shabd-logo

पाखंड

25 सितम्बर 2016

346 बार देखा गया 346

डेरा वाद और पाखंडी पंडित
किसी गुरू का हमारे जीवन और भारतीय संस्कृति में बहुत बड़ा महत्व है सच्चा गुरु हमें सत्य का मार्ग दिखलाता है जिस पर चल कर हमारा कल्याण हो सकता है हमें परमात्मा की प्राप्ति हो सकती है या हमें मोक्ष की प्राप्ति हो सकती है सच्चा गुरु हमें तमाम समाजिक बुराइयों से बचने का उपदेश भी देता है।
इससे पहले कि आप लोगों की भावनाएं आहत हो में आप लोगों और आपके श्रद्धा भाव से माफी मांग लेना उचित समझता हूँ और यह नैतिकता की दृष्टि से भी जरूरी है पर डोंगी गुरुओं या पोंगे पंडितो के में सख्त खिलाफ हूँ जो मानवता के लिए अभिश्राप हैं।
"ए अर्श वाले मेरी तौकीर सलामत रखना फर्श के सारे खुदाओ से उलझ बैठा हूं"
मित्रो सिक्खों के 10 वें गुरू गुरू गोबिंद सिंह महाराज जी ने आज से कई वर्ष पहले एक आदेश जारी कर कहा था कि।
"सब सिक्खन को हुकम है गुरु मानओ ग्रंथ"
अर्थ : में आप लोगों को यह ताकीद करता हूँ के मेरे सचखंड चले जाने के बाद आप सभी लोग किसी भी देह धारी अर्थात मनुष्य को अपना गुरु नहीं मानेंगे आप लोग केवल और केवल गुरु ग्रंथ साहिब या अपने अपने धार्मिक ग्रंथ में में हि पूर्ण अकिदा रखेंगे केवल उसी का अनुसरण करेंगे क्योंकि केवल धर्म ग्रंथों में लिखी बातें ही आपका कल्याण कर सकती हैं।
उन्हें यह बात आज से कई वर्ष पूर्व ही कहने की आवश्यकता क्यों पड़ी इसका जवाब उस समय की परिस्थितियों में झांकर आपको मिल सकता उस समय गुरु की गद्दी हासिल करने के लिए उस समय के सिक्ख समाज में काफी खलबली मची हुई थी कहीं कोई अपात्र व्यक्ति इस गद्दी पर बैठ कर लोगो का शोषण ना करे इस लिए सरबंस दानी गुरु जी को यह आदेश जारी करना पड़ा।
मित्रों आज हम देखते हैं कि पंजाब और उसके निकटवर्ती राज्यों में गुरूओ की बाढ़ आई हुई है अकेले पंजाब में ही कई महापुरुषों के डेरे हैं सिक्ख जगत में ही कई फिर्के या सम्प्रदाय हैं जो सिक्खों का धूर्वीकरण करने पर अमादा हैं। यह डेरावाद पंजाब जैसे राज्यों में ही क्यों तेजी से पनपता है उड़िसा बंगाल जैसे राज्यो मे क्यों नहीं कारण पैसा है।
आए दिन हम किसी ना किसी संत गुरु के किसी ना किसी कांड के बारे में अक्सर सुनते रहते हैं यही कारण था कि गुरु गोबिंद सिंह जी ने हमें इतने वर्ष पूर्व ताकिद कर दिया था
मेरा मानना है कि आज के इन तथाकथित गुरुओं को यह पद प्रतिष्ठा यह मान सम्मान अवश्य ही इनके पूर्वले जन्म के शुभ कर्मों के कारण प्राप्त हुई है तभी तो इनसे इतनी दुनिया प्रभावित नजर आती है इनमें कुछ बात तो जरूर होगी जो लोग इनमें इतनी श्रद्धा रखते हैं।
मित्रों मेरा मानना है कि प्रभु जी ने इन्हे कलयुग में दुनिया को भटकने से बचाने एवं प्रभु भक्ति से जोड़ने के लिए भेजा था पर यह क्या इन्होंने ने तो खुद को ही खुदा मानना शुरू कर दिया हमारे पुरातन ऋषि मुनियों में इन तथाकथित गुरूओ से कई गुणा अधिक रूहानी शक्तियां मोजूद थी पर उन्होंने खुद को कभी भी अहंकार में आकर भगवान सम्मान नहीं माना केवल और केवल प्रभु भक्ति में हि मन लगाया मानवता के कल्याण में अपने जीवन को लगाया माया को अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया पर आज के गुरु तो खुद ही माया के प्रभाव में नजर आते हैं ज्ञान का अहंकार और माया के पर्दे के कारण उनको अपने बुरे कर्म नजर ही नहीं आते और जो कोई इनके विरूद्ध आवाज़ बुलंद करने की कोशिश करता है रसूक और प्रभुता के दम पर यह उसकी खाट खड़ी करवा देते हैं रही सही कसर इनके अंध भगत पूरी कर देते हैं जो इनके विरूद्ध एक शब्द नहीं सुन सकते।
इनके भगत इनमें इतनी श्रद्धा क्यों रखते हैं इस विषय को आपको बहुत ठंडे दिमाग से समझना होगा मान लीजिए गांव में किसी A व्यक्ति को कोई रोग था जिससे वह बहुत परेशान था वह गुरू जी के पास गया उन्होंने उसे महामृत्युंजय मंत्र का नियमित पाठ करने को कहा और वह ठीक हो गया ठीक वह इस दिव्य मंत्र के कारण हुआ है पर अब उसकी श्रद्धा इस गुरु में ही टिक गई थोड़े दिनो बाद कोई बेरोजगार युवक B गुरू जी के पास आता है वह उसे एक अधिकारी से मिलने को कहते हैं यह अधिकारी उस युवक को प्राइवेट नौकरी दिलवादेते हैं यह अधिकारी वही A व्यक्ति हैं जो गुरू जी के पास अपनी बीमारी के सीलसिले में आए थे इस तरह गुरू जी के दो भगत पक्के हो गए थोड़े दिनो बाद एक दम्पति C,D गुरु जी से मिलने आया उनकी बेटी E की शादी नहीं हो पा रही थी गुरु जी के कहे अनुसार B इस E कन्या से शादी कर लेता है उनके घर F पुत्र का जन्म होता है गुरु जी की महिमा सुन कर G गुरु जी का पक्का चेला बन जाता है घर बाहर ना होने के कारण वह गुरु जी के पास ही रहने लगता है भगतो की कृपा के कारण रोटी पानी की समस्या हल हो जाती है और अब वह गुरु जी से भगतों को नम्बर वाईस मिलवाने का काम करने लगता है थौड़ा समय बीतता है एक नव दम्पति H,I गुरु जी से मिलने पहुंचते है उन्हें औलाद नहीं हो रही थी गुरु जी के आशीर्वाद से उन्हे J की प्राप्ति होती है कुछ समय बाद A का बेटा K गुरु जी के आशीर्वाद से विदेश में सैटल हो जाता है समय बीतता है सुबह शाम की आरती में यह सभी भगत नित्य जुड़ने लगते हैं जिनसे L M N O P भी गुरु जी से जुड़ जाते हैं गुरु जी के आशीर्वाद से L की लड़की Q की शादी K से तय हो जाती है गुरु जी की मुलाकात इस उच्च वर्ग की शादी में R S बिजनेस मैनो से होती है वहाँ G उन लोगों को उनका TAX का पैसा धर्म के कार्य में लगाने के लिए कहता उन्हें बात समझ आ जाती है और इस तरह एक भव्य आश्रम का निर्माण होता है गुरु जी के आशीर्वाद से M के बेटे T को पुलिस में नौकरी मिल जाती है और N की कन्या U एक पत्रकार बन जाती है OP भी इस नए आश्रम में रहकर सेवा करने लगते हैं गुरु जी की महिमा सुन इलाके का प्रधान V गुरु जी का आशीर्वाद लेने आता है और वह सरपंची का चुनाव जीत जाता है गुरु जी KQ के नियंत्रण पर उनसे मिलने विदेश जाते हैं वहाँ W X उनके विदेशी भगत बन जाते हैं गुरु जी के आशीर्वाद से उनके नए जुड़े भगत Y एक नामी वकील बन जाते है और Z IPS अधिकारी ।
इस तरह A B C D नामक अंध भगतों की एक फौज खड़ी हो जाती है और इनकी तदात निरंतर बड़ती जाती है
गुरु जी अपनी इस फौज के दम पर मौज करने लगते हैं एहसान में दबे यह लोग कैसे गुरु जी के विरुद्ध एक शब्द सुन ले धीरे धीरे गुरु जी स्वयं को हि खुदा समझने लगते हैं और इसी कारण पथ भ्रष्ट हो जाते हैं नैतिकता की जगह पाखंड का बोलबाला हो जाता है अंध भगत उन्हें भगवान का रूप कहने लगते हैं दूसरी और डर का वातावरण भी आश्रम में बनाया जाता है जो गुरु जी के हुक्म की अवहेलना करेगा उसका सर्वनाश हो जाएगा भोला भाला व्यक्ति तर्क करना भी भूल जाता है
कबीर जी का व्यंगय तो दूर की बात है
समय की सरकारें इन गुरूओ के आगे बोनी नजर आने लगती इन्ही लोगों के कारण भगवान का नाम भी बदनाम होता है लोगों की श्रद्धा परमात्मा में कम होने लगती हैं जिसके चलते सच्चे लोगों को भी नास्तिकों के आगे अपमानित होना पड़ता है।
पोंगा पंडित
मित्रो यही हाल पोंगा पंडितों का है जो ज्योतिष विद्या के बल पर लोगों को ठगने का काम करते हैं विद्या कोई भी हो उसका मकसद मानवता की भलाई करना होना चाहिए यदि आप इससे जनता को लूटते है तो ना सिर्फ आप अपना बल्कि उस विद्या का भी अपमान करते हैं
मित्रो ज्योतिष एक विज्ञान हैं जो सांख्यिकी पर आधारित है और सांख्यिकी एक झूठ भी है ज्योतिष ज्ञान के दम पर ज्योतिषी भविष्यवाणी करते हैं जो गलत भी हो सकती हैं उन्होंने अपने जीवन काल में कई कुंडलियों का विवेचन किया होता है जिसके आधार पर उन्होंने कुछ उपाय खोजे होते है इन्हीं उपायों को वह मिलती जुलती ग्रह दशा वाले जातकों पर अपलाई करते हैं इससे जातक को फर्क पड़ेगा इसकी कोई लिखित गारंटी उसको यह नहीं दे सकते क्योंकि वह उपाय बता सकते हैं जातक को फल देना या ना देना प्रभु के हाथ है।
मित्रों जब तक प्रभु जी की मर्जी ना हो तब तक कोई शनि महाराज या राहु या कोई केतु आपको परेशान नहीं कर सकता वास्तव में इनकी दशाओं महादशाओ में हम पीड़ित अपने पिछले या इस जन्म के बुरे कर्मो के कारण होते हैं हम सभी यहाँ अपने किए कर्मो का फल भोगने आए हैं कोई भी पंडित इन दशाओं के फल को बदल नहीं सकता क्योंकि यह पूर्व निर्धारित है हर व्यक्ति की कुंडली में तय वक्त पर उसे अच्छा या बूरा फल मिलता है हमें किए गए कर्मों के तहत इन दशाओं में फल भुगतना हि पड़ता है यह दशांए हमें नेक इंसान बनाने आती हैं हमे हमारी औकात समझाने आती है
पंडित जी भी तो हमें बस महादेव जी की शरण में जाने का उपाय बताते हैं महादेव जी की सच्चे मन से की गई आराधना हमें बचाती कोई पंडित नहीं यदि हम सच्चे मन से प्रभु की आराधना करें तो वह सुली की सूल अवश्य बना सकता है
"खुदा मंजूर करता है दुआ जो दिल से होती है यही बड़ी मुश्किल है यह बड़ी मुश्किल से होती है"
इस विद्या के दम पर कुछ पाखंडी पंडित आपको डरा कर भयभीत कर लुटने का काम करते हैं वह आपसे कई प्रकार के पाखंड करवाते हैं जिसमें आपका पैसा और जीवन तक बरबाद हो सकता हैं
महाराज पृथ्वी राज रासो में 52 वीरों का जिक्र है जिनके होते हुए भी महोम्मद गोरी पृथ्वी राज चौहान को बंदी बना कर ले गया महाराज सब वक्त और कर्मों का हेर फेर है कोई भी अपने कर्मों के फल से भाग नहीं सकता ।

1

धन्यवाद

2 जुलाई 2016
0
2
0

अमितेश मिश्रा आप जी का बहुत बहुत धन्यवाद के आपजी ने हिंदी प्रेमियो के   एक महत्वपूर्ण मंच प्रदान किया है 

2

इस्लाम जीत गया मुसलमान हार गए

4 जुलाई 2016
0
1
0

बहुत समय पहले की बात है जब हिन्दुस्तान पर अंग्रेजी हकुमत थी उस वक्त कांधला में एक जमीन के टुकड़े को लेकर हिन्दू मुस्लिम विवाद हो गया हिन्दू इस जमीन के टुकड़े पर अपना हक बता रहे थे और मुस्लिम अपना हिन्दू वहां मन्दिर बनवाना चाहते थे और मुस्लिम मस्जिद।यह मामला किस

3

Typo

4 जुलाई 2016
0
1
0

साइबर स्कवैटिंग’ Cyber Squatting का मतलब यह है : कि किसी लोकप्रिय नाम या संस्था के आधार पर अपनी वेबसाईट या ब्लाग का पता और नाम तय करना।टाइपो स्क्वैटिंग’ Typo Squatting का मतलब है : कि किसी लोकप्रिय नाम या संस्था के नाम से मिलता जुलता नाम रखना ताकि लोग भ्रमित होकर वहां आयें।टाईपो Typo : Typing mistak

4

गुरु ग्रंथ साहिब जी

4 जुलाई 2016
1
2
1

कोई भी हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई बौद्ध जैनी या अन्य किसी धर्म को मानने वाला सिक्खों की धार्मिक पुस्तक का अनादर बेअदबी करने से पूर्व एक बार जरूर पड़े गुरु ग्रंथ साहिब जी सिक्खो का हि नहीं पूरी मानवता का सांझा ग्रंथ है इसमें दर्ज बाणी में लिखा गया है1.अव्वल अला नूर उपाया कुदरत के सब बंदे एक नूर ते सब ज

5

अमीर बनने की चाबी

5 जुलाई 2016
0
2
0

अमीर बनने की चाबी कार्ल हेनरिख मार्क्स जर्मन का महान दार्शनिक मार्क्सवाद का जन्म दाता जो गरीबी में पैदा हुआ गरीबों के लिए लड़ा और गरीबी में ही मर गया पर वह मरते मरते मकार लोगों के हाथ में सरलता से अमीर बनने की चाबी दे गया इस चाबी का नाम था मार्क्सवाद मार्क्सवाद के तहत उन्होंने मजदूरों को शोषण करने वा

6

काम कोई भी छोटा नहीं होता

9 जुलाई 2016
0
2
1

काम कोई भी छोटा नहीं  होताएक समय की बात है समुद्र के किनारे  मछुआरों की बस्ती में हेमंत नाम का मलाह रहता था वह अपनी कश्ती से यात्रियों को एक किनारे से दुसरे किनारे लाने ले जाने का काम करता था इस काम से उसे ज्यादा पैसे तो मिलते नहीं थे पर दाल रोटी चलती जाती थी उसका परिवार खुश था उसका बड़ा बेटा राहुल भ

7

दुनिया

9 जुलाई 2016
0
0
0

एक बार बाप बेटा कहीं बजार घूमने के मकसद घर से बाहर निकलते हैं वह अपना घोड़ा साथ लेते हैं।अब्बा कहते हैं बेटा तुम घोड़े पर बैठ जाओ तुम थक जाओगे बेटा कहता है नहीं अब्बा आप बैठ जाओ में ठीक हूँ।वह थोड़ी दूर जाते हैं तो एक रास्ते का शख्स कहता है कितना अजीब बाप है खुद मजे से घोड़े पर बैठा है और बच्चे को पैदल

8

कुत्ते को दरवेश भी कहते हैं

10 जुलाई 2016
0
2
1

कुत्ते को दरवेश क्यों कहते हैएक समय की बात है प्राचीन काल में एक ऋषि अपने शिष्यों को अपनी विद्या सिखलाने में नाकाम रहे क्योंकि शिष्यों कि रूचि विद्या में कम शरारतों में ज्यादा थी।समय बीतता गया और ऋषि का अन्तिम समय आ गया ऋषि को इसका पूर्वाभास हो गया उन्होंने सब शिष्यों पास बुलाया और कहा मूर्खों तुमने

9

दुखों की पोटली

10 जुलाई 2016
0
1
0

दुखों की पोटलीएक बार एक गांव के सभी लोग अपने अपने दुखों के कारण भगवान से बहुत नाराज हो गए वह भगवान से प्रार्थना करने लगे कि उनके दुखों को दुर करें वरना वो भगवान काहे का ?लोगें की फरियाद सुन आकाश से भविष्यवाणी हुई  हे गांव वासियों ऐसा करें आज रात के तीसरे पहर में सब लोग अपने अपने दुखो को एक कागज में

10

राम नाम की शक्ति

15 जुलाई 2016
0
0
0

एक गांव में नदियाँ किनारे मन्दिर में रोज शाम की आरती के बाद पंडित जी रामायण की कथा करते और भगतों को राम नाम की शक्ति का अनुसरण कराते पंडित जी की कथा की महिमा दूसरे गांवों में भी फेलने लगी लोग दूर दूर से जुड़ने लगे।एक गुजरी भी दूसरे गाँव से कश्ती में नदी पार कर नित्य कथा सुनने आने लगी एक बार कथा करते

11

जनलोकपाल

9 सितम्बर 2016
0
0
0

प्रणामअन्ना हजारे जी ज्यादा बड़ा प्रश्न नहीं है मेरा बस छोटा सा सवाल है जन लोकपाल बिल के बारे में कुछ याद भी है के अरविंद केजरीवाल की तरह सब भूल गए हैं आप भी ?

12

भारत की शिक्षा व्यवस्था

23 सितम्बर 2016
0
2
0

भारत की शिक्षा व्यवस्था शिक्षा का मकसद होता है इंसान को किसी काबिल बनाना ताकि वह अपने पैरों पर खड़ा होकर एक आदर्श नागरिक बन सके जिससे वह अपना और समाज का भला कर सकता इससे उसके मुल्क का भला होना स्वाभाविक बात है।विद्या के विषय में चाणक्य जी का मत है कामधेनुगुणा विद्या ह्ययका

13

पाखंड

25 सितम्बर 2016
0
2
0

डेरा वाद और पाखंडी पंडित किसी गुरू का हमारे जीवन और भारतीय संस्कृति में बहुत बड़ा महत्व है सच्चा गुरु हमें सत्य का मार्ग दिखलाता है जिस पर चल कर हमारा कल्याण हो सकता है हमें परमात्मा की प्राप्ति हो सकती है या हमें

14

फौजी

5 अक्टूबर 2016
0
4
4

ऐ मेरे वतन के लोगो, ज़रा आंख में भर लो पानीजो शहीद हुए हैं उनकी, ज़रा याद करो कुरबानी फौजी दि रियल हीरो मित्रों ह

15

व्यंग्य

11 अक्टूबर 2016
0
3
0

नित खैर मंगा सोनिआ मै तेरीदुआ ना कोई होर मंगदीतेरे पैरां च अखिर होवे मेरीदुआ ना कोई होर मंगदी

16

दीपावली की शुभकामनाएं

30 अक्टूबर 2016
0
3
0

शब्दनगरी के सभी पाठकों एवं प्रबंधकों को दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं

17

गीता सार

8 नवम्बर 2016
0
1
2

गीता सारक्यों व्यर्थ की चिंता करते हो? किससे व्यर्थ डरते हो? कौन तुम्हें मार सक्ता है? आत्मा ना पैदा होती है, न मरती है।जो हुआ, वह अच्छा हुआ, जो हो रहा है, वह अच्छा हो रहा है, जो होगा, वह भी अच्छा ही होगा। तुम भूत का पश्चाताप न करो। भविष्य की चिन्ता न करो। वर्तमा

18

सचखंड एक्सप्रेस लंगर सेवा

23 जुलाई 2017
0
2
0

नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर लंगर सेवा अक्सर लोग ऐसी सेवाएं करते हैं कि रेलवे स्टेशन पर गरीबों को खाना बांटते हैं। कहीं कुछ लोग कम रुपये में पेट भरके खाना देते हैं तो कोई फ्री

19

Brain stroke

24 जुलाई 2017
0
3
0

Brain stroke अपस्मारदौरे पड़ना मिर्गी एक गंभीर बीमारी है जिसमें रोगी अपना मानसिक नियंत्रण खो बैठता है और बेसुध हो कर जमीन पर गिर जाता है मस्तिष्क में खून के प्रवाह के रूक जाने से आक्सीजन की स्पलाई मस्तिष्क में रूक जाती है जिससे रोगी के हाथ पैर मुड़ जाते ह

20

गलत तरीकों से अर्जित आय का दान देने से पाप बड़ता है

4 अगस्त 2017
0
1
0

गलत तरीकों से अर्जित आय का दान देने से पाप बढ़ता है।एक बार गांव की चौपाल सजी हुई थी वहां पहले दो मांगने वाले आए तो गांव के भामा शाह ने उन्हें 10 ₹ दिए कुछ देर बाद वहां फिर एक मांगने वाला आया तो गाँव के साधारण व्यक्ति ने उसे 5 ₹ दिए।चौपाल से थोड़ी दूर बैठा साध अपने दो शिष्

21

Robin Hood Army

12 अगस्त 2017
0
2
1

भारत कहने को एक उभरती हुई अर्थव्यवस्था पर आज भी हमारे देश में कई लोग भूखे पेट ही सो जाते हैं कारण कुछ भी हो पर भूख सब को लगती है। एक बहुत बड़ी आबादी आज भी इस देश में भुखमरी का शिकार है।बड़ा अच्छा लगता है उन लोगों से मिलकर जो वाक्य में इस मुल्क के बारे में कुछ सोचते हैं ऐ

22

इकबाल

14 अगस्त 2017
0
2
0

खुदा तुझे किसी तुफान से आशना करदे के तेरी बहर की मौजों में इजतराब नहीं तुझे किताब से मुमकिन नहीं फरोग के तूं किताबें ख्वां है साहिब ए किताब नहीं आशना - मोहब्बतबेहर - समुद्रमौजों - लहरोंइजतराब - बेचैनीफरोग - फुरसतकिताबें ख्वां - किताब पढ़ने वालासाहिब ए किताब - खुद किताब

23

लोग

16 अगस्त 2017
0
1
3

यहाँ दिवाने से जो दो चार नज़र आते हैं उनमें कुछ साए बेजार नजर आते हैंमेरे दामन में कांटों के सिवाए कुछ भी नहीं आप मुझे फूलों के खरीददार नजर आते हैंतेरी महफ़िल का भरम रखते हैं और सो जाते हैं वरना लोग तो मुझे बेकार नज़र आते हैं बेजार - परेशान

24

बाज़ार

19 अगस्त 2017
0
1
2

कुछ नहीं बाकी बाज़ार चल रहा हैयह कारोबार ए दुनिया बेकार चल रहा है

25

गालिब

20 अगस्त 2017
0
0
0

जिंदगी भर गालिब में यही काम करता रहाधूल चेहरे पर लगी थी में आईने साफ़ करता रहा

26

कैसे कैसे संत बंधु रे

26 अगस्त 2017
0
1
0

कैसे कैसे संत बंधु रे कहलाते महंत बंधु रे मोह माया ने इनको घेरा फिर यह गुणवंत बंधु रेकैसे कैसे संत बंधु रे कहलाते महंत बंधु रे राम

27

धरती का खात्मा नई अफवाह या फिर सच्चाई

1 सितम्बर 2017
0
1
2

2012 की अफ़वाह के बाद एक बार फिर से धरती के खात्मे का ऐलान हुआ है डेविड मिएड ने अपनी Planet X नामक किताब के माध्यम से यह दावा किया है कि के मौत का ग्रह, Nibiru 23 सितंबर को पृथ्वी से टकराएगा और इस टक्कर से धरती का विनाश हो जाएगा. हालांकि इस हमले के अभी तक कोई प्रमाण सामने

28

2 रुपये वाले डाक्टर साहब जी

18 नवम्बर 2017
0
1
1

Dr Virendra Kumar Oberoi , Anand Parbat 2 ₹ वाले डाक्टर साहिब जीहमारे देश में डाक्टरों को भगव

29

फुटपाथ पर फ्री क्लिनिक

3 दिसम्बर 2017
0
3
0

सिक्ख धर्म में गुरूनानक देव जी ने कहा है - “विच दुनिया सेव कमाईए ता दरगह बैसन पाईए. " गुरु जी के इन्हीं सिद्धांतों पर चलते हुए सरदार कमलजीत सिंह जी और उनके सहयोगी मानवता की सच्ची मिसाल पेश कर रहे हैं। वह हर र

30

JASPAL SINGH JI BOMBAY WALAY A GREAT FATHER (R.I.P) 03-09-1946 to 21-03-2018

30 मार्च 2018
0
2
4

THE GREAT FATHERहमारे पिता जी एक महान शख्सियत थे

31

kerala floods: khalsa aid

20 अगस्त 2018
0
3
0

“विच दुनिया सेव कमाईए ता दरगह बैसन पाईए”गुरु महाराज के ईसी वाक्य पर चलते हुए गुरु के सिक्ख केरल में आई बाढ़ में लोगों की मदद करने पहुंच भी गए वहीं कुछ लोग मीडिया चैनलों पर बैठ कर डिबेट का मजा ले रहे हैं। बिना किसी भेदभाव के मानवता की सेवा करना यही है सिक्ख धर्म 'मान

32

phd तथा mphil के विषय पर जानकारी

29 सितम्बर 2018
1
1
0

Phd mphil के विषय में जानकारी हम से कई विद्यार्थियों का यह सपना होता है कि वह phd या mphil करें क्योंकि नाम के साथ डाक्टर शब्द का जुड़ना एक रूतबे की बात है यह हमें अंदर से जो खुशी देता है उसे शब्दों में बयान नहीं किया जा सकता है इससे समाज भी हमें सम्मान की दृष्टि से देखता है। पर हम से अधिकांश लोग अपन

33

शुभ दीपावली

7 नवम्बर 2018
0
1
0

शब्द नगरी की पूरी टीम तथा उसके सभी सदस्यों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ 🙏

34

Delhi Langar Seva Society

12 नवम्बर 2018
0
1
0

गुरबाणी कहती है “विच दुनिया सेव कमाईए ता दरगह बैसन पाईए”इन्हीं पंक्तियों पर चलते हुए सरदार हरजीत सिंह जी और उनके साथी पिछले कई वर्षों से दिल्ली के अलग अलग अस्पतालों में फ्री लंगर सेवा का कार्य कर रहे हैं मरीजों को दवा तो इन अस्पतालों से मिल जाती है पर रोटी नहीं कहते हैं भुखे पेट दवा भी काम नहीं करती

35

गुरू तेग बहादर हिंद दी चादर

24 नवम्बर 2018
0
0
0

जब इस देश पर औरंगजेब का शासन था तब वह कश्मीरी पंडितों तथा हिंदुओ पर बहुत अत्याचार कर रहा था उनका धर्म संकट में था वह उन्हें जबरन मुसलमान बना रहा था उसके जुलम से तंग आकर यह सभी लोग सिखों के नौवें गुरु श्री गुरु तेग बहादुर साहिब जी के पास सहायता के लिए पहुंचे तब उन्होंने इनसे कहा आप सभी लोग घबराए नहीं

36

Jap Jaap Sewa Trust

15 फरवरी 2019
0
0
0

नानक नाम चढ़दी कला तेरे भाणे सरबत दा भलागुरू नानक देव जी महाराज के इन्हीं आदर्शों पर चलते हुए आज कई सिक्ख संगठन कई जगहों पर लंगर सेवा प्रदान करने का कार्य करते हैं इन्हीं में से एक है जप जाप सेवा ट्रस्ट जो AIIMS तथा SAFDURJUNG HOSPITAL के बाहर लंगर सेवा प्रदान करने का कार्य कर रहा है परमात्मा इनको इ

37

कलयुगी बेटा

15 जुलाई 2019
0
6
6

कलयुगी बेटाएक व्यक्ति के माता-पिता बहुत ही शान्त स्वभाव के थे वह व्यक्ति उनकी इकलौती

38

मदद

21 जुलाई 2019
0
2
0

गरीब दा मुंह गुरू दी गोलकएक व्यक्ति पैदल घर जा रहा था। रास्ते में एक बिजली के खंभे पर एक कागज लगा हुआ था उसने पास जाकर देखा तो उस पर लिखा हुआ था कि इस रास्ते पर मेरा कल एक 50₹ का नोट गिर गया है। मुझे ठीक से दिखाई नहीं देता। जिसे भी मिले कृपया इस पते पर दे सकते हैं। यह

39

हिमा दास भारत की शान

25 जुलाई 2019
0
4
4

हिमा दास भारत की शानपाँच गोल्ड जितकर अपनी आधी कमाई असम में बाढ़ पीड़ितों की मदद में लगाने पर भी इस महान खिलाड़ी की मीडिया में कोई चर्चा तक नहींवाह रे देश के अंधे मीडिया हीरोइनो की हि बोल्डनेस को हि केवल महत्व देना।हारने के बाद भी क्रिकेटर सुर्खियों में हैं, और दुसरी तरफ हिमा दास लगातार एक महीने में

40

Indian family in bali

30 जुलाई 2019
0
1
2

में भी बिक जाऊँ अगर रस्म यह डाली जाए घर तो नीलाम हो पर पगड़ी ना उछाली जाएवीडियो डालने वाले साहब परमात्मा ने हम सब के पाप और गुनाह ढाक रखें है वरना हम सब के खुबसूरत चेहरे इतने खुबसूरत ना नजर आए दूसरों की इज्जत उछालने से पहले हमें अपने गि

41

शिक्षा का अधिकार या मजाक

3 अगस्त 2019
0
0
0

शिक्षा का अधिकार या मजाक रौनक रोज की तरह स्कूल ना जाने की जिद्द पर अड़ा था और उसकी माँ बिमला उसे पीट पीट कर स्कूल छोड़ने की जिद्द पर अड़ी थी दोनों का चीख चीहाड़ा अब पड़ोसियों के लिए भी रोज सुबह का सिरदर्द बनता जा रहा था।पड़ोसी शर्मा जी रौनक

42

कर्ण

27 अगस्त 2019
0
3
0

महान कर्णमहाभारत के युद्ध में अर्जुन और कर्ण के बीच घमासान युद्ध चल रहा था अर्जुन का तीर लगने पे कर्ण का रथ 25-30 हाथ पीछे खिसक जाता और कर्ण के तीर से अर्जुन का रथ मात्र सिर्फ 2-3 हाथ हि खिसकता।इससे अर्जुन को अपने बाहुबल पर अभिमान होने लगा और वह कहने लगा देखा प्रभु मेरे प्रहारो

43

कर्ण का अंतिम संस्कार

1 सितम्बर 2019
0
2
1

कर्ण का अंतिम संस्कार महाभारत के युद्ध में जब कर्ण को अर्जुन ने मृत्युशय्या पर लिटा दिया तो श्री कृष्ण जी ने अर्जुन को महात्मा का भेस धारण करके आने को कहा और वह दोनो महात्मा के भेस में कर्ण के समीप पहुंचे श्री कृष्ण

44

श्री गणेश चतुर्थी

1 सितम्बर 2019
0
0
0

45

चंद्रयान 2

8 सितम्बर 2019
0
1
2

भारत का चंद्रयान 2 मिशन फेल रहा परन्तु यदि यह सफल होता तो इससे आम आदमी को क्या लाभ होता।क्या वह चांद पर जाकर रह सकता था ?क्या वह चांद पर घर खरीद सकता था ?या फिर यह सब झूठी शान दिखाने या नेताओं और पूंजीपतियों द्वारा गरीबों के पैसे पर चांद पर अयाशी करने का माध्यम बनता औ

46

मंदिर की पौड़ी

27 सितम्बर 2019
0
0
0

बड़े बुजुर्ग कहते हैं कि जब भी किसी मंदिर में दर्शन के लिए जाएं तो दर्शन करने के बाद बाहर आकर मंदिर की पौड़ी या सीढ़ी पर थोड़ी देर बैठे। क्या आप जानते हैं इस परंपरा का क्या कारण है ?आईए जानते हैं आजकल तो हम लोग मंदिर की पौड़ी पर बैठकर अपने घर की व्यापार की या राजनीति की

47

नवरात्रि

29 सितम्बर 2019
0
0
0

जिस देश में छोटी कन्याओ के साथ बलात्कार हो रहे हो वहां कुछ लोग नवरात्रो में कन्याओ के पूजन का ढोंग करते हैं ताजा मामला बिहार का है यहां 6 से 7 हरामियों ने नोच डाला मासूम को जिसमें से एक ओम जाप वाला गमशा पहने हुए था।ऐसे लोगों को सजा मौत दोये संदेश आपको बहुत हीं ज्यादा हैरान करने वाला है!!! जय माता दी

48

बुरे लोगों के साथ बुरा क्यों नहीं होता

14 दिसम्बर 2019
0
1
0

बुरे लोगों के साथ बुरा क्यों नहीं होता एक साधक ने एक यश प्रश्न किसी आचार्य के आगे रख दिया कि है आचार्य बुरे लोगों के साथ बुरा क्यों नहीं होता उन्हें उनके बुरे कर्मों की सजा क्यों नहीं मिलती अपितु अच्छे लोगों के साथ ही सदैव बुरा क्यों होता है।आचार्य दो मिनट मौन रहने

49

फौजी की आत्मा देती है सरहद पर पहरा

24 दिसम्बर 2019
0
0
0

मृत्यु के पश्चात भी फौजी की आत्मा आन ड्यूटीजी हाँ आप जी ने सही पढ़ा एक फौजी के शहीद होने के बावजूद भी उसकी आत्मा कर रही है सिक्किम में भारत चीन बाॅडर पर अपनी ड्यूटी यह आत्मा ना सिर्फ सरहद पर पहरा देती है बल्कि दुश्मन की हर गतिविधि की खबर पहले हि सांकेतिक रूप में भारत

50

गुलाम भारत

1 जनवरी 2020
0
2
0

गुलाम भारत 1757 में प्लासी के युद्ध में रॉबर्ट क्लाईव के नेतृत्व में ईस्ट इंडिया कंपनी ने बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला को पराजित कर दिया इसके साथ ही भारत में ईस्ट इंडिया कंपनी का शासन स्थापित हो गया। उस समय की भारत की राजनीतिक परिस्थितियों पर रॉबर्ट क्लाईव ने अपनी डायरी में एक नोट

51

कोरोना वायरस

4 मार्च 2020
0
0
0

protection from coronavirus

52

कोरोना वायरस

4 अप्रैल 2020
0
0
0

सकारात्मक संदेश

53

कोरोना वायरस

5 मई 2020
0
0
0

Covid-19 coronavirus Disease-2019 कोरोना वायरस के कहर से हम भलीभाँति अवगत हैं देश का मीडिया पल पल की खबर आप तक पहुँच

54

गुरूद्वारा साहिब (ਜੋੜਾ ਘਰ)

1 जून 2020
0
2
0

गुरूद्वारा साहिब जीआप सभी को कभी ना कभी अपने जीवन काल में किसी ऐतिहासिक गुरूद्वारा साहिब के दर्शन करने का मौका जरूर मिला होगा अगर नहीं तो वाहिगुरू जी जल्द से जल्द आपको दर्शन का मौका दें य

55

हवाई जहाज यात्रा और शिष्टाचार

26 फरवरी 2021
0
0
0

यह वाक्य अमेरिकन एयरलाइंस का है जी जिसमें एक हैंडीकैप सज्जन यात्रा करने के लिए सवार हुए वह इकोनॉमी क्लास में अपनी निर्धारित सीट पर जाकर विराजमान हो गए धीरे धीरे अन्य यात्रियों का भी हवाई जहाज में आगमन होने लगा तभी एक बहुत ही मोडन महिला उस हवाई जहाज में सवार हुई उनकी सीट उस हैंडीकैप सज्जन के साथ वाल

56

Pulse oximeter

19 मई 2021
1
0
0

पल्स ऑक्सीमीटर1) SpO2 (O2 saturation level):पल्स ऑक्सीमीटर में SpO2 से हमें यह मालूम चलता है कि क्या हमारे फेफड़े ढंग से काम कर रहे हैं या नही और क्या वह शरीर के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन सप्लाई कर रहे हैं या

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए