shabd-logo

क्या यही प्यार है?(भाग:-30)

19 जुलाई 2023

32 बार देखा गया 32
गतांक से आगे:-

नरेंद्र ने कलश लाकर आंगन मे रख दिया और जोगिंदर के पास जाकर बोला,"ये क्या बात हो गयी यार । मुझे तो बड़ी हैरानी हुई कि कमरा नं 13 मे किसी दीवार मे कोई लाश भी दबी हो सकती थी जब वार्डन की मदद से मै वो दीवार खुदवा रहा था तो एक बार तो मुझे लगा कि कही कुछ ना मिला तो ऐसे ही फिजूल मे भदद पिट जाएगी। होस्टल मे सब पागल कहेंगे ।फिर जब दीवार मे से ये नरकंकाल मिला तो सबके होश उड़ गये ।"
जोगिंदर उसकी तरफ देखते हुए बोला," तो क्या मै झूठ बोल रहा था । मुझे चंचला ने बता दिया था कि उसे इस दीवार मे चिनवा दिया गया था। लेकिन अब एक और मुसीबत हो गयी है मै तो चंचला को मुक्त कराना चाहता था पर ये तो रमनी के अंदर प्रवेश कर गयी है परसों रात से ।चंचला की आत्मा मेरे साथ साथ शहर से गांव आ गयी थी ।उसने मुझे यहां आते ही अपने साथ होने का अहसास करवा दिया था ।पर अब तो ये रमनी मे आ गयी है ।"
नरेंद्र ने कमरे मे झांक कर देखा रमनी दुल्हन के वेश मे थी और उसके हाथ पांव पलंग से बंधे हुए थे ।उसे देखकर नरेंद्र बोला,"रमनी की मांग मे सिंदूर और वो तेरे कमरे मे क्या तुम दोनो का……
जोगिंदर ने मुस्कुराते हुए कह,"बिल्कुल अब वो मेरी पत्नी है ।"
नरेंद्र आश्चर्य से बोला,"ये कैसे हो गया तू तो रमनी का ब्याह रुकवाने…..
जोगिंदर ने दौड़कर नरेंद्र के मुंह पर हाथ रख दिया ,"शशशं क्या कर रहा है बना बनाया काम क्यों बिगाड़ रहा है बड़ी मुश्किल से तो हम दोनों ने अपनी मंजिल पायी है और तू गुड़ गोबर कर दे सारा।"
नरेंद्र भी हंसे बिना ना रह सका और बोला,"यार तू है तो बड़ा कलाकार। दिखता नही है पर है तू मंझा हुआ।"

तभी ओझा जी अलख निरंजन करते हवेली मे आ गये । जोगिंदर उसे रमनी के कमरे की ओर ले गया ।ओझा जी ने जब रमनी को देखा तो देखते ही कहा,"वो आत्मा रमनी मे सिसक रही है । ज्यादा देर की तो कही रमनी की जान पर ना बन आये।"
ये सुनकर जोगिंदर के पैरो तले की जमीन खिसक गयी और वह ओझा जी के उरण पकड़ कर बैठ गया और बोला,"बाबा आप मुझे बताइए मुझे क्या करना है मैने चंचला की अस्थियां तो मंगवा ली है शहर से ।"
ओझा जी ने जोगिंदर को कुछ सामान लिखवाया जो नोकर चाकर झटपट ले आये ।अब हवन वेदी तैयार की गयी और सभी घर वालों को शांति से एक तरफ बैठने को कहा
अनुष्ठान की सारी तैयारियां हो गयी ।ओझा जी हवन वेदी के दाईं और बैठें और सामने रमनी को लाकर बैठाया गया जिसमें चंचला की आत्मा का वास हो गया था ।पलंग से रस्सी खुलते ही रमनी फिर से जोर जोर से हाथ पैर चलाने लगी 
कहते है सोतिया ढाह ऐसी ही होती है जब तक वो अपनी सौत को खत्म ना कर ले उसे चैन नही पड़ेगा। चंचला की आत्मा इस तरह से रमनी को तकलीफ़ दे रही थी ये जोगिंदर से बर्दाश्त नही हो रहा था ।
तभी ओझा जी ने सामने बैठी रमनी पर गंगा जल छिड़का तो वो एकदम से चिल्लाने लगी ,"नही मेरे साथ ऐसा मत करों मैने तुम्हारा क्या बिगाड़ा है । " वह जोर जोर से हाथ पांव मारने लगी ।बहू की ऐसी हालत देखकर जोगिंदर की मां तो रोने ही लगी । जोगिंदर ने पास जाकर ढांढस बंधाई।
तभी ओझा जी बोले ,"कौन है री तू ?और यहां क्या करने आयी है ?"
तभी रमनी जोर से चिल्लाई उसकी आवाज बदली हुई थी," मै …मै चंचला हूं । उज्जैन की रियासत के महाराज पदमसेन की पुत्र वधू।पर मेरे जीवन मे सुग भगवान ने लिखा ही नही ।एक दिन की ब्याहता को दीवार मे चिनवा दिया गया ।ये मेरे ससुर पदमसेन की आज्ञा से ही सब हुआ ।मै उसी महल से ही बंध गयी हूं मेरी आत्मा को मुक्ति नही मिली ।
  मिलती भी कैसे मेरे पति सूरजसेन ने मुझे ये कहा था कि मेरी आज्ञा के बगैर इस महल से बाहर कदम नही रखना ।वो गये और फिर लौटे ही नही ।मै सदियों से उनकी बाट जोह रही थी कि कब वो आये और कब वो मेरे बने । लेकिन वो आये भी तो वो मेरे नही थे किसी रमनी के जोगिंदर बन चुके थे और आज तो उसके साथ ब्याह बंधन मे भी बंध गये है ।आज मै अपने आप को बहुत ही अकेला महसूस कर रही हूं।"
चंचला की ये ह्रदय को चीरने वाली बातें सुनकर वहां बैठे सभी लोगों की आंखे भर आयी।
रमनी के अंदर बैठी चंचला फिर बोली,"अब मै क्या कर सकती हूं  प्यार का नाम पाना ही नही होता। अपने प्यार के लिए उसपर कुर्बान हो जाना भी प्यार ही है ।जब मेरे पति को ही मै स्वीकार नही तो हे ओझा । मुझे इस योनि से मुक्ति दे दो।"
यह कहकर रमनी सुबकने लगी ।ओझा ने मंत्रोच्चार तेज कर दिया ।साथ साथ वो गंगाजल के छीटें उसपर डालता जा रहा था फिर अचानक से ओझा जी बोले," जोगिंदर तुम वो अस्थियों का कलश लेकर इधर आओ।और मेरे बाई ओर बैठ जाओ ।बेटा ये तुम्हारी ब्याहता थी उस जन्म में ।तब तूने इसे ये कहा होगा कि मेरी आज्ञा के बगैर कही मत जाना तो ये इसी इंतजार मे है कि इसका पति इसे आज्ञा दे और यह इस योनि से मुक्त होकर परमधाम की ओर जाए।"

ओझा जी ने गंगाजल हाथ मे दिलवाकर जोगिंदर को चंचला से मुखातिब होने के लिए कहा।
जोगिंदर हाथ मे जल लेकर बोला,"हे प्रिय ।तुम मेरी ब्याहता थी सही मायने मे तुमने ये सिद्ध कर दिया कि "प्यार क्या होता है "
हां मै चीख चीखकर कहता हूं "हां यही प्यार है '
जो तुमने निभाया।अब मै चारों दिशाओं को साक्षी मानकर कहता हूं हे प्रिय अब तुम इस योनि से मुक्त हो कर परमधाम की ओर अग्रसर हो जाओ।"
ये खहते हुए जोगिंदर की आंखों मे अविरल आंसू बह रहे थे।
तभी रमनी के शरीर से एक सफेद ज्योतिपुंज निकला और हवन की अग्नि मे समा गया । जोगिंदर….सूरज अपनी चंचला को मुक्त होता अपनी आंखों से देख रहा था ।
तभी रमनी का शरीर एक ओर लुढ़क गया । जोगिंदर ने भाग कर उसे सम्हाला। चंचला परमधाम की ओर गमन कर चुकी थी ।
थोड़ी देर बाद रमनी को होश आया ।तो वह बोली,"क्या हो गया था मुझे ?"
जोगिंदर ने सबको मना किया था कि रमनी को किसी भी हालत मे चंचला के विषय में पता नही चलना चाहिए।वह बस मुस्कुरा कर होले से बोला,"मेरी जान ।एक जलजला आया था जो शांति से निकल गया ।"
जोगिंदर की मां ने नयी बहू के आगमन मे सारे गांव की दावत की ।

अगले दिन जोगिंदर और रमनी बस मे गड़ गंगा की ओर जा रहे थे । जोगिंदर अपनी पूर्व प्रेमिका व पत्नी चंचला की और रमनी अपनी बड़ी दीदी को अंतिम विदाई देने।

(क्रमशः)

30
रचनाएँ
क्या यही प्यार है?
5.0
क्या आज की युवा पीढ़ी प्यार का मतलब जानती है ....नहीं।बस आज कल के युवा लैला मजनूं,शीरी फरहाद,इन की कहानी पढ़कर उन राहों पर निकल पड़ते हैं। प्यार पाना ही नहीं होता। प्यार के लिए मर मिटना भी प्यार है। सदियों तक किसी का इंतजार भी प्यार है। आइए हम और आप जाने चंचला के प्यार को अपने अपने नजरिए से।
1

क्या यही प्यार है?(भाग:-1)

1 मई 2023
44
12
4

प्यार क्या चीज है ये अच्छे अच्छे को समझ नही आता ।आजकल के बच्चे बस मोबाइल और इंटरनेट के प्यार को ही प्यार समझ बैठे है ।वो हीर रांझा,वो शीरी फरहाद,वो लैला मजनू ये तो आजकल की पीढ़ी को बस शो पीस ही लगते ह

2

क्या यही प्यार है?(भाग:-2)

2 मई 2023
31
11
0

जोगिंदर घर की ओर जा रहा था तभी रमनी के घर के आगे से जैसे ही गुजरा उसे बहुत तेज तेज आवाजें आ रही थी।रमनी उसकी बचपन की दोस्त थी संग खेले थे दोनों और साथ ही पढ़ें थे एक ही स्कूल मे। जहां जोगिंदर पढ़ाई मे

3

क्या यही प्यार है (भाग:-3)

5 मई 2023
23
11
0

जोगिंदर की सारी रात बैचेनी से कटी ।एक तो ये सोच कि नये माहौल मे वो कैसे रमे गा।कैसे रहने की व्यवस्था होगी ।वो वहां शहर मे एडजेस्ट हो पायेगा या नही।दूसरा पिता जी की चिंता उसे भी पता था कि कुनबे वाले उस

4

क्या यही प्यार है?(भाग:-4)

6 मई 2023
23
11
2

<div>रमनी की सांसे धौकनी की तरह चल रही थी।उसे यही लग रहा था कि अब जोगिंदर उससे कहेगा।"मेरी रमनी मै तुम बिन शहर कैसे रहूंगा?"</div><div>वह उसकी ओर देख रही थी तभी जोगिंदर बोला,"सुन रही है ना ।मै शहर जा

5

क्या यही प्यार है?(भाग:-5)

8 मई 2023
23
10
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र सपने मे दब सा रहा था उसे सपने मे एक हास्टल दिखाई दे रहा था ।वह क्या देखता है वह अकेला एक गलियारे मे चला जा रहा था।वह शायद पानी की तलाश कर रहा था । दोनों ओर कमरों मे भूतहा शांति छ

6

क्या यही प्यार है?(भाग:-6)

11 मई 2023
21
11
0

गतांक से आगेअभी जोगिंदर को सोये घंटा भर ही हुआ था कि उसे ऐसे लगा जैसे उसे कोई बुला रहा है "सूरज उठो ना । आंखें खोल कर तो देखो।"जोगिंदर आधा नींद में और आधा जगा हुआ था उसे ऐसे लगा जैसे वही दोपहर सपने वा

7

क्या यही प्यार है?(भाग:-7)

14 मई 2023
19
11
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ऐतिहासिक नगरी उज्जैन की ओर बढ़ा चला जा रहा था । वहां के स्नातकोत्तर महाविद्यालय मे उसका दाखिला हुआ था।बस कागज़ी कार्यवाही ही करनी बाकी थी और सारा काम तो एक दिन शहर जा कर जोगिंदर

8

क्या यही प्यार है?(भाग:-8)

18 मई 2023
19
12
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर को लगातार पायल की आवाज आ रही थी ।उसने नरेंद्र की तरफ देखा वह अपनी मस्ती में चला जा रहा था।उसे आश्चर्य हुआ कि लड़कों के हास्टल मे पायल की आवाज और उसे ही वो सुनाई दे रही है नरेंद्र

9

क्या यही प्यार है?(भाग:-9)

24 मई 2023
20
10
1

गतांक से आगे:-दोनों जल्द से जल्द होस्टल पहुंच जाना चाहते थे। क्यों कि आज पहला दिन था हास्टल मे ।वो अपनी छवि खराब नही करना चाहते थे वार्डन के आगे।जोगिंदर ने वार्डन से दो घंटे की महोलत मांगीं थी दो घंटे

10

क्या यही प्यार है?(भाग:-10)

29 मई 2023
17
10
0

गतांक से आगे:-<div><br></div><div>जोगिंदर जैसे ही अपने कमरे के दरवाजे के पास आया तो हैरान रह गया।वह शायद जब कमरे से बाहर गया था तब भी वो चीज वही रखी होगी पर उस पायल की आवाज का पीछा करते करते वह हड़बड़

11

क्या यही प्यार है?( भाग:-11)

2 जून 2023
14
10
0

गतांक से आगे:- रानी फल खा कर सो गयी उसे स्वप्न मे बहुत सी चीजें दिखाई दी । सिंह, हाथी, तराजू, स्वर्ण कलश।उसने सुबह उठकर अपने पति राजा पदमसेन से स्वप्न की सारी बात बता दी।राजा ने जब राजगुरु को रान

12

क्या यही प्यार है?(भाग:-12)

4 जून 2023
14
9
0

गतांक से आगे:-सूरजसेन के द्वारा नाम पूछने पर वो लड़की जो अभी तक भेड़िए के डर से उससे ऐसे लिपटी थी जैसे पेड़ पर लता लिपटी हो लेकिन जब उसने नाम पूछा तो वह सुकचाने लगी और बहुत ही धीमे स्वर में कहा"चंचला"

13

क्या यही प्यार है?(भाग :-13)

7 जून 2023
13
9
0

गतांक से आगे:- चंचला एक दम घबरा उठी उसे अंधेरे में कुछ दिखाई नही दे रहा था । लेकिन मुंह पर जिस कदर हाथ रखा हुआ था उस स्पर्श से वो कोई आदमी का हाथ लगता था चंचला एकदम गुस्से से लाल पीली हो गयी"ठहर

14

क्या यही प्यार है?(भाग:-14)

10 जून 2023
13
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर किताब मे इतना खोया हुआ था कि उसे ये भी पता नही चला कि कब से नरेंद्र उसे आवाज लगा रहा था।उसे तो किताब की हर एक बात ऐसे लग रही थी जैसे वो सब उसी के साथ घटित हुआ हो।नरेंद्र ने जब उस

15

क्या यही प्यार है?(भाग:-15)

12 जून 2023
14
11
0

गतांक से आगे:-चंचला की सांस उपर की उपर और नीचे की नीचे रह गयी जब उसने राजसी पोशाक में एक अधेड़ उम्र की औरत को अपने सामने खड़े पाया।उसने मन ही मन अनुमान लगाया कि हो ना हो ये राजकुमार सूरज की माता जी है

16

क्या यही प्यार है?(भाग:-16)

16 जून 2023
13
9
0

ौगतांक से आगे:-सरदार ने जब मशाल की रोशनी चंचला के मुख की तरफ की तो सन्न रह गया और बोला,"ये क्या ? बिटिया किसके नाम का सिंदूर मांग मे भरी हो।""हां पिता जी आप की बेटी अब किसी की अमानत हो चुकी है ।मै राज

17

क्या यही प्यार है?(भाग:-17)

20 जून 2023
15
9
0

गतांक से आगे:-कालू को खंजर हाथ मे लेकर कबीले से बाहर जाते सरदार ने देख लिया था उसका मन कांप गया ।उसे ये तो था कि कालू जल्दी से राजकुमार सूरज पर हाथ तो नही डाल सकता क्योंकि वो कोई साधारण मनुष्य नही है

18

क्या यही प्यार है?(भाग:-18)

24 जून 2023
13
10
0

गतांक से आगे:-जिसका डर था वही बात हुई ।रानी मां को महल के पहरेदारों से पता चला कि राजकुमार सूरजसेन किसी चंचला को पुकारते हुए पूरब दिशा मे गये है ।रानी मां के मुंह से अनायास ही निकल गया"हाय राम! उसी दि

19

क्या यही प्यार है?(भाग:-19)

29 जून 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर किताब पढ़ते पढते जैसे उसी दुनिया मे चला गया था लेकिन ये क्या वो इस महल के विषय मे जो कहानी पढ़ रहा था जो अब उसका होस्टल था ।जिसमे उसे बड़े ही अजीब अजीब अनुभव हो रहे थे।वो कहानी त

20

क्या यही प्यार है?(भाग:-20)

1 जुलाई 2023
12
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर हैरान रह गया अगर नरेंद्र का ये काम नही है तो फिर चिठ्ठी गयी कहां।वह जब कालेज से आया था तो उसने देखी ही थी मेज पर रखी थी फिर अचानक से कहां गायब हो गयी जब वह नहा कर आया।वह बड़े अनम

21

क्या यही प्यार है?(भाग:-21)

6 जुलाई 2023
11
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ये देख कर हैरान रह गया कि जिस चिठ्ठी को वो सारे होस्टल में ढूंढ आया था वह उस कमरे मे बिछे बिस्तर पर पड़ी है और खुली पड़ी है। वह रमनी की चिठ्ठी पहचानता था ।वह पूरे चेतना मे था ऐसा

22

क्या यही प्यार है?(भाग:-22)

6 जुलाई 2023
11
9
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र का घबराहट के मारे बुरा हाल था । आखिर जोगिंदर गया तो गया कहां? रात को तो अच्छा भला सोया था कमरे मे ।वह दौड़कर कमल और नोबीन के कमरे मे गया और उनसे सारी बात बताई ।वे चारों होस्टल मे

23

क्या यही प्यार है?(भाग:-23)

9 जुलाई 2023
10
8
0

गतांक से आगे:-अगले दिन जोगिंदर ने फटाफट बैग मे कपड़े डाले और कालेज मे तीन दिन के अवकाश की अर्जी देकर वह गांव की बस मे बैठ गया ।जब वह जा रहा था तो नरेंद्र को कह गया था,"यार वैसे तो तीन दिन में आ जाऊंगा

24

क्या यही प्यार है?(भाग:-24)

9 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने मां को कह तो दिया कि वह रमनी का ब्याह रूकवा कर रहे गा ।पर कैसे वह यही सोचता रहा।फिर उसके दिमाग मे एक उपाय आया वह उस पर कार्रवाई करने की सोचने लगा। थोड़ी देर आराम करके वह अपनी

25

क्या यही प्यार है?(भाग:-25)

13 जुलाई 2023
7
6
0

गतांक से आगे:-आज सारा दिन वह रमनी के विषय में सोचता रहा। इसलिए उसे ऐसे लगा जैसे रमनी आयी है उससे बात करने ।पर शीघ्र ही उसे चमेली के फूलों की महक आने लगी जैसे चंचला के कमरे से आती थी । जोगिंदर नींद मे

26

क्या यही प्यार है?(भाग:-26)

13 जुलाई 2023
8
6
0

गतांक से आगे:-रमनी तो चली गयी पर जोगिंदर अब इस सोच मे था कि हरिया और भोला को जो काम सौंपा था वो उन्होंने किया या नही ।वह उसी की जांच पड़ताल करने उनके घर चला गया । दोनों दोस्तों ने उसे आश्वस्त कर

27

क्या यही प्यार है?भाग:-27)

17 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-सारी रात जोगिंदर और उसके माता पिता की आंखों ही आंखों में कटी ।सुबह सबसे पहले जोगिंदर के माता पिता ओझा जी के पास पहुंच गए और सारा हाल कह सुनाया और अपने साथ ही ओझा जी को घर ले आये ।

28

क्या यही प्यार है?(भाग:-28)

17 जुलाई 2023
10
9
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर सब जान चुका था कि रमनी पर चंचला की आत्मा ने कब्जा किया हुआ है ।ये तो ओझा जी की भभूत का असर है जो ये अभी शांत है ।वह ये देखना चाहता था कि रमनी कितनी शांत है तभी वह उसे जगा रहा था

29

क्या यही प्यार है?(भाग:-29)

19 जुलाई 2023
9
8
0

गतांक से आगे:-जोगिंदर ने हल्के से मुस्कुरा कर रमनी का पकड़ा हुआ हाथ दबा दिया ।रमनी भी होले से मुस्कुरा दी।वो दोनों जो चाहते थे वो काम हो रहा था ‌।दोनों ने एक दूसरे को वरमाला पहना दी और फेरों की वेदी प

30

क्या यही प्यार है?(भाग:-30)

19 जुलाई 2023
12
8
0

गतांक से आगे:-नरेंद्र ने कलश लाकर आंगन मे रख दिया और जोगिंदर के पास जाकर बोला,"ये क्या बात हो गयी यार । मुझे तो बड़ी हैरानी हुई कि कमरा नं 13 मे किसी दीवार मे कोई लाश भी दबी हो सकती थी जब वार्डन की मद

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए