shabd-logo

क्या यही प्यार है?(भाग :-13)

7 जून 2023

41 बार देखा गया 41
गतांक से आगे:- 

चंचला एक दम घबरा उठी उसे अंधेरे में कुछ दिखाई नही दे रहा था । लेकिन मुंह पर जिस कदर हाथ रखा हुआ था उस स्पर्श से वो कोई आदमी का हाथ लगता था चंचला एकदम गुस्से से लाल पीली हो गयी
"ठहर कालू ।तेरी इतनी हिम्मत तू रात मे आकर मेरा मुंह दबा रहा है ताकि मै चीख ना सकूं।"
चंचला मन ही मन सोच रही थी कि तभी उस मुंह दबाने वाले शख्स ने एक हाथ से मुंह दबाकर दूसरे से उसके मुंह पर पट्टी बांध दी और उसे कंधे पर लादकर जंगल की ओर ले चला।
चंचला मन ही मन सोच रही थी अगर ये कालू हुआ तो आज इसकी खैर नही बापू से कहकर सौ कोड़े ना लगवाएं तो मेरा नाम भी चंचला नही ।

पर जैसे ही वह शख्स उसे कंधे पर लाद कर ले जा रहा था चंचला को फिर वही अहसास हुआ जो उस दिन राजकुमार सूरज के साथ घोड़े पर बैठकर हुआ था।उसे वैसी ही खुश्बू आ रही थी जैसे राजकुमार के नजदीक जाने से आ रही थी ।
पूर्णिमा की रात थी वो शख्स उसे लेकर लगातार जंगल की ओर बढ़ रहा था ।एक जगह जरा सा मैदान आया तो उसने उसे कंधे से उतारा ।जैसे ही चंचला की उसपर नजर पड़ी वह हैरान रह गयी ।
"आप और यहां ,इस तरह ?"
उसने देखा राजकुमार सूरजसेन उसके मुंह से पट्टी हटा रहा था उसे देखकर चंचला बोली,"सरकार आप इस तरह से मुझे मेरे खेमे से उठा कर लाये …. क्यों?
हम तो सरकार की बांदी है एक हुक्म देते तो तुरंत हाजिर हो जाते ।"
चंचला को ये नही पता था कि सूरज भी उसके प्रति प्यार की भावना रखता है।जब चंचला ने इस तरीके से वार्तालाप किया तो सूरजसेन तड़प कर रह गया वह बोला,"अब अनजान मत बनो मै क्या समझता नही तुम्हारी नज़रों को ।कितना प्यार था तुम्हारी नज़रों मे जब तुम घोड़े से उतर कर खेमे मे जा रही थी। सच बताना क्या तुम्हें मेरी आंखों मे तुम्हारे लिए प्रेम की झलक नही दिखाई देती? जो तुम इस तरीके से बात कर रही हो । सरकार सरकार करके कि हम आपकी बांदी है "
चंचला आंखों में आसूं भर कर बोली,"मेरी इतनी गुस्ताखी।जो मै चांद छूने की जिद करूं ।एक चकोर चांद को दूर से ही निहार सकता है पा नही सकता।"
प्रेम अगन दोनों ओर लगी थी विरह वेदना से दोनों ही जल रहे थे पर परिस्थितियों के वशीभूत वो कह नही पा रहे थे । लेकिन परिस्थितियों के आगे प्रेम जीत गया और राजकुमार सूरजसेन ने दौड़कर चंचला को बाहों मे भर लिया।
"अब मै तुम्हे एक पल भी यहां नही रहने दूंगा।मेरे साथ राजमहल चलो ।हम दोनों परिणय सूत्र में बंधेंगे।मुझे पता है पिताजी इस विवाह के लिए कभी राजी नही होंगे पर मै तुम्हारे लिए राजपाट छोड़ दूंगा।" सूरजसेन उसे बाहों मे भरकर बोला।
चंचला को जैसे दोनों जहान की खुशियां मिल गयी मन चाह जीवन साथी उससे प्यार का इजहार कर रहा था तो वो मना कैसे करती ,पर उसे डर भी लग रहा था समाज क्या ये रिश्ता कबूल करेगा ।बापू को पता चल गया तो एक बारगी वो तो कुछ नही कहे शायद बेटी का प्यार उन्हें कुछ ना कहने दें पर क्या कबीला इस रिश्ते को मंजूर करेगा कदापि नही ।
कालू तो वैसे ही जहर खाता है अगर कोई उसके आसपास फटके भी तो । क्या वो राजकुमार के साथ उसका रिश्ता होने देगा ?
इधर राजा जी भी नाराज होंगे और वो पाप की हकदार बनेगी अगर वो एक बेटे को माता पिता से दूर करेगी तो । यही सब अंतर्द्वंद्व चंचला के मन मे चल रहा था ।वो एक झटके मे राजकुमार सूरज से अलग हो गयी और तड़प कर बोली,"बाबू ये कभी नही हो सकता ।मै तो किसी तरह कबीले के कहर को बर्दाश्त कर लूंगी पर वो तुम्हे नही छोड़े गे।और मै ऐसे पाप की हकदार कैसे बनूं जो एक बेटे को उसके मां बाप से जुदा करदे।नही बाबू नही ये कभी नही हो पायेगा।"चंचला बिलखकर रोने लगी।
इधर सूरज की बेचैनी भी बढ़ती जा रही थी वो बोला,"चंचला मैंने मां को सब बता दिया है मां चिंतित तो है उन्हें भी पता है पिताजी कभी मंजूरी नही देंगे इस विवाह की पर मां कह रही थी कोई उपाय सोचते है ।पर मै दिल के हाथों मजबूर था इसलिए तुम से इस तरह मिलने चला आया और फिर मै ये भी देखना चाहता था कि जो मै सोच रहा हूं वो ठीक है भी कि नही (चंचला उससे प्यार करती है या नही)"
चंचला बोली,"बाबू मै तो उसी समय तुम्हारी हो चुकी थी जब तुमने मुझे भेड़िए से बचाया था ।बस मन मे एक टीस थी कि क्या मै तुम्हे पा सकूंगी? हम बंजारे या तो किसी से प्रेम करते नही और अगर करते है तो हमारी रुह तक उसका इंतजार करती है सदियों तक।"
सूरजसेन ने फिर से चंचला को अपनी बाहों मे भर लिया और बोला,"कुछ भी हो मै तुम्हारे बगैर नही रह सकता अब कुछ हो जाए तुम मेरी हो बस मेरी।" सूरज की आंखों मे तड़प साफ महसूस कर रही थी चंचला।
दोनों ना जाने कितनी देर तक एक दूसरे की बाहों मे समाये रहे फिर राजकुमार सूरज उसका हाथ पकड़ कर घोड़े पर बैठा कर चल पड़ा महल की ओर।
चंचला बोली,"ये क्या कर रहे हो सूरज ?"
सूरजसेन तड़प कर बोला,"बस अब और सहा नही जाता हम आज ही गंधर्व विवाह करेंगे और तुम मेरे महल मे रहो गी मां जब पिताजी को मना लेंगी तो हम धूमधाम से विवाह कर लेंगे।"
ये कहकर सूरजसेन चंचला को लेकर एक मंदिर मे पहुंच गया और शिव पार्वती को साक्षी बनाकर चंचला की मांग मे सिंदूर भर दिया और उसे साथ लेकर महल आ गया।
भोर होने वाली थी ।किसी ने भी सूरजसेन को चंचला के साथ आते नही देखा ।वह चुपचाप उसे एक कक्ष मे ले गया और बोला,"तुम यहां रहो ।जब तक मै दरवाजे पर आकर दस्तक ना दूं तुम दरवाजा मत खोलना।" यह कहकर सूरज अपने कक्ष मे चला गया ।भले ही उन्होंने गंधर्व विवाह किया था।पर अभी दुनिया साक्षी नहीं थी उनके संबंध की । इसलिए उसे छूना तो बहुत दूर उसके पास रहना भी गुनाह समझता था सूरज सेन।
अभी चंचला पलंग पर बैठ कर थोड़ा सुस्ताई ही थी कि तभी दरवाजे पर जोर से दस्तक हुई ।

(क्रमशः)



30
रचनाएँ
क्या यही प्यार है?
5.0
क्या आज की युवा पीढ़ी प्यार का मतलब जानती है ....नहीं।बस आज कल के युवा लैला मजनूं,शीरी फरहाद,इन की कहानी पढ़कर उन राहों पर निकल पड़ते हैं। प्यार पाना ही नहीं होता। प्यार के लिए मर मिटना भी प्यार है। सदियों तक किसी का इंतजार भी प्यार है। आइए हम और आप जाने चंचला के प्यार को अपने अपने नजरिए से।
1

क्या यही प्यार है?(भाग:-1)

1 मई 2023
44
12
4

प्यार क्या चीज है ये अच्छे अच्छे को समझ नही आता ।आजकल के बच्चे बस मोबाइल और इंटरनेट के प्यार को ही प्यार समझ बैठे है ।वो हीर रांझा,वो शीरी फरहाद,वो लैला मजनू ये तो आजकल की पीढ़ी को बस शो पीस ही लगते ह

2

क्या यही प्यार है?(भाग:-2)

2 मई 2023
31
11
0

जोगिंदर घर की ओर जा रहा था तभी रमनी के घर के आगे से जैसे ही गुजरा उसे बहुत तेज तेज आवाजें आ रही थी।रमनी उसकी बचपन की दोस्त थी संग खेले थे दोनों और साथ ही पढ़ें थे एक ही स्कूल मे। जहां जोगिंदर पढ़ाई मे

3

क्या यही प्यार है (भाग:-3)

5 मई 2023
23
11
0

जोगिंदर की सारी रात बैचेनी से कटी ।एक तो ये सोच कि नये माहौल मे वो कैसे रमे गा।कैसे रहने की व्यवस्था होगी ।वो वहां शहर मे एडजेस्ट हो पायेगा या नही।दूसरा पिता जी की चिंता उसे भी पता था कि कुनबे वाले उस

4

क्या यही प्यार है?(भाग:-4)

6 मई 2023
23
11
2

<div>रमनी की सांसे धौकनी की तरह चल रही थी।उसे यही लग रहा था कि अब जोगिंदर उससे कहेगा।"मेरी रमनी मै तुम बिन शहर कैसे रहूंगा?"</div><div>वह उसकी ओर देख रही थी तभी जोगिंदर बोला,"सुन रही है ना ।मै शहर जा

5

क्या यही प्यार है?(भाग:-5)

8 मई 2023
23
10
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र सपने मे दब सा रहा था उसे सपने मे एक हास्टल दिखाई दे रहा था ।वह क्या देखता है वह अकेला एक गलियारे मे चला जा रहा था।वह शायद पानी की तलाश कर रहा था । दोनों ओर कमरों मे भूतहा शांति छ

6

क्या यही प्यार है?(भाग:-6)

11 मई 2023
21
11
0

गतांक से आगेअभी जोगिंदर को सोये घंटा भर ही हुआ था कि उसे ऐसे लगा जैसे उसे कोई बुला रहा है "सूरज उठो ना । आंखें खोल कर तो देखो।"जोगिंदर आधा नींद में और आधा जगा हुआ था उसे ऐसे लगा जैसे वही दोपहर सपने वा

7

क्या यही प्यार है?(भाग:-7)

14 मई 2023
19
11
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ऐतिहासिक नगरी उज्जैन की ओर बढ़ा चला जा रहा था । वहां के स्नातकोत्तर महाविद्यालय मे उसका दाखिला हुआ था।बस कागज़ी कार्यवाही ही करनी बाकी थी और सारा काम तो एक दिन शहर जा कर जोगिंदर

8

क्या यही प्यार है?(भाग:-8)

18 मई 2023
19
12
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर को लगातार पायल की आवाज आ रही थी ।उसने नरेंद्र की तरफ देखा वह अपनी मस्ती में चला जा रहा था।उसे आश्चर्य हुआ कि लड़कों के हास्टल मे पायल की आवाज और उसे ही वो सुनाई दे रही है नरेंद्र

9

क्या यही प्यार है?(भाग:-9)

24 मई 2023
20
10
1

गतांक से आगे:-दोनों जल्द से जल्द होस्टल पहुंच जाना चाहते थे। क्यों कि आज पहला दिन था हास्टल मे ।वो अपनी छवि खराब नही करना चाहते थे वार्डन के आगे।जोगिंदर ने वार्डन से दो घंटे की महोलत मांगीं थी दो घंटे

10

क्या यही प्यार है?(भाग:-10)

29 मई 2023
17
10
0

गतांक से आगे:-<div><br></div><div>जोगिंदर जैसे ही अपने कमरे के दरवाजे के पास आया तो हैरान रह गया।वह शायद जब कमरे से बाहर गया था तब भी वो चीज वही रखी होगी पर उस पायल की आवाज का पीछा करते करते वह हड़बड़

11

क्या यही प्यार है?( भाग:-11)

2 जून 2023
14
10
0

गतांक से आगे:- रानी फल खा कर सो गयी उसे स्वप्न मे बहुत सी चीजें दिखाई दी । सिंह, हाथी, तराजू, स्वर्ण कलश।उसने सुबह उठकर अपने पति राजा पदमसेन से स्वप्न की सारी बात बता दी।राजा ने जब राजगुरु को रान

12

क्या यही प्यार है?(भाग:-12)

4 जून 2023
14
9
0

गतांक से आगे:-सूरजसेन के द्वारा नाम पूछने पर वो लड़की जो अभी तक भेड़िए के डर से उससे ऐसे लिपटी थी जैसे पेड़ पर लता लिपटी हो लेकिन जब उसने नाम पूछा तो वह सुकचाने लगी और बहुत ही धीमे स्वर में कहा"चंचला"

13

क्या यही प्यार है?(भाग :-13)

7 जून 2023
13
9
0

गतांक से आगे:- चंचला एक दम घबरा उठी उसे अंधेरे में कुछ दिखाई नही दे रहा था । लेकिन मुंह पर जिस कदर हाथ रखा हुआ था उस स्पर्श से वो कोई आदमी का हाथ लगता था चंचला एकदम गुस्से से लाल पीली हो गयी"ठहर

14

क्या यही प्यार है?(भाग:-14)

10 जून 2023
13
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर किताब मे इतना खोया हुआ था कि उसे ये भी पता नही चला कि कब से नरेंद्र उसे आवाज लगा रहा था।उसे तो किताब की हर एक बात ऐसे लग रही थी जैसे वो सब उसी के साथ घटित हुआ हो।नरेंद्र ने जब उस

15

क्या यही प्यार है?(भाग:-15)

12 जून 2023
14
11
0

गतांक से आगे:-चंचला की सांस उपर की उपर और नीचे की नीचे रह गयी जब उसने राजसी पोशाक में एक अधेड़ उम्र की औरत को अपने सामने खड़े पाया।उसने मन ही मन अनुमान लगाया कि हो ना हो ये राजकुमार सूरज की माता जी है

16

क्या यही प्यार है?(भाग:-16)

16 जून 2023
13
9
0

ौगतांक से आगे:-सरदार ने जब मशाल की रोशनी चंचला के मुख की तरफ की तो सन्न रह गया और बोला,"ये क्या ? बिटिया किसके नाम का सिंदूर मांग मे भरी हो।""हां पिता जी आप की बेटी अब किसी की अमानत हो चुकी है ।मै राज

17

क्या यही प्यार है?(भाग:-17)

20 जून 2023
15
9
0

गतांक से आगे:-कालू को खंजर हाथ मे लेकर कबीले से बाहर जाते सरदार ने देख लिया था उसका मन कांप गया ।उसे ये तो था कि कालू जल्दी से राजकुमार सूरज पर हाथ तो नही डाल सकता क्योंकि वो कोई साधारण मनुष्य नही है

18

क्या यही प्यार है?(भाग:-18)

24 जून 2023
13
10
0

गतांक से आगे:-जिसका डर था वही बात हुई ।रानी मां को महल के पहरेदारों से पता चला कि राजकुमार सूरजसेन किसी चंचला को पुकारते हुए पूरब दिशा मे गये है ।रानी मां के मुंह से अनायास ही निकल गया"हाय राम! उसी दि

19

क्या यही प्यार है?(भाग:-19)

29 जून 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर किताब पढ़ते पढते जैसे उसी दुनिया मे चला गया था लेकिन ये क्या वो इस महल के विषय मे जो कहानी पढ़ रहा था जो अब उसका होस्टल था ।जिसमे उसे बड़े ही अजीब अजीब अनुभव हो रहे थे।वो कहानी त

20

क्या यही प्यार है?(भाग:-20)

1 जुलाई 2023
12
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर हैरान रह गया अगर नरेंद्र का ये काम नही है तो फिर चिठ्ठी गयी कहां।वह जब कालेज से आया था तो उसने देखी ही थी मेज पर रखी थी फिर अचानक से कहां गायब हो गयी जब वह नहा कर आया।वह बड़े अनम

21

क्या यही प्यार है?(भाग:-21)

6 जुलाई 2023
11
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ये देख कर हैरान रह गया कि जिस चिठ्ठी को वो सारे होस्टल में ढूंढ आया था वह उस कमरे मे बिछे बिस्तर पर पड़ी है और खुली पड़ी है। वह रमनी की चिठ्ठी पहचानता था ।वह पूरे चेतना मे था ऐसा

22

क्या यही प्यार है?(भाग:-22)

6 जुलाई 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र का घबराहट के मारे बुरा हाल था । आखिर जोगिंदर गया तो गया कहां? रात को तो अच्छा भला सोया था कमरे मे ।वह दौड़कर कमल और नोबीन के कमरे मे गया और उनसे सारी बात बताई ।वे चारों होस्टल मे

23

क्या यही प्यार है?(भाग:-23)

9 जुलाई 2023
10
8
0

गतांक से आगे:-अगले दिन जोगिंदर ने फटाफट बैग मे कपड़े डाले और कालेज मे तीन दिन के अवकाश की अर्जी देकर वह गांव की बस मे बैठ गया ।जब वह जा रहा था तो नरेंद्र को कह गया था,"यार वैसे तो तीन दिन में आ जाऊंगा

24

क्या यही प्यार है?(भाग:-24)

9 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने मां को कह तो दिया कि वह रमनी का ब्याह रूकवा कर रहे गा ।पर कैसे वह यही सोचता रहा।फिर उसके दिमाग मे एक उपाय आया वह उस पर कार्रवाई करने की सोचने लगा। थोड़ी देर आराम करके वह अपनी

25

क्या यही प्यार है?(भाग:-25)

13 जुलाई 2023
7
6
0

गतांक से आगे:-आज सारा दिन वह रमनी के विषय में सोचता रहा। इसलिए उसे ऐसे लगा जैसे रमनी आयी है उससे बात करने ।पर शीघ्र ही उसे चमेली के फूलों की महक आने लगी जैसे चंचला के कमरे से आती थी । जोगिंदर नींद मे

26

क्या यही प्यार है?(भाग:-26)

13 जुलाई 2023
8
6
0

गतांक से आगे:-रमनी तो चली गयी पर जोगिंदर अब इस सोच मे था कि हरिया और भोला को जो काम सौंपा था वो उन्होंने किया या नही ।वह उसी की जांच पड़ताल करने उनके घर चला गया । दोनों दोस्तों ने उसे आश्वस्त कर

27

क्या यही प्यार है?भाग:-27)

17 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-सारी रात जोगिंदर और उसके माता पिता की आंखों ही आंखों में कटी ।सुबह सबसे पहले जोगिंदर के माता पिता ओझा जी के पास पहुंच गए और सारा हाल कह सुनाया और अपने साथ ही ओझा जी को घर ले आये ।

28

क्या यही प्यार है?(भाग:-28)

17 जुलाई 2023
10
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर सब जान चुका था कि रमनी पर चंचला की आत्मा ने कब्जा किया हुआ है ।ये तो ओझा जी की भभूत का असर है जो ये अभी शांत है ।वह ये देखना चाहता था कि रमनी कितनी शांत है तभी वह उसे जगा रहा था

29

क्या यही प्यार है?(भाग:-29)

19 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने हल्के से मुस्कुरा कर रमनी का पकड़ा हुआ हाथ दबा दिया ।रमनी भी होले से मुस्कुरा दी।वो दोनों जो चाहते थे वो काम हो रहा था ‌।दोनों ने एक दूसरे को वरमाला पहना दी और फेरों की वेदी प

30

क्या यही प्यार है?(भाग:-30)

19 जुलाई 2023
12
8
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र ने कलश लाकर आंगन मे रख दिया और जोगिंदर के पास जाकर बोला,"ये क्या बात हो गयी यार । मुझे तो बड़ी हैरानी हुई कि कमरा नं 13 मे किसी दीवार मे कोई लाश भी दबी हो सकती थी जब वार्डन की मद

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए