shabd-logo

मेरी पहली रेल यात्रा

15 मार्च 2022

61 बार देखा गया 61

बात उन दिनों की है जब मैं 19 साल का था । मैं उस समय दिल्ली के करोल बाग के देव नगर मोहल्ले में रहता था ।

और बाली नर्सिंग होम में कंपाउंडर का काम करता था ।

बड़े डॉक्टर से किसी बात पर कहासुनी हो गयी और मैंने ताव में आकर नौकरी छोड़ दी । गर्म खून जो था उबाल तो मरना ही था और ऊपर से भगवान का आशीर्वाद की माँ बाप का इकलौता बेटा । चिंता किस बात की थी । अचानक से दिमाग ठनका अरे यार ! घर जाऊंगा तो पिता जी नाराज हो जायेगे कि , बड़ी मुश्किल से तो नौकरी लगाई थी और नालायक ने वो भी छोड़ दी ।

बस भाई फिर क्या था दिमाग मे एक विचार ने जन्म लिया क्यों न घर छोड़ कर अपनी जिंदगी का आनंद लिया जाए । और पिताजी के नाम पत्र लिख कर घर की पत्र पेटिका में डाल कर नई दिल्ली से लखनऊ के लिए गोमती एक्सप्रेस पकड़ ली और लखनऊ पहुंच गया ।

चलो वहां जो भी हुआ जैसे भी रहा उन बातों पर यहीं पर चार बिराम लगता हूँ और उस घटना पर आता हूँ जिससे शीर्षक जुड़ा है ।

तो हुआ यूं कि मैंने चार बाग रेलवे स्टेशन से ऋषिकेश के लिए देहरादून एक्सप्रेस की एक टिकट खरीदी टिकट का मूल्य लगभग 45 या 35 रुपये का रहा होगा , जब टिकट लिया तो एक गत्ते का छोटा सा टुकड़ा और उस पर छपा हुआ नाम से मैं  भर्मित हो गया , हिंदी में लिखा हुआ तो समझ मे नही आया छपाई साफ नही थी और इंग्लिश में कुछ यूं लिखा था hrishikesh अब मैं ठहरा पढ़ा लिखा लड़का और मैंने इग्लिश में लिखे नाम को हृषिकेश पढ़ लिया ।

अब दिमाग के घोड़े दौड़ने लगे अबे साले मैंने तो ऋषिकेश का टिकट लिया था और यह हृषिकेश कौन सी जगह है और यह सारी सोचने की परिक्रिया रेलगाडी में हो रही थी । आखिरी में मैंने एक सज्जन से पूछ ही लिया , श्रीमान जी ! आप से एक बात पूछनी थी , हाँ हाँ पूछो प्रतिउत्तर में जबाब आया ।

फिर मैंने पूछा भाई ! मैंने ऋषिकेश जाना है और इस टिकट पर हृषिकेश लिखा है यह हृषिकेश कहां है । उत्तर में वो भाई साहब बोले , क्यों टेंशन लेता है यह रेल गाड़ी हरिद्वार तो जाएगी ही वहां उतर जाना और वहां से ऋषिकेश की बहुत बसें जाती है ।

बस मैं उनकी बातों का अनुशरण करते हुए सुबह की नूतन किरणों और हर हर महादेव के दर्शन सहित हरिद्वार उतर गया ।

हरिद्वार रेलवे स्टेशन के अंदर ही एक रिक्शेवाले को पूछ बैठा , अरे भाई बस अड्डा कहाँ है …..आओं बाबू छोड़ देता हूँ , पैसा कितने लोगे मैंने पूछा जबाब में रिक्शावाला बोला 50 रुपये , अब मैंने सोचा कि जब यह किराया 50 रुपये कह रहा है तो बस अड्डा फिर तो काफी दूर ही होगा , और मैं राजा महाराजा की तरह अकड़ कर रिक्शे में बैठ गया । करीबन उसने आधा घंटे तक पता नही कहां कहां घुमाया और आखरी में बस अड्डे के पिछले गेट पर छोड़ दिया ।

मैं रिक्शा से उतरा और 50 का नोट तड़ी पूर्वक निकाल कर रिक्शे वाले को दे दिया । अब बस अड्डे के अंदर आया तो बस के बारे में मालूम किया पता चला कि ऋषिकेश की बस कुछ देर में आने वाली थी , तो इंतज़ार की टहला टाहली में मैं जब सामने के गेट के पास आया तो हैरान रह गया कि मैं  ठगा गया हूँ । रेलवे स्टेशन और बस अड्डा तो आमने सामने है और मुझे रिक्शे वाले ने फालतू में आधा धंटे तक गुमाकर मुझे बेवकूफ बनाया है ।

ज्योति प्रसाद रतूड़ी.......✍️

8
रचनाएँ
रतूड़ी की डायरी✍️
0.0
खास कुछ नही बस जो कुछ भी घटा देखा वो लिख दिया । कुछ आप बीती कुछ औरों की ।
1

अगर तुझे कुछ हो जाता तो...?

15 मार्च 2022
1
2
2

यह बात सन १९८५ की है ,उस समय मैं १५ साल का था ।स्कूल की , छुट्टियां पड़ी हुई थी ।मैं दिल्ली से अपने गांव , छुट्टियां बिताने आया हुआ था ।मेरा गॉव उत्तराखंड के पर्वर्तीयआँचल में है ।दिल्ली या अन्य मैदानी

2

ये ले एक रुपया.....अब मत रोना ।

15 मार्च 2022
0
0
0

यह बात उस समय की है जब मेरी शादी हुई थी सन 1993 अप्रैल में मेरी शादी हुई थी , मेरी अर्धांगनी शादी के एक २ हफ्ते बाद मुझ संग अपने मायके गयी । चचेरी साली का व्याह था । व्याह से निपटने के बाद अ

3

मेरी पहली रेल यात्रा

15 मार्च 2022
0
0
0

बात उन दिनों की है जब मैं 19 साल का था । मैं उस समय दिल्ली के करोल बाग के देव नगर मोहल्ले में रहता था ।और बाली नर्सिंग होम में कंपाउंडर का काम करता था ।बड़े डॉक्टर से किसी बात पर कहासुनी हो गयी और मैंन

4

दादी जी की मासूमियत ।

15 मार्च 2022
1
0
0

हमारे गाँव की एक दादी थी बीरा नाम था उसका ।वो (दादी जी) हमारे पास दिल्ली आए थे , उस समय मैं अपने पिताजी के पास दिल्ली रहता था । माता जी और मेरी बहनें गांव में ही रहती थी ।हाँ तो क्या कह रहा था म

5

पवित्र प्रेम

15 मार्च 2022
2
0
0

कहानी आज , लिख रहा हूं । नए जमाने की इंटरनेट युग की ।टोनी , और मारिया दोनों शादीशुदा थे ।टोनी और मारिया किसी फंक्शन में मिले ,एक दूसरे से कोई बात चीत भी खास नहीं थी ,हां फेस बुक पर दोनों फ्र

6

अरे यार ! ये स्वप्न भी न शुरुवात में मीठे और , अंतिम में दुखदाई ही क्यों होते है मेरे ☹️।

15 मार्च 2022
0
0
0

👦अरे यार ! ये स्वप्न भी न शुरुवात में मीठे और , अंतिम में दुखदाई ही क्यों होते है मेरे ☹️।👧ऐसा क्या स्वप्न हुआ जो मुँह लटकाए बैठे हो ?👦तो सुण :-▪️जैसे किसी नदी के पुल के ऊपर , बहुत से घर बने हुए थे

7

सनातन एकता हेतु हिन्दुओ को जाति और वर्ण व्यवस्था का परित्याग करना अनिवार्य है ।

15 मार्च 2022
2
0
0

शहरों को छोड़ कर , गांव में अभी भी छुआ छूत का विषवृक्ष अपनी जड़ें बहुत गहरी जमाये हुए है । और सनातन को बचाये रखने के लिए , इस विषवृक्ष को उखाड़ फेंकना बहुत जरूरी है । मुझे व्हाट्सएप पर कि

8

एक कहानी स्वप्न की

2 अप्रैल 2024
0
0
0

आज स्वप्न में  मैं भारतीय सेना का जासूस बनकर ,  पाकिस्तान में गया हुआ था जासूसी करने । वहां मुझे कोई लड़की मिली , जो अपने ससुराल जा रही थी । मैं तांगे वाला बना हुआ था , वहां वो मेरे तांगे में बैठी थी

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए