shabd-logo

तथागत बुद्ध का बहुजन हिताय बहुजन सुखाय

22 मार्च 2022

67 बार देखा गया 67
तथागत बुद्ध का जन्म आज से ढाई हजार वर्ष पूर्व लिंबनी वन में हुआ था ,,बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था,सिद्धार्थ को  जब ज्ञान की प्राप्ति हुई तब वे बुद्ध कहलाए, तथागत बुद्ध ने बहुजन हिताय बहुजन सुखाय का नारा दिया था ,जिसका मतलब था ,,जो पीड़ित लोग है वे मेरे पास आए अर्थात हम कह सकते है की तथागत बुद्ध का बहुजन हिताय बहुजन सुखाय का नारा पीड़ा पर आधारित था तथा बुद्ध के पास वे लोग आए तो पीड़ित थे,,मगर आज के परिवेश में बुद्ध की इस विचारधारा को कुछ लोगो ने एक जाति व्यवस्था के नाम पर नाम दिया की sc st OBC mainarti के लोग ही बहुजन है बाकी सब सर्वजन है ,,,यह बुद्ध की विचारधारा नहीं है,,यह आज के जातिवादी नेताओ की विचारधारा है ,तथा बुद्ध की इस विचारधारा को गलत तरीके से समाज में पेश कर जातिवाद का जहर बोने का कार्य किया जा रहा है,,,बुद्ध ने कभी किसी जाति की बात नही कही ,सबको समानता की बात कही ,,,आज बुद्ध के नाम संगठन चलाने वाले को इस बात को समझना जरूरी हो गया है,,,,

Adv Yashwant Bharti की अन्य किताबें

भारती

भारती

बेहतरीन रचना 👌🏻👌🏻

22 मार्च 2022

1

तथागत बुद्ध का बहुजन हिताय बहुजन सुखाय

22 मार्च 2022
1
1
1

तथागत बुद्ध का जन्म आज से ढाई हजार वर्ष पूर्व लिंबनी वन में हुआ था ,,बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था,सिद्धार्थ को जब ज्ञान की प्राप्ति हुई तब वे बुद्ध कहलाए, तथागत बुद्ध ने बहुजन हिताय बहुजन स

2

शोषण से संरक्षण ,,,, डा आंबेडकर

24 मार्च 2022
1
0
0

डा अम्बेडकर ने कहा था,,मुट्ठी भर लोगो द्वारा बहुसंख्यक जनता का शोषण इसलिए संभव हो रहा है की पैदावार के संसाधन ,जैसे जल ,जंगम ,जमीन, खादान, उद्योग धंधों ,कल कारखानों, यातायात के संसाधान,बैंक इत्यादि पर

3

समानता स्वतंत्रता बंधुता का बाबा साहेब डा अम्बेडकर के शब्दों में मतलब

26 मार्च 2022
0
0
0

समानता के बिना स्वतंत्रता नहीं आ सकती है, और समानता के बिना बंधुत्व नहीं हो सकता है समानता, स्वतंत्रता और बंधुता एक दूसरे की पूरक हैं,समानता का अर्थ= राजनैतिक,सामाजिक ,आर्थिक और शैक्षणि

4

समानता स्वतंत्रता बंधुता का बाबा साहेब डा अम्बेडकर के शब्दों में मतलब

13 अप्रैल 2022
0
0
0

<div><br></div><div>समानता के बिना स्वतंत्रता नहीं आ सकती है, </div><div>और समानता के बिना बंधुत्व नहीं हो सकता है</div><div> समानता, स्वतंत्रता और बंधुता एक दूसरे की </div><div>पूरक है

5

जाति प्रश्न पर अम्बेडकर और मार्क्स

13 अप्रैल 2022
1
1
0

क्रान्तिकारी साथियों, समाज में जब निजी सम्पत्ति नहीं थी तो कोई वर्ग नहीं था अर्थात कोई अमीर-गरीब नहीं था, कोई ऊँच-नीच नहीं था बराबरी थी। ऊँच-नीच, अमीर-गरीब निजी सम्पत्ति के ब

6

बाबा साहेब डा अम्बेडकर का असली मिशन,,

14 अप्रैल 2022
2
0
0

*बाबा साहेब का असली मिशन*डा भीम राव अंबेडकर की जयंती पर नमन! बाबा साहेब के कुछ बुद्धजीवी अंधभक्त बाबा साहेब को बगैर पढ़े उनकी मूर्ती के गले या पोस्टर पर माला चढ़ा कर जय भीम, जय-जय भीम बोल कर अपना दायित्

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए