shabd-logo

दूरस्थ शिक्षा और शिक्षक

22 अक्टूबर 2022

30 बार देखा गया 30


२०१९  में करोना महामारी ने विश्व में अपने पैर फैलाने शुरू कर दिए थे । २  मार्च २०२०  तक इस घातक वायरस ने हिंदुस्तान में भी  अपने पैर पसारने शुरू कर दिए। और देखते ही देखते २४   मार्च २०२०  को संपूर्ण भारत में लोक डाउन करने का आदेश जारी कर दिया गया।


  लगभग  दोपहर के २:४५  बज रहे थे, तभी लाउडस्पीकर पर अनाउंसमेंट हुई,  “सारे अध्यापक गण कॉन्फ्रेंस हॉल में एकत्रित हो प्रधानाचार्य जी को कोई बहुत महत्वपूर्ण जानकारी साझा करनी है।”  छुट्टी का समय था इसीलिए  रुकने की अनाउंसमेंट सुनकर सब थोड़ा परेशान हो गए , सब एक दूसरे से पूछने लगे कि आखिर क्या कारण होगा कि प्रिंसिपल मैडम ने अकस्मात मीटिंग बुला ली है।


  सभी को घर जाने की जल्दी थी , इसलिए बिना समय बर्बाद करें सब हावड़ा - दबड़ी में कॉन्फ्रेंस हॉल में पहुंच गए। १०  मिनट के अंदर ही प्रिंसिपल मैडम भी कॉन्फ्रेंस हॉल में मौजूद थी। उनके हाव भाव देखकर लगता था , कोई बहुत ही गंभीर मुद्दा है। उन्होंने हम सब को बताया कि दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा हो चुकी है और कल से स्कूल भी बंद रहेंगे ऐसे में हम सब अध्यापकों की जिम्मेदारी और भी बढ़ जाएगी और उसके लिए हमें जल्द से जल्द तैयारी करनी होगी। उन्होंने हमें अगले दिन सुबह १०:३०  बजे ऑनलाइन  जूम मीटिंग पर आने के लिए कहा और  सबको हौसला बंधाते हुए विदा किया।


  अगले दिन  ऑनलाइन मीटिंग में विद्यार्थियों की पढ़ाई किस प्रकार बिना रुके प्रभावशाली तरीके से हो सके इस पर चर्चा की गई। सभी ने अपने अपने पक्ष रखें और अगले ही दिन से बिना समय बर्बाद करें हमने जूम से ऑनलाइन क्लासेस लेना चालू कर दिया।


  शुरुआती तौर पर अध्यापकों एवं विद्यार्थियों दोनों को कुछ कठिनाइयों का सामना करना पड़ा पर देखते ही देखते सभी इस नई प्रक्रिया में सुचारू रूप से ढल गए। ऑनलाइन क्लासेस में पढ़ाना , व बच्चों का सही से समझ पाना आसान नहीं था, इसलिए सभी अध्यापक गण स्कूल का समय समाप्त होने के बाद भी घंटों तक बैठकर नई- नई तकनीक बनाते कि किस तरीके से बच्चों को पढ़ाया जाए कि उन्हें सब सही तरीके से और बेहतर ढंग से समझ आ सके। सभी को बच्चों के सुनहरे भविष्य को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी बखूबी निभाने की  द्रण इच्छा थी। 


   बिना संकोच सभी अध्यापक गणों ने हर प्रकार से अपना योगदान करने का निश्चय किया।  हमें ना केवल बच्चों के भविष्य बल्कि उनकी सेहत का भी ध्यान देना था।  इसीलिए हमने सोचा की पढ़ाई के साथ साथ हम बच्चों के संपूर्ण विकास के लिए उनके साथ ऑनलाइन खेल जैसे कि चैस ,क्विज ,पहेलियां इत्यादि भी  खेला करेंगे और उनके व्यायाम के शिक्षक भी बनेंगे।  हालांकि हम में से कईयों को व्यायाम  व एरोबिक्स करने का कोई ज्ञान नहीं था, फिर भी बच्चों के लिए हम पहले यूट्यूब से खुद सीखते और फिर अगले दिन ऑनलाइन क्लास में उन्हें सिखाते ताकि  इस कठिन समय में उनकी सोच में सकारात्मकता बनी रहे। 


   मैंने देखा कि कुछ बच्चे थे जो कि ऑनलाइन क्लास लेने नहीं आ रहे थे।  उनके माता-पिता से बातचीत के बाद पता चला कि वह इतने गरीब थे कि वह अपने बच्चे के लिए लैपटॉप तो दूर एक फोन भी नहीं ले सकते थे जिस पर कि वह ऑनलाइन क्लास ले पाते। मेरा मन उनकी पीड़ा सुनकर बहुत विचलित हो गया।  मैं सोचने लगी कि  कैसे मैं इन बच्चों की तकलीफ दूर कर सकती हूं। अकेले मैं केवल एक या दो बच्चों की ही मदद कर सकती थी , पर और भी क्लासेस में ऐसे कई बच्चे थे, जो गरीबी के चलते या फिर इस महामारी की मार से अपनी पढ़ाई जारी रखने में सक्षम नहीं थे। 


  मैंने अपने दिल की परेशानी अपने पति को बताई ।  वह एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है, इसलिए उनकी बहुत सारे लोगों से जान पहचान है।  महामारी के चलते वह घर से ही अपना काम कर रहे थे।   उन्होंने अपने ग्रुप में एक ऐड डाली जिसमें लिखा था; “ जिस किसी के पास फालतू टच स्क्रीन मोबाइल हो वह उसे गरीब बच्चों की  पढ़ाई के लिए नीचे लिखे पते पर कोरियर करा सकता है। “ बस फिर क्या था देखते ही देखते हमारे पास ५० -६०  मोबाइल जमा हो गए। 


   मैंने और मेरे पति ने मिलकर वह सारे मोबाइल निर्धारित बच्चों को पहुंचा दिए और उनकी शिक्षा दोबारा से चालू हो गई। मेरे मन को असीम शांति की अनुभूति हुई।  मैं तहे दिल से उन सभी लोगों की शुक्रगुजार हूं जिन्होंने ऐसे मुश्किल समय में इंसानियत पर विश्वास कायम रखने में अपना योगदान दिया।


  परंतु अभी मुश्किलों का अंत नहीं हुआ था। अभी भी कई बच्चे थे जो कि ऑनलाइन क्लासेस को सही ढंग से नहीं ले रहे थे और जो ले  भी रहे थे , उनका रिजल्ट पहले से बहुत गिर चुका था।  जो कि सभी के लिए बहुत ही चिंता का विषय बन  हुआ था।  मैं और मेरी सहेली रश्मि जो कि एक दूसरे स्कूल में टीचर थी, हम दोनों ने सोचा कि इन बच्चों की मदद करने के लिए हमें पहल करनी होगी।  हमने फ्री ऑनलाइन ट्यूशन क्लासेस चालू करी और बच्चों को हमारी क्लासेस जॉइन करने के लिए कहा।  ऐसा करने के लिए हमें अपनी नौकरी त्यागनी  पड़ी, किंतु मन में दुख की बजाय  सुख और आत्मविश्वास की लहर दौड़ रही थी।  


   केवल कदम बढ़ाने की देर थी ,हमारे इस मिशन पर देखते ही देखते कई टीचर्स  जुड़ गए।  कहते हैं ना एक से भले दो....... ! बस फिर क्या था सारी मुश्किलों को पार करते हुए सभी शिक्षकों ने सही मायने में शिक्षक होने का धर्म निभाया और अपने विद्यार्थियों को सुरक्षित भविष्य का मार्गदर्शन कराने का दायित्व पूर्ण रूप से निभाया। 


    चाहे जितनी भी मुश्किलें रास्ते  में क्यों ना आए  , शिक्षक का परम धर्म है ,अपने छात्रों का भविष्य सुरक्षित करना। उसके लिए चाहे उन्हें इतनी भी कठिनाइयों का सामना क्यों ना करना पड़े वह कभी पीछे नहीं हटते। 


इसीलिए हमारे शास्त्रों में कहा गया है:-


                गुरुर्ब्रह्मा ग्रुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः। गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरवे नमः॥

भावार्थ: गुरु ब्रह्मा है, गुरु विष्णु है, गुरु हि शंकर है; गुरु हि साक्षात् परब्रह्म(परमगुरु) है; उन सद्गुरु को प्रणाम. 

 





अमर सिंह

अमर सिंह

बहुत सुन्दर प्रस्तुति

22 अक्टूबर 2022

24
रचनाएँ
आलेख
5.0
यह किताब दैनिक विषयों की समालोचनात्मक समीक्षा का संग्रह है। इस किताब में आप विभिन्न विषयों पर सुंदर आलेख पढ़ सकते हैं।
1

सोशल मीडिया की ताकत

6 सितम्बर 2022
14
8
4

आज के आधुनिक युग में समय से भी अधिक बलवान सोशल मीडिया प्रतीत होता है। आज हम घंटों या कहें तो दिनों की दूरी सोशल मीडिया की एक व्हाट्सएप कॉल व वीडियो कॉल से क्षण भर में तय कर सकते हैं, इसीलिए यह कहना गल

2

टाइम ट्रेवल

7 सितम्बर 2022
12
5
7

समय बहुत बलवान है। समय वह चीज है,जिसे इंसान हमेशा से ही अपने अनुसार चलाना चाहता है, किंतु समय पर किसी की नहीं चलती अपितु समय सबको अपने अनुसार चलाता रहता है।अगर किसी प्रकार हम समय को अपने अनुसार चला सक

3

मेरे अंदर का लेखक

18 सितम्बर 2022
8
4
4

मेरे अंदर का लेखक आज की तेज रफ्तार दुनिया में किसी के पास किसी दूसरे के बारे में सोचने का वक्त ही नहीं है। हर कोई अपनी दुनिया में अपनी जीवन शैली में इतना व्यस्त हो गया है की, उसके आसपास हो रही घटनाओं

4

इच्छा शक्ति

11 अक्टूबर 2022
5
2
3

इच्छा शक्ति….. क्या आप इच्छा शक्ति को मानते हैं? क्या आपको विश्वास है कि हमारी इच्छाओं में भी शक्ति होती है?जी हां ! इच्छा शक्ति….मुझे तो पूर्ण विश्वास है, की इच्छा में अतुल्य शक्ति होती है। वह कहते ह

5

2070 की दुनिया

13 अक्टूबर 2022
2
2
0

दुनिया बदल रही है। हां जी, दुनिया बदल रही है और बहुत तेज रफ्तार से दुनिया बदल रही है।हां ,शायद आने वाले समय में हम नहीं होंगे, पर हमारे जिगर के टुकड़े तो होंगे। और बहुत कामयाब होंगे , इसमें कोई संदेह

6

शिक्षक

13 अक्टूबर 2022
2
1
0

२०१९ में करोना महामारी ने विश्व में अपने पैर फैलाने शुरू कर दिए थे । २ मार्च २०२० तक इस घातक वायरस ने हिंदुस्तान में भी अपने पैर पसारने शुरू कर दिए। और देखते ही देखते २४ मार्च २०२० को संपूर्ण भ

7

सकारात्मक और नकारात्मक सोच

20 अक्टूबर 2022
2
2
0

अगर हम जिंदगी में कुछ पाना चाहते हैं तो हमारी सोच सकारात्मक होनी चाहिए। क्योंकि हम जैसा सोचते हैं, और जैसे शब्दों का उच्चारण करते हैं, हमारे आसपास वैसी ही ऊर्जा एकत्रित होने लगती है।हम जब पूजा करते वक

8

दूरस्थ शिक्षा और शिक्षक

22 अक्टूबर 2022
6
3
1

२०१९ में करोना महामारी ने विश्व में अपने पैर फैलाने शुरू कर दिए थे । २ मार्च २०२० तक इस घातक वायरस ने हिंदुस्तान में भी अपने पैर पसारने शुरू कर दिए। और देखते ही देखते २४

9

मेरी यादगार दिवाली

24 अक्टूबर 2022
3
3
0

अक्सर बच्चे अपने बड़ों से सीखते हैं। चाहे उन्हें कुछ सिखाया जाए या फिर नहीं पर अपने आसपास होती घटनाओं व बातों पर उनका ध्यान हमेशा रहता है और जाने अनजाने में हम उन्हें बहुत कुछ सिखा देते हैं।दीपावली का

10

देवउठनी एकादशी और तुलसी विवाह और कुछ चमत्कारिक उपाय जो आपका जीवन बदल देंगे

4 नवम्बर 2022
1
2
2

देवउठनी एकादशी और तुलसी विवाहहिंदू धर्म में एकादशी व्रत का विशेष महत्व होता है। साल भर कुल 24 एकादशियां आती हैं जिसमें से कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की देवोत्थान एकादशी का विशेष महत्व होता है। एकादशी व

11

त्योहारों का सीजन

8 नवम्बर 2022
1
0
0

वैसे तो हमारा मोहल्ला शांत व सुकून वाला था। हमारे घर के पास ही चार घर छोड़कर असलम चाचा रहते थे। उनकी बेटी शबनम मेरी बहुत अच्छी सहेली थी। वे अक्सर हमारे घर आती जाती थी, खासतौर पर मंगलवार को ।जब भी मेरी

12

शिक्षा का बाजारीकरण

29 नवम्बर 2022
3
3
1

शिक्षा का बाजारीकरण शिक्षा आज के आधुनिक युग में 'ज्ञान मात्र' ना रहकर, बाजार में बिकने वाली एक 'वस्तु मात्र' बनकर रह गई है। जिस प्रकार जब माता-पिता बाजार जाते हैं और बच्चे अलग-अलग खिलौने देखकर किसी मह

13

सत्य और अहिंसा

18 दिसम्बर 2022
2
0
0

“पिताजी -पिताजी देखो आर्यन ने मेरी चॉकलेट छीन ली, आप इसकी पिटाई करो। “, रोती बिलखती ३ साल की शायना अपने पिता अक्षय से अपने बड़े भाई की नाइंसाफी की गुहार लगा रही थी। “अरे स

14

सविनय अवज्ञा

30 दिसम्बर 2022
3
1
0

सविनय अवज्ञासविनय अवज्ञा का अर्थ किसी चीज का विनम्रता के साथ उल्लंघन करना होता है।अर्थात सविनय अवज्ञा का मौलिक अर्थ अहिंसक हिंसा व विरोध कहा जा सकता है।जब भी कानून पद्धति में अपकार बोध हो तो, उसका विर

15

खिलाड़ियों की आवाज

19 जनवरी 2023
4
1
0

खिलाड़ियों की आवाजखिलाड़ी जो हमारे देश को मान सम्मान दिलाते हैं, जो हमारे देश की पहचान है, हमारे सिर जिनकी कठिन मेहनत , तप व मनोबल से गर्वित है , आज वही खिलाड़ी अपने मान व सम्मान की रक्षा के लिए भारत

16

लिथियम भंडार

12 फरवरी 2023
6
1
0

लिथियम एक ऐसी धातु है जिसने आज के युग में क्रांति ला दी है। यह आवर्त सारणी का तीसरा तत्व है और बहुत ही हल्की धातु है। इसका प्रमुख उपयोग बैटरी बनाने के लिए किया जाता है जो कि लै

17

केवल परिवर्तन ही स्थाई है

21 फरवरी 2023
4
2
2

परिवर्तन प्रकृति का नियम। समाज में परिवर्तन की प्रक्रिया सदैव चलती रहती है। यह परिवर्तन कई चीजों पर निर्भर करता है एवं इसकी गति और दिशा हर समाज में अलग-अलग होती है। परिवर्तन प्राकृतिक और सांस्कृतिक

18

दिल्ली एमसीडी चुनाव

24 फरवरी 2023
1
1
0

चुनाव शब्द से हम सब भली भांति वाकिफ हैं। हमारे देश में अलग-अलग स्तरों पर अलग-अलग चुनाव होते हैं जिसमें से एमसीडी यानी कि मुंसिपल कॉरपोरेशन डिवीजन का चुनाव अपना ही महत्व रखता है।भारत की राजधानी दिल्ली

19

कैसी रिटायरमेंट

1 मार्च 2023
4
1
0

जिंदगी की उधेड़बुन में कब ऐसा मुकाम आ जाता है जब समय हमें बताता है - रुक जाओ, अपनी गति को धीमी कर लो, बस अब बहुत हो गया थोड़ी सांस ले लो और आराम करो। तब कहीं जाकर हम राहत की सांस लेते हैं और अपने आप क

20

होलिका दहन

8 मार्च 2023
3
1
0

होलीका दहन हिंदू धर्म के एक प्रमुख त्योहार है, जो भारत में हर साल फाल्गुन पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। इस दिन लोग होली का त्योहार मनाते हैं और रंगों से खेलते हैं।होली का दहन भारत के विभिन्न हिस्सों

21

होली

8 मार्च 2023
3
1
0

होली एक प्रसिद्ध हिंदू त्योहार है जो भारत में हर साल फाल्गुन माह के पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस त्योहार को रंगों का त्योहार भी कहते हैं क्योंकि इस दिन लोग एक दूसरे पर रंग फेंकते हैं और मिठाई खाते है

22

यादें बचपन की

26 मार्च 2023
6
5
0

आज याद आ रहा है ना जाने मुझे क्यों वह आंगन, वह हरे भरे खेतों में दौड़ना, वह कच्चे आमों की सुगंध, वह तितलियों के संग भागना, वो करनी सहेलियों से चिढ़हन, वह भाई के साथ पंजा लड़ाना, उसके जीत जाने पर करनी

23

आईपीएल से जुड़े विवाद

1 अप्रैल 2023
5
3
0

आईपीएल और आईपीएल से जुड़े विवाद,कहां तक है यह सत्य जनाब,मैच फिक्सिंग की धांधलेबाजियां,लूट ले गए वह सारे खिताब..धूल में मिले जो बैठे थे बन हमारे सरो ताज,उठे जब सबके चेहरों से नकाब,खुल गए सारे ढके हुए र

24

आईपीएल से जुड़े विवाद

17 मई 2023
1
1
0

आईपीएल और आईपीएल से जुड़े विवाद, कहां तक है यह सत्य जनाब, मैच फिक्सिंग की धांधलेबाजियां, लूट ले गए वह सारे खिताब.. धूल में मिले जो बैठे थे बन हमारे सरो ताज, उठे जब सबके चेहरों से नकाब, खुल गए सारे ढके

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए