shabd-logo

नववर्ष 2024

hindi articles, stories and books related to nvvrss 2024

अंग्रेजी नव वर्ष 2024 की 1 जनवरी से शुरुआत होने वाला है, लोग इस दिन को सेलिब्रेट करने की योजना बनाते इस दिन नृत्य, संगीत, पार्टी पिकनिक के तमाम आयोजन होते हैं। लोग पूजास्थलों पर जाएंगे और नए साल का संकल्प लेंगे, पुराना वर्ष 2023 खराब रहा है तो नया साल 2024 अच्छा रहे इसके लिए प्रार्थना करेंगे और अच्छा रहा है तो नये साल में भी इसे अच्छा रखने और इसे और भी खूब सूरत बनाने की प्रार्थना करेंगे। तो नए वर्ष के स्वागत पर लिखिए अपनो बेहतरीन कविताएँ, लेख और शायरी। shabd.in टीम की ओर से आप सभी को नववर्ष 2024 की अग्रिम शुभकामनाएं।


नववर्ष के स्वागत मे, नई खुशी, नई उमंगे लाएंगे, हो नया सवेरा सभी के जीवन में, निराशा के अंधेरों को, मिलकर दूर भगाएंगे, नए-नए सपने, नए अरमान ले, नए-नए ख़्वाब बुनेंगे, 

इधर उधर से रोज यूँ ना तोड़िए हमें,अगर खराब हैं तो फिर छोड़िये हमें... 

नये साल का पहला दिननई मुस्कान से सजा होगम से न हो कोई वास्ता सबकी जिंदगी में खुशियाँ दस्तक देयही दुआ करते हैं नये साल परसबके लिए इस नये साल केनई बेला पर नववर्ष की ढेर सारी शुभकामनायें

*ये कहानी आपके जीने की सोच बदल देगी!*एक दिन एक किसान का बैल कुएँ में गिर गया।वह बैल घंटों ज़ोर -ज़ोर से रोता रहा और किसान सुनता रहा और विचार करता रहा कि उसे क्या करना चाहिए और क्या नहीं।अंततः उसने निर

ऐ ! नव वर्षतेरा स्वागत और वन्दन होबीती ताहि बिसारि केअब तेरा अभिनन्दन हो।सभी व्यस्त होंसभी मस्त होंइस जीवन की भागदौड़ मेंन किसी को कोई कष्ट हों।न किसी को कोई रोग होन किसी का कोई वियोग होआने वाले नए साल

साल 2023 गुज़रने वाला है और नया साल 2024 आने वाला है। नया साल एक ऐसा मौका है जिसे सिर्फ किसी एक देश और समुदाय के लोग ही नहीं मनाते बल्कि पूरी दुनिया में इस मौके को पूरे उत्साह के साथ त्योहार के रूप मे

एक़ अक्ष सा दिखता है, एक़ ही शख़्स सा दिखता है, जहाँ जाता हूँ, लोग मुझमें आपको देखतें हैं, आपकी पहचान बताते हैं, तुम पापा जैसे दिखते हो, वैसे ही बात करते हो, वैसे ही

कितने खुबसूरत हुआ करते थेबचपन के वो दिन,सिर्फ दो उंगलिया जुड़ने से,दोस्ती फिर से शुरु हो जाया करती थी।

 नये साल में सिर्फ कैलेण्डर का बदलाव नहीअच्छे मित्रों, और परिचितों से मोह मोड़ना नहीअपने चिर परिचितों से संबंधों को तोड़ना नहींनये साल में प्रेमपूर्ण व्यवहार को बदलना नही।मन में उपजे कुत्सित भावों

बगुला और केकडा एक वन प्रदेश में एक बहुत बडा तालाब था। हर प्रकार के जीवों के लिए उसमें भोजन सामग्री होने के कारण वहां नाना प्रकार के जीव, पक्षी, मछलियां, कछुए और केकडे आदि वास करते थे। पास में ही

featured image

      नया वर्ष के आगमन में कुछ ही दिन बचे हैं। हम सभी 1 जनवरी को नया वर्ष के रुप में मनाते आ रहे है । हमारा कैलेन्डर जनवरी से शुरु होकर 31 दिसम्बर को खत्म होता है फिर नया कैलेण्डर घर ले आते हैं ।ऐ

नववर्ष की शुभकामनाएं किसे दूं मैं।गतवर्ष को विदाई कैसे दूं मैं।साल में एक दिन नववर्ष आती है और चली जाती है। उनकी उम्मीदों की दुनिया जस की तस रह जाती है।तुम भूल जाते हैं उन्हें अपने लफ़्ज़ों में स

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए