shabd-logo

श्री सत्यनारायण जी की आरती

9 मई 2022

17 बार देखा गया 17

ॐ जय लक्ष्मीरमणा

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा |

सत्यनारायण स्वामी ,जन पातक हरणा || जय लक्ष्मीरमणा


रत्नजडित सिंहासन , अद्भुत छवि राजें |

नारद करत निरतंर घंटा ध्वनी बाजें ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी….


प्रकट भयें कलिकारण ,द्विज को दरस दियो |

बूढों ब्राम्हण बनके ,कंचन महल कियों ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


दुर्बल भील कठार, जिन पर कृपा करी |

च्रंदचूड एक राजा तिनकी विपत्ति हरी ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


वैश्य मनोरथ पायों ,श्रद्धा तज दिन्ही |

सो फल भोग्यों प्रभूजी , फेर स्तुति किन्ही ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


भाव भक्ति के कारन .छिन छिन रुप धरें |

श्रद्धा धारण किन्ही ,तिनके काज सरें ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


ग्वाल बाल संग राजा ,वन में भक्ति करि |

मनवांचित फल दिन्हो ,दीन दयालु हरि ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


चढत प्रसाद सवायों ,दली फल मेवा |

धूप दीप तुलसी से राजी सत्य देवा ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


सत्यनारायणजी की आरती जो कोई नर गावे |

ऋद्धि सिद्धी सुख संपत्ति सहज रुप पावे ॥

ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी…..


ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा|

सत्यनारायण स्वामी ,जन पातक हरणा ॥ जय लक्ष्मीरमणा

78
रचनाएँ
आरती और स्तुतियों का संकलन
0.0
भारत का सर्वप्रमुख धर्म हिन्दू धर्म है, 'सनातन धर्म' भी कहा जाता है। हिन्दू धर्म किसी व्यक्ति विशेष द्वारा स्थापित धर्म नहीं है, बल्कि यह प्राचीन काल से चले आ रहे विभिन्न धर्मों, मतमतांतरों, आस्थाओं एवं विश्वासों का समुच्चय है। प्रमुख देवता शिव, विष्णु, गणेश, कृष्ण, राम, हनुमान, सूर्य आदि प्रमुख देवियाँ दुर्गा, पार्वती, पृथ्वी, महालक्ष्मी, सरस्वती, काली, गायत्री आदि दस अवतार मत्स्य, कूर्म, वराह, नृसिंह, वामन, परशुराम, राम, कृष्ण, बुद्ध, कल्कि धर्म प्रवर्तक और संत आदि शंकराचार्य, चैतन्य महाप्रभु, दयानंद सरस्वती, निम्बार्काचार्य, स्वामी रामानंद, समर्थ रामदास, स्वामी विवेकानन्द, स्वामी हरिदास, रामकृष्ण परमहंस, रामानुज, वल्लभाचार्य आदि धर्मग्रंथ 4 वेद (ॠग्वेद, सामवेद, यजुर्वेद और अथर्ववेद), 13 उपनिषद, 18 पुराण, रामायण, महाभारत, गीता, रामचरितमानस आदि।
1

श्री गणेश जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय गणेश, जय गणेश,    जय गणेश देवा । माता जाकी पार्वती,      पिता महादेवा ॥ एक दंत दयावंत,         चार भुजा धारी । माथे सिंदूर सोहे,         मूसे की सवारी ॥ जय गणेश जय गणेश,    जय गणेश देवा । माता

2

श्री गणेश जी की स्तुति

9 मई 2022
0
0
0

श्लोक ॐ गजाननं भूंतागणाधि सेवितम्,    कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम्। उमासुतम् शोक विनाश कारकम्,      नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम्॥ गाइये गनपति जगबंदन  ।               संकर-सुवन भवानी नंदन ॥ 1 ॥ गाइये ग

3

श्री लक्ष्मी जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय लक्ष्मी माता, तुमको निस दिन सेवत,  मैया जी को निस दिन सेवत हर विष्णु विधाता || ॐ जय ||   उमा रमा ब्रम्हाणी, तुम ही जग माता ओ मैया तुम ही जग माता सूर्य चन्द्र माँ ध्यावत, नारद ऋषि गाता || ॐ

4

श्री महालक्ष्मी जी की स्तुति

9 मई 2022
0
0
0

महादेवी महालक्ष्मी नमस्ते त्वं विष्णु प्रिये। शक्तिदायी महालक्ष्मी नमस्ते दुःख भंजनि।। श्रेया प्राप्ति निमित्ताय महालक्ष्मी नमाम्यहम। पतितो द्धारीणि देवी नमाम्यहं पुनः पुनः देवांस्तवा संस्तुवन्ति

5

श्री ॐ जय जगदीश हरे आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय जगदीश हरे स्वामी जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट  दास जनों के संकट क्षण में दूर करे ॥ ॥ ॐ जय जगदीश हरे॥ जो ध्यावे फल पावे -दुःख बिनसे मन का स्वामी दुःख बिनसे मन का सुख सम्पति घर आवे सुख सम्पत

6

श्री हनुमान चालीसा

9 मई 2022
0
0
0

दोहा श्रीगुरु चरन सरोज रज निज मनु मुकुरु सुधारि । बरनउँ रघुबर बिमल जसु जो दायकु फल चारि ॥ बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन कुमार बल बुधि विद्या देहु मोहि, हरहु कलेश विकार चौपाई जय हनुमान ज्ञान

7

श्री बजरंग बाण आरती

9 मई 2022
0
0
0

दोहा निश्चय प्रेम प्रतीति ते, विनय करैं सनमान । तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान ॥ चौपाई जय हनुमंत संत हितकारी। सुन लीजै प्रभु अरज हमारी । जनके काज बिलंब न कीजै। आतुर दौरि महा सुख दीजै ।

8

श्री शिव जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय शिव ओंकारा, प्रभु हर शिव ओंकारा ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा ॐ जय शिव ओंकारा एकानन चतुरानन पञ्चानन राजे स्वामी पञ्चानन राजे  हंसासन गरूड़ासन हंसासन गरूड़ासन  वृषवाहन साजे ॐ जय

9

श्री दुर्गा जी की आरती

9 मई 2022
1
0
0

ॐ जय अम्बे गौरी ,   मैया जय श्यामा गौरी । तुमको निशदिन ध्यावत   हरी ब्रह्मा शिवजी ॥ ॥ ॐ जय अम्बे गौरी ॥ मांग सिन्दूर विराजत  टीको मृगमद को । उज्जवल से दोउ नैना  चन्द्रवदन नीको ॥ ॥ ॐ जय अम्बे गौरी

10

श्री पार्वती माँ की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय पार्वती माता  जय पार्वती माता ब्रह्म सनातन देवी  शुभफल की दाता । ॥ जय पार्वती माता ॥ अरिकुल पद्दं विनासनी  जय सेवक त्राता, जगजीवन जगदंबा हरिहर गुणगाता । ॥ जय पार्वती माता ॥ सिंह को वाहन साजे

11

श्री सत्यनारायण जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय लक्ष्मीरमणा ॐ जय लक्ष्मीरमणा स्वामी जय लक्ष्मीरमणा | सत्यनारायण स्वामी ,जन पातक हरणा || जय लक्ष्मीरमणा रत्नजडित सिंहासन , अद्भुत छवि राजें | नारद करत निरतंर घंटा ध्वनी बाजें ॥ ॐ जय लक्ष्मी

12

श्री राम जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

श्री रामचन्द्र कृपालु भजु मन,  हरण भवभय दारुणम्। नव कंज लोचन, कंज मुख  कर कंज पद कंजारुणम्॥ ॥श्री रामचन्द्र कृपालु..॥ कन्दर्प अगणित अमित छवि,  नव नील नीरद सुन्दरम्। पट पीत मानहुं तड़ित रूचि-शुचि  

13

श्री सांई बाबा जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती श्री साई गुरुवर की परमानन्द सदा सुरवर की जाके कृपा विपुल सुख कारी दुःख शोक संकट भ्ररहारी आरती श्री साई गुरुवर की … शिर्डी में अवतार रचाया चमत्कार से तत्व दिखाया कितने भक्त शरण में आए वे सुख़

14

श्री महालक्ष्मी जी आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय लक्ष्मी माता,   मैया जय लक्ष्मी माता। तुमको निशदिन सेवत,  हरि विष्णु विधाता॥  ॐ जय लक्ष्मी माता ॥   उमा,रमा,ब्रह्माणी,  तुम ही जग-माता।  सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥  ॐ जय लक्ष्मी

15

श्री शनि देव जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय जय जय श्री शनि देव भक्तन हितकारी | सूर्य पुत्र प्रभु छाया महतारी || जय जय जय शनि देव || श्याम अंग वक्र दृष्टि चतुर्भुजा धारी | नीलाम्बर धार नाथ गज की असवारी || जय जय जय शनि देव || क्रीट म

16

श्री सूर्य नारायण जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

 जय कश्यप-नन्दन, ॐ जय अदिति नन्दन।  त्रिभुवन – तिमिर – निकन्दन, भक्त-हृदय-चन्दन॥ ॥ जय कश्यप-नन्दन  ॥   सप्त-अश्वरथ राजित,  एक चक्रधारी।  दु:खहारी, सुखकारी,  मानस-मल-हारी॥   ॥ जय कश्यप-नन्दन  ॥

17

श्री गंगा मैया जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

हर हर गंगे, जय माँ गंगे, हर हर गंगे, जय माँ गंगे ॥   ॐ जय गंगे माता, श्री जय गंगे माता । जो नर तुमको ध्याता, मनवांछित फल पाता ॥   चंद्र सी जोत तुम्हारी जल निर्मल आता । शरण पडें जो तेरी सो नर तर

18

श्री कुंजबिहारी जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥    गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला । श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंद

19

श्री सुख करता दुखहर्ता वार्ता विघ्नाची जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

सुख करता दुखहर्ता, वार्ता विघ्नाची नूर्वी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची सर्वांगी सुन्दर उटी शेंदु राची कंठी झलके माल मुकताफळांची   जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शनमात्रे मनःकमाना पूर्ति जय देव जय

20

श्री कृष्ण जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ओम जय श्री कृष्ण हरे,  प्रभु जय श्री कृष्ण हरे, भक्तन के दुख सारे पल में दूर करे !! ओम जय श्री कृष्ण हरे !! परमानंद मुरारी मोहन गिरधारी, जय रास बिहारी जय जय गिरधारी !! ओम जय श्री कृष्ण हरे !! कर

21

श्री कुबेर जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे ,  स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे।  शरण पड़े भगतों के, भण्डार कुबेर भरे।  ॥ ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥   शिव भक्तों में भक्त कुबेर बड़े,  स्वामी भक्त कुबेर बड़े।  दैत्य दानव मा

22

श्री भैरव जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

सुनो जी भैरव लाड़िले,कर जोड़ कर विनती करुं । कृपा तुम्हारी चाहिये, मैं ध्यान तुम्हरा ही धरूं ॥   मैं चरण छुता आपके,अर्जी मेरी सुन लिजिये । मैं हूं मति का मंद, मेरी कुछ मदद तो किजिये महिमा तुम्हार

23

श्री खाटू श्याम जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय श्री श्याम हरे,  बाबा जय श्री श्याम हरे। खाटू धाम विराजत, अनुपम रूप धरे॥ ॐ जय श्री श्याम हरे...॥ रतन जड़ित सिंहासन, सिर पर चंवर ढुरे । तन केसरिया बागो, कुण्डल श्रवण पड़े ॥ ॐ जय श्री श्याम

24

श्री सरस्वती जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय सरस्वती माता,  मैया जय सरस्वती माता।  सदगुण वैभव शालिनी,  त्रिभुवन विख्याता॥  ॥ जय सरस्वती माता ॥ चन्द्रवदनि पद्मासिनि,  द्युति मंगलकारी।  सोहे शुभ हंस सवारी, अतुल तेजधारी॥ ॥ जय सरस्वती माता

25

श्री विन्ध्येश्वरी जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

सुन मेरी देवी पर्वत वासिनी, तेरा पार न पाया ॥ टेक ॥ पान सुपारी ध्वाजा नारियल, ले तेरी भेंट चढ़ाया ॥ सुन० ॥ सुवा चोली तेरे अंग बिराजे, केसर तिलक लगाया ॥ सुन० ॥ नंगे पैरों अकबर आया, सोने का छत्र चढ़ा

26

श्री तुलसी माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय जय तुलसी माता, सब जग की सुखदाता । ॥ जय जय तुलसी माता। ॥ सब योगों के ऊपर, सब लोगों के ऊपर, रुज से रक्षा करके भव त्राता। ॥ जय जय तुलसी माता। ॥ बटु पुत्री है श्यामा,  सूर बल्ली है ग्राम्या, विष्

27

संतोषी माता की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय सन्तोषी माता, मैया जय सन्तोषी माता। अपने सेवक जन की सुख सम्पति दाता ।। जय सन्तोषी माता.... सुन्दर चीर सुनहरी मां धारण कीन्हो। हीरा पन्ना दमके तन श्रृंगार लीन्हो ।। जय सन्तोषी माता.... गेरू ला

28

श्री अन्नपूर्णा माँ की आरती

9 मई 2022
0
0
0

बारम्बार प्रणाम, मैया बारम्बार प्रणाम। जो नहीं ध्यावै तुम्हें अम्बिके, कहां उसे विश्राम। अन्नपूर्णा देवी नाम तिहारो, लेत होत सब काम॥ ॥ बारम्बार प्रणाम ॥ प्रलय युगान्तर और जन्मान्तर, कालान्तर तक ना

29

श्री नर्मदा जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय जगदानन्दी,  मैया जय आनन्द कन्दी ।  ब्रह्मा हरिहर शंकर रेवा शिव ,  हरि शंकर रुद्री पालन्ती॥  ॥ ॐ जय जय जगदानन्दी ॥   देवी नारद शारद तुम वरदायक, अभिनव पदचण्डी। सुर नर मुनि जन सेवत, सुर नर मुनि

30

श्री बृहस्पति देव जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय वृहस्पति देवा,  ऊँ जय वृहस्पति देवा । छिन छिन भोग लगा‌ऊँ,  कदली फल मेवा ॥ ऊँ जय वृहस्पति देवा,  जय वृहस्पति देवा ॥ तुम पूरण परमात्मा,  तुम अन्तर्यामी । जगतपिता जगदीश्वर,  तुम सबके स्वामी ॥ ऊ

31

श्री गौ माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती श्री गैय्या मैंय्या की,  आरती हरनि विश्वब धैय्या की,  अर्थकाम सुद्धर्म प्रदायिनि अविचल अमल मुक्तिपददायिनि,  सुर मानव सौभाग्यविधायिनि, प्यारी पूज्य नंद छैय्या,  अख़िल विश्वौ प्रतिपालिनी माता, म

32

श्री काली माँ जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

अम्बे तू है जगदम्बे काली,  जय दुर्गे खप्पर वाली । तेरे ही गुण गाये भारती,  ओ मैया हम सब उतरें, तेरी आरती ॥ तेरे भक्त जनो पर,  भीर पडी है भारी माँ । दानव दल पर टूट पडो,  माँ करके सिंह सवारी । सौ-

33

श्री कुंजबिहारी जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥ गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला । श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला ।

34

श्री मद्भागवतमहापुराण जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती अतिपावन पुराण की ।  धर्म-भक्ति-विज्ञान-खान की ॥ महापुराण भागवत निर्मल ।  शुक-मुख-विगलित निगम-कल्प-फल ॥  परमानन्द सुधा-रसमय कल ।  लीला-रति-रस रसनिधान की ॥  ॥ आरती अतिपावन पुरान की ॥   कलिमथ-म

35

श्री राधा जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती श्री वृषभानुसुता की, मंजुल मूर्ति मोहन ममता की। त्रिविध तापयुत संसृति नाशिनि, विमल विवेकविराग विकासिनि। पावन प्रभु पद प्रीति प्रकाशिनि, सुन्दरतम छवि सुन्दरता की। । आरती श्री वृषभानुसुता की

36

श्री रामायण जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती श्री रामायण जी की । कीरति कलित  ललित सिया पी की ।।                   आरती श्री रामायण जी की…     गावत ब्रह्मादिक मुनि नारद,  बाल्मीकि विज्ञान विशारद ।   सुक सनकादि शेष अरू शारद, बरनी पवन

37

श्री छठ मईया जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय छठी मईया ऊ जे केरवा जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मेड़राए। मारबो रे सुगवा धनुख से, सुगा गिरे मुरझाए॥जय॥ ऊ जे सुगनी जे रोएली वियोग से, आदित होई ना सहाय। ऊ जे नारियर जे फरेला खबद से, ओह पर सुगा मेड़रा

38

श्री करवा माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ऊँ जय करवा मइया, माता जय करवा मइया । जो व्रत करे तुम्हारा, पार करो नइया ।। ऊँ जय करवा मइया। सब जग की हो माता, तुम हो रुद्राणी। यश तुम्हारा गावत, जग के सब प्राणी ।। ऊँ जय करवा मइया। कार्तिक कृष

39

श्री शीतला माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता, आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता। जय शीतला माता… रतन सिंहासन शोभित, श्वेत छत्र भ्राता, ऋद्धि-सिद्धि चंवर ढुलावें, जगमग छवि छाता। जय शीतला माता… विष्णु सेवत ठाढ़े

40

श्री रामचन्द्र जी की स्तुति

9 मई 2022
0
0
0

॥दोहा॥ श्री रामचन्द्र कृपालु भजुमन हरण भवभय दारुणं । नव कंज लोचन कंज मुख कर कंज पद कंजारुणं ॥१॥ श्री रामचन्द्र... कन्दर्प अगणित अमित छवि नव नील नीरद सुन्दरं । पटपीत मानहुँ तडित रुचि शुचि नो

41

श्री कृष्ण जन्म की स्तुति

9 मई 2022
0
0
0

भये प्रगट गोपाला दीनदयाला यशुमति के हितकारी। हर्षित महतारी सुर मुनि हारी मोहन मदन मुरारी ॥ कंसासुर जाना मन अनुमाना पूतना वेगी पठाई। तेहि हर्षित धाई मन मुस्काई गयी जहाँ यदुराई॥ तब जाय उठायो हृद

42

श्री गायत्री माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता । सत् मारग पर हमें चलाओ, जो है सुखदाता ॥ ॥ जयति जय गायत्री माता..॥ आदि शक्ति तुम अलख निरंजन जगपालक क‌र्त्री । दु:ख शोक, भय, क्लेश कलश दारिद्र दैन्य हत्

43

श्री विश्वकर्मा जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,  जय श्री विश्वकर्मा । सकल सृष्टि के करता,  रक्षक स्तुति धर्मा ॥ जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,  जय श्री विश्वकर्मा । आदि सृष्टि मे विधि को,  श्रुति उपदेश दिया । जीव मात्र

44

श्री दत्ताची जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

त्रिगुणात्मक त्रैमूर्ती दत्त हा जाणा । त्रिगुणी अवतार त्रैलोक्य राणा । नेती नेती शब्द न ये अनुमाना ॥ सुरवर मुनिजन योगी समाधी न ये ध्याना ॥ जय देव जय देव जय श्री गुरुद्त्ता । आरती ओवाळिता हरली भवच

45

श्री बाल कृष्ण जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आरती बाल कृष्ण की कीजै, अपना जन्म सफल कर लीजै॥ श्री यशोदा का परम दुलारा, बाबा के अँखियन का तारा। गोपियन के प्राणन से प्यारा, इन पर प्राण न्योछावर कीजै॥ ॥आरती बाल कृष्ण की कीजै...॥ बलदाऊ के छोटे

46

श्री सिद्धिविनायक जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको । दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको । हाथ लिए गुडलद्दु सांई सुरवरको । महिमा कहे न जाय लागत हूं पादको ॥ जय देव जय देव... जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता धन्य तुम्हारा

47

श्री एकादशी माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय एकादशी माता, जय एकादशी माता । विष्णु पूजा व्रत को धारण कर, शक्ति मुक्ति पाता ॥ ॐ॥ तेरे नाम गिनाऊं देवी, भक्ति प्रदान करनी । गण गौरव की देनी माता, शास्त्रों में वरनी ॥ॐ॥ मार्गशीर्ष के कृष्णपक्

48

श्री कैला माता जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

ॐ जय कैला रानी, मैया जय कैला रानी । ज्योति अखंड दिये माँ तुम सब जगजानी ॥ तुम हो शक्ति भवानी मन वांछित फल दाता ॥ मैया मन वांछित फल दाता ॥ अद्भुत रूप अलौकिक सदानन्द माता ॥ ॥ॐ जय कैला रानी॥

49

श्री कालरात्रि माँ की आरती

9 मई 2022
0
0
0

कालरात्रि जय-जय-महाकाली । काल के मुह से बचाने वाली ॥ दुष्ट संघारक नाम तुम्हारा । महाचंडी तेरा अवतार ॥ पृथ्वी और आकाश पे सारा । महाकाली है तेरा पसारा ॥ खडग खप्पर रखने वाली । दुष्टों का लहू चखने

50

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन जी की आरती

9 मई 2022
0
0
0

आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन… दुर्योधन को मेवा त्यागो, साग विदुर घर खायो प्यारे मोहन, आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन… भिलनी के बैर सुदामा के तंडुल रूचि रूचि भोग लगाओ प्यारे मोहन… आओ भोग लगाओ प्यारे मोहन… व

51

श्री कार्तिकेय जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

जय जय आरती वेणु गोपाला वेणु गोपाला वेणु लोला पाप विदुरा नवनीत चोरा जय जय आरती वेंकटरमणा वेंकटरमणा संकटहरणा सीता राम राधे श्याम जय जय आरती गौरी मनोहर गौरी मनोहर भवानी शंकर सदाशिव उमा महेश्व

52

श्री चित्रगुप्त जी की स्तुति

10 मई 2022
0
0
0

जय चित्रगुप्त यमेश तव,  शरणागतम् शरणागतम्। जय पूज्यपद पद्मेश तव,   शरणागतम् शरणागतम्॥ जय देव देव दयानिधे,  जय दीनबन्धु कृपानिधे। कर्मेश जय धर्मेश तव,   शरणागतम् शरणागतम्॥ जय चित्र अवतारी प्रभो

53

श्री युगल किशोर जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

आरती युगल किशोर की कीजै । तन मन धन न्योछावर कीजै ॥ गौरश्याम मुख निरखन लीजै । हरि का रूप नयन भरि पीजै ॥ रवि शशि कोटि बदन की शोभा । ताहि निरखि मेरो मन लोभा ॥ ओढ़े नील पीत पट सारी । कुंजबिहा

54

श्री नरसिंह कुंवर जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

आरती कीजै नरसिंह कुंवर की । वेद विमल यश गाउँ मेरे प्रभुजी ॥ पहली आरती प्रह्लाद उबारे । हिरणाकुश नख उदर विदारे ॥ दुसरी आरती वामन सेवा । बल के द्वारे पधारे हरि देवा ॥ तीसरी आरती ब्रह्म पधारे

55

श्री जानकीनाथ जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

ॐ जय जानकीनाथा,   जय श्री रघुनाथा । दोउ कर जोरें बिनवौं,     प्रभु! सुनिये बाता ॥         ॥ ॐ जय..॥ तुम रघुनाथ हमारे,  प्राण पिता माता । तुम ही सज्जन-संगी,  भक्ति मुक्ति दाता ॥ ॥ ॐ जय..॥ लख

56

श्री जगन्नाथ जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी, आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी, मंगलकारी नाथ आपादा हरि, कंचन को धुप दीप ज्योत जगमगी, अगर कपूर बाटी भव से धारी, आरती श्री जगन्नाथ मंगल कारी, आरती श्री बैकुंठ मंगलकारी,

57

श्री झूलेलाल जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

ॐ जय दूलह देवा,    साईं जय दूलह देवा । पूजा कनि था प्रेमी,    सिदुक रखी सेवा ॥ ॥ ॐ जय दूलह देवा...॥ तुहिंजे दर दे केई,    सजण अचनि सवाली । दान वठन सभु दिलि,    सां कोन दिठुभ खाली ॥ ॥ ॐ जय दूलह

58

श्री ललिता माता की आरती

10 मई 2022
0
0
0

श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी । राजेश्वरी जय नमो नमः ॥ करुणामयी सकल अघ हारिणी । अमृत वर्षिणी नमो नमः ॥ जय शरणं वरणं नमो नमः । श्री मातेश्वरी जय त्रिपुरेश्वरी ॥ अशुभ विनाशिनी, सब सुख दायि

59

श्री बद्रीनाथ जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

पवन मंद सुगंध शीतल, हेम मंदिर शोभितम् । निकट गंगा बहत निर्मल, श्री बद्रीनाथ विश्व्म्भरम् ॥ शेष सुमिरन करत निशदिन, धरत ध्यान महेश्वरम् । वेद ब्रह्मा करत स्तुति, श्री बद्रीनाथ विश्वम्भरम् ॥ ॥

60

श्री केदार नाथ जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

जय केदार उदार शंकर,मन भयंकर दुःख हरम | गौरी गणपति स्कन्द नन्दी,श्री केदार नमाम्यहम् | शैल सुन्दर अति हिमालय, शुभ मन्दिर सुन्दरम | निकट मन्दाकिनी सरस्वती, जय केदार नमाम्यहम | उदक कुण्ड है अधम पावन,

61

श्री यमुना जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

ॐ जय यमुना माता, हरि जय यमुना माता । जो नहावे फल पावे सुख दुःख की दाता ।। ॐ जय यमुना माता… पावन श्रीयमुना जल अगम बहै धारा । जो जन शरण में आया कर दिया निस्तारा ।। ॐ जय यमुना माता… जो जन प्रात

62

श्री चन्द्रदेव जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

ॐ जय सोम देवा, स्वामी जय सोम देवा । दुःख हरता सुख करता, जय आनन्दकारी । रजत सिंहासन राजत, ज्योति तेरी न्यारी । दीन दयाल दयानिधि, भव बन्धन हारी । जो कोई आरती तेरी, प्रेम सहित गावे । सकल मनोरथ दायक,

63

श्री भैरव देव जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैरव देवा । जय काली और गौर देवी कृत सेवा ॥ ॥ जय भैरव देवा...॥ तुम्ही पाप उद्धारक दुःख सिन्धु तारक । भक्तो के सुख कारक भीषण वपु धारक ॥ ॥ जय भैरव देवा...॥ वाहन श्वान विर

64

श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं.

10 मई 2022
0
0
0

श्री बांके बिहारी तेरी आरती गाऊं, हे गिरिधर तेरी आरती गाऊं । आरती गाऊं प्यारे आपको रिझाऊं, श्याम सुन्दर तेरी आरती गाऊं । ॥ श्री बांके बिहारी...॥ मोर मुकुट प्यारे शीश पे सोहे, प्यारी बंसी मेरो

65

श्री गोवर्धन महाराज जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

दीपावली के तुरंत बाद आने वाली गोवर्धन पूजा में गाई जाने वाली प्रमुख आरती। श्री गोवर्धन महाराज, ओ महाराज, तेरे माथे मुकुट विराज रहेओ। ॥ श्री गोवर्धन महाराज...॥ तोपे  पान चढ़े, तोपे फूल चढ़े, तोप

66

माँ चंडी चालीसा

10 मई 2022
4
0
0

दोहा  जय माँ चंडी चंडिका, चामुंडा शक्ति स्वरूप । प्रचंड हुई प्रचंडी माँ , धार ज्योति का रूप ।। ब्रह्मां की ब्रह्माणी माँ , विष्णु की लक्ष्मी मात । चंडी काली गौरी माँ , हो रहती शिव के साथ।। चोपाई

67

हवन प्रार्थना की आरती

10 मई 2022
1
0
0

पूजनीय प्रभु हमारे,   भाव उज्जवल कीजिये । छोड़ देवें छल कपट को,   मानसिक बल दीजिये ॥ वेद की बोलें ऋचाएं,   सत्य को धारण करें । हर्ष में हो मग्न सारे,  शोक-सागर से तरें ॥ अश्व्मेधादिक रचायें,  

68

यज्ञ देवता जी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

हे यज्ञ देवता नमस्कार है महिमा तेरी अति अपार, है….. जय वायु शुद्ध करने वाले, भक्तों का दुःख हरने वाले। सुख शांति धन वैभव आदी, भक्तों के घर भरने वाले।। है नमन हमारा बार-बार। . यज्ञों से हो पवित्र

69

श्री भगवद्‍ गीता आरती

10 मई 2022
0
0
0

जय भगवद् गीते, जय भगवद् गीते । हरि-हिय-कमल-विहारिणि, सुन्दर सुपुनीते ॥ कर्म-सुमर्म-प्रकाशिनि, कामासक्तिहरा । तत्त्वज्ञान-विकाशिनि, विद्या ब्रह्म परा ॥ ॥ जय भगवद् गीते...॥ निश्चल-भक्ति-विधाय

70

संकट मोचन हनुमानाष्टक आरती

10 मई 2022
0
0
0

॥ हनुमानाष्टक ॥ बाल समय रवि भक्षी लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारों । ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो । देवन आनि करी बिनती तब, छाड़ी दियो रवि कष्ट निवारो । को नहीं जानत है

71

श्री बालाजी की आरती

10 मई 2022
0
0
0

ॐ जय हनुमत वीरा, स्वामी जय हनुमत वीरा । संकट मोचन स्वामी, तुम हो रनधीरा ॥ ॥ ॐ जय हनुमत वीरा..॥ पवन पुत्र अंजनी सूत, महिमा अति भारी । दुःख दरिद्र मिटाओ, संकट सब हारी ॥ ॥ ॐ जय हनुमत वीरा..॥

72

श्री पशुपति नाथ जी की आरती

11 मई 2022
0
0
0

ॐ जय गंगाधर जय हर जय गिरिजाधीशा । त्वं मां पालय नित्यं कृपया जगदीशा ॥ ॐ जय गंगाधर … कैलासे गिरिशिखरे कल्पद्रमविपिने । गुंजति मधुकरपुंजे कुंजवने गहने ॥ ॐ जय गंगाधर … कोकिलकूजित खेलत हंसावन ललित

73

श्री राधा कृष्णा आरती

11 मई 2022
0
0
0

ॐ जय श्री राधा जय श्री कृष्ण, श्री राधा कृष्णाय नमः | घूम घुमारो घामर सोहे जय श्री राधा, पट पीताम्बर मुनि मन मोहे जय श्री कृष्ण | जुगल प्रेम रस झम-झम झमकै, श्री राधा कृष्णाय नमः | राधा राध

74

माँ चामुण्डा देवी जी की आरती

11 मई 2022
0
0
0

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति । तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री ॥टेक॥ मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को । उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको ॥जय॥ कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै। रक्त

75

श्री सीता माता की आरती

11 मई 2022
0
0
0

आरती श्री जनक दुलारी की | सीता जी रघुवर प्यारी की || जगत जननी जग की विस्तारिणी, नित्य सत्य साकेत विहारिणी, परम दयामयी दिनोधारिणी, सीता मैया भक्तन हितकारी की || आरती श्री जनक दुलारी की | सीत

76

श्री शीतला माता की आरती

11 मई 2022
0
0
0

ओम जय शीतला माता, मैया जय शीतला माता, आदि ज्योति महारानी सब फल की दाता। जय शीतला माता... रतन सिंहासन शोभित, श्वेत छत्र भ्राता, ऋद्धि-सिद्धि चंवर ढुलावें, जगमग छवि छाता। जय शीतला माता... विष्णु सेव

77

श्री बाबा मोहन राम जी का आरती

11 मई 2022
0
0
0

आरता खोली वाले का, कृष्ण के अवतारी का । मोहन मुरली वाले का , नृसिंह अवतारी का । । आरता बंशी वाले का ...........(१) धन्ना जाट तेरी धन्य कमाई , जिसने प्रीति हरि संग लायी । एक मन होकर नाम रटाई , हु

78

श्री शालीग्राम जी की आरती

11 मई 2022
1
0
0

शालीग्राम     सुनो    विनती    मेरी |  यह     वरदान     दयाकर    पाऊं ||     प्रातः   समय  उठी   मंजन  करके |  प्रेम     सहित      स्नान      कराऊं ||   चन्दन    धूप     दीप     तुलसीदल | वरण -

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए