shabd-logo

पाकिस्तानी आर्मी के नए जनरल बाजवा एवं ... !!

29 नवम्बर 2016

313 बार देखा गया 313
featured image

हमारे पडोसी देश पाकिस्तान की आर्मी के अब तक सैन्य प्रमुख रहे राहिल शरीफ ने बिना किन्तु-परंतु के अपना पद छोड़कर एक अलग उदाहरण पेश करने का साहस किया है, क्योंकि पाकिस्तान में अब तक अधिकांश सैन्य-प्रमुखों ने लोकतंत्र को कालिख ही लगाई है. जनरल मुशर्रफ एवं जिया उल हक़ जैसे सैन्य शासकों ने तो न केवल पाकिस्तान की सरकारों को बर्खास्त किया, बल्कि भारत के साथ अनायास युद्ध छेड़कर पाकिस्तान को दशकों पीछे धकेल दिया. यूं तो पाकिस्तान की समूची आर्मी एवं जनता को भी भारत विरोध का पाठ पढ़ाया जाता रहा है, किन्तु कुछ ने अपनी हदें पर की हैं, जिसका परिणाम पाकिस्तान के बंटवारे एवं उसके घोर पिछड़ेपन के रूप में सामने आया है. हालाँकि, नए जनरल के चुनाव से पूर्व कयास लगाए जा रहे थे कि जनरल राहील शरीफ अपने कार्यकाल का विस्तार करा सकते हैं, किंतु अपने देश में आतंकवाद के खिलाफ 'ज़र्ब-ए-अज्ब' अभियान छेड़ कर उन्होंने जो लोकप्रियता पाई थी उसे एक महत्वकांक्षी जनरल बन कर वह गंवाना नहीं चाहते थे और इस बाबत उन्होंने बिलकुल सटीक फैसला भी लिया. वैसे, तमाम विशेषज्ञ पाकिस्तान में यूं आसानी से जनरल चुने जाने को लोकतंत्र की मजबूती के तौर पर भी देख रहे हैं, किन्तु इसके पीछे कई पेंच हैं जिन्हें समझा जाना आवश्यक है. कहा तो यही जा रहा है कि नए चुने गए जनरल कमर जावेद बाजवा को यह जिम्मेदारी लोकतंत्र के प्रति उनके नरम विचारों के चलते मिली है और संभवतः इन बातों का कुछ योगदान भी हो, किन्तु सिर्फ इसे ही सच मान लिया जाए तो उचित नहीं होगा. आगे की पंक्तियों में नए जनरल के आसान चुनाव की परतें खोलने की कोशिश करेंगे. जहां तक प्रश्न पाकिस्तान आर्मी और भारत के संबंधों का है तो इसकी मुख्य नीति आतंकवाद फैलाने और कश्मीर के इर्द-गिर्द ही सिमटी रही है और नए जनरल बाजवा के कार्यकाल में भी इसमें कोई खास तब्दीली तब्दीली नहीं आने वाली! General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, India, America, China, Afghanistan, World Politics, Terrorism


article-image

General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, India, America, China, Pakistani Generals

वस्तुतः बांग्लादेश के पाकिस्तान से अलग हो जाने के उपरांत पाकिस्तानी आर्मी यह मान चुकी है कि भारत से सीधे युद्ध में जीत पाना नामुमकिन ही है और इसीलिए पाकिस्तान आकुपाइड कश्मीर पर अपने नाजायज कब्जे को जायज ठहराने और कश्मीरियों को उकसाने के लिए वह आतंकवाद का सहारा लेते रहते हैं जिससे कश्मीर जलता रहता है और भारत पाकिस्तान के बीच तलवारें खींची रहती हैं. जाहिर तौर पर पाकिस्तान को एक रखने के लिए जिस ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है वह पाकिस्तानी आर्मी भारत विरोध से ही हासिल करती रही है. तमाम विशेषज्ञ नए जनरल की नियुक्ति के बाद भी इस मुद्दे पर कुछ बड़ा बदलाव आने से इनकार कर रहे हैं. मतलब भारत के संदर्भ में जनरल बाजवा की नीति कमोबेश अपने पूर्ववर्ती जनरल राहिल शरीफ के उठाए गए कदमों पर ही आगे बढ़ेगी. हालांकि भारत ने जिस तरह सर्जिकल स्ट्राइक की है और खुलेआम घोषणा भी की है, उससे पाकिस्तानी आर्मी के नए चीफ को ज़मीनी रणनीति में कुछ बदलाव करना पड़ सकता है. इस सम्बन्ध में, भारत के पूर्व थल सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने बेहद सधी हुई टिप्पणी की है. पाकिस्तान के नए सेना प्रमुख की नियुक्ति पर एक्स इंडियन आर्मी चीफ ने साफ कहा है कि भारत को नए पाकिस्तानी जनरल से सतर्क रहने की जरुरत है! गौरतलब है कि जनरल विक्रम सिंह संयुक्त राष्ट्र के एक मिशन में बाजवा के साथ काम कर चुके हैं. उन्हें बेहद प्रोफेशनल व्यक्ति करार देते हुए जनरल बिक्रम ने कहा कि शांति मिशन में जनरल बाजवा और तमाम अधिकारी काफी मिलनसार रहते हैं, किंतु वही अधिकारी जब स्वदेश लौटते हैं तब मामला दूसरा हो जाता है. हालाँकि, जनरल बिक्रम सिंह ने यह भी उम्मीद जताई है कि 'पाकिस्तानी सेना प्रमुख पाकिस्तान में फैल रहे चरमपंथी आतंकवाद को भारत के मुकाबले ज्यादा बढ़ा खतरा कंसीडर करेंगे'! देखा जाए तो पाकिस्तान के लिए उचित भी यही है, क्योंकि अगर आप आंकड़े निकालेंगे तो पाकिस्तानी आवाम की जो क्षति आतंकवाद से हुई है वैसी क्षति किसी अन्य चीज से नहीं! पर चूंकि, कश्मीर मुद्दे को पाकिस्तान अपने गले की नस करता रहता है और शायद इसीलिए भारत से लगी अपनी सीमा की मामलों के विशेषज्ञ लेफ्टिनेंट जनरल कमर जावेद बाजवा को 4 अधिकारियों पर तवज्जो देते हुए पाकिस्तानी पीएम नवाज शरीफ ने उन्हें नया सेना प्रमुख घोषित किया है. General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, India, America, China, Afghanistan, World Politics, Terrorism


article-image

General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, India, America, China, Afghanistan, World Politics, Terrorism


वैसे तमाम आंकलनों में यह बात सामने आ रही है कि जनरल कमर जावेद बाजवा लोकतंत्र के समर्थक और लो प्रोफाइल व्यक्ति रहे हैं और इसी दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए पाकिस्तानी गवर्नमेंट ने उन्हें सीनियर अधिकारियों पर दी तवज्जो दी है. पाकिस्तान के प्रमुख अखबार द न्यूज़ ने इस संबंध में टिप्पणी की है कि 'जनरल बाजवा का प्रोफाइल स्पष्ट तौर पर बताता है कि उनका लोकतंत्र समर्थक होना ही सेना प्रमुख के तौर पर उन्हें कमान सौंपी जाने की सबसे बड़ी वजह है.' चूंकि, पाकिस्तान अपने 7 दशकों के इतिहास में अपने आधे समय से ज्यादा सैन्य तानाशाहों के चंगुल में रहा है, इसलिए इस बार नवाज शरीफ ने लोकतंत्र समर्थक एंगल को ध्यान में रखते हुए जनरल बाजवा को दूसरों पर तवज्जो दी है. जो खबरें आ रही हैं, उसके मुताबिक सेना प्रमुख की रेस में आगे चल रहे चारों जनरल मिलिट्री एकेडमी से एक ही दिन पास आउट हुए थे, लेकिन बाजवा का अनुभव अन्य जनरल्स की तुलना में काफी बहुमुखी रहा है. संभवतः जनरल बाजवा की क्षमता, विश्वसनीयता, अनुभव और सबसे बड़ी कोर के नेतृत्व करने के चलते उन्हें चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ के पद के लिए आगे किया गया है. इसी संबंध में पाकिस्तान के दूसरे प्रमुख अखबार डॉन ने लिखा है कि लोकतांत्रिक सरकार के साथ बेहतर रिश्ता बनाने का विचार ही बाजवा को सेना प्रमुख के पद तक ला सका सका है. देखना दिलचस्प होगा कि बलूच रेजीमेंट से ताल्लुक रखने वाले जनरल बाजवा पाकिस्तान के 16वें सैन्य प्रमुख के तौर पर क्या बदलाव ला पाते हैं. इस पर तमाम दुनिया की नजर है और आगे भी बनी रहेगी, क्योंकि पाकिस्तान में सेना प्रमुख का मतलब कई अर्थों में 'राष्ट्र प्रमुख' भी होता है. छुपी परतों की बात करें तो, एक और महत्वपूर्ण तथ्य जो जनरल बाजवा की नियुक्ति में शामिल है, वह अमेरिका में बदले सत्ता-तंत्र से भी संबंधित है. जिस तरह से डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के राष्ट्रपति चुने गए हैं, उस ने पाकिस्तान को खासा चिंतित किया है, क्योंकि पाकिस्तान में सेना प्रमुख विदेश नीति का एक बड़ा एजेंडा तय करता है. अब चूँकि, अमेरिकी राष्ट्रपति की छवि आतंकवाद के साथ इस्लामिक चरमपंथ के विरोधी के तौर पर भी है, तो पाकिस्तान का चिंतित होना लाजमी ही है. General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, India, America, China, Afghanistan, World Politics, Terrorism


article-image

General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy

अमेरिका से बड़ी मदद हासिल करने वाला पाकिस्तान अमेरिका का विश्वास लगातार खोता जा रहा है और नए जनरल के माध्यम से कहीं न कहीं अविश्वास की इस दीवार पर लेप लगाने की चाहत भी पाकिस्तान ने पाल राखी होगी. बहुत मुमकिन है कि जनरल बाजवा की उदार छवि को इसलिए भी तवज्जो दी गई है. जाहिर तौर पर पाकिस्तान में आतंकवाद से निपटने की रणनीति के साथ-साथ अमेरिका से तालमेल बिठाना जनरल बाजवा के लिए एक बड़ी चुनौती रहेगी. न केवल अमेरिका, बल्कि जनरल बाजवा की छवि को लेकर शेष दुनिया को भी सकारात्मक संदेश देने की कोशिश पाकिस्तान सरकार द्वारा अंजाम दी गई है. इस संबंध में अगर चीन की बात करते हैं तो वह पाकिस्तान के शुभ चिंतक के तौर पर खुद को स्थापित करने की पुरजोर कोशिश में लगा हुआ है और नए जनरल की नियुक्ति के पश्चात भी आर्थिक कारिडोर (CPEC) के माध्यम से पाकिस्तानी जनता पर अपना प्रभाव मजबूत करता रहेगा. इन तमाम बातों के बीच सबसे महत्वपूर्ण नए जनरल का दृष्टिकोण ही रहेगा जो तय करेगा कि पाकिस्तान 21वीं शताब्दी में तमाम नए विकासवादी नियमों को आत्मसात करेगा अथवा आतंकवाद और भारत विरोधी मानसिकता को पालना जारी रखेगा. नए जनरल यह बात बखूबी जानते होंगे कि भारत या किसी अन्य देश के मुकाबले खड़े होने में पाकिस्तान के सामने सबसे बड़ी चुनौती उसकी गलत नीतियां ही हैं, वह चाहे चरमपंथियों को प्रमोट करना हो या भारत सहित अफगानिस्तान में आतंकवादियों को भेज कर अव्यवस्था फैलाने की सुनियोजित कोशिश ही क्यों न हो! भाग्य से पाकिस्तान के जनरल के पास इतनी ताकत होती है कि वह पाकिस्तान को गलत रास्ते से सही रास्ते पर ला सके और इसका नमूना जनरल बाजवा के पूर्ववर्ती जनरल राहिल शरीफ ने ज़र्ब-ए-अज्ब आतंकवाद विरोधी अभियान शुरू कर बखूबी दिया है. General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, India, America, China, Afghanistan, World Politics, Terrorism

यह भी पढ़ें: कश्मीर-समस्या 'आज़ादी से आज तक' अनसुलझी क्यों और आगे क्या ?


article-image

General Qamar Javed Bajwa, Hindi Article, New, Pakistan Army Chief, Foreign Policy, NSA of India and Pakistan

हालाँकि, वह भी कई बार भारत विरोधी राग ही अलापते रहे थे, पर पाकिस्तान में आंतरिक आतंकवाद से निपटने के लिए उनके प्रयासों की सराहना अवश्य की जानी चाहिए. कम से कम जनरल बाजवा उनकी इस विरासत को आगे बढ़ाएंगे इस बात की उम्मीद हर एक को होनी चाहिए. जनरल बाजवा को जनरल राहिल शरीफ के उस दर्द को भी समझना होगा कि आतंकवाद से आतंरिक रूप से लड़ने के बावजूद उन्हें वैश्विक स्तर पर वह इज्जत क्यों नहीं मिली, जिसके वह हकदार थे? इसका सीधा कारण यही था कि जनरल राहील शरीफ भी 'अच्छे आतंकवाद और बुरे आतंकवाद' की बचकानी परिभाषा में उलझ गए थे. मतलब आईएसआई द्वारा जो आतंक भारत या अफ़ग़ानिस्तान में फैलाया जा रहा है, वह पाकिस्तानी सेना की नज़र में 'अच्छा आतंकवाद' था, जबकि जो पाकिस्तान में आत्मघाती हमले हो रहे हैं, वह 'बुरा आतंकवाद'! जनरल बाजवा जैसे सुलझे दृष्टिकोण वाले व्यक्ति को अवश्य ही इन चक्करों में फंसकर अपना और अपने देश का नुक्सान करने से बचना चाहिए और हर तरह के आतंक पर पूर्ण विराम लगाने का यत्न करना चाहिए, अन्यथा वह लाख कोशिश कर लेंगे, पर अंततः उनका नाम भी राहील शरीफ जैसे अन्य पाकिस्तानी जनरल्स की तरह धुंधले अक्षरों में ही दर्ज रहेगा या फिर जनरल जिया उल हक़ या मुशर्रफ नामों जैसे 'काले अक्षरों' में क्योंकि उन्होंने भारत को ना समझने की भारी भूलें जो की थीं, बजाय कि अपने देश के "आतंकवाद एवं धर्मान्धता" को समझने के!


- मिथिलेश कुमार सिंह, नई दिल्ली.

मिथिलेश कुमार सिंह की अन्य किताबें

1

पोर्न पर राष्ट्रीय चर्चा का मतलब

7 अगस्त 2015
0
3
1

.... एक आंकड़े के अनुसार, भारत में आज भी 20 करोड़ लोग भूखे सोने को मजबूर हैं. क्या पोर्नोग्राफी जैसे मुद्दे को राष्ट्रीय चर्चा का विषय बनाना उन भूखे नंगों का मजाक उड़ाना नहीं है. ऐसे विषयों पर दिमाग कुंद हो जाता है तो अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को सांप सूंघ जाता है. सभी आंकड़े उलटे पुल्टे हो जाते हैं और क

2

यही कहती है हिन्दी... Kundaliya on Hindi by Mithilesh - Mithilesh's Pen | My Writing | Social, Political, Technical Articles.

13 सितम्बर 2015
0
2
0

Kundaliya on Hindi by Mithilesh

3

एंड्राइड ऐप का है ज़माना, आसान है बनाना! Free Android apps making guide, hindi tips, mithilesh2020

22 अप्रैल 2016
0
2
0

... सूचना प्रौद्योगिकी के लिए 'पैसे' खर्च करने वाले मित्रों से मैं हमेशा ही कहता हूँ कि इंटरनेट की दुनिया में कुछ नहीं बहुत कुछ मुफ्त है, बस जरूरत है थोड़ी सावधानी से उन्हें ढूँढ़ने और उसके ट्यूटोरियल्स देखने की. चूंकि, कई ट्यूटोरियल इतने आसान होते हैं कि उनके लिए आपको बहुत ज्यादा दिमाग नहीं खपाना होग

4

किन्नर अधिकारों की लड़ाई में सार्थक कदम! Transgender rights and Mahamandleshwar Lakshi in Simhasth, Hindi Article

5 मई 2016
0
2
0

... यदि व्यक्तिगत रूप से कहूं तो यह थोड़ा अजीब तो है, किन्तु जब बात एक बड़े समूह के अधिकारों और उनके जीवन जीने के ऊपर हो तो फिर यह निर्णय बेहद उचित प्रतीत होता है. भारतीय जीवन दर्शन में तो 'जीव-मात्र' के अधिकारों की बात कही गयी है और 'किन्नरों' के सन्दर्भ में इसे भारतीय समाज में पहले से ज्यादा स्वीकृत

5

बसपा और भाजपा से काफी आगे हैं अखिलेश!

14 जून 2016
0
1
2

अपने कई परिचितों से जब उत्तर प्रदेश की चुनावी गणित पर बात करता हूँ तो तमाम किन्तु और परन्तु के बावजूद अखिलेश यादव का पलड़ा भारी नज़र आता है. हालाँकि, कई लोग बसपा की मायावती के सत्ता में आने की सुगबुगाहट भी दिखलाते हैं, जैसा कि पिछले कुछ सर्वेक्षणों में भी दिखाया गया है, लेकिन जब इसके कारणों की पड़ताल क

6

अखिलेश सरकार को बदनाम करने की साजिश!

21 जून 2016
0
0
0

इस लेख की शुरुआत उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्य्मंत्री मायावती के उस बयान से करना चाहूंगा, जिसमें उन्होंने कैराना मुद्दे को साम्प्रदायिक रंग देने के लिए भाजपा की कड़ी निंदा करते हुए खोजी पत्रकारों की तारीफ़ की. हालाँकि, प्रदेश की कानून-व्यवस्था के लिए उन्होंने अखिलेश यादव को भी जरूर घेरा लेकिन भारतीय जनत

7

रूकना चाहिए पशुओं पर अत्याचार! Human civilization and animal, Cruelty, Hindi Article

21 जून 2016
0
2
0

जब से मानव ने सभ्यता सीखनी शुरू की और अपना विकास करना प्रारम्भ किया, लगभग तभी से उसने जानवरों के महत्व को भी समझ लिया था. उसने कुत्तों की वफ़ादारी को देखा और उसे अपना साथी बना लिया, जिससे उसे सुरक्षा मिली तो अपने भोजन और भूख की समस्याओं से निपटने के लिए उसने गाय और भैंस पालने शुरू कर दिए. सामान ढोने

8

बुंदेलखंड की बड़ी समस्या और अखिलेश यादव का मरहम!

26 जून 2016
0
0
0

वैसे तो बुंदेलखंड अपने दुर्भाग्य के लिए हमेशा ही चर्चा में बना रहता है, किन्तु पिछले दिनों पानी से भरी ट्रेन इस क्षेत्र में पहुँचने की खूब चर्चा रही जो अंततः खाली निकली. इस बात को लेकर पहले अफवाह फैलाई गयी कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बुंदेलखंड में पानी पहुंचा पाने में असफल रहे हैं, लेकिन जब अखिले

9

इसरो ने रची 'बेमिसाल' कामयाबी - ISRO launches 20 satellites, Hindi Article

26 जून 2016
0
2
0

... बताते चलें कि जो 20 उपग्रह अंतरिक्ष में भेजे गए हैं उनमें से 3 भारतीय और 17 विदेशी उपग्रह थे. जिसमें काटरेसैट-2 श्रृंखला का एक उपग्रह और दो चेन्नई के सत्यभामा विश्वविद्यालय और पुणे के कॉलेड ऑफ इंजीनियरिंग के छात्रों द्वारा तैयार उपग्रह था. बाकी के 17 उपग्रह अमेरिका, कनाडा, जर्मनी और इंडोनेशिया क

10

अपराध के राजनीतिक संरक्षण पर अखिलेश का 'वीटो'! Akhilesh Yadav against criminal, hindi article

3 जुलाई 2016
0
1
0

कल तक जो विश्लेषक यूपी की समाजवादी पार्टी सरकार को अपराधियों की मददगार मानते थे, वही आज अखिलेश यादव की मुक्तकंठ से सराहना कर रहे हैं. पिछले दिनों कई लेख और रिपोर्ट देखी, जिसमें अखिलेश यादव ने अपनी सरकार के आगे जाने का रोडमैप बेहद सख्ती से लागू किया. अभी ज्यादा दिन नहीं हुए, जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्

11

कोच पद के लिए रवि शास्त्री का अनुचित प्रलाप! Ravi Shastri Sourav Ganguly, controversy, Hindi Article, BCCI, Mithilesh

3 जुलाई 2016
0
3
0

दुनिया के सबसे ताकतवर क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष के रूप में जब अनुराग ठाकुर चयनित हुए, तब उन्होंने भारतीय क्रिकेट में सुधार को लेकर कई सारी प्रतिबद्धताएं व्यक्ति कीं, पर यह उनका दुर्भाग्य ही है कि इंडियन टीम के कोच-चयन को लेकर ही बड़ा विवाद खड़ा हो गया. हालाँकि, इसमें प्रथम दृष्टया गलती वरिष्ठ ख

12

सामाजिक-समीकरण एवं प्रदर्शन के अनुरूप है 'केंद्रीय मंत्रिमंडल-विस्तार' - Modi cabinet expansion, Irani, Javdekar, Hindi Article

6 जुलाई 2016
0
3
0

... अपने मंत्रिमंडल में विस्तार करते हुए नरेन्द्र मोदी ने 19 नए मंत्रियों को शपथ दिलाई, जिनमें शामिल हैं फग्गन सिंह कुलस्ते, अनिल माधव दवे, एसएस अहलुवालिया, रमेश चंदप्पा, राजेन गोहेन, रामदास अठावले, जसवंत सिंह भाभोर, अर्जुनराम मेघवाल, पुरुषोतम रुपाला, अजय टम्टा, महेंद्र नाथ पांडेय, कृष्णा राज, मनसुख

13

'वेबसाइट' न चलने की वजह से आत्महत्या ... !!! ??? Website, Blog, Portal Business, Failure, Suicide, Reason, Solution, Hindi Article, Mithilesh

6 जुलाई 2016
0
3
1

... आज केवल पत्रकारिता, लेखन में ही नहीं बल्कि टूरिज्म, मेडिकल, स्कूलिंग हर क्षेत्र में इंटरनेट जड़ तक घुसने के लिए ज़ोर लगा रहा है. चूंकि, मैं खुद इस व्यवसाय से पिछले 8 सालों से (8 Year experience in Digital marketing) सीधा जुड़ा हुआ हूँ और रोज अनेक क्षेत्रों से मेरे पास इंक्वायरी आती है कि मिथिलेश जी

14

प्रचार नहीं, 'अच्छे कार्यों का प्रसार' बना अखिलेश की पहचान!

12 जुलाई 2016
0
0
0

विश्व जनसँख्या दिवस 11 जुलाई को आकर चला गया. कई जगहों पर छिटपुट कार्यक्रम भी हुए, किन्तु इस दिन बड़े स्तर पर पर्यावरण को लेकर जो सरकारी जागरूकता दिखाई देनी चाहिए थी, वह कहीं दिखाई नहीं दी, सिवाय उत्तर प्रदेश के! सवाल है कि आप लोगों को जनसँख्या के प्रति, पर्यावरण के प्रति कैसे जागरूक करेंगे? अगर आप कि

15

चिट्ठी आयी है, आयी है ... Satire on letter writing, Ravish Kumar, Rohit Sardana, Journalism!

13 जुलाई 2016
0
2
0

आजकल चिट्ठियों की बड़ी चर्चा है और हो भी क्यों न आखिर कंप्यूटर, स्मार्टफोन के युग में कोई 'चिट्ठी' लिखे तो यह बात 'एंटीक' सा लगता है और बड़े लोगों को तो वैसे भी 'एंटीक' चीजें पसंद होती हैं. चिट्ठियों का इतिहास हम देखते हैं तो इसे 'प्रेम-पत्र' के रूप में कहीं ज्यादा मान्यता प्राप्त रही है. मसलन कुछ साल

16

यूपी चुनाव में बसपा, सपा, भाजपा और कांग्रेस का दांव! UP Election 2017, Complete Analysis, New Hindi Article, Mithilesh

15 जुलाई 2016
0
1
0

... पर कांग्रेस के लिए ऐसे दबंग और आपराधिक मुस्लिमों से खुलेआम हाथ मिलाना नामुमकिन की हद तक मुश्किल होगा, पर यह राजनीति है और राजनीति में कुछ भी 'नामुमकिन' नहीं होता है. प्रियंका गांधी के बारे में कहा जा रहा है कि वह प्रदेश भर में (UP Election 2017) प्रचार करेंगी और ऐसा होने पर उनकी जनसभाओं में भीड़

17

राम जेठमलानी द्वारा अखिलेश की तारीफ़ के मायने! Ram Jethmalani, Akhilesh Yadav and Politics

23 जुलाई 2016
0
0
0

राम जेठमलानी के बेबाक अंदाज़ को भला कौन नहीं जानता है. देश के मशहूर वकील उन लोगों में गिने जाते हैं, जो किसी भी मुद्दे पर सटीक टिपण्णी करते हैं. वह टिपण्णी करने से पहले यह नहीं सोचते हैं कि उनके सामने कौन खड़ा है और उससे उन्हें क्या फायदा या नुक्सान हो सकता है, बस उन्हें जो सच लगता है कह देते हैं. राज

18

फ़िल्मी दुनिया के 'भगवान' सिर्फ 'रजनी सर' ही क्यों, दूसरा क्यों नहीं? Rajinikanth, God for fans, Kabali Movie, Hero and Actors, Hindi Article, Review,

23 जुलाई 2016
0
3
0

हमारे देश में वैसे भी फिल्मों का प्रभाव किसी भी दुसरे माध्यम से ज्यादा है और बात जब 'रजनीकांत' जैसे सुपर-स्टार की हो तो फिर बाकी सब कुछ उसके सामने 'छोटा' दिखाई देने लगता है. आज 21वीं सदी में क्या आप इस बात की कल्पना भी कर सकते हैं कि किसी फिल्म की रिलीज-डेट पर कई बड़ी कंपनियां 'छुट्टी' की घोषणा कर दे

19

अगला नम्बर 'आपका' है ... !!

3 अगस्त 2016
0
3
0

पीछे की गली में मुशायरा चल रहा था, लेकिन उसका मन आज टीवी पर ख़बर देखकर विक्षिप्त सा हो गया था!यूं तो आये दिन वह रेप, बलात्कार की खबरें (Short story on rape) सुनता रहता था, किन्तु जैसे-जैसे उसकी बेटी बड़ी हो रही थी, ऐसी हर ख़बर उसे अपने ऊपर लगने लगती थी.आज किसी हाईवे पर हुई दरिंदगी की ख़बर सुनकर वह कांपन

20

हाईवे रेप-मामले में अखिलेश-प्रशासन का नाकारापन एवं समाज की चुप्पी! Crime in Uttar Pradesh

9 अगस्त 2016
0
1
0

कई बार एक सीधा प्रश्न मन में उठता है कि अपराध की रोकथाम के लिए गंभीरता से प्रयास हमारे भारत भर में आखिर कौन करता है? आपको इसका जवाब सौ फीसदी नकारात्मक ही मिलेगा. 16 दिसंबर 2012 को पूरे देश को हिला देने वाला 'निर्भया रेप-काण्ड' घटित हुआ और इसके लिए सड़क से संसद तक खूब हो-हल्ला मचा, कानून भी बना, महिला

21

गाय हमारी माता है, पर हमें कुछ नहीं आता है! Gorakshak Dal

9 अगस्त 2016
0
2
0

20वीं सदी में शायद ही कोई ऐसा बच्चा हो, जो स्कूल गया हो और उसने हिंदी या इंग्लिश में गाय पर निबंध न लिखा हो. गाय हमारी माता है, गाय के चार पैर, दो कान, दो सिंग और बला, बला...मुझे याद आता है, उस समय जब कोई विद्यार्थी गाय (Prime Minister Narendra Modi Lesson, Cow Protection) पर कुछ बोल नहीं पाता था, फ

22

अब पीएम के 'कार्यों और बयानों' का आंकलन होना ही चाहिए!

21 अगस्त 2016
0
1
0

2014 के लोकसभा चुनाव में भारत की जनता ने भारी बहुमत से गुजरात के मुख्यमंत्री को भारत के प्रधानमंत्री की कुर्सी पर बिठाया. शुरू के कुछ सालों में जनता और कई विश्लेषक पीएम के कार्यों का मिला-जुला आंकलन करते रहे, तो कइयों ने उन्हें 'हनीमून पीरियड' के रूप में 'सख्त विश्लेषण' से छूट भी दी. पर अब लगभग ढ़ाई

23

रक्षाबंधन पर यूपी सीएम का 'सराहनीय' प्रयास! Raksha Bandhan and Akhilesh Yadav

26 अगस्त 2016
0
0
0

रक्षाबंधन के अवसर पर उत्तर प्रदेश की लड़कियों के लिए इससे बेहतर तोहफा और क्या हो सकता है कि उन्हें सीएम अखिलेश यादव ने 30-30 हजार रुपये का चेक सौंपना शुरू किया है. जी हाँ, यूं तो कन्या विद्या धन योजना उत्तर प्रदेश सरकार की पुरानी योजना है, किन्तु इस बार जिस बड़े स्तर पर मुख्यमंत्री ने इसे व्यवहार में

24

रिजर्व बैंक में नयी 'ऊर्जा' और किन्तु-परंतु ... Reserve Bank of India, Governor Urjit Patel, Raghuram Rajan

26 अगस्त 2016
0
1
0

दर्जनों नामों के उछलने और 'लार्जर देन लाइफ' की इमेज बना चुके रघुराम राजन के उत्तराधिकारी की खोज इतनी भी आसान नहीं थी और इसके लिए मोदी सरकार ने माथापच्ची भी खूब की. अब पिटारा खुल गया है और उस पिटारे से जो नाम निकला है, वह 'उर्जित पटेल' का नाम है. अब आरबीआई के डिप्टी गवर्नर उर्जित पटेल भारतीय रिजर्व ब

25

भारत के वर्तमान सैन्य विकल्प एवं 'एटॉमिक फियर' से मुक्ति! Uri attack news, Hindi Article

21 सितम्बर 2016
0
2
0

कश्मीर स्थित उरी में आतंकियों के माध्यम से एक बार फिर पाकिस्तान ने हमारे 17 निर्दोष जवानों को मौत के मुंह में धकेल दिया है. सारा देश क्रोध से उबल रहा है, तो सरकार सहित तमाम मीडिया संस्थान घटना का विभिन्न स्तर पर लेखा-जोखा कर रहे हैं. इस हमले के बाद लगातार मैंने भी तमाम भारतीय नागरिकों की तरह विभिन्न

26

राहुल गाँधी की 'खाट' पर भला क्यों बैठेगी यूपी की जनता?

23 सितम्बर 2016
0
1
2

देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को अपने लंबे इतिहास में उतने बुरे दिन कभी नहीं देखने पड़े हैं, जितना इस पार्टी ने राहुल गाँधी के सक्रीय राजनीति में आने के बाद देखा. आखिर, कौन कल्पना कर सकता था कि कभी भारत भर में वर्चस्व रखने वाली कांग्रेस पार्टी एक-एक करके न केवल तमाम राज्यों से सिमट जाएगी, बल्कि

27

स्टूडेंट्स के लिए क्यों जरूरी है ब्लॉगिंग: महत्त्व एवं रास्ता

30 सितम्बर 2016
0
0
0

21वीं सदी में लगभग हर वह चीज बदल चुकी है या बदल रही है जो हमारे जीवन को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से प्रभावित करती रही है. इनमें कृषि, मीडिया-क्षेत्र, नौकरियों का प्रारूप इत्यादि शामिल किया जा सकता है, किन्तु दुर्भाग्य से यही बात 'एजुकेशन सिस्टम' के लिए समग्रता से नहीं कही जा सकती है. इसी क्रम में

28

मजबूत होकर वापसी कर सकते हैं अखिलेश!

4 अक्टूबर 2016
0
1
3

कहते हैं जो बाजी हारकर जीत जाए, वही सिकंदर कहलाता है. पिछले दिनों उत्तर प्रदेश की सत्ता पर विराजमान समाजवादी पार्टी में जो कलह खुलकर सड़कों पर सामने आयी, उसने इस पार्टी के सामने विपक्ष की चुनौतियों के अतिरिक्त नयी चुनौतियां भी पैदा कर डाला. अगर आप राजनीति के इतिहास को देखें तो इस तरह के आपसी विवाद, ल

29

ताबड़तोड़ मेट्रो प्रोजेक्ट्स के लिए अखिलेश यादव को धन्यवाद!

13 अक्टूबर 2016
0
0
0

उत्तर प्रदेश में अगर सबसे बड़े औद्योगिक शहर का नाम लिया जाए तो बिना किसी संदेह के कानपुर का नाम लिया जा सकता है, वह भी आज से नहीं, बल्कि कई दशकों से! वस्तुतः देश भर में कानपुर का विशेष स्थान है, किन्तु दुर्भाग्य से इस शहर की उपेक्षा काफी हद तक हुई थी, जिसे सुधारने का यत्न करते जरूर दिख रहे हैं अखिलेश

30

दिवाली का भारतीय अर्थशास्त्र एवं चीन संग आधुनिक व्यापार!

20 अक्टूबर 2016
0
2
1

दोनों शब्दों का इन दिनों खूब तालमेल नज़र आ रहा है. मीडिया से लेकर सोशल मीडिया और भारत से लेकर चीन तक इस उहापोह पर कड़ी नज़र भी रखी जा रही है. इस बात में रत्ती भर भी संदेह नहीं होना चाहिए कि वगैर राष्ट्रीय भावना के कोई राष्ट्र लंबे समय तक जीवित नहीं रह सकता और हमारे त्यौहार निश्चित रूप से लोगों को सामाज

31

हाँ, मोदी या इंदिरा के राजनीतिक उभार से जरूर सीख लें अखिलेश!

28 अक्टूबर 2016
0
1
0

समाजवादी पार्टी के हाई प्रोफाइल ड्रामे के बीच 24 अक्टूबर को हुई पार्टी की महाबैठक में मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव को सीख देते हुए कहा कि उन्हें पीएम मोदी से सीखना चाहिए, जो प्रधानमंत्री बनने के बाद भी अपनी माँ को नहीं भूले हैं. हालाँकि, सपा सुप्रीमो का सन्दर्भ यह था कि वह शिवपाल यादव, अमर सिंह क

32

खतरनाक प्रोडक्ट्स का पैसे के लिए विज्ञापन करते भारतीय सेलिब्रिटीज और जेम्स बांड!

30 अक्टूबर 2016
0
1
0

हमारे देश में यह नई बात नहीं है कि सिर्फ और सिर्फ पैसे की खातिर तमाम सेलिब्रिटीज उन वस्तुओं को भी प्रमोट करते नज़र आ जाते हैं, जो आम जनता के लिए सीधे तौर पर हानिकारक होता है. अगर घुमा फिरा के बात ना की जाए तो हमें नज़र आ जायेगा कि तमाम टॉप ग्रेड स्टार बॉलीवुड के सितारे हों अथवा क्रिकेट खिलाड़ी हों, उन

33

'अमर सिंह' जैसे तो बदनाम होने के लिए ही बनते हैं, किंतु ...

31 अक्टूबर 2016
0
1
0

समाजवादी पार्टी में हो रही पारिवारिक और राजनैतिक उठापटक से भला कौन परिचित नहीं होगा. जूतमपैजार मची है, एक दूसरे की टांग खींचने की जैसे प्रतियोगिता हो रही है और तो और अब पिता को कोई शाहजहां बता रहा है तो बेटे को कोई औरंगजेब! चाचा-भतीजा, भाई, सौतेली माँ इत्यादि सभी पारिवारिक मसाले इस ड्रामे में दिख रह

34

कश्मीरी आवाम के लिए भस्मासुर बन चुके हैं 'हुर्रियत अलगाववादी'!

2 नवम्बर 2016
0
1
0

जम्मू कश्मीर में पिछले दिनों से चल रही हलचल पर हर भारतीय दुखी हुआ होगा. आखिर कौन चाहता है कि उसके अपने ही भाई, उसके अपने हमकदम भारतीय लगातार कई महीनों तक कर्फ्यू से परेशान रहें, दुखी होते रहें! बड़ा आसान है कह देना कि इन समस्याओं के लिए भारत की सरकार या जम्मू-कश्मीर की राज्य सरकार जिम्मेदार है, मगर

35

ट्रंप की जीत के मायने, 'अमेरिका-भारत-रूस' का त्रिकोण संभव!

13 नवम्बर 2016
0
0
0

दुनिया भर में तमाम बदलाव हो रहे हैं एवं लोगों की मानसिकता भी उसी अनुपात में बदल रही है. कहा गया है कि 'परिवर्तन संसार का नियम है' और इस बात को श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने सविस्तार समझाया है. डोनाल्ड ट्रंप को पिछले 1 साल से हमने, आप ने खूब सुना है. हालांकि यह नाम उससे पहले भी रियल एस्टेट

36

पाकिस्तानी आर्मी के नए जनरल बाजवा एवं ... !!

29 नवम्बर 2016
0
1
0

हमारे पडोसी देश पाकिस्तान की आर्मी के अब तक सैन्य प्रमुख रहे राहिल शरीफ ने बिना किन्तु-परंतु के अपना पद छोड़कर एक अलग उदाहरण पेश करने का साहस किया है, क्योंकि पाकिस्तान में अब तक अधिकांश सैन्य-प्रमुखों ने लोकतंत्र को कालिख ही लगाई है. जनरल मुशर्रफ एवं जिया उल हक़ जैसे सैन्य शासकों ने तो न केवल पाकिस्

37

दिल्ली की बदलती राजनीति में फिट हैं मनोज तिवारी

2 दिसम्बर 2016
0
2
2

नवंबर के आखिरी दिनों में जब लोकप्रिय भोजपुरी गायक मनोज तिवारी की दिल्ली प्रदेश के भाजपा अध्यक्ष के रूप में घोषणा हुई तो मुझे कोई खास आश्चर्य नहीं हुआ. बरबस ही बीता विधानसभा चुनाव याद आ गया जिसमें आम आदमी पार्टी ने क्लीन स्वीप करते हुए 70 में से 67 सीटें अपनी झोली में डाल ली थी. इस बात में कोई दो राय

38

क्या आप पेस्ट करने के साथ टेक्स्ट को हिंदी में बदलना चाहते हैं?

10 दिसम्बर 2016
1
0
0

'धोबी का कुत्ता, न घर का न घाट का' नामक यह मुहावरा जब भी बना होगा, निश्चित रुप से इसे बनाने वाले ने नहीं सोचा होगा कि इसका सर्वाधिक प्रयोग राजनीतिक संदर्भ में ही किया जाएगा. हाल-फिलहाल इसका सबसे सटीक उदाहरण पंजाब से आ रहा है. पंजाब चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आता जा रहा है, नेता और कार्यकर्त्ता भी इधर उधर

39

बाप रे बाप, मुलायम का ऐसा भयानक दांव! Akhilesh Yadav Hindi Article

3 जनवरी 2017
0
12
5

कई बार अपच हो जाने से मेरा पेट खराब हो जाता है तो मैं 'कायम चूर्ण' का सेवन कर लेता हूँ. हाल-फिलहाल, बाबा रामदेव का चूरन भी लाया हूँ. उत्तर प्रदेश में पिछले दो-तीन दिनों से जो हलचल मची है और ऊपर ऊपर जो कहानी दिख रही थी, वह पच ही नहीं रही थी. दोनों चूर्ण खाये मैंने, पर फिर भी यह बात पची नहीं कि अखिलेश

40

बिहार की खुलकर तारीफ सुनना 'आत्मा' को सुकून दे रहा है!

9 जनवरी 2017
0
3
0

Pride of Bihar, Hindi Article, New, Guru Govind Singh, 350 Prakash Utsav, History of Bihar Essay, Nitish Kumar, Laloo Yadavहिंदी भाषी क्षेत्र में बिहार राज्य का प्रमुख स्थान है और यहां की प्राचीन और समृद्ध संस्कृति ने देश को काफी कुछ दिया है. आप चाहे राजनीति की बात करें, कूटनीति या शिक्षा की बात कर

41

जुबां को 'छोटी' ही रखें 'विराट'

10 नवम्बर 2018
2
0
0

अगर तुम 'ऐसे' हो तो देश छोड़ दो अगर तुम वैसे हो तो देश छोड़ दो!अगर तुम 'यह' खाते हो तो देश छोड़ दो अगर तुम 'वह' खाते हो तो देश छोड़ दो!अगर तुम 'अलग' तरह की सोच रखते हो तो देश छोड़ दो और अगर 'किसी खास तरह की सोच से इत्तेफाक नहीं रखते' तो देश छोडकर चले जाओ!सच कहा जाए तो देश छोड़ने की बात आज-कल इतनी कै

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए