shabd-logo

शापित संतान -भाग 13

20 जून 2023

34 बार देखा गया 34
" माँ बस अभी ही तो आई ! पापा से नमस्ते करने को हाथ जोडे़ मगर पापा ने तो मुझे स्नेह से देखा तक नहीं !! अपनी बेटी से मिलकर लगता है पापा को खुशी न हुई !!" शिवा ने ये प्रकट करते हुए कहा जैसे उसने कुछ सुना ही नहीं ।

अर्पिता ने राहत की साँस ली ये सोचकर कि गोलू कुछ सुन न पाई और वो बोली-"ऐसी बात नहीं है गोलू , तुम्हारे पापा बहुत व्यस्त रहते हैं ना ,, काम की व्यस्तता की वजह से वो ध्यान न दे पाए होंगे बाकी तुम्हारे पापा तुमसे बहुत प्यार करते हैं ।"

शिवा ने माँ की तरफ देखा ,, उनकी आँखें कुछ और कह रही थीं और उनके होंठ कुछ और ,,,, 

वो हल्का सा मुस्कुराकर अर्पिता की कमर में बाहें डालकर बोली -"माँ कुछ खाने को बनाओ ना ! भूख लग रही है ।" 

"हाँ अभी बनाकर लेकर आती हूँ ।"अर्पिता ने कहा और रसोंई में चली गई।
शिवा माँ को रसोंई में गया देखकर धीरे से रसोंई के बगल वाले कमरे में जाकर उसके अंदर बने दरवाजे को जरा सा खोलकर बाहर देखने लगी -  बाहर उसके पापा बैठे हुए श्रीनिवास से अपने बदन में तेल लगवा रहे थे ।श्रीनिवास , शिवा के पापा की पीठ पर तेल से मालिश कर रहा था और उसकी आँखों से आँसू गिर रहे थे ।

" अबे गधे की औलाद, हाथों की ताकत क्या घास चरने गई है ! पूरी ताकत से मालिश कर ना !!" शिवा के पापा ने श्रीनिवास से कहा और वो -"जी सर ,करता हूँ "कहकर और जोर जोर से रगड़ने लगा ।

शिवा अंदर आ गई और अर्पिता के कमरे में बैठने ही जा रही थी कि रसोंई से अर्पिता आकर बोली -"गोलू,अपने कमरे में चलो ,नाश्ता वहीं लाती हो ना !यहाँ क्यों आ गईं !!"

ये माँ मुझे अपने कमरे में क्यों न बैठने देती हैं !! ऐसा क्या है इस कमरे में !! सोचती हुई शिवा अपने कमरे में चली गई ।

थोडी़ देर में अर्पिता शिवा के लिए चाय व नाश्ता उसके कमरे में लेकर प्रवेश करने ही वाली थीं कि शिवा के पापा ने उनसे आकर कहा -" ये क्या है सब ! खाना कितने समय तैयार होगा ,, मेरे और भी काम हैं ,, " 
"जी , बस थोडी़ देर में खाना तैयार कर देती हूँ ।" अर्पिता ने कहा और शिवा के पापा श्रीनिवास को आवाज देते हुए घर के बाहर निकल गए और श्रीनिवास "आया सर !"कहता हुआ उनके पीछे दौड़ गया ।

रात हो गई थी ,अर्पिता ने शिवा के पापा को खाना खिला दिया था और वो श्रीनिवास को लेकर घर से बाहर चले गए थे ।
अर्पिता ने शिवा के साथ खाना खाया था मगर इस दौरान उन दोनों के मध्य कोई बातचीत न हुई थी ।शिवा महसूस कर रही थी कि उसकी माँ उससे,उसके प्रश्नों से बचने प्रयास करने के कारण बहुत ही कम बोल रही हैं ।
शिवा ने खाना खाया और अपने कमरे में सोने चली गई।

ऊंह! ये कैसी खट की आवाज है !! शिवा ने स्वयं से कहते हुए घडी़ देखी तो सुबह का पौने चार था ।इतनी सुबह ये कैसी आवाज है !! शिवा ने सोचते हुए उठकर अपने कमरे की खिड़की का पर्दा खोला तो देखा कि श्रीनिवास पोछा और पानी की बाल्टी लेकर बरामदे के दाएं तरफ बने दो कमरों में से पहले कमरे के अंदर गया ।
ओह !तो इतनी सुबह इन कमरों की सफाई करने के लिए ताला खोला जाता है ,,, इसका मतलब इन दोनों कमरों की चाभी श्री के पास रहती है !!

शिवा ने स्वयं से कहा और सोचने लगी कि इसी समय इन कमरों के पास जाकर देखूँ कि इन कमरों में ऐसा क्या है जो इनमें ताला पडा़ रहता है !! किसके कमरे हैं ये ?

नहीं ,,, नहीं इस समय वहाँ गई तो उसकी आहट पाते ही श्री जल्दी से कमरे बंद कर चला जाएगा और वो सतर्क भी हो जाएगा और हो सकता है कि अगले दिन इनकी सफाई अंदर से बंद करके करे !!
कुछ और सोचना पडे़गा इन कमरों में जाने के लिए ,,किसी तरह श्री के पास से इनकी चाभी लेनी होंगी तभी भीतर जाकर देख मिलेगा कि इनमें क्या है और ये कमरे किसके हैं ,,, 
शिवा सोचते हुए फिर अपने बिस्तर पर आ गई और लेट गई मगर नींद तो उससे कोसों दूर थी ।
भोर हो चुकी थी ।शिवा ने अपने कमरे से बाहर आकर माँ के कमरे का पर्दा सरकाकर भीतर झांका तो देखा कि माँ तो कमरे मे नहीं हैं !! 
श्रीनिवास रसोंई के बगल वाले कमरे में सफाई कर रहा था।
माँ कहाँ गईं !! सोचते हुए शिवा गलियारे की तरफ गई तो वहाँ बाथरूम से पानी गिरने की आवाज आ रही थी ।

ओह !तो माँ नहा रही हैं ,,, यही अवसर है माँ के कमरे को अच्छी तरह देखूँ तो शायद कुछ ऐसा मिल जाए जो उससे छुपाया जा रहा है ,,, सोचते हुए शिवा दबे पाँव माँ के कमरे में गई पर उसे वहाँ ऐसा कुछ न दिख रहा था जो उससे छुपाया जा रहा हो ।

अकस्मात शिवा की नज़र वार्डरोब पर गई ।इसमें कुछ हो सकता है मगर इसकी चाभी ,,, इसकी चाभी कहाँ हो सकती है !! शिवा इधर- उधर देखते हुए सोचने लगी ।
" बिटिया तुम यहाँ ??कुछ चाहिए क्या ?" पोछे की बाल्टी लिए हुए श्रीनिवास ने आकर उससे पूछा ।
शिवा श्रीनिवास को देखकर सकपका कर बोली -"नहीं श्री ,वो माँ से कुछ काम था तो उन्हें देखने आई थी मगर वो तो यहाँ हैं ही नहीं !"
"मैडम स्नान करने गई थीं , निकल आई होंगी ,आप भी जाकर स्नान कर लो ।" श्रीनिवास ने कहा और शिवा मन मारकर अर्पिता के कमरे से निकलकर अपने कमरे में आ गई और अपनी तौलिया व कपडे़ लेती हुई सोचने लगी कि  पक्का इस कमरे में कुछ है जो माँ न चाहतीं कि वो देखे तभी श्री ने भी आकर उसे टोक दिया ।
कोई बात नहीं , अगला प्रयास करूँगी ।.....शेष अगले भाग में।

Papiya

Papiya

👌🏼👌🏼👌🏼

21 सितम्बर 2023

22
रचनाएँ
शापित संतान
5.0
मैं आप लोगों के लिए एक नई कहानी लेकर आई हूँ -'शापित संतान '।मेरी ये कहानी पूर्णतः काल्पनिक है । एक पिता अपनी संतान के लिए हर त्याग करता है मगर जब उसकी संतान गलत राह पकड़ ले तो उसका सुख ,चैन छिन जाता है ,ऐसी संतान शापित संतान ही होती है ।ऐसी ही शापित संतान अपने पुत्र से त्रस्त पिता को क्या क्या सहना पड़ता है वो पढ़कर एक पिता की पीडा़ महसूस करिए मेरी कहानी -'शापित संतान'पढ़कर ।
1

शापित संतान --भाग 1

16 जून 2023
61
28
12

भोर के नौ बजने वाले थे और भगवान भास्कर अपने प्रचण्ड रूप में आकर ग्रीष्म का कहर बरपा रहे थे।शिवा और अनन्या धूप से बचने को अपने अपने सिर दुपट्टे से ढ़के ,रिक्शे के लिए सड़क के किनारे बने फुटपाथ पर खडी़

2

शापित संतान -भाग 2

17 जून 2023
41
24
2

"अच्छा वो सब छोड़ ,,,सुन न शिवा,हमको मिले छह महीने हो गए और हम अभी एक दूसरे के बारे में कुछ न जानते हैं सिवाय इसके कि तू कानपुर और मैं बरेली से हूँ,चल पहले तू अपने बारे में बता फिर मैं अपने बारे में त

3

शापित संतान -भाग 3

17 जून 2023
33
24
2

,,,,, मुझे छोटे से ही जयपुर के हाॅस्टल डाल दिया गया ,जयपुर जहाँ मेरा ननिहाल है , मुझे धुँधला -धुँधला याद है वहाँ माँ मिलने आती थीं और मुझसे मिलने मेरे बाबा भी आते थे ,,,, वहीं मेरी सारी शि

4

शापित संतान भाग -4

18 जून 2023
32
24
2

"वो,,, शिवा अनन्या की तरफ देखकर कहते हुए रिक्शेवाले बाबा से बोली -" बाबा आज वापसी में हमें लेने न आइएगा , हमें काॅलेज में आज समय लगेगा ,कब वापसी हो पाएगी !कह न सकती तो आपको कितने समय बुलाऊँ !!तो हम वा

5

शापित संतान -भाग 5

18 जून 2023
29
24
2

दोनों के मन में प्रश्न थे पर उन्होने उस रिक्शेवाले बाबा से कुछ भी पूछना उचित न समझा ।शिवा ट्रेन में बैठी जयपुर जा रही थी ।जितना ट्रेन आगे बढ़ रही थी उतना ही उसका मन उसको पीछे की ओर खींच रहा था। उसका म

6

शापित संतान भाग -6

18 जून 2023
30
24
3

इंसान अपने भीतर किसी बात का बोझ लेकर कैसे चल लेता है ,,, मन की गाँठें किसी से तो खोलकर अपने मन का बोझ हल्का कर सकता है ,, उसे करना चाहिए वरना उस बोझ के तले सबकुछ दबकर रह जाता है ,, होंठों की हँसी,आँखो

7

शापित संतान भाग 7

19 जून 2023
29
24
1

"कुछ भी !! पर मुझे तो लगता है कि रिक्शेवाले बाबा का कानपुर से कुछ तो नाता है ,, वरना वो ऐसे चौंकते नहीं पर वो कुछ बताते भी तो नहीं !!"शिवा ने कहा और दोनों अंदर प्रवेश कर गईं ।" अनन्या ,शुभ्रा काकी को

8

शापित संतान भाग 8

19 जून 2023
29
24
1

"नहीं ,वो नहीं मैं सोच रही थी कि रिक्शेवाले बाबा कितनी मेहनत करते हैं ,दिन रात रिक्शा खींचते हैं तब जाकर उनके घर चूल्हा जलता होगा ।"अनन्या ने कहा।"हाँ वो तो है पर हम कर भी क्या सकते हैं !!"शिवा बोली।"

9

शापित संतान भाग 9

19 जून 2023
28
24
1

कितनी भीड़ है लोगों की !!मैं कैसे ट्रेन के आगे कूदकर अपनी जान दूँगी !!उस आदमी ने सुना तो मेरे पास आकर बोला कि आप मरना क्यों चाहती हैं !! मैंने रोते हुए सब बताया तो वो सुनकर उदास होकर आँसू ब

10

शापित संतान भाग 10

19 जून 2023
28
24
1

शिवा चुपचाप सिर झुकाकर मामा के साथ घर के अंदर चली गई ।नानी उसको देखकर खुश भी हुई और कुछ सोचकर उनकी आँखों के कोर भी भीग गए थे ।वो याद करने लगी - जब वो पिछली बार नानी के घर आई थी तब एक दिन मामा के

11

शापित संतान -भाग 11

20 जून 2023
28
24
1

शिवा की आँखों में धुंधली सी यादें तैरने लगीं-- गोलू,,,, उधर सीढियों की तरफ नहीं,,, उधर गिर जाओगी ! इधर आओ इधर ,,, गोलू ,,, तुमसे से चापाकल न चलेगा ,,, हा हा हा ,,, आ जाओ इधर ,,,, शिवा के मा

12

शापित संतान -भाग 12

20 जून 2023
28
24
1

श्रीनिवास आया और चाय व नाश्ते के जूठे बर्तन ले जाने लगा ।"माँ मैं जाकर पूरा घर देखकर आती हूँ ।"शिवा ने कहा और वो अपने कमरे से निकलकर रसोंईघर देखकर फिर रसोंईघर के बगल वाले कमरे में गई। विशाल रसोंई के ब

13

शापित संतान -भाग 13

20 जून 2023
27
24
1

" माँ बस अभी ही तो आई ! पापा से नमस्ते करने को हाथ जोडे़ मगर पापा ने तो मुझे स्नेह से देखा तक नहीं !! अपनी बेटी से मिलकर लगता है पापा को खुशी न हुई !!" शिवा ने ये प्रकट करते हुए कहा जैसे उसने कुछ सुना

14

शापित संतान -भाग 14

21 जून 2023
27
24
1

शिवा स्नान करके अपने कमरे में आई ही थी कि उसके फोन की घण्टी बजी ।शिवा ने फोन उठाकर कहा -" हाँ अनन्या ,कैसी है तू ?" उधर से अनन्या की आवाज आई -"मैं सही हूँ तू बता तुझे कारण पता चला कि तेरी माँ तुझ

15

शापित संतान -भाग 15

21 जून 2023
27
24
1

शिवा पलटी तो देखा कि पीछे माँ खडी़ थीं और उनके चेहरे पर घबराहट थी ,तभी शिवा को याद आया कि उसने रसोंई के बगल वाले कमरे के भीतर वाले दरवाजे की कुण्डी़ बंद कर दी थी वो अभी खोली नहीं !!"एक मिनट माँ !"कहती

16

शापित संतान -भाग 16

21 जून 2023
27
24
1

मैंने अपने घर में बात की तो तुम्हारे नाना,मामा तैयार हो गए और तुम्हें उनके यहाँ पढ़ने भेज दिया गया ,तब तुम्हारे मामा का विवाह न हुआ था पर तुम्हारे मामा के विवाह होते ही ,चेतना ने साफ कह दिया कि मैं कि

17

शापित संतान-भाग 17

22 जून 2023
27
24
1

सोचते हुए शिवा ने श्रीनिवास के कमरे की तरफ देखा - नित्य की तरह श्रीनिवास के कमरे का दरवाजा उड़का हुआ था और उसके कमरे की लाइट जल रही थी ।ये श्री कमरा बंद कर लाइट जला कर कुछ करता है या इसकी लाइट जलाकर स

18

शापित संतान-भाग 18

22 जून 2023
27
24
1

"हाँ यही करती हूँ फिर तुझे बताती हूँ ,अब सो जा बहुत रात हो गई है ,, शिवा ने कहा और फोन रखकर स्वयं से कहने लगी श्री से कुछ भी करके उन दोनों कमरों की चाभियां लेकर कमरे खोलकर देखूँगी ,, &

19

शापित संतान -भाग 19

22 जून 2023
27
24
1

अनन्या ने कहा और शिवा ने फोन रख दिया और सुबोध चंद्र राव के कमरे के सामने जाकर खडी़ हो गई।श्रीनिवास को होश आया तो वो हड़बडा़कर कमरे से निकलते हुए बाहर आया तो देखा कि शिवा बडे़ सर के कमरे के बाहर ,हाथ म

20

शापित संतान -भाग 20

22 जून 2023
28
23
1

गधे की औलाद, मुझसे प्रश्न करेगा!!चटाआक !! गाल सहलाना छोड़ और कान खोलकर सुन ले मैं जो करने जा रहा हूँ उसमें अगर मेरे साथ रहने में आनाकानी की तो तेरी चमडी़ उधेड़कर कुत्तों को खिला दूँगा,, अब

21

शापित संतान -भाग 21

22 जून 2023
28
24
1

सर ने बडे़ सर को फिर मेरे स्नानागार में बाँध कर रखा और फिर अगले दिन उन्हें लुधियाना जाने वाली बस में बैठा दिया ,, बडे़ सर इस घटना से इतना टूट चुके थे कि उन्होने बिना कोई क्रिया,प्रतिक्रिया किए लुधियान

22

शापित संतान - भाग 22 अंतिम भाग

22 जून 2023
28
24
7

छमिया ये सब देखकर समझ गई कि ये सब भाऊ के घरवाले हैं और भाऊ किसी वजह से अपना घर छोड़कर आए थे और ये लोग उन्हें मनाने आए हैं ।वो बैठे बैठे सब सुनने लगी।"उठो,उठो,उठो,श्रीनिवास।" श्रीनिवास को उठाते हुए सुब

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए