shabd-logo

बच्चें मन के सच्चे

11 मई 2023

6 बार देखा गया 6
बच्चें मन के सच्चे... 

बचपन में याद है ….. 
अब इस तरह का आशीर्वाद कम ही मिलता है….. 
जब कोई रिश्तेदार व परिवार वाले हमारे घर आते थे 
तब फल व खिलौने लेकर आते थे 
और जब उनके वापस लौटने का वक्त होता था 
कुछ दिन हमारे घर पर रहने के बाद तब…. 
वापस लौटने के वक्त कुछ कुछ पैसे लिफ़ाफ़े में रख के या सीधे इसी तरह हमें देने लगते थे …. 
मन तो बहुत करता था ले लेने का लेकिन लेने से पहले नाटक ना लेने का भी हम बच्चें बहुत करते थे … 
फिर बाद में ज़बरदस्ती वो रिश्तेदार व परिवार वाले हमारे जेब में वो पैसा रख देते थे …  
और बोलते थे रखो जीजी का आशीर्वाद समझ कर गोलियां लेकर खा लेना ….. 
पर जीजी को क्या पता होता था की उनके जाने के बाद माँ पैसा ले लेंती है और कहती है की मैं भी जीजी के बच्चों को दिये हैं …. बहुत नाटक या मनुहार करने के... 
बाद में कभी अधिक दया आ जाती थी तब उसमे से थोड़े बहुत पैसे मिला करते थे …… यह एक मध्यवर्गीय परिवार की कहानी होती थी जो शायद हर घर की ही कहानी होती थी …….. पर जो भी ऐसा कुछ था वो बहुत सुंदर था… लैंडलाइन टेलीफ़ोन पर फ़ोन आना , रिश्तेदारों व परिवार वालो का परिवार के साथ घर पर आकार ठहरना , छत पर बिजली बंद हो जाने के बाद मच्छर के काटने से बचने के लिए मच्छरदानी लगा कर सोना और सोने से पहले याद से टॉर्च तकिया के नजदीक रख कर सोना …. और भी बहुत कुछ …. बहुत सुंदर यादें हैं.... 
मगर अभी मौसी ने यह लिफ़ाफ़ा मौसा जी के हाँथ से जन्मदिन के आशीर्वाद के रूप में दिया है । देख कर पुरानी बीती बातें, याद आने लगीं .... माँ मेरी जब कभी यह कहानी पढ़ेंगी तो ज़रूर पढ़ने के बाद बहुत सारी खरी खोटी सुनायेंगी …. पर माँ हर बच्चा पीड़ित होता ही है इस दर्द से ….
14
रचनाएँ
यादें बचपन की
0.0
पुरानी यादें ताजा
1

यादें बचपन की कहानी 1 (शिक्षालय)

30 अक्टूबर 2022
16
1
0

यादें बचपन की चलो देखते हैं फिर एक समय पुराना, शिक्षालय के चारों यार, यारों का था याराना, हाथ में कपड़े के फटे हुए होते थे थैले, खेल खेलकर कपड़े भी होते थे मेले... आज जब पुराने शिक्षा

2

यादें बचपन की कहानी-2 (घरौंदा)

31 अक्टूबर 2022
3
0
0

बचपन मे बहन मिट्टी का घरौंदा बनाती थी। मिट्टी का सात-आठ दिन लगकर फिर दीवाली की रात उसकी पूजा कर उससे मिट्टी के बर्तन( चुकिया) में प्रसाद रखती थी लड्डू, बनिया बगैरह जो कि सुबह

3

यादें बचपन की कहानी- 3(वो दिन)

1 नवम्बर 2022
1
0
0

वो दिन,, जो भूले न जा सके,, जब हम स्कूल में पढ़ते थे उस स्कूली दौर में निब पैन का चलन जोरों पर था..!तब कैमलिन की स्याही प्रायः हर घर में मिल ही जाती थी, कोई कोई टिकिया से स्याही बनाकर

4

यादें बचपन की कहानी 4 (पुताई/पेंट)

30 अक्टूबर 2022
7
0
0

यादें बचपन की आज के समय में पेंट करना बहुत आसान काम है, पेंट का डिब्बा खोलो, रोलर डुबाओ और घुमा दो, हो गया पेंट। एक समय था कि हमारे बचपन का कि एक छोटे से घर कि पुताई में पूरे 10,15 दिन लग जाते थे

5

यादें बचपन की कहानी 5 ( रस्सी का बना बीड़ा या चौकी)

30 अक्टूबर 2022
3
0
0

"यादें बचपन की " इस पीले भूरे रंग की वस्तु को देख रहे हैं ना उसे शायद बहुत से लोग पहचान भी रहे होंगे। नई पीढ़ी और शहरों के लोग शायद ना भी पहचान रहे होंगे। तो आइए बताते हैं इसके बारे में। यह हम

6

यादें बचपन की कहानी 6 (दीपावली)

30 अक्टूबर 2022
2
1
0

बचपन वाली दीपावली बचपन की दीपावली का मतलब छोटी दीवाली, बड़ी दिवाली और उसके बाद गंगा स्नान (कार्तिकी) की तैयारी हुआ करता था। धनतेरस और भैया दूज कम से कम हमारे गांव में तो नहीं मनाया जाता था। यह दो

7

यादें बचपन की कहानी 7 (खाना, मस्ती)

7 मई 2023
1
0
0

हम बचपन में छुट्टी के बाद खाना खाते ही शुरु हो जाते थे..... फिर जब शाम को वापस खाने का समय होता तब ही वापस घरों को रूख करते थे। आजकल के बच्चों का बचपन इंटरनेट ने छीन लिया है... काश वो बिना जि

8

यादें बचपन की कहानी 8 (स्कूल, स्लेट, पेंसिल, थैला)

7 मई 2023
2
0
0

यादें बचपन की पांचवीं तक स्लेट की बत्ती को जीभ से चाटकर कैल्शियम की कमी पूरी करना हमारी स्थाई आदत थी लेकिन इसमें पापबोध भी था कि कहीं विद्यामाता नाराज न हो जायें... पढ़ाई का तनाव हमने पेन्स

9

यादें बचपन की कहानी 9 (दोस्त का आश्य)

7 मई 2023
1
0
0

दोस्ती एक ऐसा शब्द है जिसके लिए शायद शब्द भी कम पड़ जाय, पर मैं डरता हूँ दोस्ती करने से ऐसा नहीं है कि विश्वास नहीं रहा पर कुछ बचा भी नहीं इस रिश्ते में , जो कि साथ रखा जाए,  मन बहुत होता है  उसे सब

10

अगाध मित्रता

7 मई 2023
1
0
0

मित्रता... सखा सोच त्यागहु बल मोरे । सब विधि घटब काज मैं तोरे ।। मित्र तो राम की तरह होना चाहिए जो ये कहे कि मेरे भरोसे अपनी सारी चिंता छोड़ दो मित्र... अपनी पूरे सामर्थ्य लगा कर

11

सच्चे दोस्त

7 मई 2023
1
0
0

यारों की यारियां... उन तीनों को होटल में बैठा देख, रमेश हड़बड़ाहट सा गया... लगभग 22 सालों बाद वे फिर उसके सामने दिखे थे... शायद अब वो बहुत बड़े और संपन्न आदमी हो गये थे... रमेश को

12

बचपन के दोस्त

7 मई 2023
1
0
0

याद आई मुझे बचपन की दोस्त जो रूठ जाने पर मुझे मना लिया करती थी खाना नहीं खाने पर खिला दिया करती थी बीमार पड़ जाने पर मेरा खयाल रखा करती थी माना की वो गरीब थी पर दिल की वो सबसे अमीर थी

13

बच्चें मन के सच्चे

11 मई 2023
1
0
0

बच्चें मन के सच्चे... बचपन में याद है ….. अब इस तरह का आशीर्वाद कम ही मिलता है….. जब कोई रिश्तेदार व परिवार वाले हमारे घर आते थे तब फल व खिलौने लेकर आते थे और जब उनके वापस लौट

14

दो दोस्त

4 फरवरी 2024
0
0
0

(निकु और नीशू दो दोस्त की दोस्ती) (नीकु और नीशू दोनों दोस्त आपस में वार्तालाप कर रहे हैं)निकु - ये बताओ नीशू दोस्त! आज कई दिनों के बाद हम दोनों दोस्त विद्यालय जा रहे हैं। क्या तुमने गृहकार्

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए