shabd-logo

राणा हरराय चौहान

7 मई 2023

1334 बार देखा गया 1334


article-image


हरियाणा के संस्थापक क्षत्रिय राजपूत सम्राट राणा हरराय चौहान जी ।। 


मित्रों आज हम आपको चौहान वंश के ऐसे वीर यौद्धा की गाथा सुनाएंगे जिनके बारे आज बहुत कम लोग जानते हैं,

एक समय हरियाणा के इतिहास में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है,यही नहीं दसवी सदी में इस हिस्से पर उनके शासन के बाद ही यह क्षेत्र हरयाणा के नाम से प्रसिद्ध हुआ,


आज हरियाणा,पंजाब,यमुना पार सहारनपुर,मुजफ्फरनगर के लगभग सभी चौहान राजपूत राणा हर राय और उनके सगे सम्बन्धियों के वंशज हैं,यही नहीं गुर्जर,जाट,रोड,जातियों में जो चौहान वंश है उन सबके पूर्वज भी क्षत्रिय राजपूत सम्राट राणा हर राय चौहान को माना जाता है,जो राणा हर राय चौहान अथवा उनके पुत्रो के उस समय उन जातियों की महिलाओ से अंतरजातीय विवाह से उत्पन्न संतान के वंशज हैं जिनसे उन जातियों में चौहान वंश का प्रचलन हुआ।


राणा हर राय चौहान का हरयाणा :- 


यह ऐतिहासिक कहानी है दसवी सदी की जब हरयाणा के उत्तर पूर्वी भाग पर चौहानो का राज्य स्थापित हुआ. नीमराना के चौहानो और पुण्डरी(करनाल,कैथल) के पुंडीर राजपूतों के बीच हुए इस रक्तरंजित युद्ध का इतिहास गवाह है। यह ऐतिहासिक कहानी आपको हरियाणा के उस स्वर्णिम काल में ले जाएगी जब यहां क्षत्रिय राजपूतो का राज था ,यानी अंग्रेजों और मुगलों के समय से भी पहले .


नीमराणा के राणा हर राय चौहान संतानहींन थे। राज पुरोहितो के सुझाव के पश्चात राणा हर राय गंगा स्नान के लिए हरिद्वार के लिए निकले। लौटते हुए उन्होंने एक रात करनाल के पास के क्षेत्र में खेमा लगाया।उस क्षेत्र का नाम बाद में जा कर जुंडला पड़ा क्यूंकि यहां जांडी के पेड़ उगते थे। राणा जी और उनकी सेना इस इलाके की उर्वरता व हरयाली देख कर मोहित हो गये। उनके पुरोहितों ने उन्हें यहीं राज्य स्थापित करने का सुझाव दिया क्यूंकि पुरोहितों को यह भूमि उनके वंश की वृद्धि के लिए शुभ लगी।


उस समय यह क्षेत्र पुंडीर क्षत्रियों के पुण्डरी राज्य के अंतर्गत था। विक्रमसम्वत 602 में यह राज्य राजा मधुकर देव पुंडीर जी ने बसाया था। राजा मधुकर देव जी का शासन तेलंगाना में था, वे अपने सैनिको के साथ तेलांगना से कुरुक्षेत्र ब्रह्मसरोवर में स्नान के लिए आये थे। तभ यहां के रघुवंशी राजा सिन्धु ( जो की हर्षवर्धन के पूर्वज हो सकते हैं) ने आपने बेटी अल्प्दे का विवाह उनसे किया और दहेज़ में कैथल करनाल का इलाका उन्हें दिया,

राजा मधुकर देव पुंडीर ने यही पर अपने पूर्वज के नाम पर पुण्डरी नाम से राजधानी स्थापित की,

बाद में उनके वंशजो ने यहां चार गढ़ स्थापित किये जो कि पुण्डरी, पुंडरक ,हावडी, चूर्णी (चूर्णगढ़) के नाम से जाने गए,


हर्षवर्धन के पश्चात् सन 712 इसवी के आसपास पुंडीर क्षत्रिय (राजपूतो) ने यमुना पार सहारनपुर और हरिद्वार क्षेत्र पर भी कब्जा कर 1440 गाँव पर अपना शासन स्थापित किया।


पुंडीर राज्य के दक्षिण पश्चिम में मंडाड क्षत्रिय राजपूतों का शासन था जोकि यहां मेवाड़ से आये थे और राजोर गढ़ के बड़गुजरों की शाखा थे। उनके एक राज़ा जिन्द्रा ने जींद शहर बसाया और इस क्षेत्र में राज किया। इन्होने चंदेल और परमार राजपूतों को इस इलाके से हराकर निकाल दिया और घग्गर नदी से यमुना नदी तक राज्य स्थापित किया। चंदेल उत्तर में शिवालिक पहाड़ियों की तराई में जा बसे।(यहां इन्होने नालागढ़ (पंजाब) और रामगढ़ ( पंचकुला ,हरयाणा) राज्य बसाये ).वराह परमार राजपूत सालवन क्षेत्र छोडकर घग्घर नदी के पार पटियाला जा बसे। जींद ब्राह्मणों को दान देने के बाद मंढाडो ने कैथल के पास कलायत में राजधानी बसाई व घरौंदा ,सफीदों ,राजौंद और असंध में ठिकाने बनाये।मंडाड क्षत्रिय राजपूतो का कई बार पुंडीर राज्य से संघर्ष हुआ पर उन्हें सफलता नहीं मिली।


गंगा स्नान से लौटते वक्त राणा हर राय चौहान थानेसर पहुंचे तथा पुरोहितो के सुझाव पर पुंडीरो से कुछ क्षेत्र राज करने के लिए भेंट में माँगा। पुंडीरो ने राणा जी की मांग ठुकराई और क्षत्रिये धर्म निभाते हुए विवाद का निर्णय युद्ध में करने के लिए राणा हर राय देव को आमंत्रित किया। जिसे हर राय देव ने स्वीकार किया।

ऐसा कहा जाता है कि मंडाड राजपूतो ने चौहानो का इस युद्ध में साथ दिया. पुंडीर सेना पर्याप्त शक्तिशाली होने के कारण प्रारम्भ में हर राय को सफलता नहीं मिली मात्र पुण्डरी पर वो कब्जा कर पाए,राणा हर राय ने हार नजदीक देख नीमराणा से मदद बुलवाई।


नीमराणा से राणा हर राय चौहान के परिवार के राय दालू तथा राय जागर अपनी सेना के साथ इस युद्ध में हिस्सा लेने पहुंचे.नीमराणा की अतिरिक्त सेना और मंडाड राज्य की सेना के साथ मिलने से क्षत्रिय राजपूत राणा हर राय चौहान की स्थिति मजबूत हो गयी और चौहानो ने फिर हावडी, पुंड्रक को जीत लिया,अंत में पुंडीर राजपूतो ने चूर्णगढ़ किले में अंतिम संघर्ष किया और रक्त रंजित युद्ध के बाद इस किले पर भी राणा हर राय चौहान का कब्ज़ा हो गया,

इसके बाद बचे हुए पुंडीर क्षत्रिय (राजपूत) यमुना पार कर आज के सहारनपुर क्षेत्र में आये और कुछ समय पश्चात् उन्होंने दोबारा संगठित होकर मायापुरी(हरिद्वार)को राजधानी बनाकर राज्य किया,बाद में इस मायापुरी राज्य के चन्द्र पुंडीर और धीर सिंह पुंडीर क्षत्रिय राजपूत सम्राट पृथ्वीराज चौहान के बड़े सामंत बने और सम्राट द्वारा उन्हें पंजाब का सूबेदार बनाया गया,यह मायापुर राज्य हरिद्वार,सहारनपुर,मुजफरनगर तक फैला हुआ था.

बाद में युद्ध की कटुता को भूलाते हुए चौहानों और पुंडीरो में पुन वैवाहिक सम्बन्ध होने लगे,


पुंडीर राज्य पर जीत के बाद राणा हर राय ने राय डालु को 48 गांव की जागीर भेंट की जो की आज क नीलोखेड़ी के आसपास का इलाका था।जागर को 12 गांव की जागीर यमुनानगर के जगाधरी शहर के पास मिली तथा हर राय के भतीजे को टोंथा के( कैथल ) आस पास के 24 गांव की जागीर मिली। राणा हर राय देव ने जुंडला से शासन किया।


इन्ही के नाम पर इस इलाके का नाम हरयाणा पड़ा जिसका मतलब वो स्थान जहा हर राय राणा के वंशज राज्य करते थे।

(हर राय राणा = हररायराणा = हररायणा = हरियाणा).

परन्तु आजादी के बाद इसका अर्थ राजपूत विरोधी जातियों ने हरी का आना बना दिया जबकि हरी तो हमेशा से उत्तर प्रदेश में ही अवतरित हुए है, हरयाणा तो हरी की कर्म भूमि थी।


राणा हरराय चौहान और उनके चौहान सेना के वंशज आज हरयाणा के अम्बाला पंचकुला करनाल यमुनानगर जिलो के 164 गाँवो में बसते है।रायपुर रानी (84 गाँव की जागीर) इनका आखिरी बचा बड़ा ठिकाना है जो की आजादी के बाद तक भी रहा। हालाकिं इन चौहानो कई छोटी जागीरे चौबीसी के टिकाइओ के नीचे बचीं रहीं जैसे उनहेरी, टोंथा, शहजादपुर, जुंडला, घसीटपुर आदि जो बाद में अंग्रेजो के शासन के अंतर्गत आ गयी. इन चौहानो की एक चौबीसी यमुना पार मुज़्ज़फरनगर जिले में भी मिलती है। 


कलस्यान गुर्जर भी खुद को इसी चौहान वंश की शाखा मानते है, (मुजफरनगर गजेटियर पढ़े). राणा हर राय देव के एक वंशज राव कलस्यान ने गुज्जरी से विवाह किया जिनकी संतान ये कलसियान गुज्जर है।ये गुज्जर आज चौहान सरनेम लगाते है और इनके 84 गांव मुज़्ज़फरनगर के चौहान राजपूतो के 24 गाँव के साथ ही बसे हुए है।


राणा हर राय चौहान ने दूसरी जातियों जैसे जाट ,रोड़ , नाइ ,जोगन जातियों की लड़कियों से भी वैवाहिक सम्बन्ध स्थापित किये।कुरुक्षेत्र के पास के अमीन गाँव चौहान रोड़ इन्ही के वंशज माने जाते है। लाकड़ा जाट या चौहान जाट भी इन्ही चौहानो के वंशज माने जाते है। नाइ व जोगन बीविओं की संताने आज सोनीपत और उत्तर प्रदेश के घाड के आसपास के इलाके में बसते है इन्हे खाकी चौहान कहा जाता है जिनमे शुद्ध रक्त के राजपूत विवाह नहीं करते।


राणा हर राय के वंशज राणा शुभमल के समय अंबाला,करनाल क्षेत्र में चौहानो के 169 गाँव थे। शुभमल के पुत्र त्रिलोक चंद को 84 गाँव मिले जबकि दुसरे पुत्र मानक चंद को 85 गाँव मिले । त्रिलोक चंद की आठवी पीढ़ी में जगजीत हुए जो गुरु गोविंद सिंह के समय बहुत शक्तिशाली थे, 1756 में जगजीत के पोते फ़तेह चंद ने अपने दो पुत्रो भूप सिंह और चुहर सिंह के साथ अहमद शाह अब्दाली का मुकाबला किया जिसमे अब्दाली की विशाल शाही सेना ने कोताहा में धोखेे से घेरकर 7000 चौहानो का नरसंहार किया।

हरयाणा के चौहान आज भी बहुत स्वाभिमानी है और अपने इतिहास पर गर्व करते है। हरियाणा में क्षत्रिय (राजपूतो) की जनसँख्या और प्रभुत्व आज नगण्य सा हो गया है,

राणा हर राय देव चौहान की छतरी आज भी जुंडला गाँव (करनाल) में मौजूद है। पर ये दुःख की बात यहाँ के चौहान राजपूत अपने वीर पूर्वज की शौर्य गाथा को भूलते जा रहे है और हरयाणा में आज तक राणा हर राय देव के नाम पर कोई संग्रहालय मूर्ति या चौक नहीं स्थापित किये गए. हम आशा करते है इस पोस्ट को पढ़ने के बाद राणा हर राय देव चौहान को उनको वंशज यथा संभव सम्मान दिलवा पाएंगे। 

1

राणा हरराय चौहान

7 मई 2023
5
0
0

हरियाणा के संस्थापक क्षत्रिय राजपूत सम्राट राणा हरराय चौहान जी ।।  मित्रों आज हम आपको चौहान वंश के ऐसे वीर यौद्धा की गाथा सुनाएंगे जिनके बारे आज बहुत कम लोग जानते हैं, एक समय हरियाणा के इत

2

सम्राट पृथ्वीराज चौहान

7 मई 2023
1
0
0

नाम (Name) पृथ्वीराज चौहान उपनाम (Nick Name ) भारतेश्वर, पृथ्वीराजतृतीय, हिन्दूसम्राट्, सपादलक्षेश्वर, राय पिथौरा जन्मदिन (Birthday) 1 जून 1163 (आंग्ल पंचांग के अनुसार) जन्म स्थान (Birth Pla

3

सम्राट मिहिरभोज प्रतिहार

7 मई 2023
1
0
0

(1) सम्राट मिहिरभोज का जन्म विक्रम संवत 873 (816 ईस्वी) को हुआ था। आपको कई नाम से जाना जाता है जैसे भोजराज, भोजदेव , मिहिर , आदिवराह एवं प्रभास। (2) आपका राज्याभिषेक विक्रम संवत 893 यानी 18 अ

4

दिल्ली के अंतिम हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य

7 मई 2023
0
0
0

दिल्ली के अंतिम हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य राज्यारोहण दिवस - 7 अक्तूबर, 1556 अपने शौर्य से इतिहास की धारा मोड़ने वाले वीर हेमू का जन्म दो अक्तूबर, 1501 (विजयादशमी) को ग्राम मछेरी

5

महाराजा सर प्रताप सिंह राठौड़

7 मई 2023
0
0
0

महाराजा सर प्रताप सिंह राठौड़ (मारवाड़-जोधपुर) की (21अक्टूम्बर 1845) 177वीं जयंती पर शत शत नमन.... राजपूत समाज में समकालीन परिस्थितियों को देखकर भविष्य कि पहचान अगर किसी ने वक्त रहते हुवे कि

6

महाराजा जवाहर सिंह

7 मई 2023
0
0
0

आगरा किले में मुगलों का टूटा हुआ सिंहासन--- इस सिंहासन को हिन्दू वीर जाट महाराजा जवाहर सिंह जी ने एक मुक्का मारकर तोड़ा था। 12 जून 1761 को जाटों ने आगरा को जीत लिया था। 1774 तक आगरा जाटों के अधी

7

बप्पा रावल (कालभोज)

7 मई 2023
0
0
0

कालभोज(बप्पा रावल)  एक राजपूत बालक की गाय रोज दूध दुहने के समय कहीं चली जाती थी। उस बालक को रोज भूखा रहना पड़ता था इसलिए एक दिन वो उस गाय के पीछे पीछे गया। गाय एक ऋषि के आश्रम में पहुंची और एक

8

शिवाजी शहाजी भोसले (छत्रपति शिवाजी महाराज)

7 मई 2023
0
0
0

छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) ये महापुरूष और कोई नहीं बल्कि हिन्दुत्व के महान रक्षक और मुगलों की ईंट से ईंट बजाने वाले शिवाजी उर्फ़ छत्रपति शिवाजी महाराज है। शिवाजी का प्

9

महान योद्धा बन्दा सिंह बैरागी

7 मई 2023
0
0
0

महान योद्धा बंदा सिंह बहादुर (बन्दा बैरागी ) -जन्म दिन 27 अक्तूबर,1670 मुगलों को नाकों चने चबवाने वाले योद्धा बन्दा बैरागी का जन्म जम्मू कश्मीर के पुंछ में 27 अक्तूबर, 1670 को ग्राम तच्छल किला,

10

चंबल की क्षत्राणी (ठकुराइन) की जल समाधि

7 मई 2023
0
0
0

चंबल की क्षत्राणी (ठकुराइन) की जल समाधि वैसे तो हमारे भारतवर्ष का इतिहास क्षत्रियों के त्याग और  बलिदानों से भरे पड़ा है, आपको सन 1971 की एक सत्य घटना से आपको अवगत कराती हूं। चंबल नदी

11

राजकुमारी ताजकुंवरी (सतीत्व की अनूठी मिसाल)

7 मई 2023
0
0
0

माॅं भवानी का अंश स्वरूप, सतीत्व की अनूठी मिशाल क्षत्राणी राजकुमारी ताजकुंवरी जी।।  कानपुर के समीप गंगा किनारे किसोरा नामक राज्य स्थित था। किसोरा के राजा सज्जनसिंह की राजकुमारी ताजकुंवरी और

12

गढ़वाल की बहादुर महारानी कर्णावती

7 मई 2023
0
0
0

गढ़वाल की बहादुर महारानी कर्णावती - नाक काटी रानी।। गढ़वाल की बहादुर महारानी कर्णावती "नाक काटी रानी" क्या आपने गढ़वाल क्षेत्र की “नाक काटी रानी” का नाम सुना है ? नहीं सुना

13

अमर बलिदानी हाड़ी रानी सहल कंवर (इन्द्र कंवर)

7 मई 2023
0
0
0

हाड़ी रानी की गौरव गाथा:- मेवाड़ के ठिकानों में से एक ठिकाना था सलूम्बर। वहां का रावत रतनसिंह एक चूंडावत सरदार था। उसके समय में मेवाड़ पर महाराणा राजसिंह प्रथम (वि.सं. 1706-1737) शासन कर रहे

14

एक वज्रह्दया क्षत्राणी - हीरा दे

7 मई 2023
0
0
0

हीरा दे : एक वज्रहृदया क्षत्राणी संवत 1368, वैशाख का निदाघ पत्थर पिघला रहा था। तभी द्वार पर दस्तक सुनी और हीरा-दे ने दरवाजा खोला। स्वेद में नहाया उसका पति विका दहिया एक पोटली उठाये खड़ा था। उसका

15

उदयपुर की राजकुमारी कृष्णाकुमारी

7 मई 2023
0
0
0

राजकुमारी कृष्णा कुमारी उपन्यास: - दिनेश कुमार कीर *धरमा* उदयपुर की राजकुमारी कृष्णा:- जिसके लिये तनी थीं तलवारें...  यह हिन्दुस्तान के इतिहास के उस दौर की दास्तान है जब एक ओर जहां मुगल बादशाहों की

16

चित्तौड़ की रानी पद्मावती

7 मई 2023
0
0
0

रानी पद्मावती: - भारतीय इतिहास के पन्नों में अत्यंत सुंदर और साहसी रानी “रानी पद्मावती” का उल्लेख है । रानी पद्मावती को रानी पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता है । रानी पद्मावती के पिता सिंघल प्रांत (श्र

17

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई

7 मई 2023
0
0
0

रानी लक्ष्मीबाई का जीवन परिचय, इतिहास...  लक्ष्मीबाई, झांसी की रानी उत्तर प्रदेश, भारत में झांसी की मराठा रियासत की रानी थीं। लक्ष्मीबाई ने ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार के खिलाफ 1857 के विद्रोह में सक्र

18

छत्तीसगढ़ का आदिवासी हीरो टाइगर बॉय चेंदरू मंडावी

7 मई 2023
0
0
0

छत्तीसगढ़ का आदिवासी हीरो टाइगर बॉय चेंदरू मंडावी की पुण्यतिथि पर उन्हें शत्-शत् नमन...... नारायणपुर गड़बेंगाल के निवासी चंदरु की कहानी छत्तीसगढ़ का टाइगर बॉय चेंदरु जिसने जल, जंगल, जमीन को अपने

19

राजपूत काल की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गयी महिलाऐ

7 मई 2023
0
0
0

रूठी रानी यों तो रूठी रानी के नाम से उमा दे को जाना जाता है पर भीलवाड़ा जिले के मेनाल में रूठी रानी का महलस्थित है जिसके लिए माना जाता है कि यह महल रानी सुहावा देवीका है रानी सुहावा देवी अजमेर नरेश पृ

20

वीर दुर्गादास राठौड़

13 मई 2023
0
0
0

राष्ट्रगौरव दुर्गादास राठौड़ सालवा से शिप्रा तट तक का सफरहिंदुगौरव रणबंका राठौड़जिसने इस देश का पूर्ण इस्लामीकरण करने की औरंगजेब की साजिश को विफल कर हिन्दू धर्म की रक्षा की थी….. उस महान का ना

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए