shabd-logo

जनरल बुक्स की किताबें

प्रतियोगिताएं

प्रतियोगिताएं

शब्द.इन

शब्द.इन की सभी चल रही प्रतियोगिताओ और पिछले प्रतियोगिताओ की जानकारी के लिए क्लिक कीजिये

1006 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
4054 पाठक
11 रचनाएँ

निःशुल्क

प्रतियोगिताएं

प्रतियोगिताएं

शब्द.इन

शब्द.इन की सभी चल रही प्रतियोगिताओ और पिछले प्रतियोगिताओ की जानकारी के लिए क्लिक कीजिये

1006 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
4054 पाठक
11 रचनाएँ

निःशुल्क

जीवन दैनंदिनी..! (मार्च-2023)

जीवन दैनंदिनी..! (मार्च-2023)

दिव्यांशी त्रिगुणा "राधिका"

इस किताब में आपको शब्द इन द्वारा दिए गए विषयों पर उत्कृष्ट एवं उत्तम लेख पढ़ने के लिए मिलेंगे। कृपया हर लेख को पढ़कर अपनी सुंदर समीक्षा अवश्य लिखें,,। 🌻वासुदेवाय नमः🌻

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
90 पाठक
0 रचनाएँ

निःशुल्क

जीवन दैनंदिनी..! (मार्च-2023)

जीवन दैनंदिनी..! (मार्च-2023)

दिव्यांशी त्रिगुणा "राधिका"

इस किताब में आपको शब्द इन द्वारा दिए गए विषयों पर उत्कृष्ट एवं उत्तम लेख पढ़ने के लिए मिलेंगे। कृपया हर लेख को पढ़कर अपनी सुंदर समीक्षा अवश्य लिखें,,। 🌻वासुदेवाय नमः🌻

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
90 पाठक
0 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी मार्च

दैनंदिनी मार्च

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन।इस बुक में महत्वपूर्ण दिवस के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला है।जीवन में संगीत उल्लास के प्रभाव से परिचित कराया गया है।

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
63 पाठक
0 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी मार्च

दैनंदिनी मार्च

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन।इस बुक में महत्वपूर्ण दिवस के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला है।जीवन में संगीत उल्लास के प्रभाव से परिचित कराया गया है।

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
63 पाठक
0 रचनाएँ

निःशुल्क

गोल्डन मीन(golden mean)

गोल्डन मीन(golden mean)

Jitendra Kumar sahu

हम जो जीवन जी रहे है क्या उससे हम संतुष्ट है।हमने जो चाहा था वो हमे मिल गया भरपूर पैसा मनमाफिक पद व प्रतिष्ठा।क्या हम अब भी खुश है? हमने वो सफर पूरी कर ली जिसकी तलाश थी।मैं ऊन लोगो को पूछ रहा हूँ जिन्होंने सफलता पा ली अब वे अपने जीवन से संतुष्ट है।जब

3 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
36 पाठक
0 रचनाएँ

निःशुल्क

गोल्डन मीन(golden mean)

गोल्डन मीन(golden mean)

Jitendra Kumar sahu

हम जो जीवन जी रहे है क्या उससे हम संतुष्ट है।हमने जो चाहा था वो हमे मिल गया भरपूर पैसा मनमाफिक पद व प्रतिष्ठा।क्या हम अब भी खुश है? हमने वो सफर पूरी कर ली जिसकी तलाश थी।मैं ऊन लोगो को पूछ रहा हूँ जिन्होंने सफलता पा ली अब वे अपने जीवन से संतुष्ट है।जब

3 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
36 पाठक
0 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी सखी (फरवरी 2023)

दैनंदिनी सखी (फरवरी 2023)

Monika Garg

चलो सखी फिर से चले एक नये सीजन के सफर पर ।वादा करो मेरे मन की सब सुनोगी और समय समय पर मुझे तसल्ली भी दो गीत।

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
59 पाठक
11 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी सखी (फरवरी 2023)

दैनंदिनी सखी (फरवरी 2023)

Monika Garg

चलो सखी फिर से चले एक नये सीजन के सफर पर ।वादा करो मेरे मन की सब सुनोगी और समय समय पर मुझे तसल्ली भी दो गीत।

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
59 पाठक
11 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी फरवरी

दैनंदिनी फरवरी

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
73 पाठक
18 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी फरवरी

दैनंदिनी फरवरी

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
73 पाठक
18 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनन्दिनी अप्रैल

दैनन्दिनी अप्रैल

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
14 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनन्दिनी अप्रैल

दैनन्दिनी अप्रैल

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
14 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

रजत त्यागी  की डायरी

रजत त्यागी की डायरी

रजत त्यागी

2 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
89 पाठक
176 रचनाएँ

निःशुल्क

रजत त्यागी  की डायरी

रजत त्यागी की डायरी

रजत त्यागी

2 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
89 पाठक
176 रचनाएँ

निःशुल्क

अंधेर नगरी चौपट राजा

अंधेर नगरी चौपट राजा

भारतेन्दु हरिश्चंद्र

अँधेर नगरी प्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार भारतेंदु हरिश्चंद्र का सर्वाधिक लोकप्रिय नाटक है। ६अंकों के इस नाटक में विवेकहीन और निरंकुश शासन व्यवस्था पर करारा व्यंग्य करते हुए उसे अपने ही कर्मों द्वारा नष्ट होते दिखाया गया है। 'अंधेर नगरी चौपट राजा, टके सेर

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
39 पाठक
7 रचनाएँ

निःशुल्क

अंधेर नगरी चौपट राजा

अंधेर नगरी चौपट राजा

भारतेन्दु हरिश्चंद्र

अँधेर नगरी प्रसिद्ध हिंदी साहित्यकार भारतेंदु हरिश्चंद्र का सर्वाधिक लोकप्रिय नाटक है। ६अंकों के इस नाटक में विवेकहीन और निरंकुश शासन व्यवस्था पर करारा व्यंग्य करते हुए उसे अपने ही कर्मों द्वारा नष्ट होते दिखाया गया है। 'अंधेर नगरी चौपट राजा, टके सेर

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
39 पाठक
7 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी जनवरी 2023

दैनंदिनी जनवरी 2023

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन । हम सदा भूत या भविष्य में रमे रहते है ।वर्तमान में कभी जीते नही।नया साल मनाते है केवल एक दिन के लिए जबकि यहाँ हर दिन नया है ।जरा जागे नासमझी को समझे।प्रतिपल जीवन जिए ।

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
51 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी जनवरी 2023

दैनंदिनी जनवरी 2023

Jitendra Kumar sahu

मासिक डायरी लेखन । हम सदा भूत या भविष्य में रमे रहते है ।वर्तमान में कभी जीते नही।नया साल मनाते है केवल एक दिन के लिए जबकि यहाँ हर दिन नया है ।जरा जागे नासमझी को समझे।प्रतिपल जीवन जिए ।

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
51 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

कुछ अनसुलझे मुद्दे (दैनन्दिनी माह नवम्बर, 2022)

कुछ अनसुलझे मुद्दे (दैनन्दिनी माह नवम्बर, 2022)

कविता रावत

इस माह की दैनंदिनी में प्रस्तुत है 5जी तकनीकी के लाभ और प्रभाव। हमारी भारतीय उत्सवधार्मी समाज में तुलसी विवाह की कथा। आधुनिक बदलती शिक्षा प्रणाली के साथ ही देश में व्याप्त कुछ अनसुलझे मुद्दों आरक्षण, भ्रष्टाचार, ऑनर किलिंग, महिला हिंसा, धार्मिक मतभ

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
48 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

कुछ अनसुलझे मुद्दे (दैनन्दिनी माह नवम्बर, 2022)

कुछ अनसुलझे मुद्दे (दैनन्दिनी माह नवम्बर, 2022)

कविता रावत

इस माह की दैनंदिनी में प्रस्तुत है 5जी तकनीकी के लाभ और प्रभाव। हमारी भारतीय उत्सवधार्मी समाज में तुलसी विवाह की कथा। आधुनिक बदलती शिक्षा प्रणाली के साथ ही देश में व्याप्त कुछ अनसुलझे मुद्दों आरक्षण, भ्रष्टाचार, ऑनर किलिंग, महिला हिंसा, धार्मिक मतभ

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
48 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी सखी (नवंबर)2022

दैनंदिनी सखी (नवंबर)2022

Monika Garg

ठंड बढ़ने लगी है सखी ।हम तुम बात करेंगें मुलाकात करेंगे और इंतजार करेंगे एक दूसरे से मिलने का।

6 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
29 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी सखी (नवंबर)2022

दैनंदिनी सखी (नवंबर)2022

Monika Garg

ठंड बढ़ने लगी है सखी ।हम तुम बात करेंगें मुलाकात करेंगे और इंतजार करेंगे एक दूसरे से मिलने का।

6 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
29 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

देश-दुनिया का चिंतन (दैनन्दिनी दिसंबर 2022)

देश-दुनिया का चिंतन (दैनन्दिनी दिसंबर 2022)

कविता रावत

इस माह दिसम्बर के अंक में प्रस्तुत हैं- राजनीति में भाई-भतीजावाद, देश में व्याप्त प्रदूषण, बेरोजगारी, भारत के युवा और उनमें बढ़ता तनाव, दैनिक जीवन में प्रौद्यौगिकी का प्रभाव, अपने नेता चुनने का तरीका, भारत में बुलेट ट्रेन का विकास, आज की दुनिया में ट्

2 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
18 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

देश-दुनिया का चिंतन (दैनन्दिनी दिसंबर 2022)

देश-दुनिया का चिंतन (दैनन्दिनी दिसंबर 2022)

कविता रावत

इस माह दिसम्बर के अंक में प्रस्तुत हैं- राजनीति में भाई-भतीजावाद, देश में व्याप्त प्रदूषण, बेरोजगारी, भारत के युवा और उनमें बढ़ता तनाव, दैनिक जीवन में प्रौद्यौगिकी का प्रभाव, अपने नेता चुनने का तरीका, भारत में बुलेट ट्रेन का विकास, आज की दुनिया में ट्

2 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
18 पाठक
15 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी सखी (जनवरी) 2023

दैनंदिनी सखी (जनवरी) 2023

Monika Garg

नया साल ,नई मुलाकात ,नए विचार। मेरी सखी के साथ

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
61 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनंदिनी सखी (जनवरी) 2023

दैनंदिनी सखी (जनवरी) 2023

Monika Garg

नया साल ,नई मुलाकात ,नए विचार। मेरी सखी के साथ

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
61 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

तकनीक

तकनीक

Jitendra Kumar sahu

दैनिक जीवन में तकनीक ने क्रांति ला दी है। क्या हम इसका उपयोग अपने को विकसित करने पृथ्वी को बचाने व जागरुकता लाने में कर सकते है। हमारे पास नये नये खोजो से चलने वाले यन्त्र है जो आज तीव्र गति से पैर पसार चुके है जिसके हम आदि है और हमारी धरती जो हरी भर

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
8 पाठक
7 रचनाएँ

निःशुल्क

तकनीक

तकनीक

Jitendra Kumar sahu

दैनिक जीवन में तकनीक ने क्रांति ला दी है। क्या हम इसका उपयोग अपने को विकसित करने पृथ्वी को बचाने व जागरुकता लाने में कर सकते है। हमारे पास नये नये खोजो से चलने वाले यन्त्र है जो आज तीव्र गति से पैर पसार चुके है जिसके हम आदि है और हमारी धरती जो हरी भर

0 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
8 पाठक
7 रचनाएँ

निःशुल्क

भक्त और भगवान

भक्त और भगवान

mahendra banjara

भक्त और भगवान कान्हा..... रहमत तेरी अगर लिखने लग जाऊँ,,,, तो लग जाएं साल हज़ार,,,, मेरी कलम छोटी है "कान्हा" तेरी महिमा अपरम्पार। हम सेवक हैं तेरे दर के तू दाता सबका पालनहार राधे कृष्णा

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
18 पाठक
55 रचनाएँ

निःशुल्क

भक्त और भगवान

भक्त और भगवान

mahendra banjara

भक्त और भगवान कान्हा..... रहमत तेरी अगर लिखने लग जाऊँ,,,, तो लग जाएं साल हज़ार,,,, मेरी कलम छोटी है "कान्हा" तेरी महिमा अपरम्पार। हम सेवक हैं तेरे दर के तू दाता सबका पालनहार राधे कृष्णा

4 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
18 पाठक
55 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनन्दिनी दिसम्बर

दैनन्दिनी दिसम्बर

Jitendra Kumar sahu

डायरी लेखन प्रतियोगिता

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
9 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

दैनन्दिनी दिसम्बर

दैनन्दिनी दिसम्बर

Jitendra Kumar sahu

डायरी लेखन प्रतियोगिता

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
9 पाठक
16 रचनाएँ

निःशुल्क

ध्यान योग, प्रथम और अंतिम मुक्ति

ध्यान योग, प्रथम और अंतिम मुक्ति

ओशो

ओशो अपनी किताब ध्यान योग, प्रथम और अंतिम मुक्ति में कहते हैं कि 'ध्यानयोग प्रथम और अंतिम मुक्ति' ओशो द्वारा सृजित अनेक ध्यान विधियों का विस्तृत व प्रायोगिक विवरण है। ध्यान में कुछ अनिवार्य तत्व हैः विधि कोई भी हो, वे अनिवार्य तत्व हर विधि के लिए आवष

3 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
12 पाठक
7 रचनाएँ

निःशुल्क

ध्यान योग, प्रथम और अंतिम मुक्ति

ध्यान योग, प्रथम और अंतिम मुक्ति

ओशो

ओशो अपनी किताब ध्यान योग, प्रथम और अंतिम मुक्ति में कहते हैं कि 'ध्यानयोग प्रथम और अंतिम मुक्ति' ओशो द्वारा सृजित अनेक ध्यान विधियों का विस्तृत व प्रायोगिक विवरण है। ध्यान में कुछ अनिवार्य तत्व हैः विधि कोई भी हो, वे अनिवार्य तत्व हर विधि के लिए आवष

3 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
12 पाठक
7 रचनाएँ

निःशुल्क

शब्दार्थ:- मेरे मन के

शब्दार्थ:- मेरे मन के

Samiksha

शब्दार्थ:- मेरे मन के .... मेरी किताब प्रेरक लेखों का संग्रह है।मेरा विश्वास है कि प्रिय पाठक इन लेखों को पढ़ने के बाद अपने पूरे मन से कहेंगे कि..... जिंदगी चेतना को वापस पाने का नाम है। धन्यवाद्

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
2 पाठक
5 रचनाएँ

निःशुल्क

शब्दार्थ:- मेरे मन के

शब्दार्थ:- मेरे मन के

Samiksha

शब्दार्थ:- मेरे मन के .... मेरी किताब प्रेरक लेखों का संग्रह है।मेरा विश्वास है कि प्रिय पाठक इन लेखों को पढ़ने के बाद अपने पूरे मन से कहेंगे कि..... जिंदगी चेतना को वापस पाने का नाम है। धन्यवाद्

1 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
2 पाठक
5 रचनाएँ

निःशुल्क

सफलता क्यों दूर ?

सफलता क्यों दूर ?

Shailesh singh

इस किताब में उन चीजों का जो सफलता और असफलता के बीच के अंतर हैं | उदहारण के लिए कई जगह भारतीय आध्यात्म और जीवन मे सफल लोगों के विचारों को प्रयोग किया गया है

9 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
91 पाठक
5 रचनाएँ

निःशुल्क

सफलता क्यों दूर ?

सफलता क्यों दूर ?

Shailesh singh

इस किताब में उन चीजों का जो सफलता और असफलता के बीच के अंतर हैं | उदहारण के लिए कई जगह भारतीय आध्यात्म और जीवन मे सफल लोगों के विचारों को प्रयोग किया गया है

9 ने लाइब्रेरी में जोड़ा
91 पाठक
5 रचनाएँ

निःशुल्क