shabd-logo

मां की शान

7 जून 2023

6 बार देखा गया 6
मां बनकर मैंने जाना
मां की ममता को
ना जाने कितनी रातें वह
यूं ही गुजार देती है।
अपने नींदों को खराब करके
बच्चों का ख्याल रखती है।
मां बनकर मैंने जाना
कितना त्याग समर्पण है मां में
बच्चों के सामने अपना दुख दर्द भूल कर
उनके जीवन में खुशियां लाने के लिए
अपनी खुशियों को उन पर वार देती है।
अपने अस्तित्व को मिटा कर भी
वह हंसती है खिलखिलाती है
वह गीत खुशियों के गुनगुनाती है
अपने कर्तव्य के पथ पर वह
पन्नाधाय बन जाती है।
रण में पुत्र को पीठ पर बांधकर
लक्ष्मीबाई बनकर वह
 देश की शान बढ़ाती है।
शिवाजी को गढ़ कर वह
जीजाबाई बन मराठों का गौरव
याद दिलाती है।
इतिहास भरा है मां के गान से
ईश्वर का उपहार है वह
जन्नत है उसके पैरों के नीचे
 प्रेम ,श्रद्धा, विश्वास है वह
हे! नादान पुरुष तू
मां का कभी तिरस्कार मत कर
मां सिर्फ मां है और
मां का होना ही 
सबसे खूबसूरत  पल है
तेरी जिंदगी का। 
                            (©ज्योति)


 Dr.Jyoti Maheshwari

Dr.Jyoti Maheshwari

Thank you so much 🙏

8 जून 2023

प्रभा मिश्रा 'नूतन'

प्रभा मिश्रा 'नूतन'

बहुत गजब लिखा आपने

8 जून 2023

 Dr.Jyoti Maheshwari

Dr.Jyoti Maheshwari

मां शब्द ही वह अहसास है जो आपके जीवन में कोमल पल्लवित भावों को जन्म देता है। मां बच्चे की प्रथम शिक्षिका तथा बच्चों का संस्कार है।

7 जून 2023

8
रचनाएँ
सपनों की उड़ान
0.0
मेरी ये किताब सपनों की उड़ान उन लड़कियों को समर्पित है जो अपनी मेहनत और प्रतिभा के बल पर समाज में अपना नया मुकाम हासिल करती हैं और अपने सपनों को पूरा करती हैं। यह किताब उन लड़कियों की व्यथा भी है जो अपने सपने पूरा करना चाहती हैं लेकिन समाज की बंदिशों से घबराकर आत्मसमर्पण कर देती हैं। अपने सपने टूटने का उन्हें जिंदगी भर मलाल रहता है। आशा है मेरा यह कविताओं का संग्रह आपको अवश्य पसंद आएगा। और आप इसकी समालोचना करेंगे।
1

नई शुरुआत

28 मई 2023
1
1
2

चलो आज एक नई शुरुआत करते हैंअपनों से अपनी बात करते हैंशब्द कुछ अनकहे से जो रह गएआज हम फिर से उन्हें याद करते हैं।चलो आज एक नई शुरुआत करते हैंअब हम फिर से मुस्कुराएंगे बात बात परअब हम फिर से जीवन में ब

2

एक स्त्री की व्यथा

31 मई 2023
0
0
0

मत रोको मेरी उड़ान कोमत रोको मेरी पहचान कोजब भी कुछ नया करती हूंतुम्हारे विचार रौद देते हैंनहीं बर्दाश्त कर पाते वेएक स्त्री का आगे बढ़ना।तुम बार-बार देते हो ताने मुझेकभी मेरी शक्ल परकभी मेरी अक्ल परक

3

आकाश में उड़ती परियां

31 मई 2023
0
0
1

आकाश में उड़ती परियां हो तुमदूसरों की प्रेरणा हो तुमअपने सपनों को मेहनत के पंख लगाकर साकार करती तुमन जाने कितने पंखों को उड़ान दे गई हो।कितने विरोधों और संघर्ष के बीचतुमने बनाया है अपना नया आकाशय

4

मां की शान

7 जून 2023
1
1
3

मां बनकर मैंने जानामां की ममता कोना जाने कितनी रातें वहयूं ही गुजार देती है।अपने नींदों को खराब करकेबच्चों का ख्याल रखती है।मां बनकर मैंने जानाकितना त्याग समर्पण है मां मेंबच्चों के सामने अपना दुख दर्

5

अल्हड़ चंचल लड़की

2 अगस्त 2023
1
1
1

एक अल्हड़ सीचंचल सी लड़की घूम रही हवा के झोंके सीगांव में शहर में लेके साइकिलकभी वह खेतों में करती कामकभी वह दुहती दूध गाय कानहीं देखा कभी उसे आराम करते हुएपढ़ने जाती है वह स्कूलवहां भी पढत

6

मेरी कक्षा

12 अगस्त 2023
2
2
4

एक नटखट सी लड़कीकुछ शरारत भरी आंखेंकुछ मुस्कुराते चेहरेकुछ खिलखिलाते हंसतेलोटपोट होते बच्चेइन्हें में अक्सर अपनी कक्षा में देखा करती हूंयह भविष्य मेरे देश काऐसा सोचा करती हूं।हम बताएं हम बताएंकित

7

चंद्रयान पर सफल लैंडिंग

24 अगस्त 2023
3
2
2

आज चांद पर अपना चंद्रयान उतर गयाचांद के कुछ राजो पर से पर्दाअब उतरने वाला हैकुछ मिथक टूटेंगेकुछ नया सच होने वाला है।यह सब आसान कहां थाकितने ख्वाब टूटे हैकितनी आशाएं हमने पाली हैंकितनी मेहनत है उन वैज्

8

मातृभाषा हिंदी

14 सितम्बर 2023
3
2
3

हिंदी सिर्फ भाषा नहींतेरी मेरी पहचान है हिंदी वह फूल हैजिससे महका हिंदुस्तान है।हिंदी देवों की वाणी है हिंदी भारत की पहचान हैहिंदी विश्व का गौरवसबका आत्माभिमान है।हे मानव नादान!हिंदी को अपना

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए