shabd-logo

स्वामी वेदभारती जी

13 जुलाई 2016

573 बार देखा गया 573
featured image

शत शत नमन स्वामी जी

 

आज मेरे अध्यात्म गुरु, महान आत्मा, मेरे विचार से सदी के महान दार्शनिक और हिमालय योग परम्परा के स्वामी राम के पट्टशिष्य स्वामी वेदभारती जी की प्रथम पुण्य तिथि है | गत वर्ष आज ही के दिन ब्रह्ममुहूर्त में उनकी आत्मा इस शरीर को तज परब्रह्म में लीन हो गई थी | स्वामी जी को किसी परिचय की आवश्यकता नहीं | वो बस एक ही बात कहते थे “मेरी कोई व्यक्तिगत महत्त्वाकांक्षा नहीं है | मैं तो केवल उस उत्तरदायित्व का निर्वाह कर रहा हूँ जो अत्यन्त प्राचीन हिमालयन योग परम्परा की अध्यात्मिक धरोहर के रूप में मुझे सौंपा गया है: कि संसार में लोगों को बहुत कष्ट हैं – उन कष्टों को कम करने के लिए और लोगों के मन शान्त करने के लिए जो भी प्रयास तुम कर सकते हो करो...”

17 से अधिक भाषाओं में धाराप्रवाह अपनी बात कहने वाले, मधुर मुस्कान, मधुर वाणी और आकर्षक व्यक्तित्व के धनी स्वामी वेदभारती जी ने भारतीय योग और वैदिक ज्ञान का प्रचार प्रसार करते हुए अनगिनत देशों की यात्राएँ कीं और स्पेन, इटली, फ्रांस इत्यादि जिस देश में भी उनका जाना हुआ वहाँ उन्हीं की भाषा में तथा उनकी धार्मिक और आध्यात्मिक पृष्ठभूमि को ध्यान में रखते हुए उन विद्यार्थियों का मार्गदर्शन किया | बहुत सी भाषाएँ तो उन्होंने केवल एक ही रात में योगनिद्रा की स्थिति में सीख लीं | ध्यान के हज़ारों विद्यार्थियों को एक साथ केवल पाँच मिनट के अन्दर ध्यान की स्थिति में ले जाना उनके लिए कोई कठिन कार्य नहीं था |

अपने गुरु स्वामी राम के द्वारा 1969 में दीक्षित किये जाने के साथ ही उसी वर्ष स्वामी वेदभारती जी ने Minneapolis, USA में प्रथम ध्यान केन्द्र की स्थापना की | संन्यास लेने से पूर्व स्वामी वेदभारती जी का नाम था “पण्डित उषार्बुद्ध आर्य” |

1981 में ऋषिकेश में उन्हें स्वामी राम आश्रम के साधना मन्दिर का प्रमुख नियुक्त किया गया और तभी से हज़ारों ध्यानार्थियों को गहन ध्यान की अवस्था में ले जाने में उनकी सहायता करते रहे |

योग और ध्यान विषयों पर न जाने कितनी पुस्तकें, बुकलेट्स और ऑडियो रिकॉर्डिंग्स उनकी उपलब्ध हैं | उनके लिखे लेख न जाने कितनी पत्र पत्रिकाओं की शोभा बढ़ाते रहे हैं |

स्वामी जी के विषय में जितना लिखा जाए कम है, कम से कम मेरे जैसी साधारण बुद्धि वाली महिला के पास तो शब्दों का अत्यन्त अभाव है | लेकिन उनका जो स्नेह और आशीर्वाद मुझे प्राप्त हुआ वह जीवन भर मेरा सम्बल बना रहेगा और मार्गदर्शन करता रहेगा | मैं स्वामी जी के विषय में “कुछ लिखने” की चेष्टा नहीं कर रही हूँ, वे न केवल मेरे गुरु थे, बल्कि मुझ पर पिता और मित्र के समान स्नेह था उनका | शायद अपने सभी शिष्यों पर और जो भी कोई उनके सम्पर्क में आता होगा उन सभी पर उनका इसी प्रकार स्नेह रहता होगा | पर मैं तो केवल अपनी बात ही जानती हूँ | दो घटनाओं का उल्लेख अवश्य करूँगी, जिनमें से प्रथम घटना की चर्चा मेरे पति ने भी अपने एक लेख में की है (हम तीनों ने ही स्वामी जी से दीक्षा ली है):

मेरी माता जी का स्वर्गवास हुआ था और मैं स्वयं को भीतर तक बहुत अधिक टूटी हुई अनुभव कर रही थी | पहले 1990 में पिताजी स्वर्ग सिधार गए, और उनके ठीक 19 वर्ष बाद 2009 में माँ | हालाँकि मेरे पति डॉ. दिनेश शर्मा और बिटिया स्वस्ति श्री अपने सारे काम छोड़कर मेरा मन बहलाने में ही रात दिन लगे हुए थे, फिर भी न जाने क्यों ऐसा अनुभव हो रहा था कि अब मैं संसार में बिल्कुल अकेली रह गई |

माँ की सारी क्रियाएँ पूर्ण करने के बाद हम सब कुछ दिनों के लिए अपने पति के पैतृक नगर ऋषिकेश चले गए | घर पहुँचने के साथ ही सबसे पहले स्वामी जी से मिलने की इच्छा हुई और हम तीनों आश्रम पहुँच गए | स्वामी जी सब जानते थे, मेरी मन:स्थिति से भी भली भाँति परिचित थे, सो मुझे सान्त्वना देने लगे कि न मेरे पिताजी कहीं मुझसे दूर गए हैं और न मेरी माँ | दोनों हर समय मेरे साथ हैं और चाहते हैं कि मैं सदा खुश और सुखी रहूँ | और बहुत सी अध्यात्म की बातें मेरा मन शान्त करने के लिए करते रहे |

स्वामी जी के कक्ष में बस हम तीनों थे और स्वामी जी थे, और कोई नहीं था | अभी वो मुझसे बात कर ही रहे थे कि अचानक मुझे लगा कि न केवल कक्ष में बल्कि मेरे चारों ओर चन्दन और गुलाब की मिली जुली सुगन्ध फैली हुई है और मैं उस सुगन्ध में नहाई जा रही हूँ | हममें से किसी ने भी किसी तरह का कोई परफ्यूम भी नहीं लगाया हुआ था | मैंने कहा “स्वामी जी आपने बहुत अच्छा रूम स्प्रे किया है...”

स्वामी जी ने मधुर स्नेहशील मुस्कराहट के साथ पूछा “कैसी सुगन्ध ?”

“कुछ चन्दन और गुलाब की मिली जुली खुशबू है स्वामी जी, और ऐसा लग रहा है कि जैसे मैं उसमें स्नान कर रही हूँ...” मैंने उत्तर दिया |

पूर्ववत् मुस्कुराते हुए स्वामी जी बोले “आपकी सभी शंकाओं का समाधान हो गया... अब आप बिना किसी अवसाद के शान्ति के साथ जीवन जियें...”

कुछ पल सोचा, और समझ आ गया कि वास्तव में मेरे माँ पापा मुझसे दूर कहीं नहीं गए हैं, वे तो सदा सदा मेरे साथ हैं – अपने स्नेह और आशीर्वादों की वर्षा मुझ पर करते हुए...

एक और बात, मेरी माँ को वास्तव में चन्दन के इत्र का बेहद शौक़ था और पिताजी को गुलाब के इत्र का... किसी समय में उनकी इत्र की छोटी छोटी शीशियाँ एक सन्दूकची में रखी रहती थीं, ताकि बच्चे चुपके से निकाल न लें...

एक अन्य घटना...

मेरा नियम है प्रातःकाल बहुत जल्दी बिस्तर छोड़ देना और लगभग दो घंटा योग आदि का अभ्यास करके स्नानादि से निवृत्त हो जप और ध्यान के लिए बैठ जाना | सुबह साढ़े सात बजे तक का समय मेरे अपने लिए होता है और कोई मेरी इस दिनचर्या में विघ्न नहीं डालता | पतिदेव दिल्ली से बाहर भी होते हैं तब भी साढ़े सात बजे के बाद ही फोन करते हैं |

पिछले वर्ष 13 जुलाई की बात है | मेरे पति ऋषिकेश गए हुए थे | उस दिन सुबह तीन बजे ही आँख खुल गई और प्रयास करने के बाद भी फिर से नींद नहीं आ सकी | सोचा, अब बिस्तर छोड़ ही देना चाहिए – और बिस्तर से उठकर अपने कार्यक्रम में लग गई | स्वामी जी ने मन्त्र दीक्षा दी थी और नियमित रूप से उस मन्त्र का भी जाप करती हूँ | स्वामी जी ने जब दीक्षा दी थी तो वे ध्यान की अवस्था में मेरे दाहिनी ओर बैठे थे और मेरे कान में फुसफुसाते हुए मन्त्र बोल रहे थे | उस दिन जब उस मन्त्र का जाप कर रही थी तो बड़ी गहन अनुभूति हुई जैसे स्वामी जी उसी तरह मेरे दाहिनी ओर बैठ मेरे कान में धीमे धीमे मन्त्र बोल रहे हैं | पूरे जाप में स्वामी जी मेरे साथ थे – प्रातः सवा छः बजे तक मेरे दाहिने हाथ के साथ उनका स्नेहपूर्ण स्पर्श और मेरे कान में उनकी मन्त्र की फुसफुसाहट...

एक घंटा पहले उठी थी तो एक घंटा पहले ही सारे काम पूरे भी हो गए | अचानक साढ़े छः बजे इनका फोन आ गया “आपको डिस्टर्ब किया न मैंने इतनी जल्दी फोन करके ?”

“नहीं ऐसा कुछ नहीं, क्या बात है...? माँ जी तो ठीक हैं...?” हैरान होते मैंने पूछा, क्योंकि नियमित समय से एक घंटा पहले इनका फोन आया था, सोच रही थी सब ठीक तो है...

“स्वामी जी चले गए...” छूटते ही इन्होने कहा |

“कहाँ अमेरिका...?” मैंने पूछा, क्योंकि उनका प्रायः वहाँ जाना रहता था “पर मौन में कैसे करेंगे...?” स्वामी जी का मौन व्रत चल रहा था |

बाबा का फोन आया जान अब तक बिटिया भी मेरे कमरे में आ चुकी थी | उधर से इनकी आवाज़ आई “नहीं, उन्होंने शरीर छोड़ दिया...” और सुनते ही मेरी चीख निकल पड़ी “क्या किया जा सकता है, इसके आगे तो किसी का वश नहीं न... सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उनका शरीर पूर्ण हुआ... अच्छा मैं तो आश्रम के रास्ते में हूँ, बाद में बात करूँगा...”  

मैं तो रोने लगी | तब बिटिया ने समझाया कि स्वामी जी कहीं नहीं गए हैं, सदा हम सबके साथ हैं | उन जैसी महान आत्मा के शरीर छोड़ने पर इस तरह रोना नहीं चाहिए, उन्हें कष्ट होता है |

शान्त होकर मैं सोचने लगी – सुबह तीन सवा तीन बजे के लगभग स्वामी जी ने शरीर त्यागा, उसी समय मैं भी नींद से जाग गई और फिर सवा छः बजे तक मेरे साथ मन्त्र जाप किया... क्या था ये सब...? क्या स्वामी जी मुझे बताना चाह रहे थे कि शरीर रूप में न सही, पर अनुभूति के रूप में वे सदा मेरे साथ रहेंगे...?  

सच में ऐसी महान आत्माएँ शरीर त्यागने के बाद भी लोगों को अध्यात्म का मार्ग दिखाती ही रहती हैं... शत शत नमन स्वामी जी...

ॐ शान्ति: ॐ

 

https://purnimakatyayan.wordpress.com/2016/07/13

 

47
रचनाएँ
katyayanipurnima
0.0
"जीवन के अद्भुत रंगों में रंगी हुई मेरी बातें, मुझसे मेरा ही परिचय करवाती हैं मेरी बातें" <p class="MsoNormal" style="text-align:justify;mso-layout-grid-align:none; text-autospace:none"><span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;; color:black" lang="HI"> ४ जुलाई १९५५ को उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में जन्म <span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;;mso-bidi-font-family:&quot;Times New Roman&quot;; color:black">|<span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;; color:black" lang="HI"> शिक्षा दीक्षा उत्तर प्रदेश के ही जिला बिजनौर के नजीबाबाद में सम्पन्न <span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;;mso-bidi-font-family: &quot;Times New Roman&quot;;color:black">|<span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;; color:black" lang="HI"> बचपन से ही लेखन<span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;; mso-bidi-font-family:&quot;Times New Roman&quot;;color:black">, कथक और शास्त्रीय गायन में गहन रूचि <span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;;mso-bidi-font-family: &quot;Times New Roman&quot;;color:black">|<span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;;mso-bidi-font-family: &quot;Times New Roman&quot;;color:black"> <p class="MsoNormal" style="text-align:justify;mso-layout-grid-align:none; text-autospace:none"><span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;; color:black" lang="HI"> १९७५ में संस्कृत में एम. ए. <span style="font-family:&quot;Mangal&quot;,&quot;serif&quot;; mso-bidi-font-family:&quot;Times New Roman&quot;;color:black">| १९७७ से आकाशवाणी नजीबाबाद से उदघोषण<span style="font-family:&quot;
1

है तभी तो फूल जग सर चढ़ रहा

1 जून 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

2

शुभ प्रभात

2 जून 2016
0
3
0

जैसे हमारे विचार होते हैं वैसा ही हमारा व्यक्तित्व बनता है सभी मित्रों को आज का शुभ प्रभात

3

किसने हाहाकार दिया

2 जून 2016
0
3
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

4

प्रताड़ना

4 जून 2016
0
5
2

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

5

शुभ प्रभात

5 जून 2016
0
3
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

6

बयार

5 जून 2016
0
4
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

7

शुभ प्रभात

6 जून 2016
0
6
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

8

मैं एक हूँ

6 जून 2016
0
2
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

9

शुभ प्रभात

7 जून 2016
0
3
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

10

शुभ प्रभात

8 जून 2016
0
3
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

11

वैदिक काल में पर्यावरण सुरक्षा तथा वृक्षारोपण की वैज्ञानिकता

8 जून 2016
0
2
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

12

शुभ प्रभात

9 जून 2016
0
0
0

सभी मित्रों को आज का शुभ प्रभात

13

मैं तो हार कभी ना मानूँ

9 जून 2016
0
2
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

14

शुभ प्रभात

10 जून 2016
0
4
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

15

माँ

10 जून 2016
0
3
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

16

ये बरखा का मौसम

11 जून 2016
0
2
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

17

मैं करती हूँ नृत्य

11 जून 2016
0
3
2

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

18

मैं बन जाना चाहती हूँ तुम्हारी आँखें

12 जून 2016
0
3
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

19

शुभ प्रभात

13 जून 2016
0
1
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

20

गन्ध तेरे प्यासे हाथों की

13 जून 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

21

ज़िन्दगी को तपा लिया मैंने

15 जून 2016
0
3
3

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

22

मानव मन की नौका को तुम ज़रा संभाले रखना

16 जून 2016
0
0
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

23

कितनी दूर अभी जाना है

18 जून 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

24

तुम क्या समझो तुम क्या जानो

19 जून 2016
0
2
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

25

काश कि बचपन एक बार फिर अपना रंग दिखा जाता

20 जून 2016
0
1
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

26

बच्चों जैसी भोली माँ तू

21 जून 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

27

अपना क्या है

22 जून 2016
0
0
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

28

पुष्प का सौरभ मुझे दो

23 जून 2016
0
0
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

29

शुभ प्रभात

24 जून 2016
0
0
0

सभी मित्रों को आज का शुभ प्रभात

30

फिर भी हँसता रहता है

24 जून 2016
0
0
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

31

यों ही मुसकाते रहना

25 जून 2016
0
3
1

https://purnimakatyayan.wordpress.com/2016/06/25/<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:Punctuati

32

शुभ प्रभात

29 जून 2016
0
3
0

सभी मित्रों को आज का शुभ प्रभात

33

परिचय की यह शाश्वत परिणति

2 जुलाई 2016
0
2
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

34

मैं तो हूँ शाश्वत सत्य सदा

6 जुलाई 2016
0
3
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

35

अर्थों को सार्थकता दे दें

7 जुलाई 2016
0
3
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

36

पा ही जाएँगे मंज़िल को

9 जुलाई 2016
0
4
1

 आपसमें हम रूठ गए जो, हाथ हमारे छूट गए जो । ऐसेमें अब तुम ही बोलो, कौन मनाएगा फिर किसको ।|अहम् तुम्हारा बहुत बड़ा है, मुझमेंभी कुछ मान भरा है । नहींबढ़ेंगे आगे जो हम, कौन भगाएगा इस "मैं" को ।।जीवन पथ है संकरीला सा, ऊबड़खाबड़ और सूना सा । चलेअकेले, कोई आकर राह दिखाएगा फिर किसको ||यों ही रूठे रहे अगर हम,

37

शुभ प्रभात

10 जुलाई 2016
0
3
0

सभी मित्रों को आज का शुभ प्रभात

38

लहराती ये पड़ीं फुहारें

12 जुलाई 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

39

स्वामी वेदभारती जी

13 जुलाई 2016
0
4
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML></o:RelyOnVML> <o:AllowPNG></o:AllowPNG> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves></w:TrackMoves> <w:TrackFormatting></w:Track

40

ये बरखा का मौसम सजीला सजीला

15 जुलाई 2016
0
2
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

41

मैं सदा शून्य का ध्यान किया करती हूँ

17 जुलाई 2016
0
2
0

 <!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Sav

42

हीरे से दमकती ये बरखा की बूँदें

30 जुलाई 2016
0
2
1

 आजफिर से बारिश का दिन है |रतभर भी छाए रहे बादल औरहलकी हलकी बूँदें भिगोतीरहीं धरा बावली को नेह के रस में |बरखाकी इस भीगी रुत में पेड़ोंकी हरी हरी पत्तियों पुष्पोंसे लदी टहनियों केमध्य से झाँकता सवेरे का सूरज बिखराताहै लाल गुलाबी प्रकाश इस धरा पर |मस्तीमें मधुर स्वरों में गान करते पंछी बुलातेहैं एक दू

43

बादल

31 जुलाई 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

44

रक्तबीज के जैसे दानव

2 अगस्त 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

45

आओ मिलकर ऊँची पेंग बढ़ाएं

5 अगस्त 2016
0
1
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

46

अपरिचित, किन्तु परिचित बनी ऊर्जा

9 अगस्त 2016
0
2
1

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:Save

47

प्रकृति भी दुल्हिन बन शरमाई

10 अगस्त 2016
0
0
0

<!--[if gte mso 9]><xml> <o:OfficeDocumentSettings> <o:RelyOnVML/> <o:AllowPNG/> </o:OfficeDocumentSettings></xml><![endif]--><!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSc

---

किताब पढ़िए

लेख पढ़िए