shabd-logo

कन्या पूजन

9 अप्रैल 2022

39 बार देखा गया 39
9 अप्रैल 2022,
   शनिवार
समय 4:45

मेरी प्यारी सखी, 
कैसी हो? आज सुबह से ही कन्याओं को जीमाने का दौर आरंभ हो चुका है। सभी महिलाएं सुबह-सुबह स्नान से निवृत्त होकर पूजा करने मंदिर चली गई। लाल रंग की साड़ी, तो किसी ने लाल चुन्नी ओढ़ रखी थी। 
पहले कॉलोनी में ही लड़कियां कन्याओं के रूप में मिल जाते थीं। पर अब ये लड़कियां बड़ी हो गई है। मैया पूजने के लिए इस समय लड़कियों का हमारी कॉलोनी में अभाव हो चुका है। बाहर की कॉलोनियों से या सगे संबंधियों को फोन कर लड़कियां बुलाई जाती हैं ताकि कन्या पूजन पूर्ण हो। 
दो-तीन सालों से गडरिया जाति की लड़कियां खुद ही अष्टमी और नवमी के दिन हर गेट पर आकर पूछती है कन्या जीमाना है क्या? उन लड़कियों को  बैठा कर खिलाया जाता है। इस बार पता नहीं क्यों नहीं आई?
जब मैं छोटी थी तो मन में बड़ी इच्छा होती कोई मुझे मैया पूजने के लिए ले जाए। लेकिन अफसोस...
हमारे घर के आस-पास घर नहीं थे। आस-पास खाली प्लाट थे।
जब मेरी छोटी बहन ने जन्म लिया उस समय तक हमारे आस पास लगभग बहुत से मकान बन गए थे। जिसकी वजह से मेरी छोटी बहन को मैया पूजन के लिए अष्टमी के दिन बुला लिया जाता था।
      आज नारियल खरीदने के लिए एक दुकान पर रुकी। नारियल बेचने वाले भैया से नारियल का दाम पूछा। नारियल वाला बोला एक नारियल ₹30 का है। दो नारियल लेने पर ₹50 में दे दूंगा। कई बार अधिक सौदा लेने पर दुकानदार पैसों में कुछ कमी कर देते हैं। मैंने कहा चलो ठीक है दो ही दे दो। वह नारियल में पानी है या नहीं उसने अच्छे से नारियल देख निकाल कर मुझे दे दिए।
मैं पैसे निकाल रही थी कि तभी अचानक एक बाइक में सवार वृद्ध दंपत्ति अपनी गाड़ी गली में मोड़ने लगे। वे बड़ी ही धीमी गति से अपनी बाइक चला रहे थे कि तभी सामने से आती एक बाइक ने उन्हें धक्का मारा। धक्के की वजह से गाड़ी पर सवार दंपत्ति गिर पड़े। 
वही आसपास खड़े लोगों ने दोनों को उठाया और पास रखी मुड्डी पर बैठने को कहा। लेकिन दोनों दंपत्ति धीरे-धीरे उठकर जाने लगे। मैं वहीं पास में खड़ी सोचने लगी। लोगों को न जाने जल्दी वाहन चलाने की क्या पड़ी रहती है? जो दूसरों की सुरक्षा को भी दरकिनार कर देते हैं।


पापिया

20
रचनाएँ
विचारों का समंदर
0.0
विचारों का सैलाब जो मन में गुमर गुमर कर न जाने कितने कितने आवेश ले आते हैं उन्हीं पर मंथन
1

व्यथा

2 अप्रैल 2022
4
1
0

मेरी ही खता मानी मैंने,दोष तुम्हारा कहां कुछ कहा।हर बार ऐसा हो जरूरी तो नहीं, लहरें सदा सीधी ही बहती कहां।।

2

जय अंबे

2 अप्रैल 2022
1
0
0

2 अप्रैल 2022 शनिवार समय- 11:28 (रात)मेरी प्यारी सखी, विश्वास, आस्था की मान्यता के रूप में मां अम्बे की आराधना

3

अब और तब

3 अप्रैल 2022
1
1
0

3 अप्रैल 2022 रविवार समय 11:35 मेरी प्यारी सखी, तुम तो जानती ही हो जब हम बच्चे थे, हम पर मार भी पड़ती थी और डांट भी हम लोग खाते थे। पर जब स

4

ग़लतफहमी

5 अप्रैल 2022
1
0
0

5 अप्रैल 2022 मंगलवार समय 3:00 (दोपहर)मेरी प्यारी सखी कैसी हो? गर्मियां शुरु हो गई है, अपना ध्यान रखना।

5

वारदात

5 अप्रैल 2022
0
0
0

मेरी प्यारी सखी, पता है सखी, आज काम करते हुए बीच-बीच में, मैं दीदी(जेठानी) से बातें कर रही थी। अचानक तभी मेरी नजर दीदी की अंगूठी पर गई तो मैंने पूछ लिया, दीदी सोने की

6

मेरा भुलक्कड़पन

8 अप्रैल 2022
1
1
0

8 अप्रैल 2022 शुक्रवार समय 8:10मेरी प्यारी सखी, पता है सखी कई बार कोई तारीख याद ही नहीं रहती तो कई बार बड़ी ही परेशानी भी उठानी पड़ती है। अब देखो ना 3 तारीख रव

7

कन्या पूजन

9 अप्रैल 2022
1
1
0

9 अप्रैल 2022, शनिवारसमय 4:45मेरी प्यारी सखी, कैसी हो? आज सुबह से ही कन्याओं को जीमाने का दौर आरंभ हो चुका है। सभी महिलाएं सुबह-सुबह स्नान से निवृत्त होकर पूजा करने मंदिर चली गई। लाल

8

शुभकामनाएं

10 अप्रैल 2022
1
1
1

10 अप्रैल 2022 रविवार समय-10:46(रात) मेरी प्यारी सखी, इस गर्मी में हाल-चाल कैसे हैं तुम्हारे? सबसे पहले तुम्हें रा

9

पद यात्रा

11 अप्रैल 2022
0
0
0

11 अप्रैल 2022 सोमवारसमय-11:05 रातमेरी प्यारी सखी, रामनवमी की यात्रा हर जगह छुटपुट घटनाओं के साथ संपन्न हुई। पर हमारे यहां किसी भी प्रकार की कोई गड़बड़ी नही

10

जीवन जाल

13 अप्रैल 2022
1
1
1

13 अप्रैल 2022 बुधवारसमय- 11:15(रात)मेरी प्यारी सखी, हम सोचते रह जाते हैं और जीवन पथ पर जीवन यूं ही चलता जाता है।हम कुछ सोचते हैं और हो कुछ जाता है।कई बार लोगों द्वारा

11

खुशियों भरे दिन

14 अप्रैल 2022
1
0
0

14 अप्रैल 2022 गुरुवार समय- 11:00 मेर प्यारी सखी,जीवन की कुछ ऐसी यादें जो याद आते ही मन को गुदगुदा देती है वो भींगे पल वो एहसास। आज का दिन बंगाल में नव संवत्सर

12

🏵मोईरांग डे की हार्दिक शुभकामनाएं🏵

14 अप्रैल 2022
2
0
1

14 अप्रैल 2022 गुरुवारसमय 11:30 (रात)मेरी प्यारी सखी,14 अप्रैल 1944 को मोइरांग के युद्ध में तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद आजाद हिन्द फौज ने पुलिस पोस्ट से यूनियन जैक उतार

13

जनकल्याणार्थ

15 अप्रैल 2022
0
0
0

मेरी प्यारी सखी, परीक्षा केंद्र पर छेड़छाड़ को लेकर झगड़े जैसी वारदात निंदनीय है। न जाने क्यों लोग बुद्धि का प्रयोग का कार्य नहीं करते। जैन समाज द्वारा 50 साल बाद आयोजित किए जा रहे म

14

बजरंगबली

16 अप्रैल 2022
0
0
0

16 अप्रैल 2022 शनिवार समय 11:20 (रात) मेरी प्यारी सखी, चारों ओर जय हनुमान ज्ञान गुण सागर की आवाजें गूंज रही है। आज हनुमान जयंती है।

15

वाह भाई

19 अप्रैल 2022
0
0
0

19 अप्रैल 2022 मंगलवार समय-11:00(रात) मेरी प्यारी सखी, आज बहुत दिनों बाद तुमसे मिलने आई हूॅं, क्या करूं लू की वजह से दस्त आरंभ हो गए थे और

16

आया जमाना नेट का

21 अप्रैल 2022
1
1
1

मेरी प्यारी सखी,पता है आज सुबह उठने के साथ ही मोबाइल पर 50% नेट के खत्म हो जाने का संदेश आया। बस उठी ही थी दिमाग खराब। सुबह की चाय मिले ना मिले, तो एक बार के लिए चलेगा पर नेट खत्म तो ऐसा लगता है

17

नटखट बच्चें

21 अप्रैल 2022
0
0
0

मेरी प्यारी सखी,जीवन के कुछ ऐसे पल जो चिर स्मरणीय रह जाते हैं कुछ ऐसी यादें जो भुलाए नहीं भूलते।बेटी जब छोटी थी बिल्कुल छोटी। एक दिन मैं नहा कर बाहर निकली तो मैंने देखा कि उसके हाथ में एक लाल डिब्बी ह

18

सहयोग

27 अप्रैल 2022
0
0
0

मेरी प्यारी सखी,घर में मेहमानों की उपस्थिति के चलते तुमसे मुलाकात नहीं हो पाई। इस बात की टीस थी, पर क्या करती?गर्मी की वजह से जगह-जगह पानी पिलाने के लिए प्याऊ की व्यवस्था की जा रही है। पशु-पक्षी भी छा

19

नृत्य दिवस

29 अप्रैल 2022
0
1
0

29 अप्रैल 2022 शुक्रवार समय 11: 22मेरी प्यारी सखी,फिर आज बहुत दिनों बाद तुम्हारे पास आने का मौका मिला। कई बार स्थितियां परिस्थितियां कुछ ऐसी ही विषम हो जाती है कि चाहते हु

20

परेशानी

30 अप्रैल 2022
2
1
2

30 अप्रैल 2022 शनिवार समय 11:15 रात मेरी प्यारी सखी, कहीं जाना होता है चले कहीं जाते हैं। कई बार परिस्थितियां विषम हो जाती हैं। अभी देखो ना बेटी के प्रैक्टिकल होने थे।

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए