shabd-logo

🎂एक गीत मीरा के नाम...🎂

8 जनवरी 2022

45 बार देखा गया 45
भाई, सांवरे, .......मैं तोरी वावरिया,
कैसा, नाच नचाए,..तोरी बांसुरिया। भई...
मैं तोकू ध्याऊं, तोपे वारी वारी जाऊं,
सपनों में देखूं तोकू ,...गरवा लगाऊं,
श्याम सलोने, .........राधा के सोहने,
आओ ना कान्हा...... मोरी नागरिया। भई...
तीखे सलोने,...तेरे नैना,..वारी जाऊं,
छोटासा जिया पिया हारी हारी जाऊं,
पनघट पे आके, .......वावरी बनाके,
काहे को फोड़ी .......मोरी गागरिया। भई....
मोसे तो नीकी तोकूं .बांसुरी है लागे,
अधरोंपे साजे बैरन सौतन सी लागे।
राधा के चंदा,.........मधुवन के नंदा,
मीरा के मन......... साजे सांवरिया। भई... 
होके दीवानी मीरा गली...गली डोले,
हरि गुन गए जाए श्याम श्याम बोले,
प्रीतम के लाने, ......दुनियां के ताने,
हरि धुन गाए....... वाकी झांझरिया। भई... 
नैनों की छैयां सैंया  दे के तोकू पालूं,
कजरा बना के तोकू ...नैनों में डालूं।
आतिश के सपने,.....मीरा के अपने,
यूं ना उछालो मो पे .......कांकरिया। भई...
      ~~~~~~°°°°~~~~~~
# नवाब आतिश बदायूंनी। 09.08.2020
12
रचनाएँ
💐वेदनाओं की वीथिका💐
5.0
हिंदी के प्रथम काव्य संग्रह को आप सभी सुधि पाठकों के मध्य रखते हुए आग्रह करना चाहूंगा कि काश! हमारे इस प्रयास में हमारे हमसफर हो सकें- चलो तह को जी लें फज़ीहत से पहले। शव-ए-ग़म तो पी लें नसीहत से पहले।। वो शहर-ए-चरागाँ ..वो जोश-ए-तमन्ना। कई जांनशीं थे ......तेरे ख़त से पहले।। @ नवाब आतिश।
1

पनघट का घट

18 दिसम्बर 2021
1
0
0

<div><span style="font-size: 16px;">मै पनघट का घट हूँ प्यारे,</span></div><div><span style="font-siz

2

काश!!

19 दिसम्बर 2021
1
1
2

<div>प्रेम घट गर .....छीन पाता <br></div><div><span style="font-size: 16px;">नफरतों के ........

3

आहट!!

19 दिसम्बर 2021
0
0
0

<div><span style="font-size: 16px;"># दर्द की छांव में......02</span></div><div><span style="font-si

4

☀️☀️रश्मि संचय_1☀️☀️

22 दिसम्बर 2021
0
0
0

<div>क्या कभी महसूस किया है, तुमने?<br></div><div><span style="font-size: 16px;">सबकुछ में कुछ कम हो

5

☀️☀️रश्मि संचय- 02☀️☀️

22 दिसम्बर 2021
0
0
0

<div>क्या कभी महसूस किया है तुमने?<br></div><div><span style="font-size: 16px;">उत्पत्ति कारक के होन

6

☀️☀️रश्मि संचय-03☀️☀️

22 दिसम्बर 2021
0
0
0

<div>क्या कभी महसूस किया है तुमने?<br></div><div><span style="font-size: 16px;">फर्ज के पल्लवित होते

7

अंधभक्त

28 दिसम्बर 2021
0
0
0

<div>यूं ही अंध-भक्त कब बनते, <br></div><div><span style="font-size: 16px;">इन्हें बनाया.......

8

हम देख रहे हैं........होने तक,

27 अक्टूबर 2022
0
0
0

हम देख रहे हैं........होने तक,इस बिंदु से अंतिम कोने तक।।हम देख रहे हैं भाई की.........भाई से बगावत होने तक,ग़म पर हंसते चश्मों के तले आँसू की लगावट होने तक।हम देख रहे हैं उसको भी...परदे से उतर कर

9

🎂ये मैने कब कहा था?..1/2🎂

8 जनवरी 2022
0
0
0

@ मैं शायर हूं ये मैंने कब कहा था, तुम ऐसा सोचते हो ....ये गलत है।मुझे मालूम है ......जब तुम पढ़ोगे,मेरी तुकबंदियों को ....तब कहोगे।न ये कविता है .......न ये शायरी है,हमारे दर्द की........ बस डाय

10

🎂ये मैन कब कहा था?..2/2🎂

8 जनवरी 2022
0
0
0

@ मैं सच्चा हूं ये मैंने कब कहा था, तुम ऐसा सोचते हो...... ये गलत है।मैं तो बस झूठ में.... जिंदा हूं शायद,यकीनन मैं नहीं हूं ....जाने कब का।वो पहला दिन जो... मैंने झूठ बोला,मैं उस दिन ज़िन्

11

🎂एक गीत मीरा के नाम...🎂

8 जनवरी 2022
1
0
0

भाई, सांवरे, .......मैं तोरी वावरिया,कैसा, नाच नचाए,..तोरी बांसुरिया। भई...मैं तोकू ध्याऊं, तोपे वारी वारी जाऊं,सपनों में देखूं तोकू ,...गरवा लगाऊं,श्याम सलोने, .........राधा के सोहने,आओ ना कान्हा....

12

🎂प्रश्न बड़ा है मस्त दोस्तो.....🎂

8 जनवरी 2022
1
0
2

प्रश्न बड़ा है मस्त दोस्तो......पर है बड़ा कसैला,रायता कैसे फैला?..........कहो ना कैसे फैला?रायता कैसे फैला? .................................सवल इंडिया के अनुयाई.......वायुयान से लाए,घर में बुला बुला

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए