shabd-logo

वह विजन चाँदनी की घाटी

28 अप्रैल 2022

17 बार देखा गया 17

वह विजन चाँदनी की घाटी

छाई मृदु वन-तरु-गन्ध जहाँ,

नीबू-आड़ू के मुकुलों के

मद से मलयानिल लदा वहाँ!

सौरभ-श्लथ हो जाते तन-मन,

बिछते झर-झर मृदु सुमन-शयन,

जिन पर छन, कम्पित पत्रों से,

लिखती कुछ ज्योत्सना जहाँ-तहाँ!

आ कोकिल का कोमल कूजन,

उकसाता आकुल उर-कम्पन,

यौवन का री वह मधुर स्वर्ग,

जीवन बाधाएँ वहाँ कहाँ?

शब्द mic
40
रचनाएँ
युगांत
0.0
"'युगांत' में 'पल्लव' की कोमलकांत कला का अभाव है। इसमें मैंने जिस नवीन क्षेत्र को अपनाने की चेष्टा की है, मुझे विश्वास है, भविष्य में उस मैं अधिक परिपूर्ण रूप में ग्रहण एवं प्रदान कर सकूँगा।" सुमित्रनंदन पंत छायावादी युग के प्रमुख 4 स्तंभकारों में से एक हैं। उनकी प्रमुख रचनाओं में उच्छवास, पल्लव, मेघनाद वध, बूढ़ा चांद आदि शामिल हैं। उन्हें साहित्य में योगदान के लिए पद्मभूषण व ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।
1

द्रुत झरो जगत के जीर्ण पत्र

28 अप्रैल 2022

0
0
1

द्रुत झरो जगत के जीर्ण पत्र

28 अप्रैल 2022
0
0
2

गा कोकिल, बरसा पावक कण

28 अप्रैल 2022

0
0
2

गा कोकिल, बरसा पावक कण

28 अप्रैल 2022
0
0
3

विद्रुम औ मरकत की छाया

28 अप्रैल 2022

0
0
3

विद्रुम औ मरकत की छाया

28 अप्रैल 2022
0
0
4

जगती के जन पथ, कानन में

28 अप्रैल 2022

0
0
4

जगती के जन पथ, कानन में

28 अप्रैल 2022
0
0
5

वे चहक रहीं कुंजों में

28 अप्रैल 2022

0
0
5

वे चहक रहीं कुंजों में

28 अप्रैल 2022
0
0
6

वे डूब गए

28 अप्रैल 2022

0
0
6

वे डूब गए

28 अप्रैल 2022
0
0
7

तारों का नभ

28 अप्रैल 2022

0
0
7

तारों का नभ

28 अप्रैल 2022
0
0
8

जीवन का फल

28 अप्रैल 2022

0
0
8

जीवन का फल

28 अप्रैल 2022
0
0
9

बढ़ो अभय, विश्वास-चरण धर

28 अप्रैल 2022

0
0
9

बढ़ो अभय, विश्वास-चरण धर

28 अप्रैल 2022
0
0
10

गर्जन कर मानव-केशरि!

28 अप्रैल 2022

0
0
10

गर्जन कर मानव-केशरि!

28 अप्रैल 2022
0
0
11

बाँसों का झुरमुट

28 अप्रैल 2022

0
0
11

बाँसों का झुरमुट

28 अप्रैल 2022
0
0
12

जग-जीवन में जो चिर महान

28 अप्रैल 2022

0
0
12

जग-जीवन में जो चिर महान

28 अप्रैल 2022
0
0
13

जो दीन-हीन, पीड़ित

28 अप्रैल 2022

0
0
13

जो दीन-हीन, पीड़ित

28 अप्रैल 2022
0
0
14

शत बाहु-पद

28 अप्रैल 2022

0
0
14

शत बाहु-पद

28 अप्रैल 2022
0
0
15

चरखा गीत

3 अगस्त 2022

0
0
15

चरखा गीत

3 अगस्त 2022
0
0
16

ए मिट्टी के ढेले

28 अप्रैल 2022

0
0
16

ए मिट्टी के ढेले

28 अप्रैल 2022
0
0
17

राष्ट्र गान

3 अगस्त 2022

0
0
17

राष्ट्र गान

3 अगस्त 2022
0
0
18

खो गई स्वर्ग की स्वर्ण किरण

28 अप्रैल 2022

0
0
18

खो गई स्वर्ग की स्वर्ण किरण

28 अप्रैल 2022
0
0
19

चंचल पग दीप-शिखा-से

3 अगस्त 2022

0
0
19

चंचल पग दीप-शिखा-से

3 अगस्त 2022
0
0
20

धोबियों का नृत्य

3 अगस्त 2022

0
0
20

धोबियों का नृत्य

3 अगस्त 2022
0
0
21

सुन्दरता का आलोक

28 अप्रैल 2022

0
0
21

सुन्दरता का आलोक

28 अप्रैल 2022
0
0
22

ग्राम वधू

3 अगस्त 2022

0
0
22

ग्राम वधू

3 अगस्त 2022
0
0
23

नव हे, नव हे

28 अप्रैल 2022

0
0
23

नव हे, नव हे

28 अप्रैल 2022
0
0
24

ग्राम श्री

3 अगस्त 2022

0
0
24

ग्राम श्री

3 अगस्त 2022
0
0
25

वे आँखें

3 अगस्त 2022

0
0
25

वे आँखें

3 अगस्त 2022
0
0
26

बाँधो, छबि के नव बन्धन

28 अप्रैल 2022

0
0
26

बाँधो, छबि के नव बन्धन

28 अप्रैल 2022
0
0
27

गाँव के लड़के

3 अगस्त 2022

0
0
27

गाँव के लड़के

3 अगस्त 2022
0
0
28

मंजरित आम्र वन छाया में

28 अप्रैल 2022

0
0
28

मंजरित आम्र वन छाया में

28 अप्रैल 2022
0
0
29

वह बुड्ढा

3 अगस्त 2022

0
0
29

वह बुड्ढा

3 अगस्त 2022
0
0
30

वह विजन चाँदनी की घाटी

28 अप्रैल 2022

0
0
30

वह विजन चाँदनी की घाटी

28 अप्रैल 2022
0
0
31

नारी

3 अगस्त 2022

0
0
31

नारी

3 अगस्त 2022
0
0
32

वह लेटी है तरु छाया में

28 अप्रैल 2022

0
0
32

वह लेटी है तरु छाया में

28 अप्रैल 2022
0
0
33

नारी

3 अगस्त 2022

0
0
33

नारी

3 अगस्त 2022
0
0
34

कठपुतले

3 अगस्त 2022

0
0
34

कठपुतले

3 अगस्त 2022
0
0
35

गाँव के लड़के

3 अगस्त 2022

0
1
35

गाँव के लड़के

3 अगस्त 2022
0
1
36

दृष्टि

3 अगस्त 2022

0
0
36

दृष्टि

3 अगस्त 2022
0
0
37

युवती

3 अगस्त 2022

0
0
37

युवती

3 अगस्त 2022
0
0
38

कवि

3 अगस्त 2022

0
0
38

कवि

3 अगस्त 2022
0
0
39

ग्राम

3 अगस्त 2022

0
0
39

ग्राम

3 अगस्त 2022
0
0
40

स्वप्न पट

3 अगस्त 2022

0
0
40

स्वप्न पट

3 अगस्त 2022
0
0
---