shabd-logo

क्या यही प्यार है?(भाग:-29)

19 जुलाई 2023

24 बार देखा गया 24
गतांक से आगे:-

जोगिंदर ने हल्के से मुस्कुरा कर रमनी का पकड़ा हुआ हाथ दबा दिया ।रमनी भी होले से मुस्कुरा दी।वो दोनों जो चाहते थे वो काम हो रहा था ‌।
दोनों ने एक दूसरे को वरमाला पहना दी और फेरों की वेदी पर बैठ गये ।तभी रमनी के बापू दौड़ कर आये और जोगिंदर के पैरों मे पड़ कर बोलें,"लला जी ये तो हमारा अहोभाग है  जो इस मुसीबत मे आप हमारी रमनी का हाथ थाम रहे है पर लला जी जागीरदार साहब क्या कहेंगे उनके खेतों मे काम करने वाले दिहाड़ी मजदूर की लड़की उनके घर की बहू बनेगी ये वो बर्दाश्त नहीं कर पायेंगे।लला जी आप रुक जाओ।"

जोगिंदर को जैसे करंट सा लगा मन ही मन जोगिंदर सोचने लगा,"ओहो चाचा क्यों कढ़ी बिगाड़ रहे हो बड़ी मुश्किल से योजना सफल हो रही है और तुम हो कि खेल बिगाड़ने आ गये ।एक बार हो जाने दो ब्याह बाद मे सब ठीक हो जाएगा।"
पर प्रत्यक्ष मे वह रमनी के बापू से मुंह बना कर बोला,"बस चाचा अब मुझ से अपनी बचपन की दोस्त का दुःख देखा नही जाता ।ये ब्याह मुझे करना ही है ।रही बात पिताजी की मुझे पता है वो बहुत गुस्सा होंगे पर अगर वो नही माने तो हम अपनी अलग दुनिया बसा लेंगे।"
अब रमनी का बापू इससे आगे क्या कहता ।वैसे वो तो खुश ही था रमनी इतने बड़े घर मे जा रही थी और लड़का भी पूरे गांव मे सबसे उपर था।
  पंडित जी ने फेरे करा दिए और रमनी विदा होकर अपने ससुराल की ओर चल दी ।रमनी का दिल जोर जोर से धड़क रहा था कि क्या पता क्या गाज गिरने वाली थी दोनों पर । लेकिन उसे अपने प्यार पर पूरा विश्वास था उसका जोगिंदर जब इतने बड़े जंजाल से छुड़ा सकता था तो क्या इस परिस्थिति से बाहर नहीं निकाल पायेगा।
इधर जोगिंदर के दिमाग मे भी तूफान मचा हुआ था ।इतनी बड़ी बात मतलब रमनी का ब्याह रुकवाना तो उसे आसान लगा पर पिताजी के आगे क्या तर्क रखेगा इसमे उसे नानी याद आ रही थी। हमेशा मनुष्य अपनों के आगे ही कमजोर पड़ता है फिर वो तो पिताजी की जान था बेशक जागीरदार साहब बाहर से कितने कठोर थे जोगिंदर के लिए पर अंदर से मोम की तरह पिघलते थे उसको मुसीबत में घिरा देखकर।
बै़ड बाजा बज रहा था रमनी ओर जोगिंदर जब हवेली की दहलीज पर पहुंचे तो जोगिंदर की मां बाहर निकल कर आयी और बाहर का नजारा देखकर हक्की बककी रह गई।बेटा तो अपने प्यार का ब्याह रुकवाने गया था और ये तो बहू ही ब्याह लाया ये कैसे हो गया। जोगिंदर ने मां की तरफ हाथ जोड़ दिए कि पिताजी से बचा लेना मां।
ढोल ढमाको की आवाज सुन कर जोगिंदर के पिता जब बाहर आये तो देखा बेटा बहू को दरवाजे पर लिए खड़ा था ।उनका गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया ।वे गर्ज कर बोले,"ये क्या तमाशा लगा रखा है । क्यों रे जोगी तू ये रमनी से ब्याह कर लिये हो वो भी किससे पूछकर।"
जोगिंदर की जैसे सिट्टी पिटटी गुम हो गयी वह बस पिता जी पिताजी करता रह गया ।तभी गांव के बड़े बुजुर्ग जिनकी जोगिंदर के पिता जी खूब मान करते थे वो आगे आये ओर बोले ,"लहरी सिंह ।तूने बेटा क्या हीरा जना है ।वरना कौन ऐसे किसी मुसीबत मे पड़ी लड़की जिसकी बारात लौट जाए उससे ब्याह करता है ।नये जमाने के बच्चे अपनी पसंद से शादी करते है और यो तेरा बेटा एक अबला के लिए भगवान बनकर आया और इसका हाथ पकड़ा धन्य है तू और तेरी परवरिश ।जो गांव की इज्जत को अपनी इज्जत समझते है।"
सभी गांव वाले जोगिंदर की जयकार करने लगे।
 ये दृश्य देखकर अब जोगिंदर के पिता क्या कहते । वास्तव मे बेटे ने सहरानीय काम जो किया था उनको गुस्सा तो बहुत आ रहा था कि कुनबे वालों को हंसने का मौका मिल जाए गा ।पर वो चुप रहे और मुंह बनाकर अंदर चले गये ।
मां ने नयी बहू की आरती की और गृह प्रवेश के लिए जैसे ही रमनी चावल के लौटे को अपने दांये पांव से अंदर धकेल रही थी कि एकदम से उसे जोर से चक्कर आया और वह दरवाजे के साथ घसीटते हुए नीचे गिर गयी ।सभी एक दम से घबरा गये कि ये अचानक से क्या हो गया । कोई बोला,"बेचारी घबराहट मे बेहोश हो गयी बेचारी की जिंदगी मे एकदम से इतने उतार चढाव आ गये। कोई कुछ बोल रहा था तो कोई कुछ।
पर जोगिंदर को पता था रमनी के साथ क्या हुआ है ….. चंचला वापस आ गयी थी। जोगिंदर रमनी को उठाकर अंदर ले गया और जाकर अपने कमरे मे लिटा दिया ।इन सब मे किसी का ध्यान इस ओर नही गया कि जो ओझा जी ने धागें दिए थे उसमे से एक धागा जोगिंदर की मां ने दरवाजे पर बांधा था वो जब रमनी बेहोश हो रही थी और दरवाज़े से घसीटकर नीचे गिरी थी तब वो धागा टूटकर नीचे गिर गया था ।और रमनी फेरों मे पड़ चुकी थी इस लिए भभूत का असर खत्म हो गया था। चंचला के सारे रास्ते खुल गये थे और वह घर मे प्रवेश कर चुकी थी । 
 जोगिंदर सब जान चुका था उसने हरिया के कान मे कुछ कहा और उसे बस स्टैंड की ओर भेज दिया ।और भोला को भी कुछ कहा ओर वो बाहर चला गया ।वह अपनी मां के पास आया और उन्हें एक ओर ले जाकर बताया कि मां चंचला रमनी पर आती है ।

जोगिंदर की मां एकदम से घबरा गयी और बोली," लला वो तो घरके अंदर आ ही नही सकती मैंने तो ओझा जी का दिया हुआ धागा दरवाजे पर…"
ये कहकर वह दरवाजे की तरफ दौड़ी तो देखा धागा वहां नही था उसका मन घबराने लगा,"लला अब क्या होगा वो तो रमनी को छोडेगी ही नही ।वो तुम्हारे पास किसी को बर्दाश्त नहीं कर सकती तो रमनी तो तुम्हारी ब्याहता बनकर आयी है इस घर मे ।"
जोगिंदर बोला,"यही तो डर है मां।वैसे मुझे पता है चंचला मुक्ति चाहती है तभी वह मेरे पास आयी है । मां ओझा जी बता रहे थे वो अच्छी आत्मा है उसका कोई अधूरा काम है जिस कारण वो इस योनि मे भटक रही है । मैंने कल सुबह ही नरेंद्र को तार कर दिया था वो आता ही होगा । मुझे पता है चंचला के शरीर के अवशेष उसी तेरह नंबर कमरे में दीवार मे चिने हुए है कल ही नरेंद्र ने उन्हें वार्डन की मदद से वहां से निकाल लिया होगा नरेंद्र अभी पहुंचता ही होगा चंचला की अस्थियां लेकर। मैंने हरिया को बस स्टैंड भेज दिया है और भोला को ओझा जी को लेने भेज दिया है । मुझे अहसास हो रहा है मां चंचला की आत्मा इस वक्त रमनी के अंदर ही है।"
जोगिंदर की मां का डर के मारे बुरा हाल था ।अभी अभी नयी बहू घर आयी है और ये सब हो गया।इतने मे रमनी जोर जोर से चिल्लाने लगी,"मै मैं इसे जान से मार डालूंगी इसकी हिम्मत कैसे हुई इसने मेरे सूरज के साथ ब्याह रचाया ।" यह कह कर रमनी जोर जोर से दीवारों मे सिर मारने लगी जोगिंदर ने दौड़कर रमनी के हाथ पांव रस्सी से बांधकर पलंग से बांध दिए।और बोला,"चंचला अब बस करो ।ये हंगामा अब बंद करों।मै उस जन्म में तुम्हारा सूरज  था अब सदियां बीत चुकी है ।तुम तब से उसी जन्म मे भटक रही हो। चंचला तुम समझो ।अब मै तुम्हारा सूरज नही हूं ।मेरे बहुत से जन्म हो चुके होंगे इस दौरान और तुम अभी उसी जगह पर अटक गयी हो ।मै मानता हूं तुम्हारे साथ बहुत बुरा हुआ है । प्यार करना कोई गुनाह नही है प्यार भगवान की तरफ से बनाया गया सबसे खूबसूरत अहसास है ।और मै मानता हूं तुमने शिद्दत से सूरज से प्यार किया था तभी तो सदियों से तुम उसका इंतजार कर रही हो ।पर अब तुम आत्मा स्वरूप हो तो तुम मुक्ति की ओर अग्रसर हो जाओ।"
रमनी मे घुसी हुई चंचला सुबकने लगी ,"ओ सूरज ,मेरे सूरज तुम तो इन सदियों मे बदल गये पर मै इस सदियों के इंतजार मे खुद को वही खड़ा पा रही हूं अब मै क्या करूं।"
जोगिंदर रमनी के सिर पर हाथ फेरते हुए बोला ,"धैर्य रखो चंचला मै तुम्हे मुक्ति दिलाकर परमधाम की ओर अग्रसर करुंगा।"
इतने मे नरेंद्र आ पहुंचा हरिया के साथ उसके हाथ मे एक कलश चमक रहा था।
(क्रमशः)

30
रचनाएँ
क्या यही प्यार है?
5.0
क्या आज की युवा पीढ़ी प्यार का मतलब जानती है ....नहीं।बस आज कल के युवा लैला मजनूं,शीरी फरहाद,इन की कहानी पढ़कर उन राहों पर निकल पड़ते हैं। प्यार पाना ही नहीं होता। प्यार के लिए मर मिटना भी प्यार है। सदियों तक किसी का इंतजार भी प्यार है। आइए हम और आप जाने चंचला के प्यार को अपने अपने नजरिए से।
1

क्या यही प्यार है?(भाग:-1)

1 मई 2023
44
12
4

प्यार क्या चीज है ये अच्छे अच्छे को समझ नही आता ।आजकल के बच्चे बस मोबाइल और इंटरनेट के प्यार को ही प्यार समझ बैठे है ।वो हीर रांझा,वो शीरी फरहाद,वो लैला मजनू ये तो आजकल की पीढ़ी को बस शो पीस ही लगते ह

2

क्या यही प्यार है?(भाग:-2)

2 मई 2023
31
11
0

जोगिंदर घर की ओर जा रहा था तभी रमनी के घर के आगे से जैसे ही गुजरा उसे बहुत तेज तेज आवाजें आ रही थी।रमनी उसकी बचपन की दोस्त थी संग खेले थे दोनों और साथ ही पढ़ें थे एक ही स्कूल मे। जहां जोगिंदर पढ़ाई मे

3

क्या यही प्यार है (भाग:-3)

5 मई 2023
23
11
0

जोगिंदर की सारी रात बैचेनी से कटी ।एक तो ये सोच कि नये माहौल मे वो कैसे रमे गा।कैसे रहने की व्यवस्था होगी ।वो वहां शहर मे एडजेस्ट हो पायेगा या नही।दूसरा पिता जी की चिंता उसे भी पता था कि कुनबे वाले उस

4

क्या यही प्यार है?(भाग:-4)

6 मई 2023
23
11
2

<div>रमनी की सांसे धौकनी की तरह चल रही थी।उसे यही लग रहा था कि अब जोगिंदर उससे कहेगा।"मेरी रमनी मै तुम बिन शहर कैसे रहूंगा?"</div><div>वह उसकी ओर देख रही थी तभी जोगिंदर बोला,"सुन रही है ना ।मै शहर जा

5

क्या यही प्यार है?(भाग:-5)

8 मई 2023
23
10
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र सपने मे दब सा रहा था उसे सपने मे एक हास्टल दिखाई दे रहा था ।वह क्या देखता है वह अकेला एक गलियारे मे चला जा रहा था।वह शायद पानी की तलाश कर रहा था । दोनों ओर कमरों मे भूतहा शांति छ

6

क्या यही प्यार है?(भाग:-6)

11 मई 2023
21
11
0

गतांक से आगेअभी जोगिंदर को सोये घंटा भर ही हुआ था कि उसे ऐसे लगा जैसे उसे कोई बुला रहा है "सूरज उठो ना । आंखें खोल कर तो देखो।"जोगिंदर आधा नींद में और आधा जगा हुआ था उसे ऐसे लगा जैसे वही दोपहर सपने वा

7

क्या यही प्यार है?(भाग:-7)

14 मई 2023
19
11
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ऐतिहासिक नगरी उज्जैन की ओर बढ़ा चला जा रहा था । वहां के स्नातकोत्तर महाविद्यालय मे उसका दाखिला हुआ था।बस कागज़ी कार्यवाही ही करनी बाकी थी और सारा काम तो एक दिन शहर जा कर जोगिंदर

8

क्या यही प्यार है?(भाग:-8)

18 मई 2023
19
12
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर को लगातार पायल की आवाज आ रही थी ।उसने नरेंद्र की तरफ देखा वह अपनी मस्ती में चला जा रहा था।उसे आश्चर्य हुआ कि लड़कों के हास्टल मे पायल की आवाज और उसे ही वो सुनाई दे रही है नरेंद्र

9

क्या यही प्यार है?(भाग:-9)

24 मई 2023
20
10
1

गतांक से आगे:-दोनों जल्द से जल्द होस्टल पहुंच जाना चाहते थे। क्यों कि आज पहला दिन था हास्टल मे ।वो अपनी छवि खराब नही करना चाहते थे वार्डन के आगे।जोगिंदर ने वार्डन से दो घंटे की महोलत मांगीं थी दो घंटे

10

क्या यही प्यार है?(भाग:-10)

29 मई 2023
17
10
0

गतांक से आगे:-<div><br></div><div>जोगिंदर जैसे ही अपने कमरे के दरवाजे के पास आया तो हैरान रह गया।वह शायद जब कमरे से बाहर गया था तब भी वो चीज वही रखी होगी पर उस पायल की आवाज का पीछा करते करते वह हड़बड़

11

क्या यही प्यार है?( भाग:-11)

2 जून 2023
14
10
0

गतांक से आगे:- रानी फल खा कर सो गयी उसे स्वप्न मे बहुत सी चीजें दिखाई दी । सिंह, हाथी, तराजू, स्वर्ण कलश।उसने सुबह उठकर अपने पति राजा पदमसेन से स्वप्न की सारी बात बता दी।राजा ने जब राजगुरु को रान

12

क्या यही प्यार है?(भाग:-12)

4 जून 2023
14
9
0

गतांक से आगे:-सूरजसेन के द्वारा नाम पूछने पर वो लड़की जो अभी तक भेड़िए के डर से उससे ऐसे लिपटी थी जैसे पेड़ पर लता लिपटी हो लेकिन जब उसने नाम पूछा तो वह सुकचाने लगी और बहुत ही धीमे स्वर में कहा"चंचला"

13

क्या यही प्यार है?(भाग :-13)

7 जून 2023
13
9
0

गतांक से आगे:- चंचला एक दम घबरा उठी उसे अंधेरे में कुछ दिखाई नही दे रहा था । लेकिन मुंह पर जिस कदर हाथ रखा हुआ था उस स्पर्श से वो कोई आदमी का हाथ लगता था चंचला एकदम गुस्से से लाल पीली हो गयी"ठहर

14

क्या यही प्यार है?(भाग:-14)

10 जून 2023
13
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर किताब मे इतना खोया हुआ था कि उसे ये भी पता नही चला कि कब से नरेंद्र उसे आवाज लगा रहा था।उसे तो किताब की हर एक बात ऐसे लग रही थी जैसे वो सब उसी के साथ घटित हुआ हो।नरेंद्र ने जब उस

15

क्या यही प्यार है?(भाग:-15)

12 जून 2023
14
11
0

गतांक से आगे:-चंचला की सांस उपर की उपर और नीचे की नीचे रह गयी जब उसने राजसी पोशाक में एक अधेड़ उम्र की औरत को अपने सामने खड़े पाया।उसने मन ही मन अनुमान लगाया कि हो ना हो ये राजकुमार सूरज की माता जी है

16

क्या यही प्यार है?(भाग:-16)

16 जून 2023
13
9
0

ौगतांक से आगे:-सरदार ने जब मशाल की रोशनी चंचला के मुख की तरफ की तो सन्न रह गया और बोला,"ये क्या ? बिटिया किसके नाम का सिंदूर मांग मे भरी हो।""हां पिता जी आप की बेटी अब किसी की अमानत हो चुकी है ।मै राज

17

क्या यही प्यार है?(भाग:-17)

20 जून 2023
15
9
0

गतांक से आगे:-कालू को खंजर हाथ मे लेकर कबीले से बाहर जाते सरदार ने देख लिया था उसका मन कांप गया ।उसे ये तो था कि कालू जल्दी से राजकुमार सूरज पर हाथ तो नही डाल सकता क्योंकि वो कोई साधारण मनुष्य नही है

18

क्या यही प्यार है?(भाग:-18)

24 जून 2023
13
10
0

गतांक से आगे:-जिसका डर था वही बात हुई ।रानी मां को महल के पहरेदारों से पता चला कि राजकुमार सूरजसेन किसी चंचला को पुकारते हुए पूरब दिशा मे गये है ।रानी मां के मुंह से अनायास ही निकल गया"हाय राम! उसी दि

19

क्या यही प्यार है?(भाग:-19)

29 जून 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर किताब पढ़ते पढते जैसे उसी दुनिया मे चला गया था लेकिन ये क्या वो इस महल के विषय मे जो कहानी पढ़ रहा था जो अब उसका होस्टल था ।जिसमे उसे बड़े ही अजीब अजीब अनुभव हो रहे थे।वो कहानी त

20

क्या यही प्यार है?(भाग:-20)

1 जुलाई 2023
12
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर हैरान रह गया अगर नरेंद्र का ये काम नही है तो फिर चिठ्ठी गयी कहां।वह जब कालेज से आया था तो उसने देखी ही थी मेज पर रखी थी फिर अचानक से कहां गायब हो गयी जब वह नहा कर आया।वह बड़े अनम

21

क्या यही प्यार है?(भाग:-21)

6 जुलाई 2023
11
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ये देख कर हैरान रह गया कि जिस चिठ्ठी को वो सारे होस्टल में ढूंढ आया था वह उस कमरे मे बिछे बिस्तर पर पड़ी है और खुली पड़ी है। वह रमनी की चिठ्ठी पहचानता था ।वह पूरे चेतना मे था ऐसा

22

क्या यही प्यार है?(भाग:-22)

6 जुलाई 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र का घबराहट के मारे बुरा हाल था । आखिर जोगिंदर गया तो गया कहां? रात को तो अच्छा भला सोया था कमरे मे ।वह दौड़कर कमल और नोबीन के कमरे मे गया और उनसे सारी बात बताई ।वे चारों होस्टल मे

23

क्या यही प्यार है?(भाग:-23)

9 जुलाई 2023
10
8
0

गतांक से आगे:-अगले दिन जोगिंदर ने फटाफट बैग मे कपड़े डाले और कालेज मे तीन दिन के अवकाश की अर्जी देकर वह गांव की बस मे बैठ गया ।जब वह जा रहा था तो नरेंद्र को कह गया था,"यार वैसे तो तीन दिन में आ जाऊंगा

24

क्या यही प्यार है?(भाग:-24)

9 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने मां को कह तो दिया कि वह रमनी का ब्याह रूकवा कर रहे गा ।पर कैसे वह यही सोचता रहा।फिर उसके दिमाग मे एक उपाय आया वह उस पर कार्रवाई करने की सोचने लगा। थोड़ी देर आराम करके वह अपनी

25

क्या यही प्यार है?(भाग:-25)

13 जुलाई 2023
7
6
0

गतांक से आगे:-आज सारा दिन वह रमनी के विषय में सोचता रहा। इसलिए उसे ऐसे लगा जैसे रमनी आयी है उससे बात करने ।पर शीघ्र ही उसे चमेली के फूलों की महक आने लगी जैसे चंचला के कमरे से आती थी । जोगिंदर नींद मे

26

क्या यही प्यार है?(भाग:-26)

13 जुलाई 2023
8
6
0

गतांक से आगे:-रमनी तो चली गयी पर जोगिंदर अब इस सोच मे था कि हरिया और भोला को जो काम सौंपा था वो उन्होंने किया या नही ।वह उसी की जांच पड़ताल करने उनके घर चला गया । दोनों दोस्तों ने उसे आश्वस्त कर

27

क्या यही प्यार है?भाग:-27)

17 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-सारी रात जोगिंदर और उसके माता पिता की आंखों ही आंखों में कटी ।सुबह सबसे पहले जोगिंदर के माता पिता ओझा जी के पास पहुंच गए और सारा हाल कह सुनाया और अपने साथ ही ओझा जी को घर ले आये ।

28

क्या यही प्यार है?(भाग:-28)

17 जुलाई 2023
10
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर सब जान चुका था कि रमनी पर चंचला की आत्मा ने कब्जा किया हुआ है ।ये तो ओझा जी की भभूत का असर है जो ये अभी शांत है ।वह ये देखना चाहता था कि रमनी कितनी शांत है तभी वह उसे जगा रहा था

29

क्या यही प्यार है?(भाग:-29)

19 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने हल्के से मुस्कुरा कर रमनी का पकड़ा हुआ हाथ दबा दिया ।रमनी भी होले से मुस्कुरा दी।वो दोनों जो चाहते थे वो काम हो रहा था ‌।दोनों ने एक दूसरे को वरमाला पहना दी और फेरों की वेदी प

30

क्या यही प्यार है?(भाग:-30)

19 जुलाई 2023
12
8
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र ने कलश लाकर आंगन मे रख दिया और जोगिंदर के पास जाकर बोला,"ये क्या बात हो गयी यार । मुझे तो बड़ी हैरानी हुई कि कमरा नं 13 मे किसी दीवार मे कोई लाश भी दबी हो सकती थी जब वार्डन की मद

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए