shabd-logo

वीर दुर्गादास राठौड़

13 मई 2023

20 बार देखा गया 20
राष्ट्रगौरव दुर्गादास राठौड़ 
सालवा से शिप्रा तट तक का सफर
हिंदुगौरव रणबंका राठौड़

जिसने इस देश का पूर्ण इस्लामीकरण करने की औरंगजेब की साजिश को विफल कर हिन्दू धर्म की रक्षा की थी….. 
उस महान का नाम है वीर दुर्गादास राठौड़…

समय – सोहलवीं – सतरवी शताब्दी
चित्र – वीर शिरोमणि दुर्गादास राठौड़
स्थान – मारवाड़ राज्य

वीर दुर्गादास राठौड का जन्म मारवाड़ में करनोत ठाकुर आसकरण जी के घर सं. 1695 श्रावन शुक्ला चतुर्दसी को हुआ था। आसकरण जी मारवाड़ राज्य की सेना में जोधपुर नरेश महाराजा जसवंत सिंह जी की सेवा में थे । अपने पिता की भांति बालक दुर्गादास में भी वीरता कूट कूट कर भरी थी, एक बार जोधपुर राज्य की सेना के ऊंटों को चराते हुए राईके (ऊंटों के चरवाहे) आसकरण जी के खेतों में घुस गए, बालक दुर्गादास के विरोध करने पर भी चरवाहों ने कोई ध्यान नहीं दिया तो वीर युवा दुर्गादास का खून खोल उठा और तलवार निकाल कर झट से ऊंट की गर्दन उड़ा दी, इसकी खबर जब महाराज जसवंत सिंह जी के पास पहुंची तो वे उस वीर बालक को देखने के लिए उतावले हो उठे व अपने सेनिकों को दुर्गादास को लेन का हुक्म दिया । अपने दरबार में महाराज उस वीर बालक की निडरता व निर्भीकता देख अचंभित रह गए, आस्करण जी ने अपने पुत्र को इतना बड़ा अपराध निर्भीकता से स्वीकारते देखा तो वे सकपका गए । परिचय पूछने पर महाराज को मालूम हुवा की यह आस्करण जी का पुत्र है, तो महाराज ने दुर्गादास को अपने पास बुला कर पीठ थपथपाई और इनाम तलवार भेंट कर अपनी सेना में भर्ती कर लिया ।

उस समय महाराजा जसवंत सिंह जी दिल्ली के मुग़ल बादशाह औरंगजेब की सेना में प्रधान सेनापति थे,फिर भी औरंगजेब की नियत जोधपुर राज्य के लिए अच्छी नहीं थी और वह हमेशा जोधपुर हड़पने के लिए मौके की तलाश में रहता था । सं. 1731 में गुजरात में मुग़ल सल्तनत के खिलाफ विद्रोह को दबाने हेतु जसवंत सिंह जी को भेजा गया, इस विद्रोह को दबाने के बाद महाराजा जसवंत सिंह जी काबुल में पठानों के विद्रोह को दबाने हेतु चल दिए और दुर्गादास की सहायता से पठानों का विद्रोह शांत करने के साथ ही वीर गति को प्राप्त हो गए । उस समय उनके कोई पुत्र नहीं था और उनकी दोनों रानियाँ गर्भवती थी, दोनों ने एक एक पुत्र को जन्म दिया, एक पुत्र की रास्ते में ही मौत हो गयी और दूसरे पुत्र अजित सिंह को रास्ते का कांटा समझ कर ओरंग्जेब ने अजित सिंह की हत्या की ठान ली, ओरंग्जेब की इस कुनियत को स्वामी भक्त दुर्गादास ने भांप लिया और अपने विश्वस्त सैनिको की सहायता से  अजित सिंह को दिल्ली से निकाल लाये व अजित सिंह की लालन पालन की समुचित व्यवस्था करने के साथ जोधपुर में गदी के लिए होने वाले ओरंगजेब संचालित षड्यंत्रों के खिलाफ लोहा लेते अपने कर्तव्य पथ पर बढते रहे ।

अजित सिंह के बड़े होने के बाद गद्दी पर बैठाने तक वीर दुर्गादास को जोधपुर राज्य की एकता व स्वतंत्रता के लिए दर दर की ठोकरें खानी पड़ी, ओरंगजेब का बल व लालच दुर्गादास को नहीं डिगा सका जोधपुर की आजादी के लिए दुर्गादास ने कोई पच्चीस सालों तक सघर्ष किया, लेकिन जीवन के अन्तिम दिनों में दुर्गादास को मारवाड़ छोड़ना पड़ा । महाराज अजित सिंह के कुछ लोगों ने दुर्गादास के खिलाफ कान भर दिए थे जिससे महाराज दुर्गादास से अनमने रहने लगे वस्तु स्तिथि को भांप कर दुर्गादास ने मारवाड़ राज्य छोड़ना ही उचित समझा । और वे मारवाड़ छोड़ कर उज्जैन चले गए वही शिप्रा नदी के किनारे उन्होने अपने जीवन के अन्तिम दिन गुजारे व वहीं उनका स्वर्गवास हुवा । दुर्गादास हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए वीरता, देशप्रेम, बलिदान व स्वामिभक्ति के प्रेरणा व आदर्श बने रहेंगे ।

१-मायाड ऐडा पुत जाण, जेड़ा दुर्गादास । भार मुंडासा धामियो, बिन थम्ब आकाश ।
२-घर घोड़ों, खग कामनी, हियो हाथ निज मीत सेलां बाटी सेकणी, श्याम धरम रण नीत ।
वीर दुर्गादास का निधन 22 नवम्बर, सन् 1718 में हुवा था इनका अन्तिम संस्कार शिप्रा नदी के तट पर किया गया था ।
“उनको न मुगलों का धन विचलित कर सका और न ही मुग़ल शक्ति उनके दृढ हृदये को पीछे हटा सकी। वह एक वीर था जिसमे राजपूती साहस व मुग़ल मंत्री सी कूटनीति थी ”

जिसने इस देश का पूर्ण इस्लामीकरण करने की औरंगजेब की साजिश को विफल कर हिन्दू धर्म की रक्षा की थी….. उस महान योद्धा का नाम है वीर दुर्गादास राठौर…
इसी वीर दुर्गादास राठौड़ के बारे में रामा जाट ने कहा था कि “धम्मक धम्मक ढोल बाजे दे दे ठोर नगारां की,, जो आसे के घर दुर्गा नहीं होतो,सुन्नत हो जाती सारां की…….
आज भी मारवाड़ के गाँवों में लोग वीर दुर्गादास को याद करते है कि
“माई ऐहा पूत जण जेहा दुर्गादास, बांध मरुधरा राखियो बिन खंभा आकाश”
हिंदुत्व की रक्षा के लिए उनका स्वयं का कथन
“रुक बल एण हिन्दू धर्म राखियों”
अर्थात हिन्दू धर्म की रक्षा मैंने भाले की नोक से की…………
इनके बारे में कहा जाता है कि इन्होने सारी उम्र घोड़े की पीठ पर काटी 
इन महान योद्धा को नमन्
1

राणा हरराय चौहान

7 मई 2023
5
0
0

हरियाणा के संस्थापक क्षत्रिय राजपूत सम्राट राणा हरराय चौहान जी ।।  मित्रों आज हम आपको चौहान वंश के ऐसे वीर यौद्धा की गाथा सुनाएंगे जिनके बारे आज बहुत कम लोग जानते हैं, एक समय हरियाणा के इत

2

सम्राट पृथ्वीराज चौहान

7 मई 2023
1
0
0

नाम (Name) पृथ्वीराज चौहान उपनाम (Nick Name ) भारतेश्वर, पृथ्वीराजतृतीय, हिन्दूसम्राट्, सपादलक्षेश्वर, राय पिथौरा जन्मदिन (Birthday) 1 जून 1163 (आंग्ल पंचांग के अनुसार) जन्म स्थान (Birth Pla

3

सम्राट मिहिरभोज प्रतिहार

7 मई 2023
1
0
0

(1) सम्राट मिहिरभोज का जन्म विक्रम संवत 873 (816 ईस्वी) को हुआ था। आपको कई नाम से जाना जाता है जैसे भोजराज, भोजदेव , मिहिर , आदिवराह एवं प्रभास। (2) आपका राज्याभिषेक विक्रम संवत 893 यानी 18 अ

4

दिल्ली के अंतिम हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य

7 मई 2023
0
0
0

दिल्ली के अंतिम हिन्दू सम्राट हेमचन्द्र विक्रमादित्य राज्यारोहण दिवस - 7 अक्तूबर, 1556 अपने शौर्य से इतिहास की धारा मोड़ने वाले वीर हेमू का जन्म दो अक्तूबर, 1501 (विजयादशमी) को ग्राम मछेरी

5

महाराजा सर प्रताप सिंह राठौड़

7 मई 2023
0
0
0

महाराजा सर प्रताप सिंह राठौड़ (मारवाड़-जोधपुर) की (21अक्टूम्बर 1845) 177वीं जयंती पर शत शत नमन.... राजपूत समाज में समकालीन परिस्थितियों को देखकर भविष्य कि पहचान अगर किसी ने वक्त रहते हुवे कि

6

महाराजा जवाहर सिंह

7 मई 2023
0
0
0

आगरा किले में मुगलों का टूटा हुआ सिंहासन--- इस सिंहासन को हिन्दू वीर जाट महाराजा जवाहर सिंह जी ने एक मुक्का मारकर तोड़ा था। 12 जून 1761 को जाटों ने आगरा को जीत लिया था। 1774 तक आगरा जाटों के अधी

7

बप्पा रावल (कालभोज)

7 मई 2023
0
0
0

कालभोज(बप्पा रावल)  एक राजपूत बालक की गाय रोज दूध दुहने के समय कहीं चली जाती थी। उस बालक को रोज भूखा रहना पड़ता था इसलिए एक दिन वो उस गाय के पीछे पीछे गया। गाय एक ऋषि के आश्रम में पहुंची और एक

8

शिवाजी शहाजी भोसले (छत्रपति शिवाजी महाराज)

7 मई 2023
0
0
0

छत्रपति शिवाजी महाराज (Chhatrapati Shivaji Maharaj) ये महापुरूष और कोई नहीं बल्कि हिन्दुत्व के महान रक्षक और मुगलों की ईंट से ईंट बजाने वाले शिवाजी उर्फ़ छत्रपति शिवाजी महाराज है। शिवाजी का प्

9

महान योद्धा बन्दा सिंह बैरागी

7 मई 2023
0
0
0

महान योद्धा बंदा सिंह बहादुर (बन्दा बैरागी ) -जन्म दिन 27 अक्तूबर,1670 मुगलों को नाकों चने चबवाने वाले योद्धा बन्दा बैरागी का जन्म जम्मू कश्मीर के पुंछ में 27 अक्तूबर, 1670 को ग्राम तच्छल किला,

10

चंबल की क्षत्राणी (ठकुराइन) की जल समाधि

7 मई 2023
0
0
0

चंबल की क्षत्राणी (ठकुराइन) की जल समाधि वैसे तो हमारे भारतवर्ष का इतिहास क्षत्रियों के त्याग और  बलिदानों से भरे पड़ा है, आपको सन 1971 की एक सत्य घटना से आपको अवगत कराती हूं। चंबल नदी

11

राजकुमारी ताजकुंवरी (सतीत्व की अनूठी मिसाल)

7 मई 2023
0
0
0

माॅं भवानी का अंश स्वरूप, सतीत्व की अनूठी मिशाल क्षत्राणी राजकुमारी ताजकुंवरी जी।।  कानपुर के समीप गंगा किनारे किसोरा नामक राज्य स्थित था। किसोरा के राजा सज्जनसिंह की राजकुमारी ताजकुंवरी और

12

गढ़वाल की बहादुर महारानी कर्णावती

7 मई 2023
0
0
0

गढ़वाल की बहादुर महारानी कर्णावती - नाक काटी रानी।। गढ़वाल की बहादुर महारानी कर्णावती "नाक काटी रानी" क्या आपने गढ़वाल क्षेत्र की “नाक काटी रानी” का नाम सुना है ? नहीं सुना

13

अमर बलिदानी हाड़ी रानी सहल कंवर (इन्द्र कंवर)

7 मई 2023
0
0
0

हाड़ी रानी की गौरव गाथा:- मेवाड़ के ठिकानों में से एक ठिकाना था सलूम्बर। वहां का रावत रतनसिंह एक चूंडावत सरदार था। उसके समय में मेवाड़ पर महाराणा राजसिंह प्रथम (वि.सं. 1706-1737) शासन कर रहे

14

एक वज्रह्दया क्षत्राणी - हीरा दे

7 मई 2023
0
0
0

हीरा दे : एक वज्रहृदया क्षत्राणी संवत 1368, वैशाख का निदाघ पत्थर पिघला रहा था। तभी द्वार पर दस्तक सुनी और हीरा-दे ने दरवाजा खोला। स्वेद में नहाया उसका पति विका दहिया एक पोटली उठाये खड़ा था। उसका

15

उदयपुर की राजकुमारी कृष्णाकुमारी

7 मई 2023
0
0
0

राजकुमारी कृष्णा कुमारी उपन्यास: - दिनेश कुमार कीर *धरमा* उदयपुर की राजकुमारी कृष्णा:- जिसके लिये तनी थीं तलवारें...  यह हिन्दुस्तान के इतिहास के उस दौर की दास्तान है जब एक ओर जहां मुगल बादशाहों की

16

चित्तौड़ की रानी पद्मावती

7 मई 2023
0
0
0

रानी पद्मावती: - भारतीय इतिहास के पन्नों में अत्यंत सुंदर और साहसी रानी “रानी पद्मावती” का उल्लेख है । रानी पद्मावती को रानी पद्मिनी के नाम से भी जाना जाता है । रानी पद्मावती के पिता सिंघल प्रांत (श्र

17

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई

7 मई 2023
0
0
0

रानी लक्ष्मीबाई का जीवन परिचय, इतिहास...  लक्ष्मीबाई, झांसी की रानी उत्तर प्रदेश, भारत में झांसी की मराठा रियासत की रानी थीं। लक्ष्मीबाई ने ब्रिटिश औपनिवेशिक सरकार के खिलाफ 1857 के विद्रोह में सक्र

18

छत्तीसगढ़ का आदिवासी हीरो टाइगर बॉय चेंदरू मंडावी

7 मई 2023
0
0
0

छत्तीसगढ़ का आदिवासी हीरो टाइगर बॉय चेंदरू मंडावी की पुण्यतिथि पर उन्हें शत्-शत् नमन...... नारायणपुर गड़बेंगाल के निवासी चंदरु की कहानी छत्तीसगढ़ का टाइगर बॉय चेंदरु जिसने जल, जंगल, जमीन को अपने

19

राजपूत काल की महत्वपूर्ण भूमिका निभाई गयी महिलाऐ

7 मई 2023
0
0
0

रूठी रानी यों तो रूठी रानी के नाम से उमा दे को जाना जाता है पर भीलवाड़ा जिले के मेनाल में रूठी रानी का महलस्थित है जिसके लिए माना जाता है कि यह महल रानी सुहावा देवीका है रानी सुहावा देवी अजमेर नरेश पृ

20

वीर दुर्गादास राठौड़

13 मई 2023
0
0
0

राष्ट्रगौरव दुर्गादास राठौड़ सालवा से शिप्रा तट तक का सफरहिंदुगौरव रणबंका राठौड़जिसने इस देश का पूर्ण इस्लामीकरण करने की औरंगजेब की साजिश को विफल कर हिन्दू धर्म की रक्षा की थी….. उस महान का ना

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए