकी अनूठी रचना है , उसके दिल के बेहद करीब । इसीलिए तो उसने उसे उन शक्तियों से लैस करके इस धरती पर भेजा जो स्वयं उसके पास हैं मसलन प्रेम एवं ममता से भरा ह्दय ,

23

“हम भारत के लोग “ और नेताओं के बीच यह अंतर क्यों

23 दिसम्बर 2016
0
0
0

“हम भारत के लोग “ और नेताओं के बीच यह अंतर क्योंलोकतंत्र में देश की प्रजा उसका शरीर होती हैलोकतंत्र उसकी आत्मा जबकि लोगों के लिए , लोगों के ही द्वारा चुनी गई सरकार उस देश का मस्तिष्क होता है उसकी बुद्धि होती है । यह लोगों द्वारा चुनी ह

24

किसका दोष है यह

3 जनवरी 2017
0
2
0

किसका दोष है यह पता नहीं यह दुर्भाग्य केवल उस नौजवान का है या पूरे देश का जिसके झोले में डिग्री , जेब में कलम लेकिन हाथ में झाड़ू और फावड़ा हो । कुछ समय पहले उत्तर प्रदेश में चपरासी अथवा सफाई कर्मचारी के पद के लिए सरकार द्वारा आवेदन मांगें गए थे जिसमें आवश्यकता 368 पदों

25

नेता जी ने शायद ऐसा अन्त तो नहीं सोचा होगा

5 जनवरी 2017
0
2
0

नेता जी ने शायद ऐसा अन्त तो नहीं सोचा होगा देश के सबसे बड़े प्रदेश उत्तर प्रदेश के सबसे शक्तिशाली राजनैतिक परिवार में कुछ समय से चल रहा राजनैतिक ड्रामा लगभग अपने क्लाइमैक्स पर पहुंच ही गया ( कुछ कुछ फेरबदल के साथ )। दरअसल यू पी के होने वाले चुनावों और मुलायम सिंह की छ

26

अनुशासन कि आड़ में कहीं शोषण तो नहीं

11 जनवरी 2017
0
2
0

अनुशासन कि आड़ में कहीं शोषण तो नहीं भ्रष्टाचार जिसकी जड़ें इस देश को भीतर से खोखला कर रही हैं उससे यह देश कैसे लड़ेगा ? यह बात सही है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने काफी अरसे बाद इस देश के बच्चे बूढ़े जवान तक में एक उम्मीद जगाई है। इस देश का आम आदमी भ्रष्टाचार और सिस्

27

सबको सम्मति दे भगवान

16 जनवरी 2017
0
4
0

सबको सम्मति दे भगवान यह सही है कि लफ्जों में इतनी ताकत होती है कि किसी पुरानी डायरी के पन्नों पर कुछ समय पहले चली हुई कलम आज कोई तूफान लाने की क्षमता रखती है लेकिन किसी डायरी के खाली पन्ने भी आँधियाँ ला सकते हैं ऐसा शायद पहली बार हो रहा है। खादी एवं ग्रामोद्योग आयोग के 2017 के वो कैलेंडर और डायरी आ

28

उस गुनाह की माफ़ी जो किया ही नहीं

18 जनवरी 2017
0
5
1

उस गुनाह की माफ़ी जो किया ही नहीं दंगल फ़िल्म में गीता फोगट का किरदार निभाने वाली जायरा वसीम द्वारा सोशल मीडिया पर माफी माँगने की खबर पूरे देश ने पढ़ी और सुनी। आम आदमी से लेकर क्रिकेट और कला जगत, हर क्षेत्र से उसके समर्थन में देश आगे आया लेकिन सरकार की ओर से किसी ठोस कदम का

29

कई सच छुपाए गए तो कई अधूरे बताए गए

22 जनवरी 2017
0
4
0

कई सच छुपाए गए तो कई अधूरे बताए गए अपनी आजादी की कीमत तो हमने भी चुकाई है तुम जैसे अनेक वीरों को खो के जो यह पाई है। कहने को तो हमारे देश को 15 अगस्त 1947 में आजादी मिली थी लेकिन क्या यह पूर्ण स्वतंत्रता थी? स्वराज तो हमने हासिल कर लिया था लेकिन उसे ' सुराज ' नहीं बना

30

घी गेहूँ नहीं रोज़गार चाहिए साहब

28 जनवरी 2017
0
1
0

भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और चुनाव किसी भी लोकतंत्र का महापर्व होते हैं ऐसा कहा जाता है। पता नहीं यह गर्व का विषय है या फिर विश्लेषण का कि हमारे देश में इन महापर्वों का आयोजन लगा ही रहता है । कभी लोकसभा कभी विधानसभा तो कभी नगरपालिका के चुनाव। लेकिन अफसोस की बा

31

यह हैं असली नायिकाएँ

29 जनवरी 2017
0
2
1

यह हैं असली नायिकाएँ भंसाली का कहना है कि पद्मावती एक काल्पनिक पात्र है ।इतिहास की अगर बात की जाए तो राजपूताना इतिहास में चित्तौड़ की रानी पद्मिनी का नाम बहुत ही आदर और मान सम्मान के साथ लिया जाता है। भारतीय इतिहास में कुछ औरतें आज भी वीरता और सतीत्व की मिसाल हैं जैसे स

32

क्या यह पूरा न्याय है

15 फरवरी 2017
0
1
0

क्या यह पूरा न्याय है 'व्यापम' अर्थात व्यवसायिक परीक्षा मण्डल, यह उन पोस्ट पर भर्तियाँ या एजुकेशन कोर्स में एडमिशन करता है जिनकी भर्ती मध्यप्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन नहीं करता है जैसे मेडिकल इंजीनियरिंग पुलिस नापतौल इंस्पेक्टर शिक्षक आदि। साल भर पूरी मेहनत से पढ़कर बच्चे इस परीक्षा को एक बेहतर भविष्

33

पुलिस की छवि बदलता एक अफसर

16 फरवरी 2017
0
0
0

पुलिस की छवि बदलता एक अफसर पुलिस किसी भी क्षेत्र की कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए बहुत आवश्यक होती है। लेकिन सच्चाई यह है कि आम लोग मदद के लिए पुलिस के पास जाने से बचते हैं । पुलिस चाहे हमारे देश की हो चाहे विदेश की बच्चा बच्चा उससे डरता है। हमारे मानस पटल पर ब

34

यह कैसी पढ़ाई है और ये कौन से छात्र हैं

1 मार्च 2017
0
1
0

यहकैसी पढ़ाई है और ये कौन से छात्र हैं9 फरवरी 2016 मेंजेएनयू के बाद एक बार फिर 21 फरवरी 2017 कोडीयू में होनेवाली घटना ने सोचने के लिए मजबूर कर दिया है कि क्यों हमारे छात्र संगठनराजनैतिक मोहरे बनकर रह गए हैं और इसीलिए आज एकदूसरे के साथ नहीं एकदूसरे के खिलाफ हैंइन छात्र संग

35

असाधारण चुनाव के असाधारण नतीजे

22 मार्च 2017
0
1
0

असाधारण चुनाव के असाधारण नतीजे "हमारा अतीत हमारे वर्तमान पर हावी होकर हमारे भविष्य पर प्रश्न चिह्न लगा देता है " , एक कटु सत्य । ' सबका साथ,सबका विकास ' क्या संभव हो पाएगा जब यूपी में होगा योगी का राज ? यूपी चुनावों के चौंकाने वाले नतीजों से देश के कथित सेकुलर नेता और मीडिया उबर भी नहीं पायी थी कि

36

नवसंवत्सर एक नये सफर की शुरूआत

27 मार्च 2017
0
2
2

नव संवत्सर नववर्ष नवरात्रि नवभोर , समय है अपनी जड़ों को पोषित करने का समय है आगे बढ़ने का।नवरात्रि अर्थात् शक्ति स्वरूप माँ के नौ रूपों के पूजन के नौ विशेष दिन। वैसे तो नवरात्रि साल में दो बार आती हैं लेकिन चैत्र मास में पड़ने वाली नवरात्रि क

37

सुख की खोज में हमारी खुशी कंहीं खो गई

1 अप्रैल 2017
0
1
0

सुख की खोज में हमारी खुशी कंहीं खो गई ताजा ग्लोबल हैप्पीनैस इंडैक्स में 155 देशों की सूची में भारत 122 स्थान पर है । भारत जैसा देश जहाँ की आध्यात्मिक शक्ति के वशीभूत विश्व भर के लोग शांति की तलाश में खिंचे चले आते हैं , उस देश के लिए यह रिपोर्ट न सिर्फ चौकाने वाली है बल

38

विरोध का गिरता स्तर गोवध

1 जून 2017
0
1
0

विरोध का गिरता स्तर गोवध किसी भी राज्य या फिर राष्ट्र की उन्नति अथवा अवनति में राजनीति की एक अहम भूमिका होती है। मजबूत विपक्ष एवं सकारात्मक विरोध की राजनीति विकास के लिए आवश्यक भी हैं लेकिन केवल विरोध करने के लिए विरोध एवं नफरत की राजनीति जो हमारे देश में आज कुछ लोग कर

39

क्यों न फिर से निर्भर हो जाए

7 जून 2017
0
0
0

क्यों न फिर से निर्भर हो जाए आज की दुनिया में हर किसी के लिए आत्मनिर्भर होना बहुत आवश्यक माना जाता है। स्त्रियाँ भी स्वावलंबी होना पसंद कर रही हैं और माता पिता के रूप में हम अपने बच्चों को भी आत्मनिर्भर होना सिखा रहे हैं। इसी कड़ी में आज के इस बदलते परिवेश में हम लोग प्ल

40

आहार से उपजे विचार ही शिशु के व्यक्तित्व को बनाते हैं

19 जून 2017
0
1
1

आहार से उपजे विचार ही शिशु के व्यक्तित्व को बनाते हैं क्या मनुष्य केवल देह है या फिर उस देह में छिपा व्यक्तित्व? यह व्यक्तित्व क्या है और कैसे बनता है? भारत सरकार के आयुष मन्त्रालय द्वारा हाल ही में गर्भवती महिलाओं के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं जिसमें कहा गया है कि गर्

41

कश्मीर में शान्ति बहाली ही शहीदों को सच्ची श्रधांजलि होगी

25 जुलाई 2017
0
5
1

कश्मीर में शान्ति बहाली ही शहीदों को सच्ची श्रधांजलि होगी 26 जुलाई 2017, 18 वाँ कारगिल विजय दिवस वो विजय जिसका मूल्य वीरों के रक्त से चुकाया गया, वो दिवस जिसमें देश के हर नागरिक की आँखें विजय की खुशी से अधिक हमारे सैनिकों की शहादत के लिए सम्मान में नम होती हैं । 1999 क

42

आजादी आपनी सोच में लायें

31 जुलाई 2017
0
1
1

आजादी आपनी सोच में लायें भारत हर साल 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है। यह दिन जहां हमारे आजाद होने की खुशी लेकर आता है वहीं इसमें भारत के खण्ड खण्ड होने का दर्द भी छिपा होता है। वक्त के गुजरे पन्नों में भारत से ज्यादा गौरवशाली इतिहास किसी भी देश का नहीं हुआ। लेक

43

क्यों हम बेटियों को बचाएँ

9 अगस्त 2017
0
2
4

“मुझे मत पढ़ाओ , मुझे मत बचाओ,, मेरी इज्जत अगर नहीं कर सकते ,तो मुझे इस दुनिया में ही मत लाओमत पूजो मुझे देवी बनाकर तुम,मत कन्या रूप में मुझे 'माँ' का वरदान कहोअपने अंदर के राक्षस का पहले तुम खुद ही संहार करो।“ एक बेटी का दर्द चंडीगढ़ की स

44

खुशियों का फैसला

24 अगस्त 2017
0
1
0

खुशियों का फैसला जो भावना मानवता के प्रति अपना फर्ज निभाने से रोकती हो क्या वो धार्मिक भावना हो सकती है? जो सोच किसी औरत के संसार की बुनियाद ही हिला दे क्या वो किसी मजहब की सोच हो सकती है? जब निकाह के लिए लड़की का कुबूलनामा जरूरी होता है तो तलाक में उसके कुबूलनामे को अ

45

जनता तो भगवान बनाती है साहब लेकिन शैतान आप

28 अगस्त 2017
0
0
2

जनता तो भगवान बनाती है साहब लेकिन शैतान आप 13 मई 2002 को एक हताश और मजबूर लड़की, डरी सहमी सी देश के प्रधानमंत्री को एक गुमनाम ख़त लिखती है। आखिर देश का आम आदमी उन्हीं की तरफ तो आस से देखता है जब वह हर जगह से हार जाता है। निसंदेह इस पत्र की जानकारी उनके कार्याल

46

३५ए जैसे दमनकारी कानूनों का बोझ देश क्यों उठाए

4 सितम्बर 2017
0
0
0

35A जैसे दमनकारी कानूनों का बोझ देश क्यों उठाए भारत का हर नागरिक गर्व से कहता कि कश्मीर हमारा है लेकिन फिर ऐसी क्या बात है कि आज तक हम कश्मीर के नहीं हैं? भारत सरकार कश्मीर को सुरक्षा सहायता संरक्षण और विशेष अधिकार तक देती है लेकिन फिर भी भारत के नागरिक के कश्मीर में क

47

साहब भारत इसी तरह तो चलता है

17 सितम्बर 2017
0
5
4

साहब भारत इसी तरह तो चलता है वैसे तो भारत में राहुल गाँधी जी के विचारों से बहुत कम लोग इत्तेफाक रखते हैं (यह बात 2014 के चुनावी नतीजों ने जाहिर कर दी थी) लेकिन अमेरिका में बर्कले स्थित यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया में जब उन्होंने वंशवाद पर पूछे गए एक सवाल के जवाब में "भारत इसी तरह चलता है " कहा,

48

क्यों ना हम पहले आपने अन्दर के रावण को मारें

23 सितम्बर 2017
0
0
0

क्यों ना हम पहले आपने अन्दर के रावण को मारें “रावण को हराने के लिए पहले खुद राम बनना पड़ता है ।“ विजयादशमी यानी अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दसवीं तिथि जो कि विजय का प्रतीक है। वो विजय जो श्रीराम ने पाई थी रावण पर, वो रावण जो प्रतीक है बुराई का, अधर्म का ,अहम् का, अहंका

49

जागरूक जनता ही करेगी स्वच्छ भारत का निर्माण

2 अक्टूबर 2017
0
1
3

जागरूक जनता ही करेगी स्वच्छ भारत का निर्माण 2 अक्टूबर 2014 को प्रधानमंत्री मोदी द्वारा शुरू किए गए स्वच्छ भारत अभियान को अक्टूबर 2017 में तीन वर्ष पूर्ण हो रहे हैं। स्वच्छ भारत अभियान के मकसद की बात करें तो इसके दो हिस्से हैं, एक सड़कों और सार्वजनिक स्थलों पर साफ सफाई तथा दूसरा भारत के गाँवों को खुले

50

न जयप्रकाश आंदोलन कुछ कर पाया न ही अन्ना आंदोलन

14 अक्टूबर 2017
0
0
0

न जयप्रकाश आंदोलन कुछ कर पाया न ही अन्ना आंदोलन वीआईपी कल्चर खत्म करने के उद्देश्य से जब प्रधानमंत्री मोदी द्वारा मई 2017 में वाहनों पर से लालबत्ती हटाने सम्बन्धी आदेश जारी किया गया तो सभी ने उनके इस कदम का स्वागत किया था लेकिन एक प्रश्न रह रह कर देश के हर नागरिक के मन मे

51

क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें

16 अक्टूबर 2017
0
0
0

क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें दिवाली यानी रोशनी, मिठाईयाँ, खरीददारी , खुशियाँ और वो सबकुछ जो एक बच्चे से लेकर बड़ों तक के चेहरे पर मुस्कान लेकर आती है। प्यार और त्याग की मिट्टी से गूंथे अपने अपने घरौंदों को सजाना भाँति भाँति के पकवान बनाना नए कपड़े और पटाखों की खरीददारी

52

क्या विश्व महाविनाश के लिए तैयार है

10 नवम्बर 2017
0
1
0

क्या विश्व महाविनाश के लिए तैयार है अमेरीकी विरोध के बावजूद उत्तर कोरिया द्वारा लगातार किए जा रहे हायड्रोजन बम परीक्षण के परिणाम स्वरूप ट्रम्प और किम जोंग उन की जुबानी जंग लगातार आक्रामक होती जा रही है। स्थिति तब और तनावपूर्ण हो गई जब जुलाई में किम जोंग ने अपनी इन्टरकाँ

53

क्या हार्दिक मान सम्मान की परिभाषा भी जानते हैं?

17 नवम्बर 2017
0
0
0

क्या हार्दिक मान सम्मान की परिभाषा भी जानते हैं? मैं वो भारत हूँ जो समूचे विश्व के सामने अपने गौरवशाली अतीत पर इठलाता हूँ। गर्व करता हूँ अपनी सभ्यता और अपनी संस्कृति पर जो समूचे विश्व को अपनी ओर आकर्षित करती है। अभिमान होता है उन आदर्शों पर जो हमारे समाज के महानायक हमें

54

आखिर क्यों हम अपने बच्चों को नहीं बचा पा रहे

6 दिसम्बर 2017
0
2
0

आखिर क्यों हम अपने बच्चों को नहीं बचा पा रहे 1 दिसंबर 2017,कोलकाता के जीडी बिरला सेन्टर फाँर एजुकेशन में एक चार साल की बच्ची के साथ उसी के स्कूल के पी टी टीचर द्वारा दुष्कर्म। 31 अक्तूबर को मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल में कोचिंग से लौट रही एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार। इसी साल सितंबर में रेहान

55

क्या कभी नारी को गुस्सा आया है

17 दिसम्बर 2017
0
1
0

क्या कभी नारी को गुस्सा आया है आज से पांच साल पहले 16 दिसंबर 2012 को जब राजधानी दिल्ली की सड़कों पर दिल दहला देने वाला निर्भया काण्ड हुआ था तो पूरा देश बहुत गुस्से में था । अभी हाल ही में हरियाणा के हिसार में एक पाँच साल की बच्ची के साथ निर्भया कांड जैसी ही बरबरता की ग

56

सवा लाख से एक लड़ावाँ ताँ गोविंद सिंह नाम धरावाँ

20 दिसम्बर 2017
0
2
0

सवा लाख से एक लड़ावाँ ताँ गोविंद सिंह नाम धरावाँ "चिड़ियाँ नाल मैं बाज लड़ावाँ गिदरां नुं मैं शेर बनावाँ सवा लाख से एक लड़ावाँ ताँ गोविंद सिंह नाम धरावाँ" सिखों के दसवें गुरु श्री गोविंद सिंह द्वारा 17 वीं शताब्दी में कहे गए ये शब्द आज भी सुनने या पढ़ने वाले की आत्मा को

57

क्या यह प्रधानमंत्री पद की गरिमा का अपमान नहीं है

24 दिसम्बर 2017
0
0
3

क्या यह प्रधानमंत्री पद की गरिमा का अपमान नहीं है वर्तमान में चल रहे संसद के शीतकालीन सत्र में भारतीय लोकतंत्र की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस चुनावों के दौरान प्रधानमंत्री मोदी द्वारा माफी की मांग पर सदन की कार्यवाही में लगातार बाधा डालने का काम कर रही है। वैसे ऐसा पहली

58

डूबते सूरज की बिदाई नववर्ष का स्वागत कैसे

29 दिसम्बर 2017
0
0
0

डूबते सूरज की बिदाई नववर्ष का स्वागत कैसे पेड़ अपनी जड़ों को खुद नहीं काटता, पतंग अपनी डोर को खुद नहीं काटती, लेकिन मनुष्य आज आधुनिकता की दौड़ में अपनी जड़ें और अपनी डोर दोनों काटता जा रहा है।काश वो समझ पाता कि पेड़ तभी तक आज़ादी से मिट्टी में ख

59

क्या भंसाली निर्दोष हैं?

29 जनवरी 2018
0
2
1

क्या भंसाली निर्दोष हैं? 26 जनवरी 2018, देश का 69 वाँ गणतंत्र दिवस, भारतीय इतिहास में पहली बार दस आसियान देशों के राष्ट्राध्यक्ष समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित, पूरे देश के लिए गौरव का पल, लेकिन अखबारों की हेडलाइन क्या थीं? समारोह की तैयारियाँ? विदेशी मेहमानों का आगमन और स्वागत? जी

60

नीरव मोदी को नीरव मोदी बनाने वाला कौन है?

20 फरवरी 2018
0
2
0

नीरव मोदी को नीरव मोदी बनाने वाला कौन है एक तरफ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश में भ्रष्टाचार खत्म करने की बात कर रहे हैं तो दूसरी तरफ देश के एक प्रमुख बैंक में 11400 करोड़ रुपए का घोटाला सामने आया है। लोग अभी ठीक से समझ भी नहीं पाए थे कि हीरों का व्यवसाय करने वाले नीरव

61

क्यों ना इस महिला दिवस पुरुषों की बात हो ?

7 मार्च 2018
0
4
3

"हम लोगों के लिए स्त्री केवल गृहस्थी के यज्ञ की अग्नि की देवी नहीं अपितु हमारी आत्मा की लौ है, रबीन्द्र नाथ टैगोर।" 8 मार्च को जब सम्पूर्ण विश्व के साथ भारत में भी "महिला दिवस" पूरे जोर शोर से मनाया जाता है और खासतौर पर जब 2018 में यह आय

62

नई ऊर्जा के साथ नववर्ष का स्वागत करें

16 मार्च 2018
0
0
0

नई ऊर्जा के साथ नववर्ष का स्वागत करें कर्नाटक में युगादि, तेलुगु क्षेत्रों में उगादि, महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा, सिंधी समाज में चैती चांद, मणिपुर में सजिबु नोंगमा नाम कोई भी हो तिथि एक ही है चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा, हिन्दू पंचांग के अनुसार सृष्टि की उत्पत्ति का दिन, न

63

नक्सलवाद को हराती सरकारी नीतियाँ

1 मई 2018
0
0
0

नक्सलवाद को हराती सरकारी नीतियाँ 24 अप्रैल 2017 को जब "नक्सली हमले में देश के 25 जवानों की शहादत को व्यर्थ नहीं जाने देंगे" यह वाक्य देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा था, तो देशवासियों के जहन में सेना द्वारा 2016 में की गई सर्जिकल स्ट्राइक की यादें ताजा हो गई थी

64

कर्नाटक का जनमत किसके पक्ष में है?

19 मई 2018
0
1
0

कर्नाटक का जनमत किसके पक्ष में है? चुनावों के दौरान चलने वाला सस्पेन्स आम तौर पर परिणाम आने के बाद खत्म हो जाता है लेकिन कर्नाटक के चुनावी नतीजों ने सस्पेन्स की इस स्थिति को और लम्बा खींच दिया है। राज्य में जो नतीजे आए हैं और इसके परिणामस्वरूप जो स्थिति निर्मित हुई है और

65

जीवन जीने की कला है योग

21 जून 2018
0
0
0

जीवन जीने की कला है योग"योग स्वयं की स्वयं के माध्यम से स्वयं तक पहुँचने की यात्रा है, गीता "योग के विषय में कोई भी बात करने से पहले जान लेना आवश्यक है कि इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि आदि काल में इसकी रचना, और वर्तमान समय में इसका ज्ञान एवं इसका प्रसार स्वहित

66

देश देख रहा है

3 अगस्त 2018
0
0
0

देश देख रहा है आज राजनीति केवल राज करने अथवा सत्ता हासिल करने मात्र की नीति बन कर रह गई है उसका राज्य या फिर उसके नागरिकों के उत्थान से कोई लेना देना नहीं है। यही कारण है कि आज राजनीति का एकमात्र उद्देश्य अपनी सत्ता और वोट बैंक की सुरक्षा सुनिश्चित करना रह गया है न कि र

67

सीक्रेट्स ऑफ़ वूमेन एम्पावरमेंट

8 अगस्त 2018
0
0
0

सीक्रेट्स ऑफ़ वूमेन एम्पावरमेंट

68

क्या गूगल पर लगाम लगा पाएंगे ट्रम्प?

1 सितम्बर 2018
0
0
0

क्या गूगल पर लगाम लगा पाएंगे ट्रम्प? क्या यह संभव है कि दुनिया की नजर में विश्व का सबसे शक्तिशाली व्यक्ति भी कभी बेबस और लाचार हो सकता है? क्या हम कभी अपनी कल्पना में भी ऐसा सोच सकते हैं कि एक व्यक्ति जो विश्व के सबसे शक्तिशाली देश के सर्वोच्च पद पर आसीन है, उसके साथ उस

69

केवल पुरुषों को दोष देने से काम नहीं चलेगा।

14 अक्टूबर 2018
0
0
3

,केवल पुरुषों को दोष देने से काम नहीं चलेगा।पुरानीयादें हमेशा हसीन और खूबसूरत नहीं होती। मी टू कैम्पेन के जरिए आज जब देश में कुछमहिलाएं अपनी जिंदगी के पुराने अनुभव साझा कर रही हैं तो यह पल निश्चित ही कुछपुरुषों के लिए उनकी नींदें उड़ाने वाले साबित हो रहे होंगे और कुछ अपनी सांसें थामकर बैठे होंगे। इति

70

महिलाओं के लिए ये कैसी लड़ाई जिसे महिलाओं का ही समर्थन नहीं

1 नवम्बर 2018
0
1
0

महिलाओं के लिए ये कैसी लड़ाई जिसे महिलाओं का हीसमर्थन नहीं मनुष्य की आस्था ही वो शक्ति होती है जो उसे विषम से विषम परिस्थितियों से लड़कर विजयश्री हासिल करने की शक्ति देती है। जब उस आस्था पर ही प्रहार करने के प्रयास किए जाते हैं, तो प्रयास्कर्ता स्वयं आग से खेल रहा होता है।क्योंकि वह यह भूल जाता है कि

71

राष्ट्रवाद एक विवाद

5 नवम्बर 2018
0
0
0

डॉ नीलम महेंद्र कृत“राष्ट्रवाद एक विवाद” में राष्ट्रवाद की सीमाओं का विश्लेषण डॉ नीलम महेंद्र कृत राष्ट्रवाद एक विवाद निश्चित हीएक महत्वपूर्ण कृति है कम से कम पठनीय एवं विचारणीय तो अवश्य ही है। इसचिंतन पटक कृति के आवरण पर पुस्तक के शीर्षक के साथ ही उसकी मूल विषय वस्तुको स्पष्ट करने वाला वाक्य राष्ट्

72

क्या यह दबी चिंगारी को हवा देने की कोशिश है?

21 नवम्बर 2018
0
0
1

क्या यह दबी चिंगारी को हवा देनेकी कोशिश है?अभीज्यादा दिन नहीं हुए थे जब सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत ने एक कार्यक्रम के दौरानपंजाब में खालिस्तान लहर के दोबारा उभरने के संकेत दिए थे। उनका यह बयान बेवजहनहीं था क्योंकि अगर हम पंजाब में अभी कुछ ही महीनों में घटित होने वाली घटनाओं परनजर डालेंगें तो समझ मे

73

बांग्लादेश चुनाव परिणाम भाजपा के लिए केस स्टडी हो सकते हैं

4 जनवरी 2019
0
1
0

बांग्लादेश चुनाव परिणाम भाजपाके लिए केस स्टडी हो सकते हैं वैसे तो आने वाला हर साल अपनेसाथ उत्साह और उम्मीदों की नई किरणें ले कर आता है, लेकिन यह सालकुछ खास है। क्योंकि आमतौर पर देश की राजनीति में रूचि न रखनेवाले लोग भी इस बार यह देखने के लिए उत्सुक हैं कि 2019 में राजनीति का ऊँठ किस करवटबैठेगा। खास

74

सामाजिक न्याय की तरफ एक ठोस कदम

15 जनवरी 2019
0
0
0

सामाजिक न्याय की तरफ एक ठोस कदमभारत की राजनीति का वो दुर्लभदिन जब विपक्ष अपनी विपक्ष की भूमिका चाहते हुए भी नहीं नहीं निभा पाया और न चाहतेहुए भी वह सरकार का समर्थन करने के लिए मजबूर हो गया, इसे क्या कहा जाए?कांग्रेस यह कह कर क्रेडिट लेनेकी असफल कोशिश कर रही है कि बिना उसके समर्थन के भाजपा इस बिल को

75

महागठबंधन देश हित या स्वार्थ

26 जनवरी 2019
0
1
1

महागठबंधन देश हित या स्वार्थ‘’मंजिल दूर है, डगर कठिन हैलेकिन दिल मिले ना मिले हाथ मिलाते चलिए", कोलकाता मेंविपक्षी एकता के शक्ति प्रदर्शन के लिए आयोजित ममता की यूनाइटिड इंडिया रैली में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे का यहएक वाक्य "विपक्ष की एकता" और उसकी मजबूरी दोनों का ही बखानकरने के लिए काफी है।

76

नए भारत का आगाज़

18 फरवरी 2019
0
0
0

नए भारत का आगाज़ यह सेना की बहुत बड़ी सफलता है किउसने पुलवामा हमले के मास्टरमाइंड अब्दुल रशीद गाज़ी को आखिरकार मार गिराया हालांकिइस ऑपरेशन में एक मेजर समेत हमारे चार जांबांज सिपाही वीरगति को प्राप्त हुए। देश इस समय बेहद कठिन दौर से गुज़र रहा है क्योंकि हमारे सैनिकों कीशहादत का सिलसिला लगातार जारी है। अभ

77

न्यू इंडिया

18 फरवरी 2019
0
0
0
78

न्यू इंडिया

18 फरवरी 2019
0
0
0
79

ट्रिपल तलक आस्था नही, अधिकारों की लड़ाई है ।

29 जुलाई 2019
0
2
2

ट्रिपल तलक आस्था नही,अधिकारों की लड़ाई है ।ट्रिपल तलाक पर रोक लगाने काबिल लोकसभा से तीसरी बार पारित होने के बाद एक बार फिरचर्चा में है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने 2017 में ही इसे असंवैधानिक करार दे दिया था लेकिन इसे एक कानून का रूप लेने केलिए अभी और कितना इंतज़ार करना होगा यह तो समय ही बताएगा। क्योंकि

80

केवल जन आन्दोलन से प्लास्टिक मुक्ति अधूरी कोशिश होगी

29 सितम्बर 2019
0
1
0

केवल जन आन्दोलन से प्लास्टिकमुक्ति अधूरी कोशिश होगीवैसे तो विज्ञान के सहारे मनुष्यने पाषाण युग से लेकर आज तक मानव जीवन सरल और सुगम करने के लिए एक बहुत लंबासफर तय किया है। इस दौरान उसने एक से एक वो उपलब्धियाँ हासिल कीं जोअस्तित्व में आने से पहले केवल कल्पना लगती थीं फिर चाहे वो बिजली से चलने वालाबल्ब

81

आपने स्वार्थ के लिये जनता को मुर्ख न बनाएं

25 दिसम्बर 2019
0
2
1

आपनेस्वार्थ के लिये जनता को मुर्ख न बनाएं जब देश के पढ़े –लिखे बुद्धिजीवी लोग जिनमें कुछ डॉक्टर वकील, शिक्षक,प्रोफेसर, स्कूल कॉलेज के डायरेक्टर, पत्रकार, संपादक जैसे लोग सी ए ए और एन आर सी में अंतर समझे बिना मुस्लिम समुदाय को भृमित करने वाली बातें सोशल मीडिया मेंकथित

82

कब तक सामने आते रहेंगे प्यारेमियाँ जैसे चरित्र ?

25 जुलाई 2020
0
2
0

कब तक सामने आते रहेंगे प्यारेमियाँ जैसे चरित्र ? “हरचेहरेपर नकाबहै यहाँबेनकाबकोई चेहरानहींहर दामनमें दागहै यहाँबेदागकोई दामननहीं।यह अजीबशहर हैजहाँऔरत बेपर्दाकर दीजाती हैलेकिनसफेदपोशोंके नकाबकायम हैंयहाँ” मध्यप्रदेशकीराजधानीएकबारफिरकलंकितहुई।एकबारफिरसाबितहुआकिहमएकसभ्यसमाजहोनेकाकितनाभीढोंगकरेंलेकिनसत

83

आदिवासी दिवस के बहाने अलगाववाद की राजनीति

3 अगस्त 2020
0
1
1

आदिवासी दिवस के बहाने अलगाववाद कीराजनीति वैशविक परिदृश्य में कुछ घटनाक्रम ऐसेहोते हैं जो अलग अलग स्थान और अलग अलग समय पर घटित होते हैं लेकिन कालांतर में अगरउन तथ्यों की कड़ियाँ जोड़कर उन्हें समझने की कोशिश की जाए तो गहरे षड्यंत्र सामने आतेहैं। इन तथ्यों से इतना तो कहा ही जा सकता है कि सामान्य से लगने

84

मौत में अपना अस्तित्व तलाशता मीडिया

3 सितम्बर 2020
0
0
0

मौतमेंअपनाअस्तित्वतलाशतामीडियाआजकलजबटीवीऑनकरतेहीदेशकालगभगहरचैनल "सुशांत केस में नया खुलासा" या फिर "सबसे बडी कवरेज" नाम के कार्यक्रम दिन भर चलाता है तो किसी शायर के ये शब्द याद आ जाते हैं, "लहूकोहीखाकरजिएजारहेहैं,हैखूनयाकिपानी,पिएजारहेहैं।" ऐसालगताहैकिएकफिल्मीकलाकारमरतेमरतेइनचैनलोंकोजैसेजीवनदानदेगय

85

क्या लोकतांत्रिक सरकार की यही कार्यशैली है ?

15 सितम्बर 2020
0
1
0

महाराष्ट्र की राजनीति में इस वक्त भूचाल आया हुआ है। जिस प्रकार से बीएमसी ने अवैध बताते हुए नोटिस देने के 24 घंटो के भीतर ही एक अभिनेत्री के दफ्तर पर बुलडोजर चलाया और अपने इस कारनामे के लिए कोर्ट में मुंह की भी खाई उससे राज्य सरकार के लिए भी एक असहज स्थिति उत्पन्न हो गई है। इससे बचने के लिए भले ही शि

86

वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्ष बयाँ करती है।

19 सितम्बर 2020
0
0
0

वो यात्रा जो सफलता से अधिक संघर्षबयाँ करती है।आज भारत विश्व में अपनी नई पहचान केसाथ आगे बढ़ रहा है। वो भारत जो कल तक गाँधी का भारत था जिसकी पहचान उसकी सहनशीलताथी,आज मोदी का भारत है जो खुद पहल करता नहीं, किसीको छेड़ता नहीं लेकिन अगर कोई उसे छेड़े तो छोड़ता भी नहीं। गाँधी के भारत से शायद हीकिसी ने सर्जिकल

87

किसान मुद्दा क्या केवल विपक्ष जिम्मेदार है?

2 अक्टूबर 2020
0
0
0

किसानमुद्दा क्या केवल विपक्ष जिम्मेदार है?ऐसापहली बार नहीं है कि सरकार द्वारा लाए गए किसी कानून का विरोध कांग्रेस देश कीसड़कों पर कर रही है। विपक्ष का ताजा विरोध वर्तमान सरकार द्वारा किसानों से संबंधित दशकों पुराने कानूनों में संशोधन करके बनाए गए तीन नए कानूनोंको लेकर है। देखाजाए तो ब्रिटिश शासन काल

88

बिहार चुनाव फैसला किसके पक्ष में।

16 अक्टूबर 2020
0
0
0

बिहार चुनाव फैसला किसके पक्ष में।बिहारदेश का पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है जहाँ कोरोना महामारी के बीच चुनाव होने जारहे हैं और भारत शायद विश्व का ऐसा पहला देश। आम आदमी कोरोना से लड़ेगा औरराजनैतिक दल चुनाव। खास बात यह है कि चुनाव के दौरान सभी राजनैतिक दल एक दूसरेके खिलाफ लड़ेंगे लेकिन चुनाव के बाद अपनी

89

बंगाल चुनाव देश की राजनीति की दिशा तय करेगा।

26 दिसम्बर 2020
0
0
0

बंगाल चुनाव देश की राजनीति की दिशातय करेगा।बंगाल एक बार फिर चर्चा मेंहै। गुरुदेव रबिन्द्रनाथ टैगोर,स्वामी विवेकानंद, सुभाष चंद्र बोस, औरोबिंदो घोष, बंकिमचन्द्र चैटर्जी जैसी महान विभूतियोंके जीवन चरित्र की विरासत को अपनी भूमि में समेटे यह धरती आज अपनी सांस्कृतिक धरोहरनहीं बल्कि अपनी हिंसक राजनीति के

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए